Social Science Lesson Plans in Hindi | सामाजिक विज्ञान पाठ योजना

Social Science Lesson Plans in Hindi | सामाजिक विज्ञान पाठ योजना

Social Science Lesson Plan in Hindi (सामाजिक विज्ञान एवं सामाजिक अध्ययन पाठ योजना - लेसन प्लान हिंदी में) | Social Studies Lesson in Hindi

Social Science Lesson Plan in Hindi (सामाजिक विज्ञान पाठ योजनाएं) for School teachers, B.Ed, DELED, BTC, BSTC, NIOS, CBSE, NCERT, and all teacher training courses.


social science and social studies lesson plan in hindi pdf download free for B.Ed, DELED, BTC, nios, cbse, ncert school teachers of class 5, 6, 7 , 8 , 9 , 10 1 11 and 12, सोशल साइंस लेसन प्लान इन हिंदी , सामाजिक विज्ञान लेसन प्लान, सामाजिक अध्ययन पाठ योजना

दोस्तों, अगर आप सामाजिक अध्ययन के हिंदी में लेसन प्लान (Social Studies Lesson Plan in Hindi) ढूंढ रहे है| तो आप बिलकुल ठीक जगह पर है| यहां आपको सामाजिक विज्ञान के सभी Skills जैसे की Microteaching, Mega Teaching, Discussion, Real School Teaching और Observation Skill आदि के बहुत सारे SST ke Lesson Plan मिलेंगे | जिसकी सहायता से आप अपने सामाजिक अध्ययन के लेसन प्लान हिंदी में बड़ी ही आसानी से बना पाएंगे| और साथ ही साथ अन्य विषयो पर भी Lesson Plan तैयार करने में आपको बहोत मदद मिलेगी | Social Science Lesson Plan in Hindi के सभी लिंक निचे दिए गए है| जिसमे सामाजिक अध्यन की सभी शाखाये जैसे की भूगोल ( Geography) , इतिहास ( History), राजनीतिशास्त्र (Political), नागरिक शास्त्र ( Sociology) आदि सभी की पाठ योजना दी गयी है|

List of Social Science Lesson Plans in Hindi

Social Science Lesson Plan in Hindi | Social Studies Lesson Plan in Hindi | Social Science and Social Studies Lesson Plan in Hindi for B.Ed free Download PDF | Samajik Vigyan Evam Samajik Adhyan Lesson Plan Path Yojna Format | Civics Lesson Plan in Hindi | Geography Lesson Plan In Hindi | Political Science Lesson Plan in Hindi | History Lesson Plan in Hindi

Lesson Plan No.

Topic/ प्रकरण

शाखा

पाठ योजना प्रकार

1

पर्यावरण

भूगोल

सूक्षम शिक्षण (खोजपूर्ण प्रश्न कौशल)

2

राजा राम मोहन राय

इतिहास

सूक्षम शिक्षण (पुनर्बलन कौशल)

3

हरित क्रांति

इतिहास

माइक्रो टीचिंग (प्रस्तावना कौशल)

4

मृदा / मिट्टी का वर्गीकरण

भूगोल

सूक्षम (उद्दीपन परिवर्तन कौशल)

5

भारत की जलवायु

भूगोल

Microteaching (उदहारण सहित दृष्टान्त कौशल)

6

पृथ्वी के प्रमुख परिमंडल

भूगोल

Simulated Teaching

7

सौर मंडल

भूगोल

Simulated Teaching

8

जल चक्र

भूगोल

Simulated Teaching

9

वायुमंडल

भूगोल

Simulated Teaching

10

परिवहन के साधन

नागरिकशास्त्र (Civics/ Sociology )

Simulated Teaching

11

मरुस्थल में जीवन

भूगोल

Discussion teaching

12

अकबर का शासन काल

इतिहास

Real teaching

13

जल

भूगोल

Real teaching Mega Lesson Plan

14

संसद

राजनीतिशास्त्र

Real teaching Mega Lesson Plan

15

पृथ्वी पर जीवन

भूगोल

Real teaching Mega Lesson Plan

16

मुख्य फसले

भूगोल

Real teaching Mega Lesson Plan

17

प्रमुख नदियाँ

भूगोल

Real teaching Mega Lesson Plan

18

वायु प्रदूषण

भूगोल

Real teaching Mega Lesson Plan

19

सिंधु घाटी सभ्यता

इतिहास

Real teaching Mega Lesson Plan

20

महात्मा बुद्ध

इतिहास

Real teaching Mega Lesson Plan

21

पृथ्वी की आंतरिक रचना

भूगोल

Real teaching Mega Lesson Plan

22

शासक व उनकी इमारते

इतिहास (History)

Real teaching Mega Lesson Plan

23

वनो के प्रकार

भूगोल

Real teaching Mega Lesson Plan

24

लोकसभा एवं राज्यसभा

राजनीतिशास्त्र (Political Science)

25

जल

भूगोल (Geography)


Bhugol Path Yojna | Nagrik Shastra Paath Yojana | Rajniti Vigyan Lesson Plan Path Yojna | सामाजिक विज्ञान पाठ योजना


Further Reference:
https://www.learningclassesonline.com/ - Social Studies Lesson Plans in Hindi Social Science Lesson Plans in Hindi for B.Ed

Hello friends..

ऊपर जो सामाजिक विज्ञान (Social Science ) की पाठ योजनाएं दी गई हैं, वह खास तौर पर B.Ed के 1st और 2nd Year / Semester के विद्यार्थियों के लिए हैं। जिसकी सहायता से बी एड में पढ़ रहे हैं सभी विद्यार्थी जिनका टीचिंग Subject Social Science या फिर Social Studies है, अपनी Teaching of Social Science की प्रैक्टिकल लेसन प्लान फाइल आसानी से बना पाएंगे। केवल BEd के विद्यार्थी ही नहीं DElEd, बीटीसी, BTC, BSTC, NCERT aur CBSE स्कूलों में पढ़ा रहे Sabhi शिक्षक और शिक्षिकाएं भी ऊपर दिए गए इन सामाजिक अध्ययन के लेसन प्लांस ( Social Studies Lesson Plan in Hindi) (Samajik Vigyan Path Yojna) से अपनी पाठ योजना तैयार कर सकते हैं| यह पाठ योजनाएं ( Lesson Plan) सभी कक्षाओं जैसे कि कक्षा 4,5 ,6, 7, 8, 9, 10, 11 Aur 12 के लिए है|

इन Social Science lesson plans mein alag alag prakar ke samajik Vigyan ke lesson plan diye गए hai Jaise ki sukshm shikshan paath yojana (microteaching lesson plans) जिनमे udaharan sahit drishtant Kaushal, prastavana Kaushal, uddipan Parivartan Kaushal, prashn Kaushal, aadi bahut sare कौशलों को cover Kiya hai. FIR uske bad samajik adhyan ke Hindi में Mega lesson plan, discussion lesson plan, school teaching practice lesson plan, मैक्रो, सिमुलेटेड टीचिंग, observation lesson plans Bhi diye Hain.

Social Science ke alag alag classes 4th, 5th, 6th, 7th, 8th, 9th, 10th, 11th or 12th ke bahut sare topics Jaise ki Paryavaran, Sansad Bhawan, raja ram Mohan ray, sor Mandal, harit Kranti, mitti ka vargikaran, Bharat ki Jal Vayu, Vayu Mandal, parivehen ke sadhan, Akbar, Jal, Prithvi, fasle, Sindhu ghati sabhyata, mahatma Budh, Prithvi ki antrik sanranchna, vano ke parker, shashko ke imarte ityadi bhot sare bhugol, itihas, nagrik sashtra, rajniti Vigyan ke topics को इन सोशल साइंस लेसन प्लान इन हिंदी में कवर किया गया है|

अगर आप भी ढूंढ रहे हैं Social Science Lesson Plan in Hindi (सामाजिक अध्ययन पाठ योजनाएं हिंदी में - samajik vigyan path yojana - samajik adhyan path yojna) तो ऊपर सभी टॉपिक्स के लिंक दिए गए हैं जिन पर क्लिक करके आप apni सामाजिक विज्ञान पाठ योजना की प्रैक्टिकल फाइल बना सकते हैं|

b.ed लेसन प्लान सामाजिक विज्ञान

लेसन प्लान इन सामाजिक अध्ययन pdf

लेसन प्लान सामाजिक विज्ञान कक्षा 6

social science lesson plan in hindi

social science lesson plan in hindi pdf

social science lesson plan pdf

lesson plan for social science class 8

b.ed lesson plan for social science in hindi pdf

सामाजिक विज्ञान कक्षा 5 pdf

पाठ योजना सामाजिक विज्ञान कक्षा 5

पाठ योजना भूगोल कक्षा 7

सामाजिक विज्ञान कक्षा 6 पाठ योजना

पाठ योजना सामाजिक विज्ञान class 8

samajik vigyan path yojna b.ed

sst lesson plan pdf in hindi

samajik adhyan lesson plan

samajik adhyayan lesson plan

lesson plan of social science

sst lesson plan in hindi

sst lesson plan for b.ed in hindi pdf

sst lesson plan in hindi class 8

How To Make A Social Science Lesson Plan In Hindi

As You Know, Lesson Plans Are Detailed Descriptions Of The Course Of Instructions Or "Learning Trajectories" For Teachers. Lesson Plans Are Developed On A Daily Basis By The Social Science Teachers To Guide Class Learning.

Experienced Teachers May Make It Briefly As An Outline Of The Teacher’s Activities. A Semi-Detailed Lesson Plan Is Made By The New Teachers And It Includes All Activities And Teachers’ Questions.

A Trainee Teacher Should Make A Detailed Lesson Plan, In Which All The Activities, Teacher’s Questions, And Student’s Expected Answers Are Written Down.

Components Of The Social Science Lesson Plan In Hindi

 Social Studies Lesson Plans in Hindi Consist Of The Following Components:

1. General Objectives:

It is The Overall Knowledge Obtained By The Child. It Is Useful In Real-Life Teaching.

2. Specific Objectives:

It Includes:

  • Knowledge Objectives: Students Will Be Able To Get Knowledge About The Specific Topic Of Social Science.
  • Understanding Objective: Students Will Be Able To Understand The Concept Of The Specific Topic Of Social Science.
  • Application Objectives: Students Will Be Able To Apply The Attained Knowledge In Day-To-Day Life.

3. Learning Activities:

1. Preparatory Activities:  

These Are

  • Drill: Activity Enabling Students To Automate Response To Pre-Requisite Skills Of The New Lesson.
  • Review: Activity That Will Refresh Or Renew Previously Taught Material.
  • Introduction: An Activity That Will Set The Purpose Of The Day’s Lesson.
  • Motivation: All Activities That Arouse The Interest Of The Learners (Both Intrinsic And Extrinsic)

2. Developmental Activities

These Includes:

  • Presentation Of The Social Science Lesson: The Teacher Uses Different Activities As A Vehicle To Translate The Knowledge, Values, And Skills Into Learning That Could Be Applied In Their Lives Outside The School.
  • Discussion/ Analysis: The Teacher Asks A Series Of Effective Or Cognitive Questions About The Lesson Presented.
  • Abstraction/ Generalization: The Complete Summarization Of The Information Takes Place Before The Actual Presentation.
  • Closer /Application: This Relates The Lesson To Other Situations In Forms Of
    • Dramatization,
    • Simulation And Play,
    • Storytelling,
    • Oral Reading,
    • Construction/ Drawing,
    • Written Composition,
    • Singing Or Reciting A Poem,
    • A Test,
    • Or Solving Problems.

Evaluation:

It Is A Method Or Way Of Checking Or Evaluating The Objectives Met By The Previous Lessons. Questioning, Summarizing, Comparing, Presenting The Previous Learning, Assigning Work, Administering A Short Quiz, Etc. Come Under This.

Assignment:

  • Teachers Prepare This Activity Outside The School Or At Home. Students Bring The Material Needed In The Classroom.
  • These Activities Should Help Attain The Lesson’s Objective.
  • It Should Be Interesting And Differentiated (With Provision For Remedial, Reinforcement, And Enrichment Activities.)

Social Science Lesson Plan In Hindi

Social Science Lesson Plans in Hindi

SST Lesson Plan For B.Ed In Hindi Free Download Pdf

Micro Teaching Social Science Lesson Plan In the Hindi Language

Mega Teaching Social Studies Lesson Plans In Hindi Medium

Simulated Teaching Social Science Lesson Plan In Hindi

Real School Teaching And Practice Social Science Lesson Plan For B.Ed And Deled 1st Year 2nd Year In Hindi

JAMIA, MDU, CRSU, DU, IGNOU, IPU University Social Science Lesson Plans In Hindi

History Lesson Plan in Hindi

लेसन प्लान का संक्षिप्त विवरण :

  • Class : 6th 7th 8th 9th 10th - Social Science
  • Subject : History Lesson Plan in Hindi
  • Topic : Akbar Ka Sashan Kaal
  • Type : Mega and Real Teaching


Note: निचे दी गयी इतिहास पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिससे आपको Lesson Plan बनाने का Idea मिलता है| आप खुद की कल्पना शक्ति और प्रतिभा से इसे और बेहतर बना सकते है| और साथ ही साथ कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके इसे आप अपनी सुविधा के अनुसार इस्तेमाल कर सकते है|

Social Science History Lesson Plan in Hindi [इतिहास पाठ योजना] on Samrat Akbar (अकबर का शासन काल) Class 6th to 10th, B.Ed, D.El.Ed, Free Download PDF,अकबर का शासन काल history Social Studies Lesson Plan in Hindi pdf, पाठ योजना इतिहास, पाठ योजना इतिहास कक्षा,Akbar Ka Sashan Kal Lesson Plan in hindi for history | अकबर का शासन काल पाठ योजना,Akbar Ka Lesson Plan intihas, history lesson plan in hindi on Akbar Lesson Plan In Hindi,history Lesson Plan In Hindi For B.Ed,history Lesson Plan In Hindi For Class 7th,history Lesson Plan In Hindi For D.El.Ed, history Path Yojna,history Lesson Plan In Hindi For B.Ed/D.El.Ed,History Lesson Plan In Hindi,यह Social Science History Lesson Plan in Hindi [इतिहास पाठ योजना] अकबर के शासनकाल, उसका जन्म, मृत्यु एवं प्रमुख युद्ध और वंश पर है, जो कि इतिहास के अंदर आता है यह सामाजिक अध्ययन ( सोशल साइंस ) की पाठ योजना का रियल टीचिंग लेसन प्लान डीएड, डीएलएड, बीटीसी , बी.एड और स्कूल के शिक्षकों के लिए है|

History Lesson Plan in Hindi on Akbar Ka Sashan Kaal For B.Ed 1st Year, 2nd Year and DELED - इतिहास पाठ योजना

Date :

Duration Of The Peroid :

Pupils Teacher Name :

Pupil Teacher Roll Number :

Class :

Average Age Of the Pupils :

Subject :

Topic :


विषय वस्तु विश्लेषण:

सामान्य उद्देश्य:

  • विद्यार्थियों में ऐतिहासिक ज्ञान को विकसित करना|
  • विद्यार्थियों में इतिहास विषय के प्रति रूचि पैदा करना|
  • विद्यार्थियों के सामान्य ज्ञान को बढ़ाना|

अनुदेशनात्मक उद्देश्य:

  1. अध्ययन के उपरांत छात्रों से अपेक्षा की जाती है, कि वह अकबर के विषय में लिख सकेंगे|
  2. अकबर के शासन काल की सूची बता सकेंगे|
  3. छात्र अकबर से संबंधित व्याख्या कर सकेंगे|
  4. छात्र अकबर के शासन को सारांश में बता सकेंगे|
  5. छात्र संबंधित जानकारी का प्रत्यास्मरण कर सकेंगे|
  6. छात्र अकबर के शासन की व्याख्या कर सकेंगे|
  7. छात्र अकबर के शासन काल में आने वाले बदलाव बता सकेंगे|

सामान्य सहायक शिक्षण सामग्री: चौक, डस्टर, चौक-बोर्ड, संकेतक आदि|

अनुदेशनात्मक सामग्री:चार्ट

पूर्व ज्ञान परिकल्पना: छात्र अध्यापिका विद्यार्थियों के ज्ञान का यह अनुमान लगाकर चलती है, कि विद्यार्थियों को अकबर के बारे में सामान्य जानकारी होगी|

पूर्व ज्ञान परीक्षण: छात्र अध्यापिका विद्यार्थियों के पूर्व ज्ञान हेतु निम्नलिखित प्रश्न पूछेंगी|

छात्र अध्यापक/अध्यापिका क्रियाएं:

छात्र क्रियाएं:

मुगल वंश के पहले शासक कौन थे?

बाबर

बाबर का बेटा कौन था?

हुमायूं

हुमायूं का बेटा कौन था?

अकबर कोई उत्तर नहीं

अकबर के बारे में आप क्या जानते हैं?

कोई उत्तर नहीं

उपविषय की घोषणा: छात्रों के अंतिम प्रश्न का संतोषजनक उत्तर ना मिलने पर छात्र अध्यापिका उप विषय की घोषणा करेंगी, कि अच्छा बच्चों आज हम अकबर के बारे में पढ़ेंगे|

प्रस्तुतीकरण: छात्र अध्यापिका व्याख्यान विधि व चार्ट के माध्यम से कक्षा में अपना पाठ प्रस्तुत करेंगी|

इतिहास पाठ योजना | History Lesson Plan in Hindi for B.Ed | Itihas Path Yojna 

शिक्षण बिंदु:

छात्र अध्यापक/अध्यापिका क्रियाएं:

छात्र क्रियाएं:

चॉक बोर्ड कार्य:

अकबर का जन्म

अकबर का जन्म 14 अक्टूबर 1542 को राजपुर राजा अमर साल के महल उमरकोट में हुआ|

छात्र ध्यान पूर्वक से सुन रहे हैं|

अकबर का जन्म 14 अक्टूबर 1542

राज

अकबर का राज्याभिषेक 14 फरवरी, 1556 से लेकर 21 अक्टूबर, 1605 तक राज किया|

छात्र ध्यान पूर्वक से सुन रहे हैं|

अकबर का राजकाल 14 फरवरी, 1556 से लेकर 21 अक्टूबर, 1605 तक हुआ|

अकबर के माता-पिता

अकबर की माता का नाम हमीदा बेगम और पिता का नाम हुमायूं था|

छात्र ध्यान पूर्वक से सुन रहे हैं|

अकबर की माता का नाम हमीदा बेगम और पिता का नाम हुमायूं था|

अकबर की बेगम

अकबर की बेगम जोधा, रुकैया, सलीमा बेगम थी| यह अकबर की मुख्य बेगम थी|

छात्र ध्यान पूर्वक से सुन रहे हैं|

अकबर के पुत्र

हसन, हुसैन, सलीम,मुराद

छात्र ध्यान पूर्वक से सुन रहे हैं

पुत्र

1. हसन

2. हुसैन

3. सलीम

4.मुराद

अकबर के विशेष लोग

बहुत से लोग थे परंतु कुछ लोग अकबर के विशेष अर्थात ख़ास थे जैसे:

1. अबू फजल जिसने अकबर नाम की रचना की थी|

2. राजा बीरबल अकबर के मुख्य सलाहकार थे|

3. तानसेन गायक थे |

4. अब्दुल रहीम खाने खाना जो कवि थे |

5. राजा टोडरमल वित्त मंत्री थे|

6. राजा मान सिंह प्रधान सेनापति थे |

अकबर के कुछ विशेष लोग

अकबर के कार्य

राजा अकबर ने बहुत से कर खत्म कर दिए थे| अकबर ने हिंदू लोगों के लिए जजिया कर खत्म कर दिया था|

छात्र ध्यान पूर्वक सुनकर उत्तर पुस्तिका में लिख रहे हैं|

अकबर के कुछ मुख्य एवं महत्वपूर्ण कार्य

युद्ध

पानीपत के दूसरे युद्ध में अकबर ने राजपूताना के हिंदू राजा हेमू को हरा दिया था| अकबर ने कई राज्यों को जीता था जैसे- मालवा, गुजरात, काबुल, कश्मीर|

अकबर ने युद्ध में कई राज्यों को जीता था जैसे- मालवा, गुजरात, काबुल, कश्मीर

अकबर का पूरा नाम

बदरुद्दीन मोहम्मद अकबर था| उनका यह नाम इसलिए पड़ा क्योंकि उनका जन्म पूर्णिमा के दिन हुआ था|

अकबर का पूरा नाम बदरुद्दीन मोहम्मद था|

रूचि व मृत्यु

अकबर की चित्रकारी आदि ललित कलाओं में काफी रुचि अन्य कलाओं में भी रुचि थी| मुगल चित्रकारी का विकास करने के साथ-साथ उसने यूरोपीय शैली का भी स्वागत किया| इनकी मृत्यु 27 अक्टूबर, 1605 में हुई|

छात्र ध्यान पूर्वक से सुन रहे हैं|

सामान्यीकरण: छात्र अध्यापिका द्वारा यह सामान्यीकरण किया जाता है, कि अब छात्रों को अकबर के जीवन से संबंधित महत्वपूर्ण बातों का ज्ञान हो गया होगा|

पुनरावृति:

  1. अकबर का जन्म कहां हुआ ? कब हुआ ?
  2. अकबर ने पानीपत के दूसरे युद्ध में किसको हराया ?
  3. अकबर की मुख्य रानियों के नाम बताओ ?
  4. अकबर की मृत्यु कब हुई ?

गृहकार्य: अकबर के बारे में जो हमने आज पढ़ा है, वह सब पढ़ कर आना है|



www.LearningClassesOnline.com/
Further Reference:
https://www.learningclassesonline.com/ - History Lesson Plans in Hindi Itihas Lesson Plans in Hindi for B.Ed

How To Make A History Lesson Plan In Hindi

As You Know, Lesson Plans Are Detailed Descriptions Of The Course Of Instructions Or "Learning Trajectories" For Teachers. Lesson Plans Are Developed On A Daily Basis By The History Teachers To Guide Class Learning.

Experienced Teachers May Make It Briefly As An Outline Of The Teacher’s Activities. A Semi-Detailed Lesson Plan Is Made By The New Teachers And It Includes All Activities And Teachers’ Questions.

A Trainee Teacher Should Make A Detailed Lesson Plan, In Which All The Activities, Teacher’s Questions, And Student’s Expected Answers Are Written Down.

Components Of The History Lesson Plan In Hindi

 History Lesson Plans in Hindi Consist Of The Following Components:

1. General Objectives:

It is The Overall Knowledge Obtained By The Child. It Is Useful In Real-Life Teaching.

2. Specific Objectives:

It Includes:

  • Knowledge Objectives: Students Will Be Able To Get Knowledge About The Specific Topic Of History.
  • Understanding Objective: Students Will Be Able To Understand The Concept Of The Specific Topic Of History.
  • Application Objectives: Students Will Be Able To Apply The Attained Knowledge In Day-To-Day Life.

3. Learning Activities:

1. Preparatory Activities:  

These Are

  • Drill: Activity Enabling Students To Automate Response To Pre-Requisite Skills Of The New Lesson.
  • Review: Activity That Will Refresh Or Renew Previously Taught Material.
  • Introduction: An Activity That Will Set The Purpose Of The Day’s Lesson.
  • Motivation: All Activities That Arouse The Interest Of The Learners (Both Intrinsic And Extrinsic)

2. Developmental Activities

These Includes:

  • Presentation Of The History Lesson: The Teacher Uses Different Activities As A Vehicle To Translate The Knowledge, Values, And Skills Into Learning That Could Be Applied In Their Lives Outside The School.
  • Discussion/ Analysis: The Teacher Asks A Series Of Effective Or Cognitive Questions About The Lesson Presented.
  • Abstraction/ Generalization: The Complete Summarization Of The Information Takes Place Before The Actual Presentation.
  • Closer /Application: This Relates The Lesson To Other Situations In Forms Of
    • Dramatization,
    • Simulation And Play,
    • Storytelling,
    • Oral Reading,
    • Construction/ Drawing,
    • Written Composition,
    • Singing Or Reciting A Poem,
    • A Test,
    • Or Solving Problems.

Evaluation:

It Is A Method Or Way Of Checking Or Evaluating The Objectives Met By The Previous Lessons. Questioning, Summarizing, Comparing, Presenting The Previous Learning, Assigning Work, Administering A Short Quiz, Etc. Come Under This.

Assignment:

  • Teachers Prepare This Activity Outside The School Or At Home. Students Bring The Material Needed In The Classroom.
  • These Activities Should Help Attain The Lesson’s Objective.
  • It Should Be Interesting And Differentiated (With Provision For Remedial, Reinforcement, And Enrichment Activities.)

History Lesson Plan In Hindi

History Lesson Plans in Hindi

History Lesson Plan For B.Ed In Hindi Free Download Pdf

Micro Teaching History Lesson Plan In the Hindi Language

Mega Teaching History Lesson Plans In Hindi Medium

Simulated Teaching History Lesson Plan In Hindi

Real School Teaching And Practice History Lesson Plan For B.Ed And Deled 1st Year 2nd Year In Hindi

JAMIA, MDU, CRSU, DU, IGNOU, IPU University History Lesson Plans In Hindi

b ed लेसन प्लान सामाजिक विज्ञान

पाठ योजना इतिहास कक्षा 12

लेसन प्लान इन सामाजिक अध्ययन pdf

गुप्त वंश का लेसन प्लान

history lesson plan in hindi

class 8 history lesson plan in hindi

lesson plan for history class 7 in hindi

lesson plan for history class 6 in hindi

ppt lesson plan history in hindi

b.ed history lesson plan in hindi

history ka lesson plan in hindi

history ke lesson plan in hindi

खोजपूर्ण प्रश्न कौशल पाठ योजना इतिहास

पाठ योजना बी एड सामाजिक विज्ञान PDF

पाठ योजना सामाजिक विज्ञान कक्षा 5

सूक्ष्म शिक्षण पाठ योजना इतिहास pdf

itihas path yojna pdf

itihas path yojna in hindi

itihas path yojna class 12

itihas path yojna class 8

Geography Lesson Plan in Hindi

लेसन प्लान का संक्षिप्त विवरण :

  • Class : 5th 6th 7th 8th 9th 10th - Social Science
  • Subject : Geography Lesson Plan in Hindi
  • Topic : Prithvi Par Jeevan (पृथ्वी पर जीवन)
  • Type :Mega and Real Teaching Lesson Plan


Note: निचे दी गयी भूगोल पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिससे आपको Lesson Plan बनाने का Idea मिलता है| आप खुद की कल्पना शक्ति और प्रतिभा से इसे और बेहतर बना सकते है| और साथ ही साथ कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके इसे आप अपनी सुविधा के अनुसार इस्तेमाल कर सकते है|

Social Science Geography Lesson Plan in Hindi [भूगोल पाठ योजना] on Prithvi Par Jeevan Class 5th to 10th In Hindi for B.Ed, D.El.Ed, BTC, BSTC Free Download PDF,bhugol path yojna Prithvi Par Jeevan Lesson Plan Social Science in Hindi For B.Ed and D.El.Ed,पृथ्वी पर जीवन - Real teaching Mega Social Studies / Science Lesson geography Plan in Hindi, BTC DELED B.Ed Social Science Lesson Plan In Hindi Free Download

Geography Lesson Plan in Hindi on Prithvi Par Jeevan For B.Ed 1st Year, 2nd Year and DE.L.ED | भूगोल पाठ योजना

Date :

Duration Of The Peroid :

Pupils Teacher Name :

Pupil Teacher Roll Number :

Class :

Average Age Of the Pupils :

Subject :

Topic :

सामान्य उद्देश्य:

  • विद्यार्थियों में उनके निवास से संबंधित जानकारी उपलब्ध कराना|
  • शिक्षार्थियों में पृथ्वी पर हमारा जीवन कैसे संभव है,विषय संबंधित जानकारी देना|

अनुदेशनात्मक उद्देश्य:

  • पाठ पढ़ाने के बाद छात्रों से अपेक्षा की जाती है, कि वे जैवमंडल के बारे में जान सकेंगे|
  • छात्र जैव मंडल के विभिन्न भागों के बारे में जान सकेंगे|
  • छात्र जैव विविधता की व्याख्या कर सकेंगे|
  • छात्र जैव विविधता के बारे में समझ सकेंगे|
  • छात्र विभिन्न प्रयोगों द्वारा पाठ को समझ सकेंगे, कि हरे पौधे अपना भोजन कैसे तैयार करते हैं|

सामान्य सहायक शिक्षण सामग्री: चौक, डस्टर, चौक-बोर्ड, संकेतक आदि|

अनुदेशनात्मक सामग्री: जैव विविधता को दर्शाता हुआ चार्ट|

पूर्व ज्ञान परिकल्पना: छात्र अध्यापिका विद्यार्थियों के ज्ञान का यह अनुमान लगाकर चलते है, कि विद्यार्थियों को मरुस्थल के बारे में सामान्य जानकारी होगी|

पूर्व ज्ञान परीक्षण: छात्र अध्यापिका विद्यार्थियों के पूर्व ज्ञान हेतु निम्नलिखित प्रश्न पूछेंगी|

छात्र अध्यापिका क्रियाएं:

छात्र क्रियाएं:

हम जिस ग्रह पर रहते हैं उसे क्या कहते हैं?

पृथ्वी

कुल कितने ग्रह हैं?

नौ

पृथ्वी का आकार कैसा है?

गोल

स्थलमंडल को दूसरे किस नाम से जाना जाता है?

कोई उत्तर नहीं|

उपविषय की घोषणा:छात्रों के अंतिम प्रश्न का संतोषजनक उत्तर ना मिलने पर छात्र अध्यापिका उप-विषय की घोषणा करेंगी, कि अच्छा बच्चों आज हम ‘पृथ्वी पर जीवन’ के बारे में पढ़ेंगे |

प्रस्तुतीकरण: छात्र अध्यापिका व्याख्यान विधि व चार्ट के माध्यम से कक्षा में अपना पाठ प्रस्तुत करेंगी|

भूगोल पाठ योजना | Geography Lesson Plan in Hindi for B.Ed | Bhugol Path Yojna

शिक्षण बिंदु:

छात्र अध्यापिका/अध्यापक क्रियाएं:

छात्र क्रियाएं:

चॉक बोर्ड कार्य:

पृथ्वी पर जीवन:

पृथ्वी अकेला ग्रह है| जहाँ जीवित रहने के लिए उपर्युक्त स्थितियाँ पाई जाती है| जीवन सबसे पहले महासागरों में हुआ था| समय के साथ-साथ पहले जीवन विकसित हुआ तथा विभिन्न प्रजातियो में अधिक से अधिक बंट गया और जैसा कि हम देखते है| कि इस विकास क्रम ने जैव-विविधता को पर्याप्त विकसित किया है|

प्रश्न – ऐसा कौन सा ग्रह है जहाँ जीवन पाया जाता है?

पृथ्वी

पृथ्वी पर जीवन

जैवमंडल:

पृथ्वी के जिस भाग पर जीव रहते है, वह जैव-मंडल कहलाता है|

पृथ्वी के जिस भाग पर जीव रहते है, वह जैव मंडल कहलाता है|

स्थलमंडल:

इस मंडल में वायुमंडल, स्थलमंडल, जलमंडल के भाग सम्मिलित हैं| मनुष्य जैवमंडल का सबसे महत्वपूर्ण अंग है| समय के साथ मानव जीवन के विकास में जीवन के अनेक रूपों में प्रभाव डाला है|

स्थलमंडल

जैवविविधता:

समय के साथ मानव जीवन के विकास में जीवन के अनेक रूपों में प्रभाव डाला है| समय के साथ-साथ जब से पृथ्वी पर जीवन विकसित हुआ है | तभी से वह विभिन्न प्रजातियों में बंधता गया है और इस विकास क्रम के अंतर्गत जीवो की विभिन्न प्रजातियां होने को जैव विविधता कहते हैं|

जलवायु की विभिन्नता के कारण भारत में अलग-अलग वनस्पतियां पाई जाती हैं|

छात्र अपनी उत्तर पुस्तिका में लिख रहे हैं|

जैवविविधता

वनों के प्रकार

पृथ्वी पर मनुष्य के साथ-साथ तथा अन्य वन्य जीव भी रहते हैं, वनों को मोटे रूपे से सदाबहार और पर्णपाती वनों में विभाजित किया गया है, सदाबहार वन हर ऋतु में हरे भरे रहते हैं| पर्णपाती वन विशेष ऋतु में अपने पत्ते गिरा देती है | यह शुष्क ऋतु में होते हैं|

छात्र ध्यान पूर्वक से सुन रहे हैं|

वनों के प्रकार

सामान्यीकरण:ऐसा सामान्यीकरण छात्र अध्यापिका/अध्यापक द्वारा किया जाता है, कि विद्यार्थियों को पृथ्वी पर जीवन के बारे में जानकारी हो गई होगी |

पुनरावृत्ति:

जीवन सबसे पहले कहां विकसित हुआ?

गृहकार्य:

जैवमंडल क्या है ? जैवमंडल में कौन-कौन से मंडल सम्मिलित है?



www.LearningClassesOnline.com/
Further Reference:
https://www.learningclassesonline.com/ - Geography Lesson Plans in Hindi Bhugol Lesson Plans in Hindi for B.Ed

How To Make A Geography Lesson Plan In Hindi

As You Know, Lesson Plans Are Detailed Descriptions Of The Course Of Instructions Or "Learning Trajectories" For Teachers. Lesson Plans Are Developed On A Daily Basis By The Geography Teachers To Guide Class Learning.

Experienced Teachers May Make It Briefly As An Outline Of The Teacher’s Activities. A Semi-Detailed Lesson Plan Is Made By The New Teachers And It Includes All Activities And Teachers’ Questions.

A Trainee Teacher Should Make A Detailed Lesson Plan, In Which All The Activities, Teacher’s Questions, And Student’s Expected Answers Are Written Down.

Components Of The Geography Lesson Plan In Hindi

 Geography Lesson Plans in Hindi Consist Of The Following Components:

1. General Objectives:

It is The Overall Knowledge Obtained By The Child. It Is Useful In Real-Life Teaching.

2. Specific Objectives:

It Includes:

  • Knowledge Objectives: Students Will Be Able To Get Knowledge About The Specific Topic Of Geography.
  • Understanding Objective: Students Will Be Able To Understand The Concept Of The Specific Topic Of Geography.
  • Application Objectives: Students Will Be Able To Apply The Attained Knowledge In Day-To-Day Life.

3. Learning Activities:

1. Preparatory Activities:  

These Are

  • Drill: Activity Enabling Students To Automate Response To Pre-Requisite Skills Of The New Lesson.
  • Review: Activity That Will Refresh Or Renew Previously Taught Material.
  • Introduction: An Activity That Will Set The Purpose Of The Day’s Lesson.
  • Motivation: All Activities That Arouse The Interest Of The Learners (Both Intrinsic And Extrinsic)

2. Developmental Activities

These Includes:

  • Presentation Of The Geography Lesson: The Teacher Uses Different Activities As A Vehicle To Translate The Knowledge, Values, And Skills Into Learning That Could Be Applied In Their Lives Outside The School.
  • Discussion/ Analysis: The Teacher Asks A Series Of Effective Or Cognitive Questions About The Lesson Presented.
  • Abstraction/ Generalization: The Complete Summarization Of The Information Takes Place Before The Actual Presentation.
  • Closer /Application: This Relates The Lesson To Other Situations In Forms Of
    • Dramatization,
    • Simulation And Play,
    • Storytelling,
    • Oral Reading,
    • Construction/ Drawing,
    • Written Composition,
    • Singing Or Reciting A Poem,
    • A Test,
    • Or Solving Problems.

Evaluation:

It Is A Method Or Way Of Checking Or Evaluating The Objectives Met By The Previous Lessons. Questioning, Summarizing, Comparing, Presenting The Previous Learning, Assigning Work, Administering A Short Quiz, Etc. Come Under This.

Assignment:

  • Teachers Prepare This Activity Outside The School Or At Home. Students Bring The Material Needed In The Classroom.
  • These Activities Should Help Attain The Lesson’s Objective.
  • It Should Be Interesting And Differentiated (With Provision For Remedial, Reinforcement, And Enrichment Activities.)

Geography Lesson Plan In Hindi

Geography Lesson Plans in Hindi

Geography Lesson Plan For B.Ed In Hindi Free Download Pdf

Micro Teaching Geography Lesson Plan In the Hindi Language

Mega Teaching Geography Lesson Plans In Hindi Medium

Simulated Teaching Geography Lesson Plan In Hindi

Real School Teaching And Practice Geography Lesson Plan For B.Ed And Deled 1st Year 2nd Year In Hindi

JAMIA, MDU, CRSU, DU, IGNOU, IPU University Geography Lesson Plans In Hindi

बी एड लेसन प्लान इन जियोग्राफी क्लास ८

रेगिस्तान में जीवन लेसन प्लान

सामाजिक विज्ञान के लेसन प्लान

सूक्ष्म शिक्षण पाठ योजना भूगोल pdf

geography lesson plan in hindi

geography lesson plan in hindi pdf

b.ed geography lesson plan in hindi

b.ed lesson plan for geography in hindi pdf

lesson plan class 8 geography in hindi

lesson plan geography class 9 in hindi

lesson plan geography class 7 in hindi

lesson plan for geography class 6 in hindi

geography ka lesson plan in hindi

microteaching lesson plan for geography in hindi

खोजपूर्ण प्रश्न कौशल पाठ योजना Geography

Political Science Lesson Plan in Hindi

लेसन प्लान का संक्षिप्त विवरण :

  • Class: 6th 7th 8th 9th and 10th - Social Science
  • Subject:Political Science Lesson Plan in Hindi
  • Topic : संसद ( Indian Parliament)
  • Type:Mega and Real School Teaching Lesson Plan


Note: निचे दी गयी राजनीतिक शास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिससे आपको Lesson Plan बनाने का Idea मिलता है| आप खुद की कल्पना शक्ति और प्रतिभा से इसे और बेहतर बना सकते है| और साथ ही साथ कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके इसे आप अपनी सुविधा के अनुसार इस्तेमाल कर सकते है|

Political Science Lesson Plan in Hindi [राजनीति विज्ञान पाठ योजना] on Sansad [संसद] - Lok Sabha Aur Rajya Sabha in Hindi Class 6th to 8th Social Science B.Ed, DELED free download PDF , lesson plan on sansad bhawan for political science, lok sabha lesson plan political science, rajya sabha lesson plan political science ,Sansad Lesson Plan In Hindi For B.Ed/D.El.Ed politics,संसद पाठ योजन rajniti vigyan ,political science Lesson Plan For B.Ed,political science Lesson Plan For DElEd,Sansad Lesson Plan In Hindi,Real teaching Mega political science Social Studies / Science Lesson Plan in Hindi Free download Online sansad, social science lesson plan in hindi, political science sst lesson plan in hindi,सामाजिक अध्ययन / सामाजिक विज्ञान में राजनीतिक शास्त्र एवं विज्ञान का लेसन प्लान

Political Science Lesson Plan in Hindi on Sansad Bhawan - Rajyasabha Aur LokSabha For B.Ed 1st Year, 2nd Year and DELED | राजनीति विज्ञान पाठ योजना सामाजिक अध्ययन

Date :

Duration Of The Period :

Pupils Teacher Name :

Pupil Teacher Roll Number :

Class :

Average Age Of the Students :

Subject :

Topic :


विषय वस्तु विश्लेषण : संसद

सामान्य उद्देश्य:

  • शिक्षार्थियों में सामाजिक कुशलता का विकास करना|
  • शिक्षार्थियों में राजनीति ज्ञान को विकसित करना|
  • शिक्षार्थियों को सरकार के गठन से संबंधित जानकारी उपलब्ध कराना|

अनुदेशनात्मक उद्देश्य:

  1. पाठ अध्ययन के उपरांत छात्रों से यह अपेक्षा की जाती है, कि वे संसद से संबंधित कुछ जानकारी दे सकेंगे|
  2. छात्र संसद को परिभाषित कर सकेंगे|
  3. छात्र संसद के संदर्भ में कथन दें सकेंगे|
  4. छात्र संसद का वर्गीकरण कर सकेंगे|
  5. छात्र संसद की व्याख्या कर सकेंगे|
  6. छात्र संसद के बारे में भविष्यकाल कथन दे सकेंगे|
  7. विद्यार्थी समस्या का समाधान कर सकेंगे|

सामान्य सहायक शिक्षण सामग्री: चौक, डस्टर, चौक-बोर्ड, संकेतक आदि|

अनुदेशनात्मक सामग्री: संसद से संबंधित चार्ट|

पूर्व ज्ञान परिकल्पना:

छात्र-अध्यापिका विद्यार्थियों के ज्ञान का यह अनुमान लगाकर चलती है, कि विद्यार्थियों को संसद के बारे में सामान्य जानकारी होगी|

पूर्व ज्ञान परीक्षण:

छात्र-अध्यापिका विद्यार्थियों के पूर्व ज्ञान हेतु निम्नलिखित प्रश्न पूछेंगी|

छात्र-अध्यापिका क्रियाएं:

छात्र क्रियाएं:

भारत में किस प्रकार की शासन व्यवस्था अपनाई गई?

लोकतंत्र व्यवस्था

लोकतंत्र में सरकार बनाने का अधिकार किसका है?

जनता का

केंद्रीय विधान मंडल को क्या कहते हैं?

समस्यात्मक प्रश्न


उपविषय की घोषणा:

छात्रों के अंतिम प्रश्न का संतोषजनक उत्तर ना मिलने पर छात्र-अध्यापिका उप-विषय की घोषणा करेंगी, कि अच्छा बच्चों आज हम संसद के बारे में पढ़ेंगे|

प्रस्तुतीकरण:

छात्र-अध्यापिका व्याख्यान विधि व चार्ट के माध्यम से कक्षा में अपना पाठ प्रस्तुत करेंगी|

राजनीति विज्ञान पाठ योजना | Political Science Lesson Plan in Hindi for B.Ed | Rajniti Shastra Evam Rajniti Vigyan Path Yojna

शिक्षण बिंदु:

छात्र-अध्यापिका क्रियाएं:

छात्र क्रियाएं:

चॉक बोर्ड कार्य:

संसद

संसद की कल्पना विश्व में अंग्रेजों की देन है, इसलिए ब्रिटिश संसद को संसद की जननी कहा जाता है| 79 एक्ट में संसद को गठन से संबंधित राज्यसभा लोकसभा व राष्ट्रपति से संबंधित जानकारी प्राप्त होती है|

छात्र ध्यान पूर्वक सुन रहे है|

संसद:

1.लोकसभा

2.राज्यसभा

संसद के सदन

संसद के दो सदन होते हैं|

1.लोकसभा

2.राज्यसभा

छात्र ध्यान पूर्वक समझ कर उत्तर पुस्तिका में लिख रहे है|

1.लोकसभा

2.राज्यसभा

राज्यसभा

यह सदन का ऊपरी सदन है, इसमें 250 सदस्य राष्ट्रपति के द्वारा मनोनीत किए जाते हैं, जो साहित्य कला समाज सेवा आदि के कारण प्रसिद्धि प्राप्त करते हैं|

राज्यसभा

अवधि

राज्यसभा स्थाई सदन है, इसे भंग नहीं किया जा सकता चुनाव 6 वर्ष के लिए किया जाता है| ⅓ सदस्य 2 वर्ष के लिए बाद अवकाश ग्रहण करते हैं|

छात्र ध्यान पूर्वक समझ रहे है|

अवधि

अधिवेशन

राज्यसभा का वर्ष में कम से कम 2 बार अधिवेशन होता है|

राज्यसभा का 2 बार अधिवेशन होता है|

योग्यता

1.30 वर्ष की आयु पूरी कर चुका हो|

2. पागल अथवा दिवालिया ना हो|

3. भारत का नागरिक हो|

छात्र ध्यान पूर्वक समझ कर उत्तर पुस्तिका में लिख रहे है|

योग्यता

लोकसभा

लोकसभा के सदस्य चुनाव प्रणाली से चुने जाते हैं|लोकसभा में 552 सदस्य होते हैं, 20 सदस्य संघ शासित प्रदेशों से चुने जाते हैं, जो कि इंडियन होते हैं|

छात्र-ध्यान पूर्वक समझ रहे है|

योग्यता

1. 25 वर्ष की आयु पूरी कर चुका हो|

2. पागल अथवा दिवालिया ना हो|

3. भारत का नागरिक हो|

छात्र ध्यान पूर्वक उत्तर पुस्तिका में लिख रहे है|

योग्यता

कार्यकाल

लोकसभा का कार्यकाल 5 वर्ष तक रहता है|

कार्यकाल

अधिवेशन

लोकसभा का अधिवेशन साल में दो बार होता है, आवश्यकता पड़ने पर राष्ट्रपति द्वारा दो बार से अधिक अधिवेशन बुलाया जा सकता है|

अधिवेशन

चुनाव का ढंग

लोकसभा का चुनाव प्रत्यक्ष चुनाव प्रणाली द्वारा होता है|

चुनाव का ढंग


सामान्यीकरण

ऐसा सामान्यीकरण छात्र-अध्यापिका द्वारा किया जाता है, कि विद्यार्थियों को संसद के बारे में जानकारी हो गई होगी|

पुनरावृत्ति:

  • संसद में कितने सदन होते हैं?
  • संसद का ऊपरी सदन कौन सा होता है?
  • लोकसभा के सदस्य की क्या-क्या योग्यता होती है?

गृहकार्य:

संसद के बारे में पढ़ कर आना है|



www.LearningClassesOnline.com/
Further Reference:
https://www.learningclassesonline.com/ - Political Science Lesson Plans in Hindi Rajniti Vigyan Lesson Plan in Hindi for B.Ed

How To Make A Political Science Lesson Plan In Hindi

As You Know, Lesson Plans Are Detailed Descriptions Of The Course Of Instructions Or "Learning Trajectories" For Teachers. Lesson Plans Are Developed On A Daily Basis By The Political Science Teachers To Guide Class Learning.

Experienced Teachers May Make It Briefly As An Outline Of The Teacher’s Activities. A Semi-Detailed Lesson Plan Is Made By The New Teachers And It Includes All Activities And Teachers’ Questions.

A Trainee Teacher Should Make A Detailed Lesson Plan, In Which All The Activities, Teacher’s Questions, And Student’s Expected Answers Are Written Down.

Components Of The Political Science Lesson Plan In Hindi

 Political Science Lesson Plans in Hindi Consist Of The Following Components:

1. General Objectives:

It is The Overall Knowledge Obtained By The Child. It Is Useful In Real-Life Teaching.

2. Specific Objectives:

It Includes:

  • Knowledge Objectives: Students Will Be Able To Get Knowledge About The Specific Topic Of Political Science.
  • Understanding Objective: Students Will Be Able To Understand The Concept Of The Specific Topic Of Political Science.
  • Application Objectives: Students Will Be Able To Apply The Attained Knowledge In Day-To-Day Life.

3. Learning Activities:

1. Preparatory Activities:  

These Are

  • Drill: Activity Enabling Students To Automate Response To Pre-Requisite Skills Of The New Lesson.
  • Review: Activity That Will Refresh Or Renew Previously Taught Material.
  • Introduction: An Activity That Will Set The Purpose Of The Day’s Lesson.
  • Motivation: All Activities That Arouse The Interest Of The Learners (Both Intrinsic And Extrinsic)

2. Developmental Activities

These Includes:

  • Presentation Of The Political Science Lesson: The Teacher Uses Different Activities As A Vehicle To Translate The Knowledge, Values, And Skills Into Learning That Could Be Applied In Their Lives Outside The School.
  • Discussion/ Analysis: The Teacher Asks A Series Of Effective Or Cognitive Questions About The Lesson Presented.
  • Abstraction/ Generalization: The Complete Summarization Of The Information Takes Place Before The Actual Presentation.
  • Closer /Application: This Relates The Lesson To Other Situations In Forms Of
    • Dramatization,
    • Simulation And Play,
    • Storytelling,
    • Oral Reading,
    • Construction/ Drawing,
    • Written Composition,
    • Singing Or Reciting A Poem,
    • A Test,
    • Or Solving Problems.

Evaluation:

It Is A Method Or Way Of Checking Or Evaluating The Objectives Met By The Previous Lessons. Questioning, Summarizing, Comparing, Presenting The Previous Learning, Assigning Work, Administering A Short Quiz, Etc. Come Under This.

Assignment:

  • Teachers Prepare This Activity Outside The School Or At Home. Students Bring The Material Needed In The Classroom.
  • These Activities Should Help Attain The Lesson’s Objective.
  • It Should Be Interesting And Differentiated (With Provision For Remedial, Reinforcement, And Enrichment Activities.)

Political Science Lesson Plan In Hindi

Political Science Lesson Plans in Hindi

Political Science Lesson Plan For B.Ed In Hindi Free Download Pdf

Micro Teaching Political Science Lesson Plan In the Hindi Language

Mega Teaching Political Science Lesson Plans In Hindi Medium

Simulated Teaching Political Science Lesson Plan In Hindi

Real School Teaching And Practice Political Science Lesson Plan For B.Ed And Deled 1st Year 2nd Year In Hindi

JAMIA, MDU, CRSU, DU, IGNOU, IPU University Political Science Lesson Plans In Hindi

Civics Lesson Plan in Hindi

लेसन प्लान का संक्षिप्त विवरण :

  • Class: 6th 7th 8th 9th and 10th
  • Subject: Civics - Nagrik Shastra Lesson Plan
  • Topic : Parivahan Ke Sadhan
  • Type:Mega and Real School Teaching Lesson Plan


Note: निचे दी गयी नागरिकशास्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिससे आपको Lesson Plan बनाने का Idea मिलता है| आप खुद की कल्पना शक्ति और प्रतिभा से इसे और बेहतर बना सकते है| और साथ ही साथ कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके इसे आप अपनी सुविधा के अनुसार इस्तेमाल कर सकते है|


Civics Lesson Plan in Hindi [नागरिक शास्र पाठ योजना] on Parivahan Ke Sadhan for Class 6th to 9th, B.Ed, D.El.Ed ,BTC/BSTC Free Download PDF, Parivahan Ke Sadhan nagrik shastra Lesson Plan in Hindi [परिवहन के साधन नागरिक शास्र पाठ योजना] for Geography and Social Science Civics Class 6th to 9th and B.Ed/D.El.Ed Free Download PDF,Parivahan Lesson Plan In Hindi For B.Ed/D.El.Ed,परिवहन के साधन पाठ योजना,Parivahan Lesson Plan For DElEd,Parivahan Lesson Plan For B.Ed,Parivahan Ke Sadhan social science civics Lesson Plan In Hindi,Parivahan Ke Sadhan civics Lesson Plan For B.Ed,Social Study civics SST Lesson Plan,Class 6th/7th/8th/9th/10th,परिवहन के साधन Simulated teaching Social Studies Lesson Plan in Hindi, social science lesson plan in hindi, sst lesson plan in hindi

Civics Lesson Plan in Hindi on Parivahan Ke Sadhan For B.Ed 1st Year, 2nd Year and DELED | नागरिकशास्र पाठ योजना

Date : Duration Of The Period :
Pupils Teacher Name :Pupil Teacher Roll Number :
Class :Average Age Of the Students :
Subject :Topic :

विषय वस्तु विश्लेषण:

  • प्रस्तावना
  • यातायात के साधनों की कमी से कठिनाइयां
  • परिवहन के साधनों का विकास
  • परिवहन के साधनों के प्रकार

सामान्य उद्देश्य:

  1. विद्यार्थियों में सामाजिक अध्ययन के प्रति तर्क व चिंतन उत्पन्न करना|
  2. विद्यार्थियों के विकास में वृद्धि करना|
  3. विद्यार्थियों में सामाजिक कुशलता का विकास करना|
  4. विद्यार्थियों में वायुमंडल को जानने की जिज्ञासा पैदा करना|

अनुदेशनात्मक उद्देश्य:

  • विद्यार्थी परिवहन के साधनों के बारे में जान सकेंगे|
  • विद्यार्थी परिवहन के साधनों के प्रकारों की व्याख्या कर सकेंगे|
  • विद्यार्थी परिवहन के विभिन्न साधनों की पहचान सकेंगे|
  • विद्यार्थी परिवहन के सभी साधनों का उचित प्रयोग करना सीख सकेंगे|

सामान्य सहायक शिक्षण सामग्री: चौक, डस्टर, चौक-बोर्ड, संकेतक आदि|

अनुदेशनात्मक सामग्री:परिवहन के साधनों को दर्शाता हुआ चार्ट

पूर्व ज्ञान परिकल्पना:

छात्र-अध्यापिका विद्यार्थियों के ज्ञान का यह अनुमान लगाकर चलती है, कि विद्यार्थियों को परिवहन के साधनों के बारे में सामान्य जानकारी होगी|

पूर्व ज्ञान परीक्षण:

छात्र-अध्यापिका विद्यार्थियों के पूर्व ज्ञान हेतु निम्नलिखित प्रश्न पूछेंगी|

छात्र-अध्यापिका क्रियाएं:छात्र क्रियाएं:
हम सब एक स्थान से दूसरे स्थान पर कैसे जाते हैं?रेलगाड़ी,बस, स्कूटर साइकिल आदि से
प्राचीन समय में लोग एक स्थान से दूसरे स्थानों पर कैसे जाते थे?बैलगाड़ी,तांगा पैदल या घुड़सवारी के जरिए
बैलगाड़ी, रेलगाड़ी, हवाई जहाज यह सब क्या है?कोई उत्तर नहीं


उपविषय की घोषणा:

छात्रों के अंतिम प्रश्न का संतोषजनक उत्तर ना मिलने पर छात्र-अध्यापिका उप-विषय की घोषणा करेंगी, कि अच्छा बच्चों आज हम परिवहन के साधनों के बारे में पढ़ेंगे|

प्रस्तुतीकरण:

छात्र-अध्यापिका व्याख्यान विधि व चार्ट के माध्यम से कक्षा में अपना पाठ प्रस्तुत करेंगी|

नागरिकशास्र पाठ योजना | Civics Lesson Plan in Hindi for B.Ed | Nagrik Shastra Lesson Plan

शिक्षण बिंदु:छात्र-अध्यापिका क्रियाएं:छात्र क्रियाएं:चॉक बोर्ड कार्य:
प्रस्तावनाप्राचीन काल में लोगों को एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाने के लिए बहुत कठिनाइयों का सामना करना पड़ता था, क्योंकि तब परिवहन यातायात के साधन बहुत कम थी, लोग पैदल चलकर घोड़ो, ऊटों या बैलगाड़ी के द्वारा ही आते जाते थे, उस समय सड़के भी नहीं थी| कहीं कच्चा रास्ता तो कही पर पगडंडीया होती थी|बच्चे ध्यान से सुनेंगेपरिवहन के साधनों से आधुनिक युग में यात्रा करना बहुत ही आसान हो गया है|
साधनों की कमी से कठिनाइयांयातायात के साधनों की कमी के कारण लोगों को एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाने में कई कठिनाइयों का सामना करना पड़ता था| यात्रा के दौरान डाकुओं द्वारा लूटा जाना, मकान व सामान की समस्या घोड़े व बैल भी कम मिल पाते थे|साधनों की कमी से एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाने में कई कठिनाइयां होती थी|
परिवहन के साधनों का विकासआधुनिक युग में परिवहन के साधनों का विकास हुआ, तथा साथ साथ सड़कों, पुलों, नहरों आदि का निर्माण हो गया, जिससे यात्रा करना भी आसान हो गया| इन साधनों के द्वारा हम समय व ऊर्जा की बचत करके परिवहन के साधन्दी एक स्थान से दूसरे स्थान पर चले जाते हैं|बच्चे ध्यान से सुनेंगे1.सड़क मार्ग

2. परिवहन के साधनमार्ग

3. वायु मार्ग

परिवहन के साधनों के प्रकारपरिवहन के साधनों को तीन भागों में बांटा जा सकता है|

1. सड़क मार्ग परिवहन

2. परिवहन के साधन मार्ग परिवहन

3. वायु मार्ग परिवहन

बच्चे ध्यान से सुनेंगेसड़क पर चलने वाले वाहनों को सड़क मार्ग परिवहन कहते हैं|
सड़क मार्ग परिवहनसड़क पर चलने वाले वाहनों को सड़क मार्ग परिवहन के अंतर्गत लाया जाता है, जैसे बस, स्कूटर, रेल, ऑटो आदि|सड़क पर चलने वाले वाहनों को सड़क मार्ग परिवहन कहते हैं|
परिवहन के साधन मार्ग परिवहनपरिवहन के साधन मार्ग से चलने वाले यातायात के साधनों को परिवहन के साधन मार्ग परिवहन कहा जाता है|परिवहन के साधन मार्ग से चलने वाले यातायात के साधनों को परिवहन के साधन मार्ग परिवहन कहा जाता है|
वायु मार्ग परिवहनपरिवहन के साधन मार्ग परिवहन में नाव पानी वायु मार्ग परिवहन में वह सभी साधन आते हैं, जो वायु में उड़ते हैं, जैसे- हवाई जहाज, हेलीकॉप्टर, स्पेसशिप आदि| इन सभी को वायु मार्ग परिवहन साधन कहते हैं, यह सब तीव्र गति से चलने वाले साधन है, इन्हें मानव स्वयं उड़कर एक स्थान से दूसरे स्थान पर कम समय में जा सकते हैं|बच्चे ध्यान से सुनेंगेवायु में उड़ने वाले साधनों को वायु मार्ग परिवहन कहते है|

सामान्यीकरण:

छात्र-अध्यापिका सामान्यीकरण करती है, कि विद्यार्थियों को परिवहन के साधनों के बारे में समझ आ गया होगा|

पुनरावृति:

  • प्राचीन काल में परिवहन के कौन-कौन से साधन प्रयोग होते थे?
  • परिवहन के साधन मार्ग परिवहन के दो-दो उदाहरण दें?
  • परिवहन के साधनों को कितने भागों में बांटा जा सकता है?
  • सबसे तीव्र गति का परिवहन संसाधन कौन सा है?

गृहकार्य:

  1. परिवहन के साधनों का विकास किस प्रकार हुआ?
  2. परिवहन के साधनों के विभिन्न प्रकार कौन-कौन से हैं?
  3. परिवहन के साधनों से आज क्या-क्या लाभ हुआ है विस्तृत वर्णन करो?


www.LearningClassesOnline.com/
Further Reference:
https://www.learningclassesonline.com/ - Civics Lesson Plans in Hindi Nagrik Shastra Lesson Plan in Hindi for B.Ed

How To Make A Civics Lesson Plan In Hindi

As You Know, Lesson Plans Are Detailed Descriptions Of The Course Of Instructions Or "Learning Trajectories" For Teachers. Lesson Plans Are Developed On A Daily Basis By The Civics Teachers To Guide Class Learning.

Experienced Teachers May Make It Briefly As An Outline Of The Teacher’s Activities. A Semi-Detailed Lesson Plan Is Made By The New Teachers And It Includes All Activities And Teachers’ Questions.

A Trainee Teacher Should Make A Detailed Lesson Plan, In Which All The Activities, Teacher’s Questions, And Student’s Expected Answers Are Written Down.

Components Of The Civics Lesson Plan In Hindi

 Civics Lesson Plans in Hindi Consist Of The Following Components:

1. General Objectives:

It is The Overall Knowledge Obtained By The Child. It Is Useful In Real-Life Teaching.

2. Specific Objectives:

It Includes:

  • Knowledge Objectives: Students Will Be Able To Get Knowledge About The Specific Topic Of Civics.
  • Understanding Objective: Students Will Be Able To Understand The Concept Of The Specific Topic Of Civics.
  • Application Objectives: Students Will Be Able To Apply The Attained Knowledge In Day-To-Day Life.

3. Learning Activities:

1. Preparatory Activities:  

These Are

  • Drill: Activity Enabling Students To Automate Response To Pre-Requisite Skills Of The New Lesson.
  • Review: Activity That Will Refresh Or Renew Previously Taught Material.
  • Introduction: An Activity That Will Set The Purpose Of The Day’s Lesson.
  • Motivation: All Activities That Arouse The Interest Of The Learners (Both Intrinsic And Extrinsic)

2. Developmental Activities

These Includes:

  • Presentation Of The Civics Lesson: The Teacher Uses Different Activities As A Vehicle To Translate The Knowledge, Values, And Skills Into Learning That Could Be Applied In Their Lives Outside The School.
  • Discussion/ Analysis: The Teacher Asks A Series Of Effective Or Cognitive Questions About The Lesson Presented.
  • Abstraction/ Generalization: The Complete Summarization Of The Information Takes Place Before The Actual Presentation.
  • Closer /Application: This Relates The Lesson To Other Situations In Forms Of
    • Dramatization,
    • Simulation And Play,
    • Storytelling,
    • Oral Reading,
    • Construction/ Drawing,
    • Written Composition,
    • Singing Or Reciting A Poem,
    • A Test,
    • Or Solving Problems.

Evaluation:

It Is A Method Or Way Of Checking Or Evaluating The Objectives Met By The Previous Lessons. Questioning, Summarizing, Comparing, Presenting The Previous Learning, Assigning Work, Administering A Short Quiz, Etc. Come Under This.

Assignment:

  • Teachers Prepare This Activity Outside The School Or At Home. Students Bring The Material Needed In The Classroom.
  • These Activities Should Help Attain The Lesson’s Objective.
  • It Should Be Interesting And Differentiated (With Provision For Remedial, Reinforcement, And Enrichment Activities.)

Civics Lesson Plan In Hindi

Civics Lesson Plans in Hindi

Civics Lesson Plan For B.Ed In Hindi Free Download Pdf

Micro Teaching Civics Lesson Plan In the Hindi Language

Mega Teaching Civics Lesson Plans In Hindi Medium

Simulated Teaching Civics Lesson Plan In Hindi

Real School Teaching And Practice Civics Lesson Plan For B.Ed And Deled 1st Year 2nd Year In Hindi

JAMIA, MDU, CRSU, DU, IGNOU, IPU University Civics Lesson Plans In Hindi

नागरिक शास्त्र का लेसन प्लान पीडीऍफ़

civics lesson plan in hindi pdf

civics lesson plan in hindi pdf download

b.ed civics lesson plan in hindi

lesson plan for civics class 8 in hindi

lesson plan for civics class 6 in hindi

lesson plan civics class 9 in hindi

civics ka lesson plan in hindi

प्रधानमंत्री पर लेसन प्लान

b ed lesson plan for civics in hindi pdf download

civics lesson plan in hindi

nagrik shastra lesson plan


Social Science Lesson Plan In Hindi


समाजिक अध्यन एवं सामाजिक विज्ञानं की पाठ योजना हिंदी में बी.एड , DE.L.Ed , BTC, M.Ed, NCERT, CBSE, NIOS के सामाजिक विज्ञानं सोशल स्टडीज के टीचर्स के लिए

यह सामाजिक विज्ञानं का लेसन प्लान ( Social Science Lesson Plan Hindi) कक्षा 3 से 10 तक के विद्यार्थियों है| जो भूगोल (Geography) से लिए गया है जिसका विषय "जल " है| अगर आप किसी और टॉपिक पर सामाजिक विज्ञानं का लेसन प्लान ढूंढ रहे है तो निचे जो बटन दिया गया है उसे दबाये| यह आपको सोशल साइंस की हर शाखा के बहुत सरे लेसन मिलेंगे |



निचे जो सामाजिक विज्ञान का लेसन प्लान दिया गया है | उसका फॉर्मेट आप अपना हिसाब से बदल सकते है | Trainee teachers के लिए फॉर्मेट निचे दिया है | और स्कूल में पढ़ा रहे शिक्षकों को छात्र अध्यापक की बजाय केवल अध्यापक क्रिया ही लिखना है | 

शिक्षण बिंदुछात्र अध्यापक/अध्यापिका क्रियाछात्र क्रिया  श्यामपट्ट कार्य

Note: निचे दी गयी पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|

सामाजिक विज्ञान पाठ योजना , सामाजिक अध्यन पाठ योजना, सोशल साइंस लेसन प्लान इन हिंदी , social science lesson in hindi for b.ed download pdf free


Social Science Lesson Plan In Hindi ( जल विषय पर सामाजिक विज्ञानं का लेसन प्लान)


  • अध्यापक / अध्यापिका नाम -
  • कक्षा (Class ) - 3 से 8
  • विषय (Subject) - सामाजिक अध्ययन / सामाजिक विज्ञान
  • प्रकरण (Topic) - जल / पानी (Water)

B.Ed social science lesson plan in hindi on jal free download pdf

विषय वस्तु विश्लेषण:

जल/ पानी

सामान्य उद्देश्य:
  1. विद्यार्थियों के सन्मुख जल के महत्व पर प्रकाश डालना।
  2. विद्यार्थियों में जल संरक्षण गुण को विकसित करना।



अनुदेशात्मक उद्देश्य:

  1. पाठ अध्ययन के उपरांत बच्चों से उपेक्षा की जाती है कि वह जल को परिभाषित कर सकेंगे।
  2. छात्र जल शब्द की व्याख्या कर सकेंगे।
  3. छात्र जल/ पानी का उचित प्रयोग कर सकेंगे और जल के बारे में भविष्य कथन कर सकेंगे।
शिक्षण सहायक सामग्री: 
  • सामान्य सामग्री - चाक, chalkboard, संकेतक, Duster
  • विशिष्ट सामग्री - चार्ट
lesson plan on water in hindi, jal path yojna, 

पूर्व ज्ञान परीक्षण:

अध्यापक/ अध्यापिका पूर्व ज्ञान परिक्षण के लिए विद्यार्थियों से निम्न प्रश्न पूछ सकते है|

अध्यापिका/ अध्यापक क्रियाएंछात्र क्रियाएं
मनुष्य किन पांच तत्वों से मिलकर बना है?पृथ्वी, वायु , जल , आकाश , अग्नि
प्रकृति से हमें कौन-कौन सी चीजें प्राप्त होती हैं?झीलें, नदिया, बंदरगाह, पेड़- पौधे  
जीवन जीने के लिए सबसे महत्वपूर्ण तत्व क्या है। कोई उत्तर नहीं

उपविषय की घोषणा:

छात्रों द्वारा उत्तर न मिलने पर अध्यापक/ अध्यापिका कक्षा में अपने उपविषय की घोषणा करेंगे की आज हम जल एवं पानी संबंधित विषय पर चर्चा करेंगे।

प्रस्तुतीकरण: 


शिक्षण बिंदुअध्यापक/ अध्यापिका क्रियाएंछात्र क्रियाएंश्यामपट्ट कार्य
जलजल एक महत्वपूर्ण नवीकरणीय प्राकृतिक संसाधन हैं|  भूपृष्ठ 3 / 4 भाग जल से ढका हुआ है इसलिए इसे "जल ग्रह"कहना उपयुक्त है।

दैनिक कार्यों से लेकर कृषि में और विविध उद्द्योगों में जल का उपयोग होता है। जल मानव जीवन के लिये इतना महत्वपूर्ण संसाधन है कि यह मुहावरा ही प्रचलित है कि जल ही जीवन है। 
छात्र ध्यान पूर्वक सुन रहे हैं।
जल
जल एक महत्वपूर्ण नवीकरणीय एवं प्राकृतिक संसाधन है।
सामाजिक विज्ञान पाठ योजना जल
जल का उपयोग मनुष्य पानी की बड़ी मात्रा का उपयोग न केवल पीने और धुलाई में ही करता है वरन उत्पादन प्रक्रिया में भी करता है|  जल कृषि उद्योग तथा बांधों के जलाशयों के मध्य में विद्युत उत्पादन करने में भी प्रयोग किया जाता है।छात्र ध्यान पूर्वक सुनकर लिख रहे हैं|जल का उपयोग
जल उपलब्धता, समस्या, व इसके क्षेत्रविश्व के कई प्रदेशों में जल की कमी है अधिकांश देश जैसे पश्चिमी एशिया, दक्षिणी एशिया, संयुक्त राज्य अमेरिका के भाग , संपूर्ण ऑस्ट्रेलिया जल की आपूर्ति की कमी का सामना कर रहे हैं|

ये देश ऐसे जलवायु प्रदेशों में स्थित है जहां अक्सर सूखा पड़ता है।
छात्र ध्यान पूर्वक समझ रहे हैं।जल उपलब्धता समस्या व इसके क्षेत्र

जल विषय पर सामाजिक विज्ञानं का लेसन प्लान हिंदी में
जल संसाधनों का संरक्षणआज के विश्व में शुद्ध तथा पर्याप्त जल/ पानी स्त्रोत तक पहुंचना एक बड़ी समस्या बन गई है|

जल एक नवीकरण संसाधन है इसका संरक्षण हमारे जीवन के लिए परम आवश्यक है | हमें जल को व्यर्थ नहीं करना चाहिए|

हमें जल का संरक्षण इस प्रकार करना चाहिए कि हमारी भावी पीढ़ी को किसी प्रकार की समस्या का सामना ना करना पड़े | परिणाम स्वरुप हमें जल को सुरक्षित करने के लिए नल को खुला नहीं छोड़ना चाहिए।
छात्र ध्यान पूर्वक समझ रहे हैं।जल संसाधनों का संरक्षण

जल विषय पर सामाजिक विज्ञानं का लेसन प्लान हिंदी में बी.एड के लिए पीडीऍफ़ डाउनलोड करे फ्री में deled एंड btc Social Science Lesson Plan In Hindi on पानी ( water )               



पुनरावृति:
  • प्रश्न  1 - जल का उपयोग किन कार्यों के लिए किया जाता है ?
  • प्रश्न  2 - जलापूर्ति की किन किन क्षेत्रों में कमी है।
  • प्रश्न 3 - संरक्षण के उपाय समझाइए।

गृह कार्य:

जल संरक्षण एवं जल संसाधन के बारे में पढ़ कर आना है।



Further Reference:
https://www.learningclassesonline.com/ - Social Studies Lesson Plans in Hindi Social Science Lesson Plans in Hindi for B.Ed

--------------- 
समाप्त 
--------------- 

This is the social science/ social studies or sst lesson plan in Hindi for teachers of class 3rd to 8th but all the teachers of class 1st, 2nd, 3 rd, 4th, 5th, 6th, 7th, 8th, 9th, 10th, 11th, 12th of samajik Vigyan subject can make a social science lesson plan in Hindi with the help of this B.Ed, deled, BTC, NIOS lesson plan.

For more sample and model microteaching (suksham shikshan), mega/ macro/ real teaching, simulated, discussion and observation teaching lesson plans of social science or social studies in Hindi for teachers of history(itihas), geography(bhugol), political (rajniti), civics, sociology and students BEd, DELED, BTC, IGNOU, NIOS, CBSE, NCERT click here

BEd 1st and 2nd year / Semester Lesson Plan In Hindi  - बी एड लेसन प्लान [पाठ योजना] हिंदी में कैसे बनाये ?


यह बीएड का लेसन प्लान (B.Ed Lesson Plan in Hindi) सामाजिक विज्ञान के विषय "संसद" पर है| जो कि  कक्षा 6 से 10 तक के लिए है| न केवल B.Ed बल्कि deled , btc के विद्यार्थी भी इससे अपना Lesson Plan बना सकते है|

अगर आप किसी अन्य विषय पर बीएड के लेसन प्लान ढूंढ रहे है तो निचे जो बटन दिया गया है उसे दबाये| यहां आपको B Ed, De.l.ed, bstc, M.Ed और School teachers के लिए 1000 से भी ज्यादा हर Subject के लेसन प्लान मिलेंगे|



Note: निचे दिया गया B.Ed Ka Hindi Me Lesson Plan केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|

तो चलिए अब हम शुरू करते है आना बी एड का लेसन प्लान हिंदी में

Social Science B.Ed Lesson Plan in Hindi on Parliament ( Sansad Bhawan)


बी.एड हिंदी पाठ योजना, बी एड लेसन प्लान इन हिंदी, बीएड लेसन प्लान, बी एड लेसन प्लान इन हिंदी

लेसन प्लान का संक्षिप्त विवरण:
  • कक्षा - 6, 7 , 8,9,10
  • विषय- सामाजिक अध्ययन / सामाजिक विज्ञान
  • प्रकरण (Topic ) - संसद (पार्लियामेंट)

bed lesson plan in hindi class 7, up b ed lesson plan in hindi pdf,

विषय वस्तु विश्लेषण

संसद

सामान्य उद्देश्य
  • शिक्षार्थियों में सामाजिक कुशलता का विकास कराना।
  • शिक्षार्थियों में राजनीतिक ज्ञान को विकसित कराना।
  • शिक्षार्थियों को सरकार के गठन से संबंधित जानकारी उपलब्ध कराना।



अनुदेशात्मक उद्देश्य
  1. पाठ अध्ययन के उपरांत छात्रों से यह अपेक्षा की जाती है कि वे संसद से संबंधित कुछ जानकारी दे सकेंगे।
  2. छात्र संसद को परिभाषित कर सकेंगे।
  3. छात्र संसद के संदर्भ में कथन दे सकेंगे।
  4. छात्र संसद का वर्गीकरण कर सकेंगे।
  5. छात्र संसद की व्याख्या कर सकेंगे।
  6. छात्र संसद शब्द का प्रयोग कर सकेंगे।
  7. छात्र संसद के बारे में भविष्यकाल कथन दे सकेंगे।
शिक्षण सहायक सामग्री

श्यामपट्ट, चाक,झाड़न, संकेतक

पूर्व ज्ञान परीक्षण

छात्र अध्यापक/ अध्यापिका छात्रों से पूर्व ज्ञान के लिए निम्नलिखित प्रश्न पूछेगा/ पूछेगी|

अध्यापक/ अध्यापिका क्रियाएं छात्र क्रियाएं
भारत में किस प्रकार की शासन व्यवस्था अपनाई गई है?लोकतंत्र शासन व्यवस्था
लोकतंत्र में सरकार बनाने का अधिकार किसका है?



b.ed lesson plan in hindi pdf download, btc lesson plan 2nd semester in hindi pdf,


जनता का
केंद्रीय विधानमंडल को क्या कहते हैं?समस्यात्मक प्रश्न

उपविषय की घोषणा

छात्रों द्वारा उत्तर न मिलने पर छात्र अध्यापक / अध्यापिका कक्षा  में अपने विषय की घोषणा करेंगे कि आज हम संसद के बारे में पड़ेंगे।



प्रस्तुतीकरण

शिक्षण बिंदुछात्र अध्यापक/ अध्यापिका क्रियाएंछात्र क्रियाएं श्यामपट्ट कार्य
संसदसंसद की कल्पना विश्व में अंग्रेजों की देन है इसलिए ब्रिटिश संसद को संसद की जननी कहा जाता है|  भारतीय संविधान के अनुच्छेद 79 – 122 में भारत के संसद की संरचना, शक्तियां और प्रक्रियाओं के बारे में उल्लेख किया गया है।

lesson plan social science / social studies in hindi

छात्र ध्यानपूर्वक सुन रहे हैं।संसद
संसद के सदनसंसद के दो सदन होते हैं।

1. लोक सभा
2. राज्य सभा
छात्र ध्यानपूर्वक सुन रहे हैं।संसद

1. लोक सभा
2. राज्य सभा
राज्य सभाराज्य सभा भारतीय लोकतंत्र की ऊपरी प्रतिनिधि सभा है। लोकसभा निचली प्रतिनिधि सभा है। राज्यसभा में 245 सदस्य होते हैं। जिनमे 12 सदस्य भारत के राष्ट्रपति के द्वारा नामांकित होते हैं। इन्हें 'नामित सदस्य' कहा जाता है। अन्य सदस्यों का चुनाव होता है। राज्यसभा में सदस्य 6 साल के लिए चुने जाते हैं, जिनमे एक-तिहाई सदस्य हर 2 1/2 साल में सेवा-निवृत होते हैं।

Hindi Lesson Plan


छात्र ध्यान पूर्वक समझ कर उत्तर पुस्तिका में लिख रहे हैं।राज्य सभा
अवधिराज्यसभा के सदस्य इसे भंग नहीं कर सकते|  चुनाव 6 वर्ष के लिए किया जाता है 1/3 सदस्य 2 वर्ष के बाद अवकाश ग्रहण करते हैं। छात्र ध्यान पूर्वक समझ रहे हैं।अवधि
अधिवेशनराज्यसभा का वर्ष में कम से कम 2 बार अधिवेशन होता है।छात्र ध्यान पूर्वक समझ कर उत्तर पुस्तिका में लिख रहे हैं।राज्यसभा का दो बार अधिवेशन होता है।
 योग्यता1. 30 वर्ष की आयु पूरी कर चुका हो|
2. पागल अथवा दिवालिया न हो |
3. भारत का नागरिक हो | 
 छात्र ध्यान पूर्वक समझ कर उत्तर पुस्तिका में दिख रहे हैं
लोकसभालोकसभा के सदस्य प्रत्यक्ष चुनाव प्रणाली से चुने जाते हैं|  लोकसभा में 552 सदस्य होते हैं | 20 सदस्य संघ शासित प्रदेशों से चुने जाते हैं जो कि इंडियन होते हैं।

b ed lesson plan in hindi class 9, b ed lesson plan in hindi class 8 pdf,

ध्यानपूर्वक समझ रहे हैं।लोकसभा
योग्यता1. 25 वर्ष की आयु पूरी कर चुका हो |
2. पागल अथवा दिवालिया ने हो
3. भारत का नागरिक हो |  
छात्र अपनी उत्तर पुस्तिका में लिख रहे हैं।योग्यता
  कार्यकाल  लोकसभा का कार्यकाल 5 वर्ष तक होता है।छात्र ध्यानपूर्वक सुनेंगे| 
अधिवेशनलोकसभा का अधिवेशन साल में दो बार होता है| आवश्यकता पड़ने पर राष्ट्रपति द्वारा दो बार से अधिक अधिवेशन बुलाया जा सकता है। छात्र ध्यानपूर्वक सुनेंगे| 
चुनाव का ढंगलोकसभा का चुनाव प्रत्यक्ष चुनाव प्रणाली द्वारा होता है।

btc lesson plan 2nd semester in hindi pdf, final lesson plan in hindi, lesson plan in hindi class 4, lesson plan for d.el.ed in hindi pdf download, lesson plan for class 1 to 5 in hindi pdf,
छात्र ध्यानपूर्वक सुनेंगे| 



पुनरावृति
  • सदन कितने होते हैं?
  • संसद का ऊपरी सदन कौन सा होता है?
  • लोकसभा के सदस्य की क्या-क्या योग्यताएं होती हैं?
गृह कार्य

संसद के बारे में पढ़ कर आना है।





----------------------
समाप्त
----------------------

This is the B.Ed lesson Plan in Hindi for Social Science/Social Studies (सामाजिक अध्ययन / सामाजिक विज्ञान) on Sansad Bhawan Topic. यह बीएड का लेसन प्लान (पाठ योजना) समाजिक अध्यन के राजनीतिक शास्त्र (political science) का है | जिसमे संसद (Parliament ) के सदन लोकसभा एवं राज्यसभा को लिया गया है | जिसकी मदद से बी.एड के विद्यार्थी हिंदी में लेसन प्लान बड़ी ही आसानी से बना पाएंगे |

This B.Ed Lesson Plan in Hindi is for all bEd students and teachers of Year 1 and 2 or semester 1, 2, 3, 4, and for BA B.Ed, Bsc b.ed, b.com b.ed, and various more b.ed integrated courses. Not only for b.Ed but also for DELED, BTC, and school teachers of class 1st to 12th can make Lesson Plans in Hindi with the Help of this Bed Lesson Plan.

For more BEd lesson Plans in Hindi i.e social science, social studies, science, mathematics, Hindi, Commerce, economics, accounts, politics, history, civics, geography, biology, physical science, math Click here
Further Reference:
https://www.learningclassesonline.com/ - Social Studies Lesson Plans in Hindi Social Science Lesson Plans in Hindi for B.Ed

Social Science and social studies ka Hindi mein lesson plan वनों के प्रकार विषय पर

लेसन प्लान का संक्षिप्त विवरण :

  • Class: 6th 7th 8th 9th and 10th
  • Subject: Social Science - Geography Lesson Plan
  • Topic :वनो के प्रकार
  • Type:Mega & Real School Teaching Lesson Plan


Note: निचे दी गयी सामाजिक विज्ञान पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिससे आपको Lesson Plan बनाने का Idea मिलता है| आप खुद की कल्पना शक्ति और प्रतिभा से इसे और बेहतर बना सकते है| और साथ ही साथ कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके इसे आप अपनी सुविधा के अनुसार इस्तेमाल कर सकते है|


Vano Ke Prakar Lesson Plan in Hindi [वनों के प्रकार पाठ योजना] for Social Science Geography Class 6th to 10th, B.Ed/D.El.Ed Free Download PDF,Social Science Lesson Plan,Vano Ke Prakar Lesson Plan, vann lesson plan, Vano Ke Prakar Lesson Plan In Hindi,Vano Ke Prakar Lesson Plan In Hindi For B.Ed/D.El.Ed | वनों के प्रकार पाठ योजना,वनो के प्रकार Real teaching Mega Social Studies / Science Lesson Plan in Hindi Free download, Sst Lesson Plan In Hindi

Social Science Geography - Vano Ke Prakar Lesson Plan in Hindi For B.Ed 1st Year, 2nd Year and DELED | वनों के प्रकार पाठ योजना सामाजिक विज्ञान भूगोल

Date: Duration Of The Period:
Pupils Teacher Name:Pupil-Teacher Roll Number:
Class:Average Age Of the Students:
Subject:Topic:

विषय वस्तु विश्लेषण:

सामान्य उद्देश्य:

  • शिक्षार्थियों में सामाजिक अध्ययन की आदतों व कौशलों का विकास करना|
  • शिक्षार्थियों में समस्या समाधान योग्यता का विकास करना|
  • शिक्षार्थियों में प्रकृति संबंधी कौशल को बढ़ाना|
  • शिक्षार्थियों में वनों के प्रकार अथवा वनस्पतियों संबंधी जानकारी देना|
  • शिक्षार्थियों में वन के महत्व संबंधी जागरूकता ज्ञान लाना|

अनुदेशनात्मक उद्देश्य:

  1. पाठ अध्ययन के बाद छात्रों से अपेक्षा की जाती है, कि वे विभिन्न प्रकार के वनों की सूची बना सकेंगे|
  2. छात्र विभिन्न प्रकार के वनों को परिभाषित कर सके|
  3. छात्र विभिन्न प्रकार के वनों का वर्गीकरण कर सके|
  4. छात्र विभिन्न प्रकार के वनों में अंतर स्पष्ट कर सकेंगे|

सामान्य सहायक शिक्षण सामग्री: चौक, डस्टर, चौक-बोर्ड, संकेतक आदि

अनुदेशनात्मक सामग्री:वनों के प्रकार चार्ट|

पूर्व ज्ञान परिकल्पना:

छात्र-अध्यापिका विद्यार्थियों के ज्ञान का यह अनुमान लगाकर चलती है, कि विद्यार्थियों को वनों के प्रकार के बारे में सामान्य जानकारी होगी|

पूर्व ज्ञान परीक्षण:

छात्र-अध्यापिका विद्यार्थियों के पूर्व ज्ञान हेतु निम्नलिखित प्रश्न पूछेंगी|

छात्र-अध्यापिका क्रियाएं:छात्र क्रियाएं:
आप किस चीज पर बैठे हैं?बेंच पर
किस चीज का बना है?लकड़ी का
लकड़ी कहां से प्राप्त होती है?वनों से
वन कितने प्रकार के होते हैं?समस्यात्मक प्रश्न

उपविषय की घोषणा:

छात्रों के अंतिम प्रश्न का संतोषजनक उत्तर ना मिलने पर छात्र-अध्यापिका उप-विषय की घोषणा करेंगी, कि अच्छा बच्चों आज हम वनों के प्रकार के बारे में पढ़ेंगे|

प्रस्तुतीकरण:

छात्र-अध्यापिका व्याख्यान विधि व चार्ट के माध्यम से कक्षा में अपना पाठ प्रस्तुत करेंगी|

शिक्षण बिंदु:छात्र-अध्यापिका क्रियाएं:छात्र क्रियाएं:चॉक बोर्ड कार्य:
वनों का महत्व वन किसी भी देश की प्रगति की ओर से दिए गए उपहार होते हैं| किसी भी देश की अर्थव्यवस्था में वनों का महत्वपूर्ण योगदान होता है| दूसरा वन हमारे लिए बहुत ही उपयोगी होते हैं| यह विभिन्न कार्य करते हैं|पेड़-पौधे ऑक्सीजन छोड़ते हैं, इसे हमें सांस के रूप में लेते हैं वह हमारे सांसो से निकली कार्बन डाइऑक्साइड ग्रहण करते हैं, फिर पोधो की जड़ें मृदा को बांधे रखती हैं, इस प्रकार वृक्ष मृदा अपरदन को रोकते हैं|छात्र ध्यान पूर्वक सुन रहे है|वनों का महत्व: वन किसी भी देश की प्रगति की ओर से दिए गए उपहार होते हैं|
वनों के प्रकारभारत में मुख्य पांच प्रकार के वन पाए जाते हैं|

सदाबहार वन सदाबहार वन भारत में उन भागों में पाए जाते हैं, जहां 40 इंच से अधिक वर्षा होती है, यह वन पश्चिमी घाट, हिमालय के क्षेत्रो में पाए जाते हैं, भारत में मानसून द्वारा प्रमुख रूप से वर्षा होती है|बच्चे ध्यानपूर्वक सुन व लिख रहे है|सदाबहार वन
पर्वतीय वन हिमालय पर्वत के पूर्वी तथा पश्चिमी भागों में पाए जाने वाले वनों को पर्वतीय वन कहा जाता है| इन वनों की लकड़ी बहुत मूल्यवान होती है, 1500 मीटर से 2500 मीटर के बीच शंख्वाकर पेड़ पाए जाते हैं, इन्हें शंकुधारी वन कहते हैं| इन वनों के महत्वपूर्ण वृक्ष,चीड़ तथा पाइन है| छात्र ध्यान पूर्वक सुन रहे है|पर्वतीय वन
कटीले वन जिन प्रदेशों में 20 इंच से कम वर्षा होती है| वनों को वहां पर्याप्त मात्रा में पानी नहीं मिलता| अतः वृक्ष के स्थान कटीली झाड़ियां पैदा हो जाती हैं, इस प्रकार के वन पंजाब व हरियाणा में पाए जाते हैं| छात्र ध्यान पूर्वक सुन व समझ रहे हैं|कटीले वन
डेल्टाई वन गंगा के डेल्टाई में सुंदरी नामक वृक्ष बड़ी संख्या में पाया जाता है, इस प्रकार के वन बंगाल उत्तर तट नदियों के डेल्टाओं में पाए जाते हैं|

पर्वतीय वन कौन-कौन से हैं?

छात्र अपनी उत्तर पुस्तिका में लिख रहे हैं|डेल्टाई वन
वनों के लाभ वनों से हमें अनेक प्रकार की जड़ी बूटियां मिलती हैं, जिससे हम विभिन्न प्रकार की औषधियों को बनाते हैं|वनों के लाभ
ईंधन वनों से लकड़ी जलाने के लिए ईंधन मिलता है|छात्र ध्यान पूर्वक समझ रहे है|
खादवनों के पत्ते झड़कर मिट्टी में मिल जाते हैं, जिससे उत्तम खाद का निर्माण होता है|

सामान्यीकरण:

ऐसा सामान्यीकरण छात्र-अध्यापिका द्वारा किया जाता है, कि विद्यार्थियों को वनों के प्रकार के बारे में जानकारी हो गई होगी|

पुनरावृत्ति:

  • भारत में कितने प्रकार के वन पाए जाते हैं?
  • वन वर्षा लाने में किस प्रकार सहायक है?
  • पर्वतीय वन कौन-कौन से हैं?

गृहकार्य:

वनों के लाभ अथवा महत्व के बारे में सम्पूर्ण जानकारी इकट्ठी करके लाओ|



Further Reference:
https://www.learningclassesonline.com/ - Social Studies Lesson Plans in Hindi Social Science Lesson Plans in Hindi for B.Ed

यह सामाजिक विज्ञान (सोशल साइंस) का इतिहास हिस्ट्री का लेसन प्लान (पाठ योजना) शासक व उनकी इमारतें जैसे की कुतुब मीनार, ताजमहल विषय पर है, जिसकी मदद से शिक्षक एवं डडीएलएड एवं बीटीसी और b.ed के विद्यार्थी इतिहास का लेसन प्लान पाठ योजना हिंदी में बड़ी आसानी से बना सकते हैं

लेसन प्लान का संक्षिप्त विवरण :

  • Class: 6th 7th 8th 9th and 10th
  • Subject: Social Science - History
  • Topic : शासक व उनकी इमारते
  • Type:Mega & Real School Teaching Lesson Plan


Note: निचे दी गयी सामाजिक विज्ञान पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिससे आपको Lesson Plan बनाने का Idea मिलता है| आप खुद की कल्पना शक्ति और प्रतिभा से इसे और बेहतर बना सकते है| और साथ ही साथ कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके इसे आप अपनी सुविधा के अनुसार इस्तेमाल कर सकते है|


शासक व उनकी इमारते Real teaching Mega Social Studies / Science Lesson Plan in Hindi Free download Online, Social Science Lesson Plan In Hindi,Sashak Aur Unki Imarte Lesson Plan Lesson Plan In Hindi For B.Ed/D.El.Ed,Shashak Aur Unki Imarte Lesson Plan Lesson Plan For B.Ed,Sashak Aur Unki Imarte Lesson Plan Lesson Plan PDF

Sasak Aur Unki Imarte Lesson Plan in Hindi For B.Ed 1st Year, 2nd Year and DELED - शासक व उनकी इमारते पाठ योजना सामाजिक विज्ञानं इतिहास

Date: Duration Of The Period:
Pupils Teacher Name:Pupil Teacher Roll Number:
Class:Average Age Of the Students:
Subject:Topic:

विषय वस्तु विश्लेषण:

  • कुतुब मीनार
  • ताज महल

सामान्य उद्देश्य:

  1. विद्यार्थियों के ऐतिहासिक ज्ञान में वृद्धि करना|
  2. विद्यार्थियों के जीवन को उसके वातावरण के अनुसार ढालना एवं विकसित करना|
  3. विद्यार्थियों में सामाजिक कुशलता का विकास करना|

अनुदेशनात्मक उद्देश्य:

  1. विद्यार्थी शासकों की इमारतों की पहचान कर सकेंगे|
  2. विद्यार्थी इमारतों की सूची बना सकेंगे|
  3. विद्यार्थी शासकों की इमारतों के उदाहरण दे सकेंगे|
  4. विद्यार्थी इमारतों की खोज कर सकेंगे|
  5. विद्यार्थी विभिन्न इमारतों तथा उसके निर्माता शासकों का नाम जान सकेंगे|

सामान्य सहायक शिक्षण सामग्री: चौक, डस्टर, चौक-बोर्ड, संकेतक आदि|

अनुदेशनात्मक सामग्री: विषय से सबंधित चार्ट

पूर्व ज्ञान परिकल्पना:

छात्र-अध्यापिका विद्यार्थियों के ज्ञान का यह अनुमान लगाकर चलती है, कि विद्यार्थियों को आसपास इमारतों के जीवन के बारे में सामान्य जानकारी होगी|

पूर्व ज्ञान परीक्षण:

छात्र-अध्यापिका विद्यार्थियों के पूर्व ज्ञान हेतु निम्नलिखित प्रश्न पूछेंगी|

छात्र-अध्यापिका क्रियाएं:छात्- क्रियाएं:
आप किस देश में रहते हैं?भारत
भारत की प्रमुख इमारतें कौन-कौन सी हैं?कुतुब मीनार, ताज महल, लाल किला
कुतुब मीनार ताज महल इन के बारे में आप क्या जानते हैं?समस्यात्मक प्रश्न


उपविषय की घोषणा:

छात्रों के अंतिम प्रश्न का संतोषजनक उत्तर ना मिलने पर छात्र-अध्यापिका उप विषय की घोषणा करेंगी कि अच्छा बच्चों आज हम शासक और उनकी इमारतों के जीवन के बारे में पढ़ेंगे|

प्रस्तुतीकरण:

छात्र-अध्यापिका व्याख्यान विधि व चार्ट के माध्यम से कक्षा में अपना पाठ प्रस्तुत करेंगी|

शिक्षण बिंदु:छात्र-अध्यापिका क्रियाएं:छात्र क्रियाएं:चॉक बोर्ड कार्य:
कुतुब मीनार छात्र-अध्यापिका कथन
छात्र-अध्यापिका बताएगी कि, यह इमारत कुतुबुद्दीन ऐबक ने 1199 ईस्वी में अपने गुरु की याद में बनाई थी| इसका निर्माण स्थल दिल्ली में है, यह पांच मंजिला इमारत है| मीनार पर अभिलेख अरबी भाषा में लिखे हुए हैं| बाहरी हिस्सा घुमावदार और कोणीय है, लेकिन कुतुबुद्दीन ऐबक इसकी पहली मंजिल का ही निर्माण करवा पाए थे| इसका पूरा निर्माण इल्तुतमिश ने करवाया|
छात्र ध्यान पूर्वक सुन रहे है|

क़ुतुब मीनार
निर्माण कार्य पूरा होने का समयछात्र-अध्यापिका बताएगी कि, इस इमारत का निर्माण 1232 ईस्वी में हुआ था|

छात्र-अध्यापिका विद्यार्थियों से प्रश्न पूछेंगी कि, आप ताजमहल के बारे में क्या जानते हैं|

निर्माण समय
ताजमहल छात्र-अध्यापिका कक्षा में संचालन करते हुए बताएंगे कि ताजमहल का निर्माण शाहजहा ने करवाया था, शाहजहां के काल में संगमरमर का प्रयोग किया गया था, इसका निर्माण शाहजहां ने अपनी बेगम मुमताज की याद में करवाया था, यह महल आगरा में यमुना नदी के किनारे पर सफेद संगमरमर से बनाया गया था|

छात्र-अध्यापिका बच्चों से प्रश्न पूछेंगे कि इस इमारत को बनाने में कितना समय लगा?

ताजमहल आगरा में है, और इसका निर्माण शाहजहा ने करवाया था|ताजमहल - इसका निर्माण शाहजहां ने अपनी बेगम मुमताज की याद में करवाया|
निर्माण समय

छात्र-अध्यापिका कथन -
छात्र-अध्यापिका कक्षा में संचलन करते हुए बताएगी कि इसके निर्माण में 22 वर्ष लगे और यह 1648 ईस्वी में पूरा हुआ था|

प्रश्न: इस इमारत को बनाने में कितना खर्चा लगा था?

विद्यार्थी ध्यान से सुनेंगे|
लागतछात्र-अध्यापिका कथन -
छात्र-अध्यापिका बताएगी कि इसके निर्माण में लगभग 4 करोड रुपए लगे| यह वह समय था, जब भारत को सोने की चिड़िया कहा जाता था, जब सोने का भाव 15 रु था| इस कृति के निर्माण में अपेक्षित शिल्पी मध्य एशिया व ईरान से बुलाए गए थे| इसमें लगा संगमरमर राजस्थान स्थित मकराना से लाया गया था|

विद्यार्थी चुप रहेंगे|

छात्र अपनी कॉपी में लिखेंगे|

निर्माण में लागत


सामान्यीकरण:

ऐसा सामान्यीकरण छात्र-अध्यापिका द्वारा किया जाता है, कि विद्यार्थियों को शासक और उनकी इमारतों के बारे में जानकारी हो गई होगी|

पुनरावृत्ति:

  • ताजमहल किसने बनवाया था?
  • कुतुब मीनार इमारत का पूरा निर्माण किसने करवाया था?
  • ताजमहल निर्माण के समय सोने का भाव क्या था?
  • ताजमहल को बनाने में कितनी लागत आई थी?

गृहकार्य:

  1. शाहजहां कौन था?
  2. उसने कौन सी इमारत का निर्माण करवाया| वर्णन करो?
  3. कुतुब मीनार इमारत का वर्णन करो?
  4. इल्तुतमिश के बारे में बताओ?


Further Reference:
https://www.learningclassesonline.com/ - Social Studies Lesson Plans in Hindi Social Science Lesson Plans in Hindi for B.Ed

पृथ्वी की आंतरिक संरचना, उसकी परतें एवं उसके भाग पर सामाजिक अध्ययन के भूगोल ज्योग्राफी का लेसन प्लान (पाठ योजना) हिंदी में कक्षा 4, 5, 6, 7, 8, 9,10 के शिक्षकों एवं D.Ed B.Ed एवं बीटीसी के विद्यार्थियों के लिए

लेसन प्लान का संक्षिप्त विवरण :

  • Class: 6th 7th 8th 9th and 10th
  • Subject: Social Science - Geography
  • Topic : पृथ्वी की आंतरिक संरचना
  • Type:Mega & Real School Teaching


Note: निचे दी गयी सामाजिक अध्ययन पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिससे आपको Lesson Plan बनाने का Idea मिलता है| आप खुद की कल्पना शक्ति और प्रतिभा से इसे और बेहतर बना सकते है| और साथ ही साथ कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके इसे आप अपनी सुविधा के अनुसार इस्तेमाल कर सकते है|


Prithvi ki Aantarik Sanrachna Lesson Plan in Hindi[पृथ्वी की आंतरिक संरचना पाठ योजना] Social Science Geography bhugol lesson plan in hindi Class 6th to 10th, B.Ed/D.El.Ed Free Download PDF, पृथ्वी की आंतरिक संरचना - Real teaching Mega Social Studies / Science Lesson Plan in Hindi, Social Science Lesson Plan In Hindi,rithvi Ki Aantrik Sanrachna Lesson Plan In Hindi For B.Ed/D.El.Ed

Prithvi ki Aantarik Sanrachna Lesson Plan in Hindi For B.Ed 1st Year, 2nd Year and DELED - पृथ्वी की आंतरिक संरचना पाठ योजना भूगोल

Date: Duration Of The Period:
Pupils Teacher Name:Pupil Teacher Roll Number:
Class:Average Age Of the Students:
Subject:Topic:

विषय वस्तु विश्लेषण:

  • पृथ्वी का आंतरिक भाग
  • भूपर्पटी, मेंटल, क्रोड

सामान्य उद्देश्य:

  1. विद्यार्थियों में सामाजिक कौशलो व आदतों का विकास करना|
  2. विद्यार्थियों में सामाजिक कुशलता का विकास करना|
  3. विद्यार्थियों में समस्या समाधान योग्यता का विकास करना|

अनुदेशनात्मक उद्देश्य:

  • विद्यार्थी पृथ्वी की आंतरिक संरचना के बारे में जान पाएंगे|
  • विद्यार्थी पृथ्वी की परतों का प्रत्यास्मरण कर सकेंगे|
  • विद्यार्थी पृथ्वी की परतों की व्याख्या कर सकेंगे|
  • विद्यार्थी पृथ्वी के आंतरिक तत्वों का पहचान कर पाएंगे|
  • विद्यार्थी पृथ्वी के मेंटल की संरचना को समझ पाएंगे|

सामान्य सहायक शिक्षण सामग्री: चौक, डस्टर, चौक-बोर्ड, संकेतक आदि|

अनुदेशनात्मक सामग्री: पृथ्वी की विभिन्न परतों को दर्शाता हुआ चार्ट|

पूर्व ज्ञान परिकल्पना:

छात्र-अध्यापिका विद्यार्थियों के ज्ञान का यह अनुमान लगाकर चलती है, कि विद्यार्थियों को पृथ्वी की विभिन्न परतों के बारे में सामान्य जानकारी होगी|

पूर्व ज्ञान परीक्षण:

छात्र-अध्यापिका विद्यार्थियों के पूर्व ज्ञान हेतु निम्नलिखित प्रश्न पूछेंगी|

छात्र-अध्यापिका क्रियाएं:छात्र-क्रियाएं:
किस ग्रह पर जीवन संभव है?पृथ्वी पर
पृथ्वी की स्थिति क्या है?निरंतर परिवर्तन होने वाली
पृथ्वी का आंतरिक भाग कैसा है?समस्यात्मक प्रश्न

उपविषय की घोषणा:

छात्रों के अंतिम प्रश्न का संतोषजनक उत्तर ना मिलने पर छात्र-अध्यापिका उप-विषय की घोषणा करेंगी, कि अच्छा बच्चों आज हम पृथ्वी की विभिन्न परतों के बारे में पढ़ेंगे|

प्रस्तुतीकरण:

छात्र-अध्यापिका व्याख्यान विधि व चार्ट के माध्यम से कक्षा में अपना पाठ प्रस्तुत करेंगी|

शिक्षण बिंदु:छात्र-अध्यापिका क्रियाएं:छात्र क्रियाएं:चॉक बोर्ड कार्य:
आंतरिक भागछात्र-अध्यापिका कथन -

छात्र-अध्यापिका कक्षा में संचलन करते हुए बताएंगे, कि जिस तरह पृथ्वी की ऊपरी सतह जो हमें दिखाई देती है, उसमें जो परिवर्तन होते हैं, उसमें तापमान, जलवायु सभी का प्रभाव पड़ता है, परंतु पृथ्वी के 6371 किलोमीटर आंतरिक भाग में क्या है? पृथ्वी का निर्माण किन पदार्थों में हुआ है? यह जानने के लिए हमें पृथ्वी की आंतरिक संरचना के बारे में जानना होगा|

प्रश्न: पृथ्वी की आंतरिक संरचना कैसी है?

विद्यार्थी ध्यान से सुनेंगे|

विद्यार्थी मौन रहेंगे|

पृथ्वी की संरचनाछात्र-अध्यापिका कथन

छात्र-अध्यापिका कक्षा में घूमते हुए बताएंगे कि जिस प्रकार एक प्याज में परत के ऊपर परत है, उसी प्रकार ही पृथ्वी की संरचना है, पृथ्वी भी एक के ऊपर एक सैकेंद्री परतो से बनी है|

प्रश्न: पृथ्वी की कितनी परते हैं?

छात्र ध्यान पूर्वक सुनेंगे|

तीन परते हैं|

पृथ्वी की आंतरिक परतें छात्र-अध्यापिका कथन

छात्र-अध्यापिका चार्ट के माध्यम से विद्यार्थियों को पृथ्वी की विभिन्न आंतरिक बातों से अवगत कराएंगे, की पृथ्वी की तीन परते हैं:

1. भूपर्पटी

2. मेंटल

3. क्रोड

छात्र ध्यान पूर्वक सुनेंगे व अपनी कॉपी में लिखेंगे|
भूपर्पटी पृथ्वी की सबसे ऊपरी परत को भूपर्पटी कहते हैं, इसे पपड़ी या पृथ्वी की ऊपरी सतह क्रस्ट भी कहते हैं, इसे पपड़ी महाद्वीपीय क्षेत्र में यह 35 किलोमीटर एवं समुद्री सतह से केवल 5 किलोमीटर तक है| महाद्वीपीय सतह मुख्य रुप से सिलिका व एलुमिनियम जैसे खनिजों से बनी है, महासागर की भूपर्पटी सिलिका मैग्नीशियम की बनी है, क्रस्ट की ऊपरी सतह का घनत्व 2.8 एवं निचली क्रस्ट 3.0 है|
मेंटल यह पर्पटी व कोर के बीच का भाग है यह 3900 किलोमीटर की गहराई तक फैला है|
क्रोडयह पृथ्वी की सबसे आंतरिक परत है| इसकी त्रिज्या लगभग 35 किलोमीटर है| यह मुख्यता निकल और लौह की बनी है निकल और फैरस यह पृथ्वी के मध्य भाग का सघन तरलीय भाग है, केंद्रित क्रोड का तापमान एवं दाब काफी उच्च होता है, यह अत्यधिक गर्मी और दबाव के कारण जल अवस्था में होती है, पृथ्वी का क्रोड दो भागों में विभाजित है:

1. बाह्य क्रोड

2. आंतरिक क्रोड

छात्र-अध्यापिका एक विद्यार्थियों को खड़ा करके पूछेंगे कि पृथ्वी का मध्य भाग तरलीय क्यों होता है|

अधिक तापमान के कारण

सामान्यीकरण:

ऐसा सामान्यीकरण छात्र-अध्यापिका द्वारा किया जाता है, कि विद्यार्थियों को सिंधु घाटी सभ्यता के बारे में जानकारी हो गई होगी|

पुनरावृत्ति:

  • पृथ्वी की कितनी परते हैं?
  • पृथ्वी के कितने भाग हैं?
  • मेंटल परत के बारे में बताओ?

गृहकार्य:

  1. पृथ्वी की परतों का विवरण दो?
  2. पृथ्वी की आंतरिक संरचना के बारे में बताओ?
  3. पृथ्वी के भागों का वर्णन करो?


Further Reference:
https://www.learningclassesonline.com/ - Social Studies Lesson Plans in Hindi Social Science Lesson Plans in Hindi for B.Ed
महात्मा बुद्ध - Real teaching Mega Social Studies / Science Lesson Plan File in Hindi Free download, Social Science Lesson Plan In Hindi

Mahatma Buddha Lesson Plan For B.Ed/D.El.Ed : महात्मा बुद्ध पाठ योजना |  Social Science History Lesson Plan in Hindi On Mahatma Budh

महात्मा बुद्ध का जन्म 563 ईसा पूर्व इच्छाकु वंश में हुआ था | उनके पिता का नाम शुद्धोधन था जो इच्छाकु वंश के राजा थे, उनकी माता का नाम महामाया था | महात्मा बुद्ध के जन्म के 7 दिन बाद उनकी माता महामाया का निधन हो गया था| जिसके बाद उनका लालन-पालन उनकी मां की सगी छोटी बहन गौतमी प्रजापति ने किया |  गौतमी शुद्धोधन की दूसरी रानी थी|

सिद्धार्थ के जन्म के कुछ दिन बाद महल में कुछ साधु आए, जिन्होंने बालक का नाम सिद्धार्थ रखा |  जिसका मतलब यह होता है “जिसका जन्म सिद्धि प्राप्ति के लिए हुआ हो” | साधु ने भविष्यवाणी भी की कि यह  बालक या तो राजा बनेगा या तो महान पथ प्रदर्शक बनेगा | ऐसी भविष्यवाणी सुनकर राजा शुद्धोधन ने बालक सिद्धार्थ के लिए महल में हर सुविधाएं दी और कई दास और दासियों को रखा | सिद्धार्थ बचपन से ही करुणा और दया के स्रोत थे | गुरु विश्वामित्र से  शिक्षा दीक्षा ग्रहण की और  16 वर्ष की आयु में यशोधरा से विवाह हुआ | यशोधरा ने एक सुंदर पुत्र को जन्म दिया, जिसका नाम राहुल रखा | 

एक दिन सिद्धार्थ ने महल से बाहर निकलने की इच्छा प्रकट की और साथी के साथ नगर में निकल गए | कुछ दूरी पर उन्होंने देखा एक बूढ़ा व्यक्ति जिसके बाल पक गए थे शरीर जर्जर हो गया था और वह धीरे-धीरे लाठी पकड़े चल रहा था | यह देख सिद्धार्थ बहुत दुखी हुए, थोड़ा आगे बढ़े | तब उन्हें एक रोगी व्यक्ति मिला जो बहुत कमजोर शरीर का था, चेहरा भी पीला था | थोड़ा और आगे बढ़े तब उन्होंने एक मृत शरीर देखा जो बिल्कुल शांत था | कई सारे लोग उसके आसपास थे लोग रो रहे थे | नगर के जंगल पहुंचे, तब उन्होंने वृक्ष के नीचे एक सन्यासी को देखा | जो बहुत शांत था और उसके मुख पर हल्की सी मुस्कान थी |

इन 4 द्रश्यो ने सिद्धार्थ को बहुत विचलित किया और 1 दिन रात के समय पत्नी और अपने पुत्र को छोड़कर तपस्या के लिए चले गए 35 वर्ष के बाद उन्हें पूर्णिमा के दिन पीपल के वृक्ष के नीचे ज्ञान प्राप्त हुआ | जिसके बाद वह महात्मा बुद्ध कहलाए | आषाढ़ की पूर्णिमा के दिन सारनाथ में उन्होंने प्रथम उपदेश दिया | 483 ईसा पूर्व महात्मा बुद्ध का महा परिनिर्वाण हुआ | 

  • कक्षा : 4 से 8 तक
  • विषय : Social Science
  • उपविषय : महात्मा बुद्ध 
  • लेसन प्लान टाइप : मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग


Note: निचे दी गयी सामाजिक विज्ञान पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिससे आपको Lesson Plan बनाने का Idea मिलता है| आप खुद की कल्पना शक्ति और प्रतिभा से इसे और बेहतर बना सकते है| और साथ ही साथ कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके इसे आप अपनी सुविधा के अनुसार इस्तेमाल कर सकते है|

Social Science Mahatma Buddh Lesson Plan In Hindi 

Date : 

Duration Of The Period :

Pupils Teacher Name :

Pupil Teacher’s Roll Number :

Class :

Average Age Of the Pupils :

Subject :

Topic :

विषय वस्तु विश्लेषण

  1. महात्मा बुद्ध का परिचय
  2. महात्मा बुद्ध का धर्म

सामान्य उद्देश्य

  1. विद्यार्थियों के ज्ञान में वृद्धि करना |
  2. विद्यार्थियों में सामाजिक कुशलता का विकास करना |
  3. विद्यार्थियों में समस्या समाधान योग्यता का विकास करना |

अनुदेशनात्मक उद्देश्य

  1. विद्यार्थी बौद्ध धर्म के संस्थापक की पहचान कर सकेंगे|
  2. विद्यार्थी विभिन्न धर्मों की सूची बना सकेंगे|
  3. विद्यार्थी बुद्ध द्वारा रचित धर्म का उदाहरण दे सकेंगे|
  4. विद्यार्थी बौद्ध धर्म की व्याख्या कर सकेंगे|
  5. विद्यार्थी बौद्ध धर्म के बारे में बता सकेंगे|
  6. विद्यार्थी बौद्ध धर्म का विस्तार से वर्णन कर सकेंगे|
  7. विद्यार्थी महात्मा के परिचय के बारे में बता सकेंगे|
  8. विद्यार्थी महात्मा बुद्ध के धर्म की सूची बता सकेंगे|
  9. विद्यार्थी समस्या का समाधान कर सकेंगे|

सामान्य सहायक शिक्षण सामग्री – चौक, डस्टर, चौक-बोर्ड, संकेतक आदि

अनुदेशनात्मक सामग्री  –  महात्मा बुद्ध के जीवन से संबंधित चार्ट |

पूर्व ज्ञान परिकल्पना – छात्र अध्यापिका विद्यार्थियों के ज्ञान का यह अनुमान लगाकर चलती है कि विद्यार्थियों को महात्मा बुद्ध के जीवन के बारे में सामान्य जानकारी होगी |

पूर्व ज्ञान परीक्षण – छात्र अध्यापिका विद्यार्थियों के पूर्व ज्ञान हेतु निम्नलिखित प्रश्न पूछेंगी |

पूर्व परीक्षण

छात्र अध्यापिका क्रियाएं

छात्र क्रियाएं

भारत में प्रचलित धर्मों के नाम बताइए ?

बौद्ध धर्म, जैन धर्म, सिख धर्म आदि

बौद्ध धर्म के संस्थापक कौन थे ?

महात्मा बुद्ध

महात्मा बुद्ध के जीवन के बारे में बताइए ?

समस्यात्मक प्रश्न

उपविषय की घोषणा – छात्रों के अंतिम प्रश्न का संतोषजनक उत्तर  ना मिलने पर छात्र अध्यापिका उप विषय की घोषणा करेंगी कि अच्छा बच्चों आज हम महात्मा बुद्ध के जीवन के बारे में पढ़ेंगे |

प्रस्तुतीकरण – छात्र अध्यापिका व्याख्यान विधि व चार्ट के माध्यम से कक्षा में अपना पाठ प्रस्तुत करेंगी|

शिक्षण बिंदु

छात्र अध्यापिका क्रियाएं

छात्र क्रियाएं

चॉक बोर्ड कार्य

महात्मा बुद्ध का परिचय

छात्र अध्यापिका कथन–

छात्र अध्यापिका कक्षा में संचलन करते हुए बताएगी कि महात्मा बुद्ध के बचपन का नाम सिद्धार्थ था|

उनका जन्म 2500 वर्ष पूर्व हुआ था |

एक बार सिद्धार्थ ने अपने पिता से नगर देखने की इच्छा व्यक्त की तब नगर का भ्रमण करते हुए उन्होंने एक वृद्ध, एक रोगी व एक शव को देखा यह सब देखकर उनका मन बहुत दुखी हुआ और उन्होंने रात के समय अपने घर का त्याग कर दिया और ज्ञान की प्राप्ति के लिए वन में चले गए वहां उन्होंने बौद्ध गया में एक पीपल के वृक्ष के नीचे तपस्या की, जिससे उनका नाम बुद्ध पड़ गया|


ज्ञान प्राप्त के बाद वे सारनाथ गए जहां उन्होंने पहली बार उपदेश दिया था, कुशीनगर में उनकी मृत्यु हो गई|

प्रश्न – छात्र अध्यापिका छात्रों से प्रश्न पूछेंगी कि लोगों को क्या-क्या शिक्षा दी?

छात्र ध्यान पूर्वक सुन रहे है|

उन्होंने जीवन की शिक्षा दी|

महात्मा बुद्ध का परिचय

महात्मा बुद्ध द्वारा दी गई शिक्षा

छात्र अध्यापिका कथन-

छात्र अध्यापिका बताएगी कि महात्मा बुद्ध ने जीवन की शिक्षा का प्रचार किया कि यह जीवन कष्टों और दुखों से भरा है ऐसा हमारी इच्छाओं के कारण होता है|

महात्मा बुद्ध ने इस इच्छा को लिप्सा और तृष्णा का नाम दिया|

छात्र ध्यान पूर्वक सुनेंगे|

संघ

महात्मा बुद्ध का मानना था कि घर का त्याग करने पर ही सच्चे ज्ञान की प्राप्ति हो सकती है|

इसके लिए उन्होंने संघ नामक संगठन की स्थापना की जहां घर का त्याग कर देने वाले लोग एक साथ रह सके|

यह संघ बौद्ध धर्म में रहने वाले बच्चों के लिए बनाए गए थे नियम विनय पत्रिका नामक ग्रंथ में मिलते हैं|

प्रश्न – प्रश्न छात्र अध्यापिका छात्र से प्रश्न पूछेंगे कि महात्मा बुद्ध ने कहाँ कहाँ विहार किया था?

छात्र ध्यान पूर्वक सुनेंगे

विहार

छात्र अध्यापिका कथन-

छात्र अध्यापिका बताएगी कि बौद्ध भिक्षु पूरे साल एक स्थान से दूसरे स्थान पर घूमते हुए उपदेश देते थे

केवल वर्षा ऋतु में यात्रा कठिन हो जाती थी, तब वे एक स्थान से दूसरे स्थान पर घूमते हुए उपदेश देते थे केवल वर्षा ऋतु में यात्रा कठिन हो जाती थी|

समय बीतने के साथ-साथ वहां के लोगों ने स्थाई शरण स्थलों का अनुभव किया,

तब कई शरण स्थल बनाए गए जिन्हें विहार कहा गया|

 अनेकों स्थान पर

 

 

सामान्यीकरण –  ऐसा  सामान्यीकरण छात्र अध्यापिका द्वारा किया जाता है कि विद्यार्थियों को महात्मा बुद्ध के बारे में जानकारी हो गई होगी |

पुनरावृत्ति –

  1. बौद्ध धर्म के संस्थापक कौन थे?
  2. महात्मा बुद्ध का जन्म कब हुआ?
  3. संघ क्या होता है ?

गृहकार्य –

  1. महात्मा बुद्ध ने घर क्यों त्याग दिया ? वर्णन करें |
  2. महात्मा बुद्ध क्या चाहते थे ? विवरण करो|
  3. महात्मा बुद्ध ने किस संघ का निर्माण किया और क्यों?


Further Reference:
https://www.learningclassesonline.com/ - Social Studies Lesson Plans in Hindi Social Science Lesson Plans in Hindi for B.Ed

Mahatma Buddh Lesson Plan In Hindi

Mahatma Buddha Lesson Plan

Mahatma Buddha Lesson Plan For B.Ed

Mahatma Buddha Lesson Plan For D.El.Ed

महात्मा बुद्ध पाठ योजना

Social Science ( सोशल साइंस ) का Lesson Plan In Hindi on Mahatma Buddha

Mahatma Budh History Lesson Plan in Hindi

History Lesson Plan in Hindi

Mahatma Buddha Path Yojna Itihas Aur Samajik Vigyan


सामाजिक अध्ययन / सामाजिक विज्ञान पाठ योजना

कक्षा 4 से 8 तक के शिक्षकों के लिए महात्मा बुध का इतिहास का लेसन ( प्लान पाठ योजना ) हिंदी में


Brief Overview of Social Science / Social Studies Lesson Plan In Hindi
  • Subject – Social Science / Social Studies सामाजिक अध्ययन / सामाजिक विज्ञानं
  • Type of Lesson Plan - Mega Lesson Plan of Social Studies in Hindi
  • Topic of Social Studies Lesson Plan – महात्मा बुद्ध Mahatma Budh ( History Of India - भारत का इतिहास )

Note: निचे दी गयी  सामाजिक विज्ञान पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|

Social Science Lesson Plan In Hindi on Mahatma Budh (महात्मा बुद्ध)



social studies projects for class 9,

cbse lesson plans social studies,



lesson plan for social studies class 8 cbse,

lesson plan for social studies class 10,

social studies activities for high school,



grade 4 social studies lesson plans,


Further Reference:
https://www.learningclassesonline.com/ - Social Studies Lesson Plans in Hindi Social Science Lesson Plans in Hindi for B.Ed

लेसन प्लान का संक्षिप्त विवरण :

  • Class: 6th 7th 8th
  • Subject: Social Science - History
  • Topic: Sindhu Ghati Ki Sabhyata
  • Type: Mega Teaching Lesson Plan


Note: निचे दी गयी सामाजिक विज्ञान पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिससे आपको Lesson Plan बनाने का Idea मिलता है| आप खुद की कल्पना शक्ति और प्रतिभा से इसे और बेहतर बना सकते है| और साथ ही साथ कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके इसे आप अपनी सुविधा के अनुसार इस्तेमाल कर सकते है|

Sindhu Ghati Sabhyata Lesson Plan In Hindi,सिंधु घाटी सभ्यता पाठ योजना,सिंधु घाटी सभ्यता Real teaching Mega Social Studies / Science Lesson Plan in Hindi Free download , BTC DELED B.Ed Social Science Lesson Plan In Hindi

Sindhu Ghati Sabhyata Lesson Plan Lesson Plan in Hindi For B.Ed 1st Year, 2nd Year and DELED - सिंधु घाटी सभ्यता पाठ योजना

Date : Duration Of The Period :
Pupils Teacher Name :Pupil Teacher Roll Number :
Class :Average Age Of the Pupils :
Subject :Topic :

विषय वस्तु विश्लेषण:

  • सिंधु घाटी सभ्यता का उदय|
  • सिन्धु घाटी सभ्यता का काल, खोज एवं व्यवस्था|

सामान्य उद्देश्य:

  • विद्यार्थियों की ऐतिहासिक कुशलता का विकास करना|
  • विद्यार्थियों में सामाजिक अध्ययन की आदतों व कौशलों का विकास करना|
  • विद्यार्थियों में समस्या समाधान योग्यता का विकास करना|

अनुदेशनात्मक उद्देश्य:

  1. विद्यार्थी सिंधु घाटी सभ्यता की अवस्थाओं की सूची बना सकेंगे|
  2. विद्यार्थी इसके काल का वर्गीकरण कर सकेंगे|
  3. विद्यार्थी इसकी अवस्थाओं की गणना कर सकेंगे|
  4. विद्यार्थी सिंधु घाटी सभ्यता के बारे में स्पष्ट वर्णन कर सकेंगे|
  5. विद्यार्थी इसकी अवस्थाओं की विशेषताओं को बता सकेंगे|

सामान्य सहायक शिक्षण सामग्री: चौक, डस्टर, चौक-बोर्ड, संकेतक आदि|

अनुदेशनात्मक सामग्री: सिंधु घाटी सभ्यता को दर्शाता हुआ चार्ट |

पूर्व ज्ञान परिकल्पना : छात्र अध्यापिका विद्यार्थियों के ज्ञान का यह अनुमान लगाकर चलती है कि विद्यार्थियों को सिंधु घाटी सभ्यता के बारे में सामान्य जानकारी होगी |

पूर्व ज्ञान परीक्षण : छात्र अध्यापिका विद्यार्थियों के पूर्व ज्ञान हेतु निम्नलिखित प्रश्न पूछेंगी |

छात्र अध्यापक/अध्यापिका क्रियाएं:छात्र क्रियाएं:
भारत देश कैसा देश है?विभिन्नताओं का देश
प्राचीन समय में किन-किन सभ्यताओं का उदय हुआ है?वैदिक सभ्यता, हड़प्पा सभ्यता, सिंधु घाटी सभ्यता
सिंधु घाटी सभ्यता का उदय कब हुआ|समस्यात्मक प्रश्न

उपविषय की घोषणा :छात्रों के अंतिम प्रश्न का संतोषजनक उत्तर ना मिलने पर छात्र अध्यापिका उप विषय की घोषणा करेंगी, कि अच्छा बच्चों आज हम सिंधु घाटी सभ्यता के बारे में पढ़ेंगे|

प्रस्तुतीकरण: छात्र अध्यापिका व्याख्यान विधि व चार्ट के माध्यम से कक्षा में अपना पाठ प्रस्तुत करेंगी|

शिक्षण बिंदु:छात्र अध्यापक/अध्यापिका क्रियाएं:छात्र क्रियाएं:चॉक बोर्ड कार्य:
सिंधु घाटी सभ्यता का उदय:छात्र अध्यापिका कथन:

छात्र अध्यापक/अध्यापिका कक्षा में संचालन करते हुए बताएंगे कि सिंधु घाटी का युद्ध आज से लगभग 5000 ईसवी पूर्व माना जाता है| भारत का नाम विश्व में जिस प्राचीन सभ्यता के कारण गिना जाता है| उसे सिंधु घाटी सभ्यता कहा जाता है |

प्रश्न – सिंधु घाटी सभ्यता की खोज कब हुई?
छात्र अपनी कॉपी में नोट करेंगे|सिंधु घाटी सभ्यता का उदय 5000 ईसवी पूर्व माना जाता है|
खोज: छात्र अध्यापक/अध्यापिका कथन:

छात्र अध्यापक/अध्यापिका चौक बोर्ड पर लिखते हुए बताएंगे कि सिंधु घाटी सभ्यता की खोज 1922 ईस्वी में मोहनजोदड़ो और हड़प्पा की खुदाई से वहां मिली मोहरों से हुई थी| अविभाजित भारत के सिंध प्रांत के लरकाना जिले में मोहनजोदड़ो में एक बौद्ध स्तूप की खुदाई करवा रहे थे, वहां उन्हें कई प्राचीन मोहरे व ईट मिली थी|

बच्चे ध्यानपूर्वक सुन रहे है|सिंधु घाटी सभ्यता की खोज 1922 ईस्वी में मोहनजोदड़ो और हड़प्पा की खुदाई से पाई गयी|
काल:

इस सभ्यता का समय लगभग 2350 ईसवी पूर्व से 1750 ईसवी पूर्व माना जाता है| निश्चित रूप से यह सभ्यता कब फली फूली यह कहना कठिन है|

प्रश्न – छात्र अध्यापक/अध्यापिका छात्रों से यह प्रश्न पूछेंगे कि सिंधु सभ्यता का समाज कैसा था ?

छात्र ध्यान पूर्वक सुन रहे है|इसका समय 2350 ईसवी पूर्व से 1750 ईसवी पूर्व माना जाता है|
सामाजिक अवस्था: छात्र अध्यापक/अध्यापिका कथन:

छात्र अध्यापक/अध्यापिका कक्षा में संचालन करते हुए बताएँगे कि इस सभ्यता के लोग शाकाहारी भोजन खाते थे, वहां के लोगों का पहनावा सादा था|, वह गर्मियों में सूती व सर्दियों में ऊनी वस्त्र पहनते थे| इस घाटी के लोगों को आभूषण का बड़ा शौक था|, वहां सभी समारोह में स्त्री व पुरुष समान रूप से भाग लेते थे, यह लोग समृद्ध जीवन व्यतीत करते थे|

प्रश्न : छात्र अध्यापक/अध्यापिका पूछेंगी कि सिंधु घाटी के लोगों का जीवन कैसा था ?

छात्र अध्यापक/अध्यापिका बताएगी कि सिंधु घाटी काफी विकसित थी| व्यापार की दृष्टि से अन्य सभ्यताओं की तुलना में काफी आगे थी | इस सभ्यता से मिले अवशेषों से यह अनुमान लगाया कि वहां के लोगों का मुख्य व्यवसाय कृषि था | यह व्यापार में पशुपालन भी करते थे | यहां के लोगों में हीनता की भावना नहीं होती थी| सब अपने-अपने व्यवसाय में जुटे रहते थे|

छात्र अपनी उत्तर पुस्तिका में लिख रहे हैं|

सामान्यीकरण: ऐसा सामान्यीकरण छात्र अध्यापक/अध्यापिका द्वारा किया जाता है कि विद्यार्थियों को सिंधु घाटी सभ्यता के बारे में जानकारी हो गई होगी |

पुनरावृत्ति:

  1. सिंधु घाटी सभ्यता के अवशेषों में क्या क्या पाया गया था?
  2. यह सभ्यता कितने वर्ष पुरानी है?
  3. यहां के लोगों का भोजन कैसा था?
  4. सिंधु घाटी के लोग कैसे वस्त्र पहनते थे?

गृहकार्य:

  1. सिंधु घाटी सभ्यता की खोज कब हुई?
  2. सिंधु सभ्यता की सामाजिक व्यवस्था का वर्णन करो?
  3. सिंधु सभ्यता की नगर व्यवस्था का वर्णन करो?


Further Reference:
https://www.learningclassesonline.com/ - Social Studies Lesson Plans in Hindi Social Science Lesson Plans in Hindi for B.Ed

वायु प्रदूषण (एयर पॉल्यूशन )पर सामाजिक विज्ञान का लेसन प्लान (पाठ योजना) शिक्षकों और बीटीसी B.Ed और D.El.Ed में पढ़ रहे छात्र छात्राओं के लिए हिंदी में

लेसन प्लान का संक्षिप्त विवरण :

  • Class : 6th 7th and 8th
  • Subject : Social Science
  • Topic : Vayu Pradushan (Air Pollution)
  • Type : Mega Teaching Lesson Plan


Note: निचे दी गयी सामाजिक विज्ञान पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिससे आपको Lesson Plan बनाने का Idea मिलता है| आप खुद की कल्पना शक्ति और प्रतिभा से इसे और बेहतर बना सकते है| और साथ ही साथ कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके इसे आप अपनी सुविधा के अनुसार इस्तेमाल कर सकते है|

Vayu Pradushan Lesson Plan In Hindi, वायु प्रदूषण पाठ योजना,Vayu Pradushan Lesson Plan In Hindi For B.Ed and D.El.Ed

Vayu pradushan Lesson Plan [Air Pollution Lesson Plan In Hindi] For B.Ed 1st Year, 2nd Year and DELED - वायु प्रदूषण पाठ योजना

Date : Duration Of The Period :
Pupils Teacher Name :Pupil-Teacher Roll Number :
Class :Average Age Of the Pupils :
Subject :Topic :

सामान्य उद्देश्य:

  1. विद्यार्थियों को वायु प्रदुषण से होने वाले नुक्सान के प्रति जागरूक करना|
  2. विद्यार्थियों में स्वच्छ पर्यावरण के गुणों से अवगत कराना|
  3. विद्यार्थियों को वायु प्रदुषण की प्रक्रिया के बारे में जान सकेंगे|

अनुदेशनात्मक उद्देश्य:

  1. छात्र वायु प्रदुषण के बारे में जान सकेंगे |
  2. छात्र वायु प्रदुषण की व्याख्या कर सकेंगे |
  3. छात्र वायु प्रदुषण के बारे में समझ सकेंगे |

सामान्य सहायक शिक्षण सामग्री: चौक, डस्टर, चौक-बोर्ड, संकेतक आदि|

अनुदेशनात्मक सामग्री: वायु प्रदुषण का चार्ट |

पूर्व ज्ञान परिकल्पना: छात्र अध्यापिका विद्यार्थियों के ज्ञान का यह अनुमान लगाकर चलती है, कि विद्यार्थियों को वायु प्रदुषण के बारे में सामान्य जानकारी होगी|

पूर्व ज्ञान परीक्षण: छात्र अध्यापिका विद्यार्थियों के पूर्व ज्ञान हेतु निम्नलिखित प्रश्न पूछेंगी|

छात्र अध्यापक/अध्यापिका क्रियाएंछात्र क्रियाएं
सांस लेने के लिए हमें क्या चाहिए?वायु
वायु क्या है?वायु गैसों का मिश्रण होता है|
स्वस्थ वायु कहां से मिलती है ?पेड़ पौधों से
वायु में गैसीय एवं ठोस पदार्थ मिलने पर क्या है?कोई उत्तर नहीं

उपविषय की घोषणा:छात्रों के अंतिम प्रश्न का संतोषजनक उत्तर ना मिलने पर छात्र अध्यापिका उप-विषय की घोषणा करेंगी कि, अच्छा बच्चों आज हम वायु प्रदुषण के बारे में पढ़ेंगे |

प्रस्तुतीकरण: छात्र अध्यापिका व्याख्यान विधि व चार्ट के माध्यम से कक्षा में अपना पाठ प्रस्तुत करेंगी|

शिक्षण बिंदु:छात्र अध्यापक/अध्यापिका क्रियाएं:छात्र क्रियाएं:चॉक बोर्ड कार्य:
वायु प्रदूषण बड़े बड़े कारखानों और वाहनों से निकला हुआ धुआं हमारी शुद्ध वायु को प्रदूषित कर देती है, प्रतिवर्ष करोड़ों पदार्थ वायुमंडल में मिल जाते हैं|वायु प्रदूषण
प्रदूषण के प्रकार यह प्रदूषण दो प्रकार के होते हैं –

1. गैसीय

2. ठोस

प्रश्न – प्रदूषण कितने प्रकार का होता है ?

धूल एवं जीवाणु ठोस प्रदूषक हैं, ज्वालामुखी भी प्रायः वायुमंडल में धूल प्रदूषण के महत्वपूर्ण स्त्रोत हैं, नगरों में वायु प्रदूषण भारी मात्रा में होता है, ईधन जलने से धुएं के द्वारा वायु कार्बन के कारण व अन्य ठोस प्रदूषण फैलाती है|

बच्चे ध्यानपूर्वक सुन रहे है|प्रदूषण के प्रकार
गैसीय प्रदूषण गैसीय प्रदूषण वायु में कार्बन मोनोऑक्साइड बनाता है, जो बहुत विषैली होती है| आज हम धुंध स्मोग के बारे में चर्चा करते हैं यह वस्तुत प्रकृति व धुएं के का रूप है, जो हानिकारक होता है हमारे स्वास्थ्य के लिए विशेषकरछात्र ध्यान पूर्वक सुन रहे है|गैसीय प्रदूषण
ओजोन परत इसका स्तर नीचा होना चाहिए| छात्र अपनी उत्तर पुस्तिका में लिख रहे हैं|ओजोन स्तर
वायु प्रदूषण के प्रभाववायु प्रदूषण का एक ऐसा प्रभाव है जो बढ़ते हुए यातायात के कारण हुआ है ग्रीष्म ऋतु में यह एक प्रमुख प्रदूषण है विशेषकर बड़े नगरों में जहां पर लोगों की बड़ी संख्या में रहते हैं प्रदूषण नियंत्रित करने के लिए कानून बनाए गए हैं हमें आसपास गंदगी नहीं चलानी चाहिए और छात्रों को वन महोत्सव में बढ़-चढ़कर भाग लेने के लिए प्रोत्साहित करना चाहिए प्रत्येक व्यक्ति को एक पौधा जरूर लगाना चाहिए ताकि प्रदूषण को कम किया जा सके| छात्र ध्यान पूर्वक सुन व समझ रहे हैं|वायु प्रदूषण के प्रभाव

सामान्यीकरण:ऐसा सामान्यीकरण छात्र अध्यापिका द्वारा किया जाता है, कि विद्यार्थियों को वायु प्रदुषण के बारे में जानकारी हो गई होगी|

पुनरावृत्ति:

  1. वायु प्रदूषण क्या है?
  2. वायु प्रदूषण के मुख्य दो प्रकार बताओ?
  3. हमें पौधे क्यों लगाने चाहिए ?

गृहकार्य:

  1. वायु प्रदूषण क्या है और प्रदूषण को रोकने के उपाय कौन-कौन से हैं ?
  2. सभी शिक्षार्थियों को एक संक्षिप्त नोट लिखकर लाना है ?


Further Reference:
https://www.learningclassesonline.com/ - Social Studies Lesson Plans in Hindi Social Science Lesson Plans in Hindi for B.Ed

यह सामाजिक विज्ञान के भूगोल का लेसन प्लान (पाठ योजना) भारत की प्रमुख नदियां मुख्य नदियों पर है, जिसके अंदर गंगा, यमुना, गोदावरी, कृष्णा ,कावेरी, ब्रह्मपुत्र ,नर्मदा ,ताप्ती ,इत्यादि नदियों के बारे में बताया गया है| सामाजिक अध्ययन का हिंदी में यह लेसन प्लान स्कूल के शिक्षकों और बीटीसी डीएलएड और बीएलएड के विद्यार्थियों के लिए हैं

लेसन प्लान का संक्षिप्त विवरण:

  • Class: 6th 7th 8th 9th and 10th
  • Subject: Social Studies - Geography
  • Topic : भारत की प्रमुख नदियाँ - Major rivers (Ganga, Yamuna, Godavari, Krishna, Kaveri, Brahmaputra, Narmada, Tapti River
  • Type:Mega and Real School Teaching Lesson Plan


Note: निचे दी गयी भूगोल पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिससे आपको Lesson Plan बनाने का Idea मिलता है| आप खुद की कल्पना शक्ति और प्रतिभा से इसे और बेहतर बना सकते है| और साथ ही साथ कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके इसे आप अपनी सुविधा के अनुसार इस्तेमाल कर सकते है|


Pramukh Nadiya Lesson Plan in Hindi [प्रमुख नदियाँ पाठ योजना] Social Science Geography EVS Class 6th to 10th, B.Ed/D.El.Ed Free Download PDF, bharat ki Pramukh Nadiya Lesson Plan For B.Ed/D.El.Ed, प्रमुख नदियाँ पाठ योजना,Pramukh Nadiya Ka Lesson Plan,Pramukh Nadiya Lesson Plan In Hindi,Pramukh Nadiya Lesson Plan For BEd,Pramukh Nadiya Lesson Plan For DElEd, bharat ki pramukh aur mehetvpurn nadiyo par samajik vigyan ki path yojna, प्रमुख नदियाँ - Real teaching Mega Social Studies / Science Lesson Plan in Hindi Free download Online, Social Science Lesson Plan In Hindi, Sst Lesson Plan In Hindi

Bharat ki Pramukh Nadiya Lesson Plan in Hindi For B.Ed 1st Year, 2nd Year and DELED | प्रमुख नदियाँ पाठ योजना सामाजिक विज्ञान भूगोल

Date: Duration Of The Period:
Pupils Teacher Name:Pupil-Teacher Roll Number:
Class:Average Age Of the Students:
Subject:Topic:

विषय वस्तु विश्लेषण:

सामान्य उद्देश्य:

  • विद्यार्थियों को नदियों के महत्व के बारे में बताना|
  • विद्यार्थियों को प्रकृति द्वारा प्रदान किए गए अमूल्य एवं मुफ्त उपहारों के प्रति सजग बनाना|

अनुदेशनात्मक उद्देश्य:

  1. पाठ पढ़ाने के बाद छात्रों से अपेक्षा की जाती है, कि वे नदियों के के बारे में जान सकेंगे|
  2. छात्र नदियों के बारे में जान सकेंगे|
  3. छात्र नदियों की व्याख्या कर सकेंगे|
  4. छात्र नदियों के बारे में समझ सकेंगे|

सामान्य सहायक शिक्षण सामग्री: चौक, डस्टर, चौक-बोर्ड, संकेतक आदि|

अनुदेशनात्मक सामग्री : जैव विविधता का दर्शाता हुआ चार्ट|

पूर्व ज्ञान परिकल्पना:

छात्र-अध्यापिका विद्यार्थियों के ज्ञान का यह अनुमान लगाकर चलती है, कि विद्यार्थियों को मरुस्थल के बारे में सामान्य जानकारी होगी|

पूर्व ज्ञान परीक्षण:

छात्र-अध्यापिका विद्यार्थियों के पूर्व ज्ञान हेतु निम्नलिखित प्रश्न पूछेंगी|

छात्र-अध्यापिका क्रियाएं:छात्र क्रियाएं:
जल कहां से प्राप्त होता है?वर्षा से, नदियों से, कुओं से इत्यादि|
किसी एक नदी का नाम बताओ?गंगा नदी
कौन सी नदी सबसे लंबी है?कोई उत्तर नहीं

उपविषय की घोषणा:

छात्रों के अंतिम प्रश्न का संतोषजनक उत्तर ना मिलने पर छात्र-अध्यापिका उप-विषय की घोषणा करेंगी, कि अच्छा बच्चों आज हम नदियों के बारे में पढ़ेंगे|

प्रस्तुतीकरण:

छात्र-अध्यापिका व्याख्यान विधि व चार्ट के माध्यम से कक्षा में अपना पाठ प्रस्तुत करेंगी|

शिक्षण बिंदु:छात्र-अध्यापिका क्रियाएं:छात्र क्रियाएं:चॉक बोर्ड कार्य:
प्रमुख नदियांभारत में बहुत सी नदियां ऐसी है, जो छोटी हैं और मुख्य नदियों में जाकर मिल जाती हैं, जिन्हें सहायक नदियां भी कहते हैं जैसे: सोन नदी, चंबल, गोमती आदि नदियों में आकर मिल जाती हैं परंतु भारत में जो प्रमुख नदियां हैं, वह गंगा यमुना ताप्ती कृष्णा कावेरी|
गंगा नदी यह भारत की सबसे लंबी नदी है, और सबसे अधिक डेल्टा बनाती है|गंगा,यमुना,तापी, कृष्णा, गोदावरीगंगा नदी
यमुना नदी यमुना नदी उत्तरांचल हरियाणा उत्तर प्रदेश में आकर गंगा नदी में आकर मिल जाती है|यमुना नदी
गोदावरी नदी गोदावरी नदी आंध्र प्रदेश, कर्नाटक महाराष्ट्र में बहकर बंगाल की खाड़ी में गिरती है|

सबसे लंबी नदी कौन सी है?

छात्र अपनी उत्तर पुस्तिका में लिख रहे हैं|गोदावरी नदी
कृष्णा नदी कृष्णा नदी महाराष्ट्र, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश में बहकर बंगाल की खाड़ी में गिरती है| गोदावरी नदी और कृष्णा नदी दोनों नदियां समानांतर चलती हैं| छात्र ध्यान पूर्वक से सुन रहे हैं|कृष्णा नदी
कावेरी नदीकावेरी नदी कर्नाटक, तमिलनाडु से होकर हिंदू सागर में गिरती है|कावेरी नदी
ब्रह्मपुत्र नदी

ब्रह्मपुत्र नदी अरुणाचल, असम से होती हुई बंगाल देश में आकर गंगा नदी में मिलती हैं|ब्रह्मपुत्र नदी
नर्मदा नदी नर्मदा नदी मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र गुजरात में से होकर अरब सागर में गिर जाती हैं|नर्मदा नदी
ताप्ती नदीतापी नदी महाराष्ट्र गुजरात में से होकर अरब सागर में गिरती है, यह नदियां भारत की अनेक नदियों में से प्रमुख नदियां हैं|

यह नदियां भारत की अनेक नदियों में से प्रमुख नदियां हैं इनके अतिरिक्त और भी नदियां हैं|

छात्र ध्यान पूर्वक सुन रहे है|ताप्ती नदी

सामान्यीकरण:

ऐसा सामान्यीकरण छात्र-अध्यापिका द्वारा किया जाता है, कि विद्यार्थियों को नदियों के बारे में जानकारी हो गई होगी|

पुनरावृत्ति:

  • कौन सी नदी भारत की सबसे लंबी नदी है?
  • कौन सी दो नदियां मिलकर सबसे बड़ा डेल्टा बनाती हैं?
  • नर्मदा नदी कौन-कौन से राज्य में बहती है?

गृहकार्य:

प्रमुख नदियों के विषय में विस्तार पूर्वक अपनी कॉपी में लिख कर आना है|

Further Reference:
https://www.learningclassesonline.com/ - Social Studies Lesson Plans in Hindi Social Science Lesson Plans in Hindi for B.Ed

यह सामाजिक विज्ञान एवं सामाजिक अध्ययन का लेसन प्लान मुख्य फसलें विषय पर है, जिसके अंदर चावल, गेहूं, बाजरा, मक्का, कपास, चाय, कॉफी, इत्यादि फसलों के बारे में विस्तार से बताया गया है| और यह कक्षा 4 5, 6, 7, 8 के शिक्षकों के लिए हैं|

लेसन प्लान का संक्षिप्त विवरण :

  • Class : 6th 7th and 8th
  • Subject : Social Science
  • Topic :फसल
  • Type :Real School Teaching Lesson Plan


Note: निचे दी गयी सामाजिक विज्ञान पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिससे आपको Lesson Plan बनाने का Idea मिलता है| आप खुद की कल्पना शक्ति और प्रतिभा से इसे और बेहतर बना सकते है| और साथ ही साथ कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके इसे आप अपनी सुविधा के अनुसार इस्तेमाल कर सकते है|

Social Science Lesson Plan in Hindi on Mukhya Phasle,मुख्य फसलें पाठ योजना,BTC DELED B.Ed Social Science Lesson Plan In Hindi on मुख्य फसले,मुख्य फसले - Real teaching Mega Social Studies / Science B.Ed Lesson Plan in Hindi, Social Science Lesson Plan In Hindi, Sst Lesson Plan In Hindi,Fasal Lesson Plan In Hindi,Fasal Lesson Plan In Hindi For B.Ed,मुख्य फसल पाठ योजना,

Social Science Lesson Plan in Hindi on Mukhya Fasle - [मुख्य फसलें पाठ योजना] For B.Ed 1st Year, 2nd Year and DELED | Fasal Lesson Plan in Hindi

Date : Duration Of The Peroid :
Pupils Teacher Name :Pupil Teacher Roll Number :
Class :Average Age Of the Pupils :
Subject :Topic :

विषय वस्तु विश्लेषण:

मुख्य फसलें:

  • चावल
  • गेहूं
  • बाजरा
  • मक्का
  • कपास
  • कॉफी
  • चाय

सामान्य उद्देश्य:

  1. विद्यार्थियों में सामाजिक अध्ययन के बारे में चिंतन व तर्क को बढ़ाना|
  2. विद्यार्थियों में सामाजिक अध्ययन के विषय में रुचि उत्पन्न करना|
  3. विद्यार्थियों में सामाजिक अध्ययन के प्रति वैज्ञानिक दृष्टिकोण का विकास करना|
  4. विद्यार्थियों के जीवन पर सामाजिक अध्ययन के प्रभाव को समझना|
  5. विद्यार्थियों में मुख्य फसलों को जानने की जिज्ञासा उत्पन्न करना|

अनुदेशनात्मक उद्देश्य:

  • विद्यार्थियों को मुख्य फसलों का ज्ञान हो जाएगा|
  • विद्यार्थी मुख्य फसल के प्रति सचेत हो जाएंगे|
  • विद्यार्थी मुख्य फसलों के महत्व को समझ पाएंगे|
  • विद्यार्थी मुख्य फसलों को अपने दैनिक जीवन में अपनाएं|
  • विद्यार्थी मुख्य फसलों की सूची को समझने में समर्थ हो जाएंगे |

सामान्य सहायक शिक्षण सामग्री : चौक, डस्टर, चौक-बोर्ड, संकेतक आदि

अनुदेशनात्मक सामग्री:मुख्य फसलों को दर्शाता हुआ चार्ट

पूर्व ज्ञान परिकल्पना: छात्र अध्यापिका विद्यार्थियों के ज्ञान का यह अनुमान लगाकर चलती है, कि विद्यार्थियों को ‘मुख्य फसलों’ के बारे में सामान्य जानकारी होगी |

पूर्व ज्ञान परीक्षण : छात्र अध्यापिका विद्यार्थियों के पूर्व ज्ञान हेतु निम्नलिखित प्रश्न पूछेंगी |

छात्र अध्यापक/अध्यापिका क्रियाएं:छात्र क्रियाएं:
हमें जीवित रहने के लिए सबसे अधिक आवश्यकता किस चीज की होती है?जल, अनाज, वायु आदि|
अनाज हमें कहां से प्राप्त होता है?फसलों से प्राप्त होता है|
मुख्य फसलें कौन-कौन सी हैं?समस्यात्मक प्रश्न

उपविषय की घोषणा:छात्रों के अंतिम प्रश्न का संतोषजनक उत्तर ना मिलने पर छात्र अध्यापिका उप विषय की घोषणा करेंगी, कि अच्छा बच्चों आज हम मुख्य फसलों के बारे में पढ़ेंगे|

प्रस्तुतीकरण: छात्र अध्यापिका व्याख्यान विधि व चार्ट के माध्यम से कक्षा में अपना पाठ प्रस्तुत करेंगी|

शिक्षण बिंदु:छात्र अध्यापक/अध्यापिका क्रियाएं:छात्र क्रियाएं:चॉक बोर्ड कार्य:
मुख्य फसलें:छात्र अध्यापिका कथन:छात्र अध्यापिका कक्षा-कक्ष में आगे से पीछे की ओर घूमते हुए विद्यार्थियों को बताएंगे कि भारत में निम्न प्रकार की मुख्य फसलें हैं, जूट और कपास रेशेदार फसलें हैं, चाय और कहवा मुख्य पेय फसलें हैं|छात्र ध्यान पूर्वक से सुन रहे हैं|
चावलभारत में चावल व्यापक रूप में ऊंचाई और जलवायु की बदलती स्थितिओं में बोया जाता है। भारत में चावल की खेती समुद्र तल से 3000 मीटर ऊंचाई तक एवं 8 से 35 डिग्री उत्तर अक्षांश तक होती है। चावल की फसल को एक गर्म और नम जलवायु की जरूरत है।

यह फसल चीका युक्त जलोढ़ मृदा जिसमें जल रोकने की क्षमता होती है, उसमें यह सर्वोत्तम ढंग से बनती है कि चावल उत्पादन में अग्रणी है| छात्र अध्यापिका चार्ट द्वारा मुख्य फसल गेहूं बाजरा मक्का आदि दिखाती हैं|

छात्र ध्यान पूर्वक से सुन रहे हैं|
गेहू छात्र अध्यापिका विद्यार्थियों को बताएंगे कि गेहूं को वर्तमान काल में अधिक तापमान वर्षा की और कटाई के समय तेज धूप की आवश्यकता होती है, इसका विकास दोमट मृदा में होता है, गेहूं संयुक्त राज्य अमेरिका, अर्जेंटीना, रूस,आस्ट्रेलिया में उगाया जाता है|

प्रश्न – भारत में गेहूं किस ऋतु में उगाया जाता है|

“शाबाश” आपने सही उत्तर दिया

छात्र ध्यान पूर्वक से सुन रहे हैं|

यह शीत ऋतु में

भारत में गेहूं शीत ऋतु में उगाया जाता है|
बाजरा अध्यापिका कथन:

छात्र अध्यापिका छात्रों को बताएंगे कि बाजरा मोटे अनाज के रूप में भी जाना जाता है, और कम उपजाऊ तथा बलुई मृदा में उगाई जा सकती है, जिसे कम वर्षा और उस माध्यम तापमान और पर्याप्त सूर्य के प्रकाश की आवश्यकता होती है जैसे – ज्वार, बाजरा|

छात्र ध्यान पूर्वक से सुन रहे हैं|बाजरा मोटे अनाज के रूप में भी जाना जाता है|
मक्का छात्र अध्यापिका कक्षा-कक्ष में एक छात्र को खड़ा करके पूछेंगे कि मक्का सबसे अधिक कहां उगाया जाता है?

छात्र अध्यापिका कथन:छात्र अध्यापिका विद्यार्थियों को बताएंगे कि मक्का सबसे अधिक उत्तर अमेरिका, ब्राजील, चीन, कनाडा और भारत में उगाया जाता है|

छात्र ध्यान पूर्वक सुन रहे हैं|उत्तर अमेरिका, ब्राजील, चीन, कनाडा और भारत
कपास छात्र अध्यापक/अध्यापिका बताएंगे कि कपास की वृद्धि के लिए उच्च तापमान हल्की वर्षा और चमकीले धूप की आवश्यकता होती है, उसके लिए काली और जलोढ़ मृदा सर्वोत्तम है| चीन, भारत, पाकिस्तान, ब्राजील इसके सर्वोत्तम उत्पादक है|
चाय काफी छात्र अध्यापिका कक्षा में एक छात्र को खड़ा करके पूछेंगी कि

प्रश्न:चाय सबसे अधिक कहां पाई जाती है|

शाबाश आपने ठीक उत्तर दिया

छात्र अध्यापिका कथन:छात्र अध्यापिका विद्यार्थियों को बताएंगे कि चाय एवं कॉफी एक फसल है यह ठंडी जलवायु पर निर्भर करती हैं|

छात्र ध्यान पूर्वक सुनकर उत्तर पुस्तिका में लिख रहे हैं|

असम में

छात्र ध्यान पूर्वक से सुन रहे हैं|

सामान्यीकरण: छात्र अध्यापिका द्वारा यह सामान्यीकरण किया जाता है, कि अब छात्रों को मुख्य फसल से संबंधित महत्वपूर्ण बातों का ज्ञान हो गया होगा|

पुनरावृति:

  • भारत में मुख्यता कौन-कौन सी फसलें पाई जाती हैं?
  • कुछ मुख्य फसलों के नाम बताइए ?
  • चावल और गेहूं की फसल मुख्यता सबसे ज्यादा कौन-कौन से देशों में होती हैं ?

गृहकार्य:

  1. भारत की मुख्य फसलें कौन-कौन सी है?
  2. मक्के के लिए कैसे तापमान की आवश्यकता होती है ?


www.LearningClassesOnline.com/
Further Reference:
https://www.learningclassesonline.com/ - Social Studies Lesson Plans in Hindi Social Science Lesson Plans in Hindi for B.Ed

यह सोशल साइंस का लेसन प्लान (पाठ योजना ) पृथ्वी पर जीवन विषय पर है, जो कि कक्षा 3 से 8 तक के शिक्षकों एवं डीएड, बीएड, बीटीसी के विद्यार्थियों के लिए है|

लेसन प्लान का संक्षिप्त विवरण :

  • Class : 6th 7th 8th
  • Subject : Social Studies
  • Topic : Prithvi Par Jeevan
  • Type :Mega Teaching Lesson Plan


Note: निचे दी गयी सामाजिक विज्ञान पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिससे आपको Lesson Plan बनाने का Idea मिलता है| आप खुद की कल्पना शक्ति और प्रतिभा से इसे और बेहतर बना सकते है| और साथ ही साथ कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके इसे आप अपनी सुविधा के अनुसार इस्तेमाल कर सकते है|

Prithvi Par Jeevan Lesson Plan Social Science in Hindi For B.Ed and D.El.Ed,पृथ्वी पर जीवन - Real teaching Mega Social Studies / Science Lesson Plan in Hindi, BTC DELED B.Ed Social Science Lesson Plan In Hindi Free Download

Prithvi Par Jeevan Lesson Plan For Social Science in Hindi For B.Ed 1st Year, 2nd Year and DE.L.ED Students | (पृथ्वी पर जीवन पाठ योजना)

Date : Duration Of The Peroid :
Pupils Teacher Name :Pupil Teacher Roll Number :
Class :Average Age Of the Pupils :
Subject :Topic :

सामान्य उद्देश्य:

  • विद्यार्थियों में उनके निवास से संबंधित जानकारी उपलब्ध कराना|
  • शिक्षार्थियों में पृथ्वी पर हमारा जीवन कैसे संभव है,विषय संबंधित जानकारी देना|

अनुदेशनात्मक उद्देश्य:

  • पाठ पढ़ाने के बाद छात्रों से अपेक्षा की जाती है, कि वे जैवमंडल के बारे में जान सकेंगे|
  • छात्र जैव मंडल के विभिन्न भागों के बारे में जान सकेंगे|
  • छात्र जैव विविधता की व्याख्या कर सकेंगे|
  • छात्र जैव विविधता के बारे में समझ सकेंगे|
  • छात्र विभिन्न प्रयोगों द्वारा पाठ को समझ सकेंगे, कि हरे पौधे अपना भोजन कैसे तैयार करते हैं|

सामान्य सहायक शिक्षण सामग्री: चौक, डस्टर, चौक-बोर्ड, संकेतक आदि|

अनुदेशनात्मक सामग्री: जैव विविधता को दर्शाता हुआ चार्ट|

पूर्व ज्ञान परिकल्पना: छात्र अध्यापिका विद्यार्थियों के ज्ञान का यह अनुमान लगाकर चलते है, कि विद्यार्थियों को मरुस्थल के बारे में सामान्य जानकारी होगी|

पूर्व ज्ञान परीक्षण: छात्र अध्यापिका विद्यार्थियों के पूर्व ज्ञान हेतु निम्नलिखित प्रश्न पूछेंगी|

छात्र अध्यापिका क्रियाएं:छात्र क्रियाएं:
हम जिस ग्रह पर रहते हैं उसे क्या कहते हैं?पृथ्वी
कुल कितने ग्रह हैं?नौ
पृथ्वी का आकार कैसा है?गोल
स्थलमंडल को दूसरे किस नाम से जाना जाता है?कोई उत्तर नहीं|

उपविषय की घोषणा:छात्रों के अंतिम प्रश्न का संतोषजनक उत्तर ना मिलने पर छात्र अध्यापिका उप-विषय की घोषणा करेंगी, कि अच्छा बच्चों आज हम ‘पृथ्वी पर जीवन’ के बारे में पढ़ेंगे |

प्रस्तुतीकरण: छात्र अध्यापिका व्याख्यान विधि व चार्ट के माध्यम से कक्षा में अपना पाठ प्रस्तुत करेंगी|

शिक्षण बिंदु:छात्र अध्यापिका/अध्यापक क्रियाएं:छात्र क्रियाएं:चॉक बोर्ड कार्य:
पृथ्वी पर जीवन:पृथ्वी अकेला ग्रह है| जहाँ जीवित रहने के लिए उपर्युक्त स्थितियाँ पाई जाती है| जीवन सबसे पहले महासागरों में हुआ था| समय के साथ-साथ पहले जीवन विकसित हुआ तथा विभिन्न प्रजातियो में अधिक से अधिक बंट गया और जैसा कि हम देखते है| कि इस विकास क्रम ने जैव-विविधता को पर्याप्त विकसित किया है|

प्रश्न – ऐसा कौन सा ग्रह है जहाँ जीवन पाया जाता है?

पृथ्वी

पृथ्वी पर जीवन
जैवमंडल:पृथ्वी के जिस भाग पर जीव रहते है, वह जैव-मंडल कहलाता है|पृथ्वी के जिस भाग पर जीव रहते है, वह जैव मंडल कहलाता है|
स्थलमंडल:इस मंडल में वायुमंडल, स्थलमंडल, जलमंडल के भाग सम्मिलित हैं| मनुष्य जैवमंडल का सबसे महत्वपूर्ण अंग है| समय के साथ मानव जीवन के विकास में जीवन के अनेक रूपों में प्रभाव डाला है|स्थलमंडल
जैवविविधता: समय के साथ मानव जीवन के विकास में जीवन के अनेक रूपों में प्रभाव डाला है| समय के साथ-साथ जब से पृथ्वी पर जीवन विकसित हुआ है | तभी से वह विभिन्न प्रजातियों में बंधता गया है और इस विकास क्रम के अंतर्गत जीवो की विभिन्न प्रजातियां होने को जैव विविधता कहते हैं|

जलवायु की विभिन्नता के कारण भारत में अलग-अलग वनस्पतियां पाई जाती हैं|

छात्र अपनी उत्तर पुस्तिका में लिख रहे हैं|जैवविविधता
वनों के प्रकारपृथ्वी पर मनुष्य के साथ-साथ तथा अन्य वन्य जीव भी रहते हैं, वनों को मोटे रूपे से सदाबहार और पर्णपाती वनों में विभाजित किया गया है, सदाबहार वन हर ऋतु में हरे भरे रहते हैं| पर्णपाती वन विशेष ऋतु में अपने पत्ते गिरा देती है | यह शुष्क ऋतु में होते हैं| छात्र ध्यान पूर्वक से सुन रहे हैं|वनों के प्रकार

सामान्यीकरण:ऐसा सामान्यीकरण छात्र अध्यापिका/अध्यापक द्वारा किया जाता है, कि विद्यार्थियों को पृथ्वी पर जीवन के बारे में जानकारी हो गई होगी |

पुनरावृत्ति:

जीवन सबसे पहले कहां विकसित हुआ?

गृहकार्य:

जैवमंडल क्या है ? जैवमंडल में कौन-कौन से मंडल सम्मिलित है?



Further Reference:
https://www.learningclassesonline.com/ - Social Studies Lesson Plans in Hindi Social Science Lesson Plans in Hindi for B.Ed

यह सामाजिक अध्ययन / सामाजिक विज्ञान में राजनीतिक शास्त्र एवं विज्ञान का लेसन प्लान है, जो कि संसद विषय पर है, और स्कूल में पढ़ा रहे शिक्षकों एवं B.Ed D.El.Ed एवं बीटीसी के छात्र-छात्राओं के लिए है|

लेसन प्लान का संक्षिप्त विवरण :

  • Class: 6th 7th 8th 9th and 10th
  • Subject: Social Science - Political science - राजनीति विज्ञान
  • Topic : संसद - सदन, राज्यसभा, अवधि, अधिवेशन , योग्यता, चुनाव , कार्यकाल (Parliament House, Rajya Sabha, Duration, Convention, Eligibility, Election, Tenure )
  • Type: Mega and Real School Teaching Lesson Plan


Note: निचे दी गयी सामाजिक विज्ञान पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिससे आपको Lesson Plan बनाने का Idea मिलता है| आप खुद की कल्पना शक्ति और प्रतिभा से इसे और बेहतर बना सकते है| और साथ ही साथ कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके इसे आप अपनी सुविधा के अनुसार इस्तेमाल कर सकते है|

Sansad Lesson Plan [संसद पाठ योजना] - Lok Sabha , Rajya Sabha Political Science Lesson Plan in Hindi for Class 6th to 8th Social Science teachers and B.Ed/D.El.Ed, lesson plan on sansad bhawan, lok sabha lesson plan, rajya sabha lesson plan,Sansad Lesson Plan In Hindi For B.Ed/D.El.Ed,संसद पाठ योजन,Sansad Lesson Plan For B.Ed,Sansad Lesson Plan For DElEd,Sansad Lesson Plan In Hindi,Real teaching Mega Social Studies / Science Lesson Plan in Hindi Free download Online sansad, social science lesson plan in hindi, sst lesson plan in hindi

Social Science Sansad Lesson Plan in Hindi For B.Ed 1st Year, 2nd Year and DELED | संसद पाठ योजना| LokSabha RajyaSabha Political Science Lesson Plan in Hindi

Date : Duration Of The Period :
Pupils Teacher Name :Pupil Teacher Roll Number :
Class :Average Age Of the Students :
Subject :Topic :

विषय वस्तु विश्लेषण : संसद

सामान्य उद्देश्य:

  • शिक्षार्थियों में सामाजिक कुशलता का विकास करना|
  • शिक्षार्थियों में राजनीति ज्ञान को विकसित करना|
  • शिक्षार्थियों को सरकार के गठन से संबंधित जानकारी उपलब्ध कराना|

अनुदेशनात्मक उद्देश्य:

  1. पाठ अध्ययन के उपरांत छात्रों से यह अपेक्षा की जाती है, कि वे संसद से संबंधित कुछ जानकारी दे सकेंगे|
  2. छात्र संसद को परिभाषित कर सकेंगे|
  3. छात्र संसद के संदर्भ में कथन दें सकेंगे|
  4. छात्र संसद का वर्गीकरण कर सकेंगे|
  5. छात्र संसद की व्याख्या कर सकेंगे|
  6. छात्र संसद के बारे में भविष्यकाल कथन दे सकेंगे|
  7. विद्यार्थी समस्या का समाधान कर सकेंगे|

सामान्य सहायक शिक्षण सामग्री: चौक, डस्टर, चौक-बोर्ड, संकेतक आदि|

अनुदेशनात्मक सामग्री: संसद से संबंधित चार्ट|

पूर्व ज्ञान परिकल्पना:

छात्र-अध्यापिका विद्यार्थियों के ज्ञान का यह अनुमान लगाकर चलती है, कि विद्यार्थियों को संसद के बारे में सामान्य जानकारी होगी|

पूर्व ज्ञान परीक्षण:

छात्र-अध्यापिका विद्यार्थियों के पूर्व ज्ञान हेतु निम्नलिखित प्रश्न पूछेंगी|

छात्र-अध्यापिका क्रियाएं:छात्र क्रियाएं:
भारत में किस प्रकार की शासन व्यवस्था अपनाई गई?लोकतंत्र व्यवस्था
लोकतंत्र में सरकार बनाने का अधिकार किसका है?जनता का
केंद्रीय विधान मंडल को क्या कहते हैं?समस्यात्मक प्रश्न

उपविषय की घोषणा:

छात्रों के अंतिम प्रश्न का संतोषजनक उत्तर ना मिलने पर छात्र-अध्यापिका उप-विषय की घोषणा करेंगी, कि अच्छा बच्चों आज हम संसद के बारे में पढ़ेंगे|

प्रस्तुतीकरण:

छात्र-अध्यापिका व्याख्यान विधि व चार्ट के माध्यम से कक्षा में अपना पाठ प्रस्तुत करेंगी|

शिक्षण बिंदु:छात्र-अध्यापिका क्रियाएं:छात्र क्रियाएं:चॉक बोर्ड कार्य:
संसद संसद की कल्पना विश्व में अंग्रेजों की देन है, इसलिए ब्रिटिश संसद को संसद की जननी कहा जाता है| 79 एक्ट में संसद को गठन से संबंधित राज्यसभा लोकसभा व राष्ट्रपति से संबंधित जानकारी प्राप्त होती है|छात्र ध्यान पूर्वक सुन रहे है|संसद:

1.लोकसभा

2.राज्यसभा

संसद के सदनसंसद के दो सदन होते हैं|

1.लोकसभा

2.राज्यसभा

छात्र ध्यान पूर्वक समझ कर उत्तर पुस्तिका में लिख रहे है|1.लोकसभा

2.राज्यसभा

राज्यसभा यह सदन का ऊपरी सदन है, इसमें 250 सदस्य राष्ट्रपति के द्वारा मनोनीत किए जाते हैं, जो साहित्य कला समाज सेवा आदि के कारण प्रसिद्धि प्राप्त करते हैं|राज्यसभा
अवधि राज्यसभा स्थाई सदन है, इसे भंग नहीं किया जा सकता चुनाव 6 वर्ष के लिए किया जाता है| ⅓ सदस्य 2 वर्ष के लिए बाद अवकाश ग्रहण करते हैं|छात्र ध्यान पूर्वक समझ रहे है|अवधि
अधिवेशनराज्यसभा का वर्ष में कम से कम 2 बार अधिवेशन होता है|राज्यसभा का 2 बार अधिवेशन होता है|
योग्यता1.30 वर्ष की आयु पूरी कर चुका हो|

2. पागल अथवा दिवालिया ना हो|

3. भारत का नागरिक हो|

छात्र ध्यान पूर्वक समझ कर उत्तर पुस्तिका में लिख रहे है|योग्यता
लोकसभा लोकसभा के सदस्य चुनाव प्रणाली से चुने जाते हैं|लोकसभा में 552 सदस्य होते हैं, 20 सदस्य संघ शासित प्रदेशों से चुने जाते हैं, जो कि इंडियन होते हैं|छात्र-ध्यान पूर्वक समझ रहे है|
योग्यता 1. 25 वर्ष की आयु पूरी कर चुका हो|

2. पागल अथवा दिवालिया ना हो|

3. भारत का नागरिक हो|

छात्र ध्यान पूर्वक उत्तर पुस्तिका में लिख रहे है|योग्यता
कार्यकाल लोकसभा का कार्यकाल 5 वर्ष तक रहता है|कार्यकाल
अधिवेशन लोकसभा का अधिवेशन साल में दो बार होता है, आवश्यकता पड़ने पर राष्ट्रपति द्वारा दो बार से अधिक अधिवेशन बुलाया जा सकता है|अधिवेशन
चुनाव का ढंग लोकसभा का चुनाव प्रत्यक्ष चुनाव प्रणाली द्वारा होता है|चुनाव का ढंग

सामान्यीकरण

ऐसा सामान्यीकरण छात्र-अध्यापिका द्वारा किया जाता है, कि विद्यार्थियों को संसद के बारे में जानकारी हो गई होगी|

पुनरावृत्ति:

  • संसद में कितने सदन होते हैं?
  • संसद का ऊपरी सदन कौन सा होता है?
  • लोकसभा के सदस्य की क्या-क्या योग्यता होती है?

गृहकार्य:

संसद के बारे में पढ़ कर आना है|



www.LearningClassesOnline.com/
Further Reference:
https://www.learningclassesonline.com/ - Social Studies Lesson Plans in Hindi Social Science Lesson Plans in Hindi for B.Ed

यह Social Studies ka Hindi ka lesson plan जल विषय पर है, इसमें जल के उपयोग, संरक्षण एवं समस्याओं के बारे में बताया गया है, जो कि भूगोल का विषय है और कक्षा दूसरी तीसरी 4 5 6 7 और 8 के शिक्षकों एवं और बीटीसी डीएलएड B.Ed में पढ़ रहे सभी समेस्टर और ईयर के विद्यार्थियों के लिए है

लेसन प्लान का संक्षिप्त विवरण:

  • Class :4th 5th 6th 7th 8th
  • Subject :Social Science, Geography, Science, EVS
  • Topic :Jal (जल) - उपयोग, संरक्षण, समस्याएं
  • Lesson Plan Type :Mega Teaching


Note: निचे दी गयी सामाजिक विज्ञान पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिससे आपको Lesson Plan बनाने का Idea मिलता है| आप खुद की कल्पना शक्ति और प्रतिभा से इसे और बेहतर बना सकते है| और साथ ही साथ कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके इसे आप अपनी सुविधा के अनुसार इस्तेमाल कर सकते है|

[Water] Jal Lesson Plan in Hindi [जल पाठ योजना] for B.Ed, DELED and Class 4th to 10th Social Science Free Download PDF, Jal Lesson Plan In Hindi For B.Ed/D.El.Ed,जल पाठ योजना,Jal Ka Lesson Plan In Hindi,Jal Lesson Plan In Hindi,Jal Lesson Plan In Hindi For Bed,Jal Lesson Plan In Hindi For Deled,Jal Lesson Plan In Hindi, water lesson plan in hindi,जल Real teaching Mega Social Studies / Science Lesson Plan in Hindi Free download , social science lesson plan in hindi, sst lesson plan in hindi

Jal Lesson Plan in Hindi for B.Ed 1st year, 2nd year and DELED From Class 4th to 10th Social Science | जल पाठ योजना सामाजिक विज्ञान

Date : Duration Of The Period :
Student Teacher Name :Student Teacher's Roll Number :
Class :Average Age Of the Students :
Subject :Topic :

विषय वस्तु विश्लेषण:जल

  1. पृथ्वी का आंतरिक भाग
  2. भूपर्पटी, मेंटल, क्रोड

सामान्य उद्देश्य:

  • विद्यार्थियों के सम्मुख जल के महत्व पर प्रकाश डालना|
  • विद्यार्थियों में जल संरक्षण गुण का विकास करना|

अनुदेशनात्मक उद्देश्य:

  1. पाठ अध्ययन के उपरांत बच्चों से अपेक्षा की जाती है, कि वे जल को परिभाषित कर सकेंगे|
  2. छात्र जल शब्द की व्याख्या कर सकेंगे|
  3. छात्र जल का उचित प्रयोग कर सकेंगे|
  4. जल के बारे में भविष्य कथन कर सकेंगे|

सामान्य सहायक शिक्षण सामग्री: चौक, डस्टर, चौक-बोर्ड, संकेतक आदि|

अनुदेशनात्मक सामग्री: चार्ट

पूर्व ज्ञान परिकल्पना:

छात्र-अध्यापिका विद्यार्थियों के ज्ञान का यह अनुमान लगाकर चलती है, कि विद्यार्थियों को जल (पानी)के बारे में सामान्य जानकारी होगी|

पूर्व ज्ञान परीक्षण:

छात्र-अध्यापिका विद्यार्थियों के पूर्व ज्ञान हेतु निम्नलिखित प्रश्न पूछेंगी|

छात्र-अध्यापिका क्रियाएं:छात्र क्रियाएं:
मनुष्य किन पांच तत्वों से मिलकर बना है?पृथ्वी, वायु, जल, आकाश, अग्नि...
प्रकृति से हमें क्या चीजें प्राप्त होती हैं?पेड़- पौधे, झीले, नदियां, बंदरगाह
जीवन जीने के लिए सबसे महत्वपूर्ण तत्व क्या है?कोई उत्तर नहीं

उपविषय की घोषणा:

छात्रों के अंतिम प्रश्न का संतोषजनक उत्तर ना मिलने पर छात्र-अध्यापिका उप-विषय की घोषणा करेंगी, कि अच्छा बच्चों आज हम जल के बारे में पढ़ेंगे|

प्रस्तुतीकरण:

छात्र-अध्यापिका व्याख्यान विधि व चार्ट के माध्यम से कक्षा में अपना पाठ प्रस्तुत करेंगी|

शिक्षण बिंदु:छात्र-अध्यापिका क्रियाएं:छात्र क्रियाएं:चॉक बोर्ड कार्य:
जलजल एक महत्वपूर्ण नवीकरणीय प्राकृतिक संसाधन है, भू पृष्ठ का 3/4 भाग पानी से ढका हुआ है, इसलिए इसे जल ग्रह कहना उपयुक्त है| लगभग 3-5 अरब वर्ष पहले जीवन आदि महासागरों में ही प्रारंभ हुआ है, यद्यपि आज भी महासागर पृथ्वी की सतह के दो तिहाई भाग को ढके हुए हैं, व विविध प्रकार के पौधे व जन्तुओ की मदद करते हैं, यह जल नदियों के रूप में होता है|छात्र ध्यान पूर्वक सुन रहे है|

जल: जल एक महत्वपूर्ण नवीकरणीय एवं प्राकृतिक संसाधन है|

जल
जल का उपयोगमनुष्य जल की बड़ी मात्रा का उपयोग ना केवल पीने और धुलाई में ही करता है, वरन उत्पादन प्रक्रिया में भी करता है, उद्योगों जल कृषि उद्योग तथा बांधों के जलाशयों के माध्यम से विद्युत उत्पादन करने में भी प्रयोग किया जाता है|छात्र ध्यान पूर्वक सुन कर लिख रहे हैं|जल का उपयोग

जल उपलब्धता समस्याए व इसके क्षेत्र विश्व के कई प्रदेशों में पानी की कमी है| अधिकांश देश जैसे- पश्चिमी एशिया, दक्षिणी एशिया, संयुक्त राज्य अमेरिका के कई भाग संपूर्ण आस्ट्रेलिया जल की आपूर्ति की कमी का सामना कर रहे हैं| वे देश ऐसे जलवायु प्रदेशों में स्थित है, जहां अक्सर सूखा पड़ता है|छात्र ध्यान पूर्वक सुनेंगे, व अपनी कॉपी में लिखेंगे|जल उपलब्धता समस्याए व इसके क्षेत्र

जल संकट

जल संसाधनों का संरक्षण आज के विश्व में शुद्ध तथा पर्याप्त जल स्रोत तक पहुंचना एक बड़ी समस्या बन गई है| जल एक नवीकरणीय संसाधन है, इसका संरक्षण हमारे जीवन के लिए परम आवश्यक है, हमें जल को व्यर्थ नहीं करना चाहिए, हमें पानी का संरक्षण इस प्रकार करना चाहिए कि हमारी भावी पीढ़ी को इस प्रकार की समस्या का सामना ना करना पड़े| परिणाम स्वरूप हमें जल को सुरक्षित करने के लिए नल को खुला नहीं छोड़ना चाहिए|जल संसाधनों का संरक्षण:

जल संसाधनों का हमारे जीवन में महत्वपूर्ण स्थान है|


सामान्यीकरण:

ऐसा सामान्यीकरण छात्र-अध्यापिका द्वारा किया जाता है, कि विद्यार्थियों को जल के बारे में जानकारी हो गई होगी|

पुनरावृत्ति:

  1. जल का उपयोग किन कार्यों के लिए किया जाता है?
  2. जल पूर्ति की किन-किन क्षेत्रों में कमी है|
  3. जल संरक्षण के उपाय समझाइए

गृहकार्य:

जल संसाधन के बारे में पढ़ कर आना है|



www.LearningClassesOnline.com/
Further Reference:
https://www.learningclassesonline.com/ - Social Studies Lesson Plans in Hindi Social Science Lesson Plans in Hindi for B.Ed

यह सामाजिक अध्ययन का लेसन प्लान हिंदी में अकबर के शासनकाल, उसका जन्म, मृत्यु एवं प्रमुख युद्ध और वंश पर है, जो कि इतिहास के अंदर आता है यह सामाजिक अध्ययन ( सोशल साइंस ) की पाठ योजना का रियल टीचिंग लेसन प्लान डीएड, डीएलएड, बीटीसी , बी.एड और स्कूल के शिक्षकों के लिए है|

लेसन प्लान का संक्षिप्त विवरण :

  • Class : 6th 7th 8th
  • Subject : Social Science
  • Topic : Akbar Ka Sashan Kaal(अकबर का शासन काल)
  • Type : Mega Teaching and Real School Teaching Lesson Plan In Hindi


Note: निचे दी गयी सामाजिक विज्ञान पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिससे आपको Lesson Plan बनाने का Idea मिलता है| आप खुद की कल्पना शक्ति और प्रतिभा से इसे और बेहतर बना सकते है| और साथ ही साथ कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके इसे आप अपनी सुविधा के अनुसार इस्तेमाल कर सकते है|

अकबर का शासन काल Social Studies Lesson Plan in Hindi, पाठ योजना सामाजिक विज्ञान, पाठ योजना सामाजिक विज्ञान कक्षा,Akbar Ka Sashan Kal Lesson Plan | अकबर का शासन काल पाठ योजना,Akbar Ka Lesson Plan,Akbar Lesson Plan In Hindi,Akbar Lesson Plan In Hindi For B.Ed,Akbar Lesson Plan In Hindi For Class 7th,Akbar Lesson Plan In Hindi For D.El.Ed,Akbar Path Yojna,Akbar Lesson Plan In Hindi For B.Ed/D.El.Ed,History Lesson Plan In Hindi

Akbar Ka Sashan Kaal Lesson Plan ( Akbar Lesson Plan in Hindi) for For B.Ed 1st Year, 2nd Year and DELED - अकबर का शासन काल

Date : Duration Of The Peroid :
Pupils Teacher Name :Pupil Teacher Roll Number :
Class :Average Age Of the Pupils :
Subject :Topic :

विषय वस्तु विश्लेषण:

सामान्य उद्देश्य:

  • विद्यार्थियों में ऐतिहासिक ज्ञान को विकसित करना|
  • विद्यार्थियों में इतिहास विषय के प्रति रूचि पैदा करना|
  • विद्यार्थियों के सामान्य ज्ञान को बढ़ाना|

अनुदेशनात्मक उद्देश्य:

  1. अध्ययन के उपरांत छात्रों से अपेक्षा की जाती है, कि वह अकबर के विषय में लिख सकेंगे|
  2. अकबर के शासन काल की सूची बता सकेंगे|
  3. छात्र अकबर से संबंधित व्याख्या कर सकेंगे|
  4. छात्र अकबर के शासन को सारांश में बता सकेंगे|
  5. छात्र संबंधित जानकारी का प्रत्यास्मरण कर सकेंगे|
  6. छात्र अकबर के शासन की व्याख्या कर सकेंगे|
  7. छात्र अकबर के शासन काल में आने वाले बदलाव बता सकेंगे|

सामान्य सहायक शिक्षण सामग्री: चौक, डस्टर, चौक-बोर्ड, संकेतक आदि|

अनुदेशनात्मक सामग्री:चार्ट

पूर्व ज्ञान परिकल्पना: छात्र अध्यापिका विद्यार्थियों के ज्ञान का यह अनुमान लगाकर चलती है, कि विद्यार्थियों को अकबर के बारे में सामान्य जानकारी होगी|

पूर्व ज्ञान परीक्षण: छात्र अध्यापिका विद्यार्थियों के पूर्व ज्ञान हेतु निम्नलिखित प्रश्न पूछेंगी|

छात्र अध्यापक/अध्यापिका क्रियाएं:छात्र क्रियाएं:
मुगल वंश के पहले शासक कौन थे?बाबर
बाबर का बेटा कौन था?हुमायूं
हुमायूं का बेटा कौन था?अकबर कोई उत्तर नहीं
अकबर के बारे में आप क्या जानते हैं?कोई उत्तर नहीं

उपविषय की घोषणा: छात्रों के अंतिम प्रश्न का संतोषजनक उत्तर ना मिलने पर छात्र अध्यापिका उप विषय की घोषणा करेंगी, कि अच्छा बच्चों आज हम अकबर के बारे में पढ़ेंगे|

प्रस्तुतीकरण: छात्र अध्यापिका व्याख्यान विधि व चार्ट के माध्यम से कक्षा में अपना पाठ प्रस्तुत करेंगी|

शिक्षण बिंदु:छात्र अध्यापक/अध्यापिका क्रियाएं:छात्र क्रियाएं:चॉक बोर्ड कार्य:
अकबर का जन्मअकबर का जन्म 14 अक्टूबर 1542 को राजपुर राजा अमर साल के महल उमरकोट में हुआ|छात्र ध्यान पूर्वक से सुन रहे हैं|अकबर का जन्म 14 अक्टूबर 1542
राज अकबर का राज्याभिषेक 14 फरवरी, 1556 से लेकर 21 अक्टूबर, 1605 तक राज किया|छात्र ध्यान पूर्वक से सुन रहे हैं|अकबर का राजकाल 14 फरवरी, 1556 से लेकर 21 अक्टूबर, 1605 तक हुआ|
अकबर के माता-पिताअकबर की माता का नाम हमीदा बेगम और पिता का नाम हुमायूं था|छात्र ध्यान पूर्वक से सुन रहे हैं|अकबर की माता का नाम हमीदा बेगम और पिता का नाम हुमायूं था|
अकबर की बेगमअकबर की बेगम जोधा, रुकैया, सलीमा बेगम थी| यह अकबर की मुख्य बेगम थी|छात्र ध्यान पूर्वक से सुन रहे हैं|
अकबर के पुत्रहसन, हुसैन, सलीम,मुरादछात्र ध्यान पूर्वक से सुन रहे हैंपुत्र

1. हसन

2. हुसैन

3. सलीम

4.मुराद

अकबर के विशेष लोगबहुत से लोग थे परंतु कुछ लोग अकबर के विशेष अर्थात ख़ास थे जैसे:

1. अबू फजल जिसने अकबर नाम की रचना की थी|

2. राजा बीरबल अकबर के मुख्य सलाहकार थे|

3. तानसेन गायक थे |

4. अब्दुल रहीम खाने खाना जो कवि थे |

5. राजा टोडरमल वित्त मंत्री थे|

6. राजा मान सिंह प्रधान सेनापति थे |

अकबर के कुछ विशेष लोग
अकबर के कार्यराजा अकबर ने बहुत से कर खत्म कर दिए थे| अकबर ने हिंदू लोगों के लिए जजिया कर खत्म कर दिया था| छात्र ध्यान पूर्वक सुनकर उत्तर पुस्तिका में लिख रहे हैं|अकबर के कुछ मुख्य एवं महत्वपूर्ण कार्य
युद्धपानीपत के दूसरे युद्ध में अकबर ने राजपूताना के हिंदू राजा हेमू को हरा दिया था| अकबर ने कई राज्यों को जीता था जैसे- मालवा, गुजरात, काबुल, कश्मीर|अकबर ने युद्ध में कई राज्यों को जीता था जैसे- मालवा, गुजरात, काबुल, कश्मीर
अकबर का पूरा नाम बदरुद्दीन मोहम्मद अकबर था| उनका यह नाम इसलिए पड़ा क्योंकि उनका जन्म पूर्णिमा के दिन हुआ था|अकबर का पूरा नाम बदरुद्दीन मोहम्मद था|
रूचि व मृत्युअकबर की चित्रकारी आदि ललित कलाओं में काफी रुचि अन्य कलाओं में भी रुचि थी| मुगल चित्रकारी का विकास करने के साथ-साथ उसने यूरोपीय शैली का भी स्वागत किया| इनकी मृत्यु 27 अक्टूबर, 1605 में हुई|छात्र ध्यान पूर्वक से सुन रहे हैं|

सामान्यीकरण: छात्र अध्यापिका द्वारा यह सामान्यीकरण किया जाता है, कि अब छात्रों को अकबर के जीवन से संबंधित महत्वपूर्ण बातों का ज्ञान हो गया होगा|

पुनरावृति:

  1. अकबर का जन्म कहां हुआ ? कब हुआ ?
  2. अकबर ने पानीपत के दूसरे युद्ध में किसको हराया ?
  3. अकबर की मुख्य रानियों के नाम बताओ ?
  4. अकबर की मृत्यु कब हुई ?

गृहकार्य: अकबर के बारे में जो हमने आज पढ़ा है, वह सब पढ़ कर आना है|



www.LearningClassesOnline.com/
Further Reference:
https://www.learningclassesonline.com/ - Social Studies Lesson Plans in Hindi Social Science Lesson Plans in Hindi for B.Ed

लेसन प्लान का संक्षिप्त विवरण :

  • Class : 6th 7th 8th
  • Subject : Social Science
  • Topic : Marusthal Me Jeevan (मरुस्थल में जीवन)
  • Type : Discussion Lesson Plan


Note: निचे दी गयी सामाजिक विज्ञान पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिससे आपको Lesson Plan बनाने का Idea मिलता है| आप खुद की कल्पना शक्ति और प्रतिभा से इसे और बेहतर बना सकते है| और साथ ही साथ कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके इसे आप अपनी सुविधा के अनुसार इस्तेमाल कर सकते है|

Marusthal Me Jivan Geography Lesson Plan In Hindi | मरुस्थल में जीवन पाठ योजना,मरुस्थल में जीवन - social science lesson plan in Hindi,मरुस्थल में जीवन Discussion teaching Social Studies Lesson Plan in Hindi, social science lesson plan in hindi, BTC DELED B.Ed social science lesson plan in hindi free download,Marusthal Me Jeevan Lesson Plan In Hindi, Marusthal Lesson Plan In Hindi,Marusthal Me Jeevan Lesson Plan,Marusthal Me Jeevan Lesson Plan In Hindi,मरुस्थल में जीवन पाठ योजना

Marusthal Me Jeevan Social Science Geography Lesson Plan In Hindi on Discussion Skill For B.Ed 1st Year, 2nd Year and DELED - मरुस्थल में जीवन पाठ योजना

Date : Duration Of The Peroid :
Pupils Teacher Name :Pupil Teache Roll Number :
Class :Average Age Of the Pupils :
Subject :Topic :

विषय वस्तु विश्लेषण:

  • मरुस्थल में जीवन
  • मरुस्थल के प्रकार

सामान्य उद्देश्य:

  1. विद्यार्थियों में सामाजिक अध्ययन के बारे में चिंतन व तर्क को बढ़ाना|
  2. विद्यार्थियों में सामाजिक अध्ययन के विषय में रुचि उत्पन्न करना|
  3. विद्यार्थियों में सामाजिक अध्ययन के प्रति वैज्ञानिक दृष्टिकोण का विकास करना|
  4. विद्यार्थियों के जीवन पर सामाजिक अध्ययन के प्रभाव को समझना|

अनुदेशनात्मक उद्देश्य:

  • छात्र मरुस्थल में जीवन को परिभाषित करना सीख जाएंगे|
  • छात्र मरुस्थल में जीवन के प्रति सचेत हो जाएंगे|
  • छात्र मरुस्थल में जीवन की प्रतिक्रिया की व्याख्या करना सीख जाएंगे|
  • मरुस्थल में जीवन की प्रक्रिया को समझ जाएंगे|
  • छात्र मरुस्थल में जीवन के महत्व को समझ पाएंगे|
  • छात्र मरुस्थल में जीवन के विभिन्न माध्यमों से अपने दैनिक जीवन में प्रयोग करना सीख जाएंगे|

सामान्य सहायक शिक्षण सामग्री: चौक, डस्टर, चौक-बोर्ड, संकेतक आदि|

अनुदेशनात्मक सामग्री: मरुस्थल में जीवन को दर्शाता हुआ चार्ट|

पूर्व ज्ञान परिकल्पना: छात्र अध्यापिका विद्यार्थियों के ज्ञान का यह अनुमान लगाकर चलती है, कि विद्यार्थियों को मरुस्थल के बारे में सामान्य जानकारी होगी|

पूर्व ज्ञान परीक्षण: छात्र अध्यापिका विद्यार्थियों के पूर्व ज्ञान हेतु निम्नलिखित प्रश्न पूछेंगी |

छात्र अध्यापक/अध्यापिका क्रियाएं:छात्र क्रियाएं:
हम जिस ग्रह पर रहते हैं उसे क्या कहते हैं?पृथ्वी
पृथ्वी पर जहां अधिक मात्रा में पेड़ पौधे पाए जाते हैं, उसे क्या कहते हैं?वन क्षेत्र कहते हैं|
पृथ्वी के जिस भाग में हमेशा बर्फ जमी रहती है, उसे क्या कहते हैं?ध्रुवीय प्रदेश
पृथ्वी के जिस भाग पर वनस्पति नहीं होती है, उसे क्या कहते हैं?समस्यात्मक प्रश्न

उपविषय की घोषणा: छात्रों के अंतिम प्रश्न का संतोषजनक उत्तर ना मिलने पर छात्र अध्यापिका उप विषय की घोषणा करेंगी, कि अच्छा बच्चों आज हम मरुस्थल के जीवन के बारे में पढ़ेंगे |

प्रस्तुतीकरण: छात्र अध्यापिका व्याख्यान विधि व चार्ट के माध्यम से कक्षा में अपना पाठ प्रस्तुत करेंगी|

शिक्षण बिंदु:छात्र अध्यापक/अध्यापिका क्रियाएं:छात्र क्रियाएं:चॉक बोर्ड कार्य:
मरुस्थल का अर्थछात्र अध्यापिका कथन: छात्र अध्यापिका कक्षा-कक्ष में चलते हुए छात्रों को बताएंगे कि हमारे ग्रह पर कुछ ऐसे स्थान भी हैं, जहां वनस्पति के लिए पर्याप्त वर्षा नहीं है, दिन रात के तापमान में बहुत अंतर होता है, दिन में धूप के कारण तापमान बढ़ जाता है, और रात बहुत ज्यादा ठंडी होती है| मिट्टी भी बहुत रेतीली होती है| और धूल भरी आंधियां चलती हैं ऐसे गर्म शुष्क का जो वनस्पति रहित होते हैं, उन्हें मरुस्थल कहते हैं |

छात्र अध्यापिका कक्षा कक्ष में छात्र को खड़ा करके पूछेंगे कि – "पृथ्वी का कितना भाग मरुस्थल से घिरा हुआ है|"

सभी छात्र ध्यान पूर्वक सुनेंगे |

पृथ्वी का सातवां भाग मरुस्थल है|

जो वनस्पति रहित होते हैं उन्हें, मरुस्थल कहते हैं |
मरुस्थल के भागमरुस्थल कितने प्रकार के होते हैं ?

मरुस्थल दो प्रकार के होते हैं|

1.गर्म मरुस्थल

2.ठंडे मरुस्थल

दो प्रकारमरुस्थल दो प्रकार के होते हैं|

1.गर्म मरुस्थल

2.ठंडे मरुस्थल

गर्म मरुस्थलछात्र अध्यापिका कक्षा में चौक बोर्ड पर लिखते हुए बताएंगे कि – "यहां का तापमान बहुत अधिक पाया जाता है, और जहां गर्म तेज हवा चलती है उसे गर्म मरुस्थल कहते हैं|"छात्र निरुत्तर सुनेगे|

छात्र ध्यान से सुनेगे और समझेंगे |

जहां गर्म तेज हवा चलती है उसे गर्म मरुस्थल कहते हैं |
ठंडा मरुस्थलछात्र अध्यापिका कक्षा में एक छात्र को खड़ा करके पूछेगी कि – ठंडा मरुस्थल किसे कहते हैं?

छात्रों से प्रश्न का उत्तर ना पाकर छात्र अध्यापिका बच्चों को बताएंगे कि- जहां ऊंचे ऊंचे पर्वतों में वृक्ष विहीन तथा विस्तृत भू-भाग पाया जाता है, उसे ठंडा मरुस्थल कहते हैं| ठंडा मरुस्थल लद्दाख में होते हैं, यहां के ऊंचे ऊंचे पर्वत वृक्ष विहीन होते हैं| यहां लद्दाख का क्षेत्र है उस क्षेत्र में वृक्ष ना के बराबर पाए जाते हैं इस क्षेत्र को वृक्ष विहीन भूमि के नाम से भी जाना जाता है, इस क्षेत्र में याक जैसे पशु पाए जाते हैं, यह पशु मुख्य रूप से दूध व ऊन के लिए पाले जाते हैं |

ऊंट को मरुस्थल का जहाज भी कहा जाता है| यह एक बार में भोजन व पानी खाने के बाद 10-15 दिन के बाद ही दोबारा भोजन करता है|

छात्र कॉपी में लिखेंगे|जहां ऊंचे ऊंचे पर्वतों में वृक्ष विहीन तथा विस्तृत भू भाग पाया जाता है उसे ठंडा मरुस्थल कहते हैं |

सामान्यीकरण: ऐसा सामान्यीकरण छात्र अध्यापिका द्वारा किया जाता है, कि विद्यार्थियों को मरुस्थल के जीवन के बारे में जानकारी हो गई होगी |

पुनरावृत्ति: छात्र अध्यापिका छात्रों से निम्न प्रश्न पूछेंगी:

  • मरुस्थल में जीवन कैसा है?
  • गर्म मरुस्थल कहां पाया जाता है?
  • बालू का टिब्बा किसे कहते हैं?
  • ठंडा मरुस्थल किसे कहते हैं?

गृहकार्य:

  1. ठंडा मरुस्थल किसे कहते हैं?
  2. रेगिस्तान कैसा स्थान है?
  3. संसार का सबसे बड़ा मरुस्थल कौन सा है ?


www.LearningClassesOnline.com/
Further Reference:
https://www.learningclassesonline.com/ - Social Studies Lesson Plans in Hindi Social Science Lesson Plans in Hindi for B.Ed

Social Studies Samajik Vigyan के भूगोल का lesson plan (path Yojana) परिवहन के साधन हिंदी में D.Ed B.Ed or BTC students और कक्षा 5 से 10 के शिक्षकों के लिए

लेसन प्लान का संक्षिप्त विवरण :

  • Class: 6th 7th 8th 9th and 10th
  • Subject: Social Science
  • Topic : Parivahan Ke Sadhan
  • Type: Simulated and Mega Teaching Lesson Plan


Note: निचे दी गयी सामाजिक विज्ञान पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिससे आपको Lesson Plan बनाने का Idea मिलता है| आप खुद की कल्पना शक्ति और प्रतिभा से इसे और बेहतर बना सकते है| और साथ ही साथ कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके इसे आप अपनी सुविधा के अनुसार इस्तेमाल कर सकते है|


Parivahan Ke Sadhan Lesson Plan in Hindi [परिवहन के साधन पाठ योजना] for Geography and Social Science Civics Class 6th to 9th and B.Ed/D.El.Ed Free Download PDF,Parivahan Lesson Plan In Hindi For B.Ed/D.El.Ed,परिवहन के साधन पाठ योजना,Parivahan Lesson Plan For DElEd,Parivahan Lesson Plan For B.Ed,Parivahan Ke Sadhan Lesson Plan In Hindi,Parivahan Ke Sadhan Lesson Plan For B.Ed,Social Study SST Lesson Plan,Class 6th/7th/8th/9th/10th,परिवहन के साधन Simulated teaching Social Studies Lesson Plan in Hindi, social science lesson plan in hindi, sst lesson plan in hindi

[Social Science Geography] Parivahan Ke Sadhan Lesson Plan in Hindi For B.Ed 1st Year, 2nd Year and DELED | परिवहन के साधन पाठ योजना

Date : Duration Of The Period :
Pupils Teacher Name :Pupil Teacher Roll Number :
Class :Average Age Of the Students :
Subject :Topic :

विषय वस्तु विश्लेषण:

  • प्रस्तावना
  • यातायात के साधनों की कमी से कठिनाइयां
  • परिवहन के साधनों का विकास
  • परिवहन के साधनों के प्रकार

सामान्य उद्देश्य:

  1. विद्यार्थियों में सामाजिक अध्ययन के प्रति तर्क व चिंतन उत्पन्न करना|
  2. विद्यार्थियों के विकास में वृद्धि करना|
  3. विद्यार्थियों में सामाजिक कुशलता का विकास करना|
  4. विद्यार्थियों में वायुमंडल को जानने की जिज्ञासा पैदा करना|

अनुदेशनात्मक उद्देश्य:

  • विद्यार्थी परिवहन के साधनों के बारे में जान सकेंगे|
  • विद्यार्थी परिवहन के साधनों के प्रकारों की व्याख्या कर सकेंगे|
  • विद्यार्थी परिवहन के विभिन्न साधनों की पहचान सकेंगे|
  • विद्यार्थी परिवहन के सभी साधनों का उचित प्रयोग करना सीख सकेंगे|

सामान्य सहायक शिक्षण सामग्री: चौक, डस्टर, चौक-बोर्ड, संकेतक आदि|

अनुदेशनात्मक सामग्री:परिवहन के साधनों को दर्शाता हुआ चार्ट

पूर्व ज्ञान परिकल्पना:

छात्र-अध्यापिका विद्यार्थियों के ज्ञान का यह अनुमान लगाकर चलती है, कि विद्यार्थियों को परिवहन के साधनों के बारे में सामान्य जानकारी होगी|

पूर्व ज्ञान परीक्षण:

छात्र-अध्यापिका विद्यार्थियों के पूर्व ज्ञान हेतु निम्नलिखित प्रश्न पूछेंगी|

छात्र-अध्यापिका क्रियाएं:छात्र क्रियाएं:
हम सब एक स्थान से दूसरे स्थान पर कैसे जाते हैं?रेलगाड़ी,बस, स्कूटर साइकिल आदि से
प्राचीन समय में लोग एक स्थान से दूसरे स्थानों पर कैसे जाते थे?बैलगाड़ी,तांगा पैदल या घुड़सवारी के जरिए
बैलगाड़ी, रेलगाड़ी, हवाई जहाज यह सब क्या है?कोई उत्तर नहीं


उपविषय की घोषणा:

छात्रों के अंतिम प्रश्न का संतोषजनक उत्तर ना मिलने पर छात्र-अध्यापिका उप-विषय की घोषणा करेंगी, कि अच्छा बच्चों आज हम परिवहन के साधनों के बारे में पढ़ेंगे|

प्रस्तुतीकरण:

छात्र-अध्यापिका व्याख्यान विधि व चार्ट के माध्यम से कक्षा में अपना पाठ प्रस्तुत करेंगी|

शिक्षण बिंदु:छात्र-अध्यापिका क्रियाएं:छात्र क्रियाएं:चॉक बोर्ड कार्य:
प्रस्तावनाप्राचीन काल में लोगों को एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाने के लिए बहुत कठिनाइयों का सामना करना पड़ता था, क्योंकि तब परिवहन यातायात के साधन बहुत कम थी, लोग पैदल चलकर घोड़ो, ऊटों या बैलगाड़ी के द्वारा ही आते जाते थे, उस समय सड़के भी नहीं थी| कहीं कच्चा रास्ता तो कही पर पगडंडीया होती थी|बच्चे ध्यान से सुनेंगेपरिवहन के साधनों से आधुनिक युग में यात्रा करना बहुत ही आसान हो गया है|
साधनों की कमी से कठिनाइयांयातायात के साधनों की कमी के कारण लोगों को एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाने में कई कठिनाइयों का सामना करना पड़ता था| यात्रा के दौरान डाकुओं द्वारा लूटा जाना, मकान व सामान की समस्या घोड़े व बैल भी कम मिल पाते थे|साधनों की कमी से एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाने में कई कठिनाइयां होती थी|
परिवहन के साधनों का विकासआधुनिक युग में परिवहन के साधनों का विकास हुआ, तथा साथ साथ सड़कों, पुलों, नहरों आदि का निर्माण हो गया, जिससे यात्रा करना भी आसान हो गया| इन साधनों के द्वारा हम समय व ऊर्जा की बचत करके परिवहन के साधन्दी एक स्थान से दूसरे स्थान पर चले जाते हैं|बच्चे ध्यान से सुनेंगे1.सड़क मार्ग

2. परिवहन के साधनमार्ग

3. वायु मार्ग

परिवहन के साधनों के प्रकारपरिवहन के साधनों को तीन भागों में बांटा जा सकता है|

1. सड़क मार्ग परिवहन

2. परिवहन के साधन मार्ग परिवहन

3. वायु मार्ग परिवहन

बच्चे ध्यान से सुनेंगेसड़क पर चलने वाले वाहनों को सड़क मार्ग परिवहन कहते हैं|
सड़क मार्ग परिवहनसड़क पर चलने वाले वाहनों को सड़क मार्ग परिवहन के अंतर्गत लाया जाता है, जैसे बस, स्कूटर, रेल, ऑटो आदि|सड़क पर चलने वाले वाहनों को सड़क मार्ग परिवहन कहते हैं|
परिवहन के साधन मार्ग परिवहनपरिवहन के साधन मार्ग से चलने वाले यातायात के साधनों को परिवहन के साधन मार्ग परिवहन कहा जाता है|परिवहन के साधन मार्ग से चलने वाले यातायात के साधनों को परिवहन के साधन मार्ग परिवहन कहा जाता है|
वायु मार्ग परिवहनपरिवहन के साधन मार्ग परिवहन में नाव पानी वायु मार्ग परिवहन में वह सभी साधन आते हैं, जो वायु में उड़ते हैं, जैसे- हवाई जहाज, हेलीकॉप्टर, स्पेसशिप आदि| इन सभी को वायु मार्ग परिवहन साधन कहते हैं, यह सब तीव्र गति से चलने वाले साधन है, इन्हें मानव स्वयं उड़कर एक स्थान से दूसरे स्थान पर कम समय में जा सकते हैं|बच्चे ध्यान से सुनेंगेवायु में उड़ने वाले साधनों को वायु मार्ग परिवहन कहते है|

सामान्यीकरण:

छात्र-अध्यापिका सामान्यीकरण करती है, कि विद्यार्थियों को परिवहन के साधनों के बारे में समझ आ गया होगा|

पुनरावृति:

  • प्राचीन काल में परिवहन के कौन-कौन से साधन प्रयोग होते थे?
  • परिवहन के साधन मार्ग परिवहन के दो-दो उदाहरण दें?
  • परिवहन के साधनों को कितने भागों में बांटा जा सकता है?
  • सबसे तीव्र गति का परिवहन संसाधन कौन सा है?

गृहकार्य:

  1. परिवहन के साधनों का विकास किस प्रकार हुआ?
  2. परिवहन के साधनों के विभिन्न प्रकार कौन-कौन से हैं?
  3. परिवहन के साधनों से आज क्या-क्या लाभ हुआ है विस्तृत वर्णन करो?


www.LearningClassesOnline.com/
Further Reference:
https://www.learningclassesonline.com/ - Social Studies Lesson Plans in Hindi Social Science Lesson Plans in Hindi for B.Ed

यह सामाजिक अध्ययन एवं सामाजिक विज्ञान का भूगोल का लेसन प्लान (पाठ योजना) वायुमंडल विषय पर है, जो कि कक्षा चौथी 4 5 6 7 8 में पढ़ा रहे हैं शिक्षकों एवं B.Ed, D.Ed और बीटीसी कर रहे अभ्यार्थियो के लिए है|

लेसन प्लान का संक्षिप्त विवरण :

  • Class : 5th 6th 7th 8th 9th and 10th
  • Subject : Social Studies - Geography
  • Topic : Vayumandal(वायुमंडल)
  • Type :Simulated and Mega Teaching Lesson Plan


Note: निचे दी गयी सामाजिक विज्ञान पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिससे आपको Lesson Plan बनाने का Idea मिलता है| आप खुद की कल्पना शक्ति और प्रतिभा से इसे और बेहतर बना सकते है| और साथ ही साथ कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके इसे आप अपनी सुविधा के अनुसार इस्तेमाल कर सकते है|

VayuMandal Lesson Plan for Geography In Hindi | वायुमंडल पाठ योजना,वायुमंडल - sst lesson plan in hindi,वायुमंडल Simulated teaching Social Studies Lesson Plan in Hindi, social science lesson plan in hindi, sst lesson plan in hindi,Lesson Plan On Vayumandal,Vayu mandal Lesson Plan In Hindi,Vayumandal Lesson Plan,Vayumandal Lesson Plan In Hindi For B.Ed,Vayumandal Lesson Plan In Hindi For D.El.Ed,Vayumandal Path Yojna,वायुमंडल पाठ योजना,Vayumandal Lesson Plan In Hindi For B.Ed/D.El.Ed,Geography Lesson Plan In Hindi PDF,Vayumandal Lesson Plan

VayuMandal Lesson Plan for Geography In Hindi For B.Ed 1st Year, 2nd Year and DELED Students of Social Science - वायुमंडल पाठ योजना

Date : Duration Of The Peroid :
Pupils Teacher Name :Pupil Teacher Roll Number :
Class :Average Age Of the Pupils :
Subject :Topic :

विषय वस्तु विश्लेषण:

  1. वायुमंडल का संगठन
  2. वायुमंडल की संरचना
  3. वायुदाब

सामान्य उद्देश्य:

  • विद्यार्थियों में सामाजिक अध्ययन के प्रति तर्क व चिंतन उत्पन्न करना|
  • विद्यार्थियों के विकास में वृद्धि करना|
  • विद्यार्थियों में सामाजिक कुशलता का विकास करना|
  • विद्यार्थियों में वायुमंडल को जानने की जिज्ञासा पैदा करना|

अनुदेशनात्मक उद्देश्य:

  1. विद्यार्थी वायुमंडल के बारे में जान सकेंगे|
  2. विद्यार्थी वायुमंडल के संगठन को परिभाषित कर सकेंगे|
  3. विद्यार्थी वायुमंडल की विभिन्न परतों को वर्गीकृत कर सकेंगे|
  4. विद्यार्थी वायुमंडल की संरचना के बारे में वर्णन कर सकेंगे|
  5. विद्यार्थी वायुमंडल की परतों को चार्ट द्वारा दिखा सकेंगे|
  6. विद्यार्थी वायुमंडल को परिभाषित कर सकेंगे|

सामान्य सहायक शिक्षण सामग्री: चौक, डस्टर, चौक-बोर्ड, संकेतक आदि|

अनुदेशनात्मक सामग्री:वायुमंडल को दर्शाता चार्ट

पूर्व ज्ञान परिकल्पना: छात्र अध्यापिका विद्यार्थियों के ज्ञान का यह अनुमान लगाकर चलती है, कि विद्यार्थियों को वायुमंडल के बारे में सामान्य जानकारी होगी|

पूर्व ज्ञान परीक्षण:छात्र अध्यापिका विद्यार्थियों के पूर्व ज्ञान हेतु निम्नलिखित प्रश्न पूछेंगी|

छात्र अध्यापिका क्रियाएं:छात्र क्रियाएं:
हमें सांस लेने के लिए क्या चाहिए? वायु
हमारे आसपास के आवरण की चादर को क्या कहा जाता है?वायुमंडल
वायुमंडल की संरचना तथा संगठन किस प्रकार का है?समस्यात्मक प्रश्न

उपविषय की घोषणा:छात्रों के अंतिम प्रश्न का संतोषजनक उत्तर ना मिलने पर छात्र अध्यापिका उप विषय की घोषणा करेंगी, कि अच्छा बच्चों आज हम वायुमंडल के बारे में पढ़ेंगे|

प्रस्तुतीकरण:छात्र अध्यापिका व्याख्यान विधि व चार्ट के माध्यम से कक्षा में अपना पाठ प्रस्तुत करेंगी|

शिक्षण बिंदु:छात्र अध्यापिका क्रियाएं:छात्र क्रियाएं:चॉक बोर्ड कार्य:
वायुमंडल का संघटनछात्र अध्यापक कथन:बच्चों आपको पता है कि जिस वायु का उपयोग हम सांस लेने में करते हैं, वास्तव में वह अनेक गैसों का मिश्रण है नाइट्रोजन, ऑक्सीजन जैसी गैसे हैं, जिनसे वायुमंडल का एक बड़ा भाग बना है| कार्बन डाइऑक्साइड, हीलियम, ऑर्गन, हाइड्रोजन कम मात्रा में पाई जाती है, इसके अलावा वायुमंडल में धूल कण व जल वाष्प भी होता है| नाइट्रोजन वायु में सर्वाधिक पाई जाने वाली गैसे हैं| मनुष्य तथा अन्य जीव सांस लेने के लिए वायुमंडल से ऑक्सीजन प्राप्त करते हैं, हरे पादप प्रकाश संश्लेषण द्वारा ऑक्सीजन उत्पन्न करते हैं, हमारे पौधे अपने भोजन के रूप में कार्बन डाइऑक्साइड का प्रयोग करते हैं| मनुष्य तथा पशु कार्बन डाइऑक्साइड को श्वास द्वारा बाहर निकालते हैं और O2 को लेते हैं, जिससे वायुमंडल का संतुलन बना रहता है|

प्रश्न – वायुमंडल में कौन-कौन सी परते हैं?

बच्चे ध्यान पूर्वक सुनेगे|

विद्यार्थी कॉपी में लिखेंगे

पांच परते है|

1. क्षोभमंडल

2. समताप मंडल मध्यमंडल

3. बाह्य मंडल ( आयन मंडल )

4. बहिर्मंडल

वायुमंडल की संरचनाछात्राध्यापक कथन: हमारा वायुमंडल पांच परतो में विभाजित है, जो पृथ्वी की सतह से आरंभ होती है, यह परते हैं – क्षोभमंडल, समताप मंडल, मध्यमंडल, बाह्य मंडल ( आयन मंडल ) बहिर्मंडल|

मौसम की लगभग सभी घटनाएं वर्षा, कोहरे आदि क्षोभमंडल में ही होती हैं| समताप मंडल बादलों का मौसम संबंधी सभी घटनाओं से मुक्त होता है, इसमें ही ओजोन परत पाई जाती है| रेडियो संचार के लिए आयन मंडल का प्रयोग होता है बहिर्मंडल में वायु की पतली परत होती है|

विद्यार्थी कॉपी में लिखेंगे
वायुदाबबच्चों पृथ्वी की सतह पर वायु द्वारा डाले गए भार को वायुदाब कहा जाता है |वायु हमेशा उच्च दाब क्षेत्र से निम्न दाब की ओर चलती है | जैसे भूमध्य से ध्रुव की ओर| उच्च वायुदाब से निम्न वायुदाब की ओर वालों की गति को पवन कहा जाता है यह पवन तीन प्रकार की होती हैं:

1. स्थाई पवने

2. मौसमी पवने

3. स्थानीय पवने

विद्यार्थी कॉपी में लिखेंगे|वायु हमेशा उच्च दाब क्षेत्र से निम्न दाब की ओर चलती है|

सामान्यीकरण:छात्र अध्यापिका सामान्यीकरण करती है, कि विद्यार्थियों को वायुमंडल की संरचना संगठन के बारे में समझ आ गया होगा|

पुनरावृति:

  • वायुमंडल के बारे में बताओ?
  • वायुमंडल में कितनी परते हैं?
  • पवने दाब से किस तरह चलती हैं?
  • पवनों के कितने प्रकार हैं ?
  • वायुदाब क्या है?

गृहकार्य:

  1. वायुमंडल के संगठन के बारे में बताइए ?
  2. वायुमंडल की संरचना का विस्तार से वर्णन करो ?
  3. हमारे वायुमंडल की प्रमुख गैसों के नाम बताइए ?


Further Reference:
https://www.learningclassesonline.com/ - Social Studies Lesson Plans in Hindi Social Science Lesson Plans in Hindi for B.Ed

यह सामाजिक अध्ययन के भूगोल का जल चक्र का लेसन प्लान (पाठ योजना )कक्षा पांचवी से दसवीं तक के शिक्षकों के लिए है, और साथ ही साथ D.Ed, B.ed और बीटीसी के सभी समेस्टर में पढ़ रहे छात्रों के लिए है

लेसन प्लान का संक्षिप्त विवरण :

  • Class : 5th 6th 7th 8th 9th and 10th
  • Subject : Social Science - Geography
  • Topic : जल चक्र - बादलो का बनना , बादलो का पानी, वर्षा , पृथ्वी पर जल , लवण एवं अलवण जल
  • Type : Mega Teaching and Real Teaching Lesson Plan


Note: निचे दी गयी सामाजिक विज्ञान पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिससे आपको Lesson Plan बनाने का Idea मिलता है| आप खुद की कल्पना शक्ति और प्रतिभा से इसे और बेहतर बना सकते है| और साथ ही साथ कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके इसे आप अपनी सुविधा के अनुसार इस्तेमाल कर सकते है|

जल चक्र - लेसन प्लान सामाजिक विज्ञान,Jal Chakra Lesson Plan in Hindi for Geography | जल चक्र पाठ योजना,Jal Chakra Lesson Plan,	Jal Chakra Lesson Plan For B.Ed,Jal Chakra Lesson Plan For D.El.ED,	Jal Chakra Lesson Plan In Hindi,Jal Chakra Lesson Plan PDF,Jal Chakra Lesson Plan PDF Download,Jal Chakra Lesson Plan PDF Download,Jal Chakra Path Yojana,जल चक्र पाठ योजन,Social Science Lesson Plan,Geography Lesson Plan

Real School Teaching Jal Chakra Lesson Plan in Hindi for Geography Teaching For B.Ed 1st Year, 2nd Year and DELED - जल चक्र पाठ योजना

Date : Duration Of The Peroid :
Pupils Teacher Name :Pupil Teacher Roll Number :
Class :Average Age Of the Pupils :
Subject :Topic :

विषय वस्तु विश्लेषण:

  1. बादलों का बनना
  2. बादलों में पानी
  3. वर्षा होना
  4. पृथ्वी पर जल
  5. अलवण और लवणीय जल
  6. जल चक्र

सामान्य उद्देश्य:

  1. विद्यार्थियों में सामाजिक अध्ययन के बारे में चिंतन व तर्क को बढ़ाना|
  2. विद्यार्थियों में सामाजिक अध्ययन के विषय में रुचि उत्पन्न करना|
  3. विद्यार्थियों में सामाजिक अध्ययन के प्रति वैज्ञानिक दृष्टिकोण का विकास करना|
  4. विद्यार्थियों के जीवन पर सामाजिक अध्ययन के प्रभाव को समझना|

अनुदेशनात्मक उद्देश्य:

  1. विद्यार्थियों को जल चक्र का ज्ञान हो जाएगा|
  2. विद्यार्थी जलचक्र के प्रति सचेत हो जाएंगे|
  3. विद्यार्थी जल चक्र के महत्व को समझ पाएंगे|
  4. विद्यार्थी जल चक्र को अपने दैनिक जीवन में अपनाएं|
  5. विद्यार्थी जल चक्र की सूची को समझने में समर्थ हो जाएंगे|
  6. विद्यार्थी जल चक्र की सूची की पहचान कर सकेंगे|

सामान्य सहायक शिक्षण सामग्री: चौक, डस्टर, चौक-बोर्ड, संकेतक आदि|

अनुदेशनात्मक सामग्री:जलचक्र को दर्शाता हुआ चार्ट|

पूर्व ज्ञान परिकल्पना: छात्र-अध्यापिका विद्यार्थियों के ज्ञान का यह अनुमान लगाकर चलती है, कि विद्यार्थियों को जलचक्र के बारे में सामान्य जानकारी होगी|

पूर्व ज्ञान परीक्षण:छात्र-अध्यापिका विद्यार्थियों के पूर्व ज्ञान हेतु निम्नलिखित प्रश्न पूछेंगी|

छात्र-अध्यापिका क्रियाएं:छात्र क्रियाएं:
प्रश्न 1. जल हमारे किस-किस काम आता है?जल हमारे पीने, नहाने, खाने व धोने के काम आता है|
प्रश्न 2. पीने, नहाने, खाने व धोने के लिए जल कहां से प्राप्त होता है?नदियों, तालाबों , नलकूपों, झरनों ,से प्राप्त होता है|
प्रश्न 3. सबसे अधिक जल कहां से प्राप्त होता है?सबसे अधिक जल वर्षा से प्राप्त होता है|
प्रश्न 4. वर्षा कैसे होती है?वर्षा बादलों से होती है|
प्रश्न 5. बादलों में पानी कहां से आता है?समस्यात्मक प्रश्न

उपविषय की घोषणा:छात्रों के अंतिम प्रश्न का संतोषजनक उत्तर ना मिलने पर छात्र-अध्यापिका उप-विषय की घोषणा करेंगी, कि अच्छा बच्चों आज हम जलचक्र के बारे में पढ़ेंगे|

प्रस्तुतीकरण:छात्र-अध्यापिका व्याख्यान विधि व चार्ट के माध्यम से कक्षा में अपना पाठ प्रस्तुत करेंगी|

शिक्षण बिंदु:छात्र-अध्यापिका क्रियाएं:छात्र क्रियाएं:चॉक बोर्ड कार्य:
बादलों में पानी छात्र-अध्यापिका कथन:

छात्र-अध्यापिका कक्षा में आगे से पीछे की ओर घूमते हुए विद्यार्थियों को बताएंगी कि सूर्य के ताप के कारण जल वाष्पित हो जाता है, जो ठंडा होने पर जलवायु संघनित होकर बादलों का रूप ले लेता है| इस प्रकार संघनित जल वाष्पित हो जाता है|

छात्र-अध्यापिका बच्चों से प्रश्न पूछेंगी, कि बादल कैसे बनते हैं

छात्र ध्यान पूर्वक सुनेगे|

विद्यार्थी उत्तर देने में असमर्थ होंगे|

बादलों का बनना छात्र-अध्यापिका कथन:- सूर्य की गर्मी या ताप के कारण जल वाष्पित होने पर ठंडा होकर जलवाष्प संगठित होकर बादलों का रूप ले लेता है उसे ही बादलों का बनना कहते हैं|छात्र अपनी कॉपी में लिखेंगे|
वर्षा छात्र-अध्यापिका चौक-बोर्ड पर लिखते हुए विद्यार्थियों को बताएंगे कि वाष्पित जल संगठित होकर बादलों का रूप ले लेता है, यह वर्षा अथवा वृष्टि के रूप में धरती या समुद्र पर नीचे गिरता है जिसे वर्षा कहते हैं| पृथ्वी का यही जल इकट्ठा होता है|
पृथ्वी पर जलछात्र-अध्यापिका क्रियाएं: पृथ्वी का लगभग 3/4 भाग जल से ढका हुआ है|छात्र ध्यान पूर्वक सुनेगे|पृथ्वी का लगभग 3/4 भाग जल से ढका हुआ है|
अलवण और लवणीय जल छात्र-अध्यापिका कक्षा में आगे से पीछे की ओर घूमते हुए प्रश्न पूछेंगी|

प्रश्न – अलवण और लवणीय जल कहाँ पाया जाता है|

छात्र-अध्यापिका कथन: अलवण जल – तालाबों, नदी, भूमिगत जल धारा एवं हिमनद से प्राप्त होता है|

लवणीय जल: महासागरों एवं समुद्र से लवणीय जल प्राप्त होता है|

छात्र उत्तर देने में सक्षम नहीं होंगे|अलवण जल:तालाबों, नदी, भूमिगत जल धारा एवं हिमनद से प्राप्त होता है|

लवणीय जल: महासागरों एवं समुद्र से लवणीय जल प्राप्त होता है|

जल चक्रछात्र-अध्यापिका कथन:: विद्यार्थियों को बताएंगे कि जिस प्रक्रम में जल लगातार अपने स्वरूप को बदलता रहता है, और महासागरों वायुमंडल एवं धरती के बीच चक्कर लगाता है तथा पुनः प्रयोग में लाने के बाद फिर से दोबारा अपना चक्कर पूरा करता है, उसे जलचक्र कहते हैं|जलचक्र:जो महासागरों वायुमंडल एवं धरती के बीच चक्कर लगाता है उसे जलचक्र कहते हैं|

सामान्यीकरण: ऐसा सामान्यीकरण छात्र-अध्यापिका द्वारा किया जाता है, कि विद्यार्थियों को जल चक्र के बारे में जानकारी हो गई होगी|

पुनरावृत्ति:

  1. बादल कैसे बनते हैं?
  2. वर्षा कैसे होती है?
  3. जल चक्र किसे कहते हैं?

गृहकार्य:

  1. बादलों में पानी कहां से आता है?
  2. लवणीय जल किसे कहते हैं और लवणीय जल के कुछ स्त्रोत बताइए?
  3. जल से क्या अभिप्राय है? इसका हमारे जीवन में क्या महत्व है?


Further Reference:
https://www.learningclassesonline.com/ - Social Studies Lesson Plans in Hindi Social Science Lesson Plans in Hindi for B.Ed

यह सामाजिक विज्ञान एवं सामाजिक अध्ययन की हिंदी पाठ योजना सौरमंडल और उसके ग्रह (सूर्य, बुध, शुक्र, पृथ्वी, मंगल, बृहस्पति, शनि, अरुण, और वरुण) पर है, जो की भूगोल का अध्याय है यह पाठ योजना कक्षा 4 5 6 7 8 में पढ़ा रहे शिक्षकों और बीटीसी, डीएलएड ,B.Ed के प्रथम और द्वितीय वर्ष के विद्यार्थियों के लिए है, जिसमें आप सामाजिक विज्ञान की पाठ योजनाएं कैसे बनाते हैं वह सीख सकते हैं वह भी बड़ी ही आसानी से|

लेसन प्लान का संक्षिप्त विवरण :

  • Class : 5th to 10th
  • Subject : Social Science - Bhugol (Geography)
  • Topic : सौरमंडल (Solar System) Lesson Plan
  • Type :simulated and Mega Teaching Lesson Plan


Note: निचे दी गयी सामाजिक विज्ञान पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिससे आपको Lesson Plan बनाने का Idea मिलता है| आप खुद की कल्पना शक्ति और प्रतिभा से इसे और बेहतर बना सकते है| और साथ ही साथ कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके इसे आप अपनी सुविधा के अनुसार इस्तेमाल कर सकते है|

SorMandal Lesson Plan in Hindi for Social Science Geography | सौरमंडल पाठ योजना,सौर मंडल Social Studies Lesson Plan in Hindi,सौर मंडल Simulated teaching Social Studies Lesson Plan in Hindi, BTC DELED B.Ed social science lesson plan in hindi free download,Saur Mandal (Solar System) Lesson Plan PDF In Hindi,Saur Mandal Lesson Plan In Hindi PDF Download,SorMandal Lesson Plan in Hindi,Saur Mandal Lesson Plan In Hindi,Saur Mandal (Solar System) Lesson Plan In Hindi : सौरमंडल पाठ योजना ,Saur Mandal Lesson Plan PDF (Solar System Lesson Plan In Hindi)

SorMandal Lesson Plan in Hindi on Simulated and Mega Teaching Skill for Social Science Geography Teaching For B.Ed 1st Year, 2nd Year and DELED - सौरमंडल पाठ योजना - Saur Mandal Lesson Plan

Date : Duration Of The Peroid :
Pupils Teacher Name :Pupil Teacher Roll Number :
Class :Average Age Of the Pupils :
Subject :Topic :

विषय वस्तु विश्लेषण:

  • सूर्य
  • बुध
  • शुक्र
  • पृथ्वी
  • मंगल
  • बृहस्पति
  • शनि
  • अरुण
  • वरुण

सामान्य उद्देश्य:

  1. विद्यार्थियों में सामाजिक अध्ययन के बारे में चिंतन व तर्क को बढ़ाना|
  2. विद्यार्थियों में सामाजिक अध्ययन के विषय में रुचि उत्पन्न करना|
  3. विद्यार्थियों में सामाजिक अध्ययन के प्रति वैज्ञानिक दृष्टिकोण का विकास करना|
  4. विद्यार्थियों के जीवन पर सामाजिक अध्ययन के प्रभाव को समझना|

अनुदेशनात्मक उद्देश्य:

  1. विद्यार्थियों को सौरमंडल संबंधित ज्ञान प्राप्त कराना|
  2. विद्यार्थी सौरमंडल के महत्व को समझ पाएंगे|
  3. विद्यार्थी सौरमंडल के ग्रहों की पहचान पाएंगे|
  4. विद्यार्थी सौरमंडल की व्याख्या कर सकेंगे|
  5. विद्यार्थी सभी ग्रहों को नाम सहित याद कर सकेंगे|

सामान्य सहायक शिक्षण सामग्री: चौक, डस्टर, चौक-बोर्ड, संकेतक आदि|

अनुदेशनात्मक सामग्री:सौरमंडल को दर्शाता हुआ चार्ट|

पूर्व ज्ञान परिकल्पना: छात्र-अध्यापिका विद्यार्थियों के ज्ञान का यह अनुमान लगाकर चलती है कि विद्यार्थियों को सौरमंडल के बारे में सामान्य जानकारी होगी|

पूर्व ज्ञान परीक्षण:छात्र-अध्यापिका विद्यार्थियों के पूर्व ज्ञान हेतु निम्नलिखित प्रश्न पूछेंगी|

छात्र-अध्यापिका क्रियाएं:छात्र क्रियाएं:
प्रश्न 1. हम सब किस ग्रह पर रहते हैं?पृथ्वी
प्रश्न 2. पृथ्वी किस आकाशगंगा का हिस्सा है?मिल्की वे
प्रश्न 3. क्या हमारी पृथ्वी के अलावा और भी ग्रह हैं? अगर हां तो कितने?हां आठ ग्रह हैं| कुल पृथ्वी को मिलाकर
प्रश्न 4. क्या आपको पता है कि सौरमंडल किसे कहते हैं?समस्यात्मक प्रश्न

उपविषय की घोषणा:छात्रों के अंतिम प्रश्न का संतोषजनक उत्तर ना मिलने पर छात्र-अध्यापिका उप-विषय की घोषणा करेंगी, कि अच्छा बच्चों आज हम सौरमंडल के बारे में पढ़ेंगे|

प्रस्तुतीकरण:छात्र-अध्यापिका व्याख्यान विधि व चार्ट के माध्यम से कक्षा में अपना पाठ प्रस्तुत करेंगी|

शिक्षण बिंदु:छात्र-अध्यापिका क्रियाएं:छात्र क्रियाएं:चॉक बोर्ड कार्य:
सौरमंडल छात्र-अध्यापिका कथन: छात्र-अध्यापिका कक्षा कक्ष में घूमते हुए विद्यार्थियों को बताएंगे, कि सौरमंडल में सूर्य और खगोलीय पिंड सम्मिलित हैं, जो कि एक दूसरे के साथ गुरुत्वाकर्षण बल के द्वारा बंधे हुए हैं, इसे ही सौरमंडल कहते हैं|छात्र ध्यान पूर्वक सुनेंगे
सूर्य सूर्य सौरमंडल के केंद्र में स्थित है| इसके चारों तरफ पृथ्वी और अन्य ग्रह घूमते हैं| सूर्य सबसे बड़ा पिंड है, इसका व्यास लगभग 13 लाख 90 हजार किलोमीटर है| यह पृथ्वी से लगभग 109 गुना अधिक है| इसमें मुख्य रूप से हाइड्रोजन, हिलियम गैस विद्यमान है, यह ऊर्जा का शक्तिशाली भंडार है|छात्र मुख्य बातें अपनी कॉपी में नोट करेंगे|सूर्य का व्यास लगभग 13 लाख 90 हजार किलोमीटर है| यह पृथ्वी से लगभग 109 गुना अधिक है|
बुध ग्रहछात्र-अध्यापिका कक्षा कक्ष में एक छात्र को खड़ा करके पूछेंगी कि सूर्य के सबसे निकट बुध होता है सौरमंडल का सबसे ऊंचा पर्वत ओलंपस मंगल ग्रह पर ही है|छात्र ध्यान पूर्वक सुनेंगे|सबसे छोटा ग्रह
ब्रहस्पति ग्रहयह सौरमंडल का सबसे बड़ा ग्रह है, यह एक गैस दानव है और एक गैसीय ग्रह है इसका नाम जुपिटर भी है जो कि रोमन देवता के नाम पर पड़ा था|
शनि ग्रह शनि ग्रह के 60 उपग्रह हैं इनमें टाइटन सबसे बड़ा उपग्रह है गैलीलियो गैलीली ने 1610 ईस्वी में दूरबीन से इसकी खोज की| इसमें ज्यादा मात्रा में हाइड्रोजन और हीलियम गैसे हैं और इसे भी गैस दानव कहते हैं|60 उपग्रह

टाइटन सबसे बड़ा उपग्रह है| गैलीलियो गैलीली ने 1610 ईस्वी में

अरुण ग्रह यह पृथ्वी से काफी बड़ा होने के बाद भी पृथ्वी से लगभग 14 गुना ही ज्यादा भारी है, क्योंकि इसमें ठोस पदार्थों की मात्रा कम है|14 गुना ज्यादा भारी है|
वरुण ग्रहवरुण ग्रह आकार में थोड़ा बड़ा है यह भी एक गैसीय ग्रह है|

सामान्यीकरण: ऐसा सामान्यीकरण छात्र-अध्यापिका द्वारा किया जाता है, कि विद्यार्थियों को सौरमंडल के बारे में जानकारी हो गई होगी|

पुनरावृति:

  • सौर मंडल में कितने ग्रह हैं|
  • सबसे बड़ा ग्रह कौन सा है|
  • सबसे बड़ा ऊर्जा का स्त्रोत क्या है|

गृहकार्य:

  1. सौर मंडल के विभिन्न ग्रहों के नाम लिखो?
  2. सौर मंडल के सभी ग्रहों की विस्तार से व्याख्या करो?


Further Reference:
https://www.learningclassesonline.com/ - Social Studies Lesson Plans in Hindi Social Science Lesson Plans in Hindi for B.Ed

कक्षा 4 5 6 7 8 9 10 के लिए सामाजिक अध्ययन एवं सामाजिक विज्ञान के भूगोल का पृथ्वी के प्रमुख परिमंडल पर पाठ योजना B.Ed, BTC, D El Ed और स्कूल के शिक्षकों के लिए|

लेसन प्लान का संक्षिप्त विवरण :

  • Class : 6th to 10th
  • Subject : Social Science - Geography
  • Topic : पृथ्वी के प्रमुख परिमंडल
  • Type : Simulated Teaching Lesson


Note: निचे दी गयी सामाजिक विज्ञान पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिससे आपको Lesson Plan बनाने का Idea मिलता है| आप खुद की कल्पना शक्ति और प्रतिभा से इसे और बेहतर बना सकते है| और साथ ही साथ कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके इसे आप अपनी सुविधा के अनुसार इस्तेमाल कर सकते है|

Prithvi Ke Pramukh Parimandal Lesson Plan for Geography in Hindi | पृथ्वी के प्रमुख परिमंडल पाठ योजना,पृथ्वी के प्रमुख परिमंडल Social Studies Lesson Plan in Hindi,Prithvi Ke Pramukh Parimandal Lesson Plan : पृथ्वी के प्रमुख परिमंडल की पाठ योजना,Prithvi Ke Pramukh Parimandal का Lesson Plan ,पृथ्वी के प्रमुख परिमंडल Simulated Teaching Social Studies Lesson Plan in Hindi, social science lesson plan in hindi, sst lesson plan in hindi,Prithvi Ke Pramukh Parimandal Lesson Plan PDF In Hindi Download,Prithvi Ke Pramukh Parimandal Lesson Plan,Prithvi Ke Pramukh Parimandal Lesson Plan

Prithvi Ke Pramukh Parimandal Simulated Teaching Lesson Plan for Geography In Hindi For B.Ed 1st Year, 2nd Year and DELED - पृथ्वी के परिमंडल पाठ योजना

Date : Duration Of The Period :
Pupils Teacher Name :Pupil-Teacher Roll Number :
Class :Average Age Of the Pupils :
Subject :Topic :

विषय वस्तु विश्लेषण:

  • स्थलमंडल
  • जलमंडल
  • वायुमंडल
  • जैवमंडल

सामान्य उद्देश्य:

  1. विद्यार्थियों में सामाजिक अध्ययन के बारे में चिंतन व तर्क को बढ़ाना|
  2. विद्यार्थियों में सामाजिक अध्ययन के विषय में रुचि उत्पन्न करना|
  3. विद्यार्थियों में सामाजिक अध्ययन के प्रति वैज्ञानिक दृष्टिकोण का विकास करना|
  4. विद्यार्थियों के जीवन पर सामाजिक अध्ययन के प्रभाव को समझना|

अनुदेशनात्मक उद्देश्य:

  • विद्यार्थी पृथ्वी के प्रमुख परिमंडलओ को परिभाषित करना सीख जाएंगे|
  • विद्यार्थी पृथ्वी के प्रमुख परिमंडलओं के विषय में प्रत्यास्मरण सीख जाएंगे|
  • विद्यार्थी पृथ्वी के प्रमुख परिमंडलओं के बारे में व्याख्या करना सीख जाएंगे|
  • विद्यार्थी पृथ्वी के परिमंडलओं की पहचान कर सकेंगे|
  • विद्यार्थी पृथ्वी के प्रमुख परिमंडलओं की सूची को समझने में समर्थ हो जाएंगे|
  • विद्यार्थी पृथ्वी के सभी परिमंडलओं का प्रयोग करना भी सीख जाएंगे|

सामान्य सहायक शिक्षण सामग्री: चौक, डस्टर, चौक-बोर्ड, संकेतक आदि

अनुदेशनात्मक उद्देश्य:पृथ्वी के प्रमुख परिमंडलओं को दर्शाता हुआ चार्ट|

पूर्व ज्ञान परिकल्पना: छात्र अध्यापिका विद्यार्थियों के ज्ञान का यह अनुमान लगाकर चलती है, कि विद्यार्थियों को पृथ्वी के बारे में सामान्य जानकारी होगी|

पूर्व ज्ञान परीक्षण:छात्र अध्यापिका विद्यार्थियों के पूर्व ज्ञान हेतु निम्नलिखित प्रश्न पूछेंगी|

छात्र अध्यापिका क्रियाएं:छात्र क्रियाएं:
प्रश्न 1. सांस लेने के लिए हमें क्या चाहिए?सांस लेने के लिए हमें ऑक्सीजन चाहिए|
प्रश्न 2. ऑक्सीजन हमें कहां से प्राप्त होती है?ऑक्सीजन हमें वायु से मिलती है|
प्रश्न 3. वायु क्या है?वायु विभिन्न गैसों का मिश्रण है|
प्रश्न 4. यह गैसे कहां पाई जाती हैं?यह सभी गैसे वायुमंडल में पाई जाती हैं|
प्रश्न 5. वायुमंडल किसे कहते हैं?वह आवरण जो हमारी पृथ्वी को चारों ओर से घेरे हुए हैं|
प्रश्न 6. पृथ्वी के प्रमुख परिमंडल कौन-कौन से हैं?समस्यात्मक प्रश्न

उपविषय की घोषणा:छात्रों के अंतिम प्रश्न का संतोषजनक उत्तर ना मिलने पर छात्र-अध्यापिका उप-विषय की घोषणा करेंगी, कि अच्छा बच्चों आज हम पृथ्वी के प्रमुख परिमंडलओं के बारे में पढ़ेंगे|

प्रस्तुतीकरण:छात्र अध्यापिका व्याख्यान विधि व चार्ट के माध्यम से कक्षा में अपना पाठ प्रस्तुत करेंगी|

शिक्षण बिंदु:छात्र अध्यापिका क्रियाएं:छात्र क्रियाएं:चॉक बोर्ड:
पृथ्वी पर जीवन का प्रारंभ छात्र-अध्यापिका कक्षा कक्ष में घूमते हुए विद्यार्थियों को बताएगी, कि हमारी पृथ्वी ही एक ऐसा ग्रह है जिस पर पूर्ण रूप से जीवन संभव है, पृथ्वी के लगभग सभी भागों में जीवन पाया जाता है जैसे कि जल, थल, वायु इत्यादि पृथ्वी पर सबसे पहले जल में जीवन प्रारंभ हुआ था|छात्र ध्यान पूर्वक सुनेंगेपृथ्वी पर जीवन का प्रारंभ जल, थल, वायु

1. स्थलमंडल

2. जलमंडल

3. वायुमंडल

4. जैवमंडल

पृथ्वी के परिमंडल छात्र अध्यापिका चॉक बोर्ड पर लिखकर छात्रों को बताएंगी कि पृथ्वी के चार परिमंडल है:

1. स्थलमंडल

2. जलमंडल

3. वायुमंडल

4. जैवमंडल

वायुमंडलछात्र अध्यापिका कक्षा कक्ष में एक छात्र को खड़ा करके पूछेगी कि वायुमंडल किसे कहते हैं?

छात्र अध्यापिका कथन: वह आवरण जो हमारी पृथ्वी को चारों ओर से घेरे हुए हैं, वायुमंडल कहलाता है| यह पृथ्वी के धरातल पर 1600 किलोमीटर की ऊंचाई तक फैला है|

प्रथ्वी के चारो ओर के आवरण को वायुमंडल कहते है|वायुमंडल 1600 किलोमीटर तक है|
स्‍थलमंडल किसे कहते हैं?छात्र अध्यापिका कक्षा कक्ष में एक छात्र को खड़ा करके पूछेगी कि स्‍थलमंडल किसे कहते हैं?

छात्र अध्यापिका कथन:

पृथ्‍वी का वह समस्‍त भू-भाग जो कठोर और नरम शैलों से बना है, स्‍थलमंडल कहलाता है|

जलमंडल किसे कहते हैं?छात्र अध्यापिका कक्षा कक्ष में एक छात्र को खड़ा करके पूछेगी कि जलमंडल किसे कहते हैं?

छात्र अध्यापिका कथन:पृथ्‍वी का वह समस्‍त भाग जो जल से ढका है जलमंडल कहलाता है|

जैव मंडल किसे कहते हैं?छात्र अध्यापिका कक्षा कक्ष में एक छात्र को खड़ा करके पूछेगी कि जैव मंडल किसे कहते हैं?

छात्र अध्यापिका कथन: वायुमंडल, स्थलमंडल तथा जलमंडल यह तीनों जैवमंडल का ही भाग है|

जैव मंडल

सामान्यीकरण: ऐसा सामान्यीकरण छात्र अध्यापिका द्वारा किया जाता है, कि विद्यार्थियों को पृथ्वी के प्रमुख परिमंडलओं के बारे में जानकारी हो गई होगी|

पुनरावृति:

  • पृथ्वी पर कितने परिमंडल है?
  • पृथ्वी का कितना भाग जल से ढका है?
  • सबसे पहले पृथ्वी पर जीवन कहां पर आरंभ हुआ था?
  • पृथ्वी से कितनी ऊंचाई तक वायुमंडल पाया जाता है?

गृह कार्य:

  1. जैव मंडल किसे कहते हैं?
  2. पृथ्वी के प्रमुख परिमंडलओं का विस्तारपूर्वक वर्णन कीजिए?


Further Reference:
https://www.learningclassesonline.com/ - Social Studies Lesson Plans in Hindi Social Science Lesson Plans in Hindi for B.Ed

यह सामाजिक अध्ययन की पाठ योजना उदाहरण सहित दृष्टांत कौशल पर बनाई गई है जिसमें भूगोल के विषय भारत की जलवायु को लिया गया है|

लेसन प्लान का संक्षिप्त विवरण :

  • Class : 6th 7th 8th 9th
  • Subject : Social Science
  • Topic : Bharat Ki Jalvayu Lesson Plan
  • Lesson Plan Type : Micro
  • Skill : उदहारण सहित दृष्टान्त कौशल


Note: निचे दी गयी सामाजिक विज्ञान पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिससे आपको Lesson Plan बनाने का Idea मिलता है| आप खुद की कल्पना शक्ति और प्रतिभा से इसे और बेहतर बना सकते है| और साथ ही साथ कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके इसे आप अपनी सुविधा के अनुसार इस्तेमाल कर सकते है|

Bharat Ki Jalvayu Social Science Lesson Plan in Hindi| भारत की जलवायु पाठ योजना - उदहारण सहित दृष्टान्त कौशल, उदहारण सहित दृष्टान्त कौशल ( भारत की जलवायु ) Social Studies Lesson Plan in Hindi,Social Science Lesson Plan,	Bharat Ki Jalvayu Lesson Plan PDF Download,Bharat Ki Jalvayu Ka Lesson Plan,Bharat Ki Jalvayu Lesson Plan PDF Download,Bharat Ki Jalvayu Path Yojna,भारत की जलवायु पाठ योजना, Bharat Ki Jalvayu Lesson Plan For B.Ed and D.El.Ed

Bharat Ki Jalvayu Social Science Lesson Plan in Hindi on उदहारण सहित दृष्टान्त कौशल For B.Ed 1st Year, 2nd Year and DELED - भारत की जलवायु पाठ योजना

Date : Duration Of The Peroid :
Pupils Teacher Name :Pupil Teacher Roll Number :
Class :Average Age Of the Pupils :
Subject :Topic :

उदाहरण सहित दृष्टांत कौशल सामाजिक अध्ययन लेसन प्लान

छात्र-अध्यापिका क्रियाएं:

छात्र क्रियाएं:

बच्चों आप सभी को पता है, कि सभी देशों में एक जैसी जलवायु नहीं पाई जाती है, और आप सभी ने देखा ही होगा कि हमारे देश भारत में पूरा वर्ष भर एक समान जलवायु नहीं रहती, हमेशा मौसम बदलता रहता है जैसे कि, कभी शीत ऋतु नवंबर मध्य से मार्च तक फिर ग्रीष्म ऋतु मार्च से जो इसमें तापमान उच्च तथा कम आद्रता होती है फिर वर्षा ऋतु में इसमें दक्षिणी पश्चिमी मानसून के आगमन के साथ मध्य जून से आरंभ होकर मध्य सितंबर तक चलती है, इसके बाद शरद ऋतु, यह मध्य सितंबर से मध्य नवंबर तक तथा इसे मानसून प्रत्यावर्तन अर्थात मानसून के लौटने की ऋतु भी कहते हैं| छात्र ध्यान से सुनेंगे|
1. उपरोक्त वर्णन में कुल कितनी ऋतु का वर्णन किया गया है?

"सरल उदाहरण"

शीत ऋतु, वर्षा ऋतु, ग्रीष्म ऋतु, शरद ऋतु
2. शीत ऋतु कब से कब तक होती है?

"रोचक उदाहरण"

नवंबर के मध्य से मार्च तक
3. शीत ऋतु के बाद कौन सी ऋतु आती है?

"उपागम की उपयुक्तता व उदाहरण की संबद्धता"

ग्रीष्म ऋतु
4. आप सभी को कक्षा में यह भी बताया गया है, कि ये ऋतु हमेशा बदलती रहती हैं? ऐसा क्यों होता है?

"माध्यमों की उपयुक्तता"

समुद्र से दूरी, मानसून पवने, जलधाराएं, ऊपरी वायु परिसंचरण, अक्षांशीय व देशांतरीय विस्तार तथा स्थिति के कारण
क्या आपको पता है कि हमारे देश भारत की जलवायु कैसी है, और इस जलवायु को प्रभावित करने वाला वाले कारक कौन-कौन से हैं?

निरीक्षण तालिका:

टेलियाँ:घटक:रेटिंग स्केल:
||सरल उदाहरण0 1 2 3 4 5 6
|रोचक उदाहरण0 1 2 3 4 5 6
|उपागम की उपयुक्तता0 1 2 3 4 5 6
|उदाहरण की संबद्धता0 1 2 3 4 5 6
|"माध्यमों की उपयुक्तता"0 1 2 3 4 5 6


Further Reference:
https://www.learningclassesonline.com/ - Social Studies Lesson Plans in Hindi Social Science Lesson Plans in Hindi for B.Ed
Mrida Mitti Ka Vargikaran Lesson Plan In Hindi : मृदा/ मिट्टी का वर्गीकरण पाठ योजना | Mitti Ka Vargikaran Social Science Geography Lesson Plan in Hindi on Micro Teaching Skill of Stimulus Variation ( Uddipan Parivartan Kaushal Social Science Lesson Plan on Mitti Ka Vargikaran ) - Classification of Soil | उद्दीपन परिवर्तन कौशल ( मृदा / मिट्टी का वर्गीकरण ) - Micro Teaching Social Studies B.Ed Lesson Plan in Hindi, B.Ed BTC DELED social science and social studies lesson plans hind

Mrida Mitti Ka Vargikaran Lesson Plan In Hindi : मृदा/ मिट्टी का वर्गीकरण पाठ योजना | Mitti Ka Vargikaran Social Science Geography Lesson Plan in Hindi on Micro Teaching Skill of Stimulus Variation ( Uddipan Parivartan Kaushal Social Science Lesson Plan on Mitti Ka Vargikaran ) - Classification of Soil

भारत देश में विभिन्न प्रकार की मिट्टी पाई जाती है| यहां की मिट्टी का सर्वेक्षण और जांच कई सरकारी और गैर सरकारी संगठनों ने किया है | भारत देश में मुख्यता पांच प्रकार की मिट्टी पाई जाती है | जलोढ़ मिट्टी, काली मिट्टी, लाल मिट्टी, लेटराइट मिट्टी ( बलुई मिट्टी ), रेतीली मिट्टी |

जलोढ़ मिट्टी – इस मिट्टी को दोमट मिट्टी के नाम से भी जानते हैं | यह जलोढ़ मिट्टी नदियों द्वारा लाई जाती है | यह  मिट्टी देश के पूरे उत्तरी मैदान में होती है | यह बहुत उपजाऊ होती है | उत्तरी भारत में जलोढ़ मिट्टी ही पाई जाती है |  

विशेषताएं – 

  • इस मिट्टी में खाद भरपूर मात्रा में होता है | जिसकी वजह से यह बहुत उपजाऊ होती है | 
  • यह मिट्टी नदियों के द्वारा जमा हुए तलछट से बनती है |
  •  इस मिट्टी का हर साल नवीनीकरण होता है |
  •  इस मिट्टी में चावल, गेहूं ,गन्ना आदि फसलें उगाई जा सकती हैं |

काली मिट्टी –  काली मिट्टी नमी को बनाए रखता है | यह दक्कन लावा मार्ग पर इकट्ठा होती है | यह महाराष्ट्र, गुजरात, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु के कुछ हिस्सों में होती है | इसमें चुना, मैग्नीशियम, लौह जैसे कई तत्व होते हैं| इसमें पोटाश बहुत कम मात्रा में होता है | इस मिट्टी में कपास की खेती बहुत अच्छी होती है |

लाल मिट्टी – लाल मिट्टी चट्टानों की कटी हुई मिट्टी होती है | यह मिट्टी ज्यादातर दक्षिण भारत में ज्यादा पाई जाती है | लाल मिट्टी के क्षेत्र महाराष्ट्र के दक्षिणी भाग में, मद्रास, आंध्र, मैसूर, मध्य प्रदेश के पूर्वी भाग में, उड़ीसा, झारखंड और पश्चिम बंगाल तक फैले हुए हैं |

विशेषताएं  –

  • यह मिट्टी दक्कन पठार की प्राचीन मैटमार्फ़िक चट्टानों के अपक्षय से बनती है | 
  • इस मिट्टी में पाया जाने वाला लाल रंग  इसमें मौजूद लौह तत्व के कारण होता है |जब इसकी मात्रा कम होती है तो इस कारण पीले से  भूरे रंग का होता है |
  • लाल मिट्टी तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, उड़ीसा इन हिस्सों में पाई जाती है | इस मिट्टी में गेहूं, चावल, दाल, तिलहन, कपास की खेती की जाती है |

लेटराइट मिट्टी – लेटराइट मिट्टी  दक्षिणी प्रायद्वीप के दक्षिण पूर्व की ओर अधिक मिलते हैं | यह पतली पट्टी के रूप में पाए जाते हैं | इस मिट्टी  का विस्तार पश्चिम बंगाल से असम तक है |

विशेषताएं  –

  • लेटराइट मिट्टी का निर्माण निक्षालन के कारण होता है |
  • यह पहाड़ियों और  और उनकी चोटियों के बराबर पर अच्छी तरह से विकसित होती है |
  • यह मिट्टी आमतौर पर केरल, छत्तीसगढ़, उड़ीसा, असम की पहाड़ियों पर ज्यादा पाई जाती है |
  • लेटराइट मिट्टी में कॉफी, चाय, नारियल, अखरोट उगाये जाते हैं |

रेतीली मिट्टी – यह मिट्टी थार प्रदेश में पंजाब के दक्षिणी भाग में और राजस्थान के कुछ भागों में मिलती है | यह मिट्टी राजस्थान के रेगिस्तानी क्षेत्रों में ज्यादा पाई जाती है | यह मिट्टी बहुत विकसित और उपजाऊ नहीं होती | इस मिट्टी में नमक की मात्रा बहुत ज्यादा होती है यहां वाष्पीकरण बारिश से ज्यादा होती है, जिसके कारण नमक की मात्रा ज्यादा होती है| यह मिट्टी रेतीली होती है और इसमे जैविक पदार्थों (organic matter) की कमी होती है। इस मिट्टी में गेहूं, बाजरा, मूंगफली आदि उगाया जा सकता है।

लेसन प्लान का संक्षिप्त विवरण :

  • Class : 6th 7th 8th 9th
  • Subject : Social Science
  • Topic : Mitti Ka Varigkaran Lesson Plan
  • Lesson Plan Type : Micro
  • Skill : उद्दीपन परिवर्तन कौशल


Note: निचे दी गयी सामाजिक विज्ञान पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिससे आपको Lesson Plan बनाने का Idea मिलता है| आप खुद की कल्पना शक्ति और प्रतिभा से इसे और बेहतर बना सकते है| और साथ ही साथ कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके इसे आप अपनी सुविधा के अनुसार इस्तेमाल कर सकते है|

Mitti Ka Vargikaran Lessson Plan - उद्दीपन परिवर्तन कौशल

छात्र अध्यापिका क्रियाएं

छात्र क्रियाएं

बच्चों क्या आपको पता है कि भू पृष्ठ  की सबसे ऊपरी परत जिसमें पौधों को उगाया जाता है उसे क्या कहते हैं ?

“कक्षा में चलते हुए”

( संचलन )

 मृदा या मिट्टी

मृदा का निर्माण कैसे होता है ?

“आवाज बदलते हुए”

( स्वर में उतार-चढ़ाव )

मिट्टी वह असंगठित पदार्थों का मिश्रण है जिसमे मूल चट्टान व वनस्पति अंश मिले होते हैं | यह अपक्षय व अपरदन के कारण चट्टानों के टूटने से उनके चूर्ण से बनता है|

 मृदा के प्रकारों के बारे में आप कुछ बताओ बच्चों ?

“अंतः क्रिया शैलियों में परिवर्तन”

जलोढ़ मिट्टी

काली मिट्टी

लाल मिट्टी

लैटेराइट मिट्टी

 बच्चों जलोढ़ मिट्टी के बारे में आप कुछ बताइए ?

“केंद्रण”

(चार्ट की ओर संकेत करते हुए)

 इसे काँप मिट्टी भी कहते हैं | यह नदियों द्वारा बहाकर लाई जाती है और नदी घाटियों बाढ़ के मैदानों तथा डेल्टाई देशों में पाई जाती है|

 काली मिट्टी में किस फसल को उगाया जाता है ? इसका निर्माण कैसे होता है ?

छात्र अध्यापिका विद्यार्थियों को बोर्ड पर लिखने के लिए बुलाते हैं|

“श्रव्य – दृश्य बदलाव व विद्यार्थियों की शारीरिक सहभागिता”

इसे रेगर कहते हैं | इसमें कपास को उगाते हैं तथा इसका निर्माण ज्वालामुखी विस्फोट से होता है |

लाल मिट्टी का निर्माण कैसे होता है ?

“शाबाश”

इसका निर्माण प्राचीन खेदार तथा रूपांतरित चट्टानों के टूटने से होता है|

लैटेराइट मिट्टी में किस प्रकार के पौधे उगते हैं?

“विराम”

यह कम उपजाऊ होती है, इसलिए इसमें घास वाह झाड़ियां खूब उगते हैं|

निरीक्षण तालिका

टेलियाँ

घटक

रेटिंग स्केल

||

संचलन

0 1 2 3 4 5 6

|

स्वर में उतार-चढ़ाव

0 1 2 3 4 5 6

|

अंतः क्रिया शैलियों में परिवर्तन

0 1 2 3 4 5 6

|

केंद्रण

0 1 2 3 4 5 6

|

श्रव्य – दृश्य बदलाव

0 1 2 3 4 5 6

|

विद्यार्थियों की शारीरिक सहभागिता

0 1 2 3 4 5 6



Further Reference:
https://www.learningclassesonline.com/ - Social Studies Lesson Plans in Hindi Social Science Lesson Plans in Hindi for B.Ed

Mitti Ka Vargikaran Lessson Plan

Mrida Ka Vargikaran Lessson Plan

Mrida Ka Vargikaran Lessson Plan In Hindi

Social Science Lesson Plan in Hindi on Mitti Ka Varigikaran

geography lesson plan in hindi

classification of soil lesson plan in hindi for b.ed

Mrida Mitti Ka Vargikaran Lessson Plan In Hindi : मृदा/ मिट्टी का वर्गीकरण पर लेसन प्लान

Soil (Mrida) का Lesson Plan In Hindi

Classification Of Soil Social Science का Lesson Plan In Hindi 

mitti ka varigikaran path yojna

bhugol path yojna lesson plan mitti ka vargikaran

mitti lesson plan in hindi

mrida lesson plan in hindi

skill of stimulus variation micro teaching lesson plan social science geography in hindi

uddhipan parivartan kaushal samajik vigyan lesson plan


सामाजिक अध्ययन / सामाजिक विज्ञान पाठ योजना (Lesson Plan)

यह सामाजिक विज्ञान की पाठ योजना lesson plan उद्दीपन परिवर्तन कौशल पर बनाई गई है जिसका विषय है मृदा और मिट्टी का वर्गीकरण और इसमें सामाजिक अध्ययन / सामाजिक विज्ञान का माइक्रो टीचिंग स्किल यूज किया गया है Mitti ka vargikaran Social Studies ke bhugol Geography ka Vishay hai.


Brief Overview of Social Science / Social Studies Lesson Plan Topic covered in this post
  • Subject – Social Science / Social Studies सामाजिक अध्ययन / सामाजिक विज्ञानं
  • Skill - उद्दीपन परिवर्तन कौशल ( Stimulus change skills)
  • Type of Lesson Plan - Micro Lesson Plan of Social Studies
  • Topic of Social Studies Lesson Plan – मृदा / मिट्टी का वर्गीकरण ( geography भूगोल )
  • Class - 4 , 5, 6, 7 and 8

Note: निचे दी गयी  सामाजिक विज्ञान पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|

B.Ed BTC DELED social science and social studies lesson plans in hindi



sst lesson plan, sst lesson plan in hindi,



sample lesson plan in social science, social science lesson plan for class 6,


Further Reference:
https://www.learningclassesonline.com/ - Social Studies Lesson Plans in Hindi Social Science Lesson Plans in Hindi for B.Ed

This is the microteaching lesson plan of social science in Hindi on harit kranti and the skill used is prastavana koshal

यह सामाजिक अध्ययन और सामाजिक विज्ञान की पाठ योजना हरित क्रांति विषय पर बनाई गई है, जिसमें समाजिक विज्ञान के माइक्रो टीचिंग स्किल सूक्ष्म पाठ योजना कौशल को बताया गया है, और प्रस्तावना कौशल का इस्तेमाल किया गया है|

लेसन प्लान का संक्षिप्त विवरण :

  • Class : 6th 7th and 8th
  • Subject : Social Science - History
  • Topic : हरित क्रांति (Green Revolution)
  • Type : MicroTeaching Lesson Plan
  • Skill :प्रस्तावना कौशल


Note: निचे दी गयी सामाजिक विज्ञान पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिससे आपको Lesson Plan बनाने का Idea मिलता है| आप खुद की कल्पना शक्ति और प्रतिभा से इसे और बेहतर बना सकते है| और साथ ही साथ कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके इसे आप अपनी सुविधा के अनुसार इस्तेमाल कर सकते है|

प्रस्तावना कौशल ( हरित क्रांति ) Social Studies Lesson Plan in Hindi,Harit Kranti Lesson Plan in Hindi for Social Science | हरित क्रांति पाठ योजना - प्रस्तावना कौशल,Harit Kranti Lesson Plan,Harit Kranti Lesson Plan In Hindi,	Harit Kranti Lesson Plan PDF,Harit Kranti Path Yojana,Harit Kranti Path Yojana PDF,Harit Kranti Lesson Plan For B.Ed and D.El.Ed,हरित क्रांति पाठ योजना,Harit Kranti Path Yojana,Download Harit Kranti Lesson Plan PDF,Green Revolution Lesson Plan in Hindi

Harit Kranti [Green Revolution] Lesson Plan in Hindi for History on प्रस्तावना कौशल For B.Ed 1st Year, 2nd Year and DELED - हरित क्रांति पाठ योजना

Date : Duration Of The Period :
Pupils Teacher Name :Pupil-Teacher Roll Number :
Class :Average Age Of the Pupils :
Subject :The topic :

प्रस्तावना कौशल ( हरित क्रांति ) Social Studies Lesson Plan in Hindi

छात्र-अध्यापिका क्रियाएं:छात्र क्रियाएं:
बच्चों आप हर रोज अपनी भूख को शांत करने के लिए क्या करते हो?

"पूर्व ज्ञान का प्रयोग"

भोजन या खाना खाते हैं|
आप भोजन में क्या-क्या खाते हैं?

"तारतम्यता"

रोटी, चावल, दाल, फल, सब्जियां आदि|
बच्चों आपको पता है कि यह सभी खाद्य पदार्थ हमें कहां से प्राप्त होते हैं?

"पूर्व अनुभव का प्रयोग"

खेतों से किसानों के द्वारा उगाई गई फसलों से|
क्या हमारे देश में उत्पन्न फसलों से ही हमारे देश के लोगों का भरण पोषण पूरा हो जाता है?

"शाबाश"

(शाब्दिक और अशाब्दिक व्यवहार )

छात्र – नहीं

मैडम – फसलें कम मात्रा में उत्पन्न होती हैं|

इस कमी को पूरा करने के लिए हमारे देश को क्या करना पड़ता है?

"उचित क्रमबद्धता"

कम उत्पन्न फसलों को दूसरे देशों से आयात करना पड़ता है|
इस कम उत्पादन का क्या कारण है?

"उचित साधनों का प्रयोग"

(बच्चों के वाक्यों को चौक बोर्ड पर लिखना)

फसलों के रोग, कम उपजाऊ भूमि आधुनिक तकनीकों की कम जानकारी|
सन, 1966 में फलों के गिरते उत्पादन को सुधारने व वृद्धि करने के लिए एक कार्यक्रम शुरू किया गया उसे क्या कहते हैं?

"पूर्व ज्ञान का प्रयोग"

हरित क्रांति
हरित क्रांति के बारे में आप क्या जानते हैं?

निरीक्षण तालिका:

टेलियाँ:घटक:रेटिंग स्केल:
||पूर्व ज्ञान का प्रयोग0 1 2 3 4 5 6
|तारतम्यता0 1 2 3 4 5 6
|पूर्व अनुभव का प्रयोग0 1 2 3 4 5 6
|शाब्दिक और अशाब्दिक व्यवहार0 1 2 3 4 5 6
|उचित क्रमबद्धता0 1 2 3 4 5 6
|उचित साधनों का प्रयोग0 1 2 3 4 5 6


Further Reference:
https://www.learningclassesonline.com/ - Social Studies Lesson Plans in Hindi Social Science Lesson Plans in Hindi for B.Ed

This lesson plan of social studies in Hindi is on Raja Ram Mohan Roy for teachers and B.Ed, DELED and BTC students.

यह सामाजिक अध्ययन की पाठ योजना पुनर्बलन कौशल पर बनाई गई है, जिसमें राजा राममोहन राय का विषय लिया गया है, जो कि हमारे इतिहास हमारे हिस्ट्री में आता है, इसमें इस पाठ योजना में राजा राममोहन राय जी के जीवन के बारे में विस्तार से बताया गया है, जिसे पढ़कर बीएड, बीटीसी ,डीएलएड में पढ़ रहे छात्र छात्राओं को बहुत सहायता मिलेगी और साथ ही साथ स्कूल में पढ़ा रहे हैं अध्यापक अध्यापिकाओं को भी इस का बहुत लाभ होगा|

लेसन प्लान का संक्षिप्त विवरण :

  • Class : 6th 7th 8th 9th and 10th Class
  • Subject : Social Science
  • Topic : राजा राममोहन राय
  • Type : MicroTeaching Lesson Plan
  • Skill : पुनर्बलन कौशल


Note: निचे दी गयी सामाजिक विज्ञान पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिससे आपको Lesson Plan बनाने का Idea मिलता है| आप खुद की कल्पना शक्ति और प्रतिभा से इसे और बेहतर बना सकते है| और साथ ही साथ कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके इसे आप अपनी सुविधा के अनुसार इस्तेमाल कर सकते है|

Raja Ram Mohan Roy Lesson Plan in Hindi For History | राजा राममोहन राय पाठ योजना, पुनर्बलन कौशल ( राजा राम मोहन राय ) Social Studies Lesson Plan in Hindi,Social Science Lesson Plan,	Raja Ram Mohan Roy Ka Lesson Plan,Raja Ram Mohan Roy Lesson Plan,Raja Ram Mohan Roy Lesson Plan For Bed,Raja Ram Mohan Roy Lesson Plan For Deled,Raja Ram Mohan Roy Lesson Plan In Hindi,Raja Ram Mohan Roy Path Yojna,Raja Ram Mohan Roy Lesson Plan In Hindi For Bed/D.El.Ed,RajaRaam Mohan Roy Lesson Plan,Raja Ram Mohan Roy Lesson Plan PDF Download

Raja Ram Mohan Roy Lesson Plan in Hindi for Class 6th to 10th on Micro Teaching Skill - Punarbalan Kaushal For B.Ed 1st Year, 2nd Year and DELED - राजा राममोहन राय पाठ योजना

Date : Duration Of The Peroid :
Pupils Teacher Name :Pupil Teacher Roll Number :
Class :Average Age Of the Pupils :
Subject :Topic :

पुनर्बलन कौशल ( राजा राम मोहन राय ) Social Studies Lesson Plan in Hindi

छात्र-अध्यापिका क्रियाएं:छात्र क्रियाएं:
ब्रह्म समाज के संस्थापक कौन थे?

"शाबाश

( प्रशंसात्मक शब्दों का प्रयोग )

राजा राममोहन राय
राजा राममोहन राय का जन्म कहां और कब हुआ था?बंगाल में, राधा नागौर में 22 मई, 1772 को
इन्हें राजा की उपाधि दी थी?

छात्र अध्यापक कथन:राजा राम मोहन राय को राजा की उपाधि मुगल सम्राट अकबर ने दी थी|

( विद्यार्थियों की अनुक्रियाओं को दोहराना वाले शब्दों में व्यक्त करना )

मुगल सम्राट अकबर ने
राजा राममोहन राय ने ब्रह्म समाज की स्थापना कब की थी?

शाबाश ! बहुत अच्छा

( प्रशंसात्मक शब्दों का प्रयोग )

20 अगस्त, 1828 में
इनके प्रयासों से ही सती प्रथा पर कब और किस अंग्रेज अफसर ने रोक लगाई?

"गर्दन ऊपर नीचे हिलाना"

(धनात्मक अशाब्दिक क्रियाओं का प्रयोग)

4 दिसंबर, 1829 को लॉर्ड बेंटिक ने
राजा राममोहन राय की मृत्यु कब और कहां पर हुई?

“हूँ”

( अतिरिक्त शाब्दिक पुनर्बलन का प्रयोग )

27 सितम्बर, 1835 को ब्रिस्टल में|

निरीक्षण तालिका:

टेलियाँ:घटक:रेटिंग स्केल:
||प्रशंसात्मक शब्दों का प्रयोग0 1 2 3 4 5 6
|विद्यार्थियों की भावनाओं की स्वीकृत कथन0 1 2 3 4 5 6
|विद्यार्थियों की अनुक्रियाओं को दोहराना वाले शब्दों में व्यक्त करना|0 1 2 3 4 5 6
|धनात्मक अशाब्दिक क्रियाओं का प्रयोग0 1 2 3 4 5 6
|अतिरिक्त शाब्दिक पुनर्बलन का प्रयोग0 1 2 3 4 5 6


Further Reference:
https://www.learningclassesonline.com/ - Social Studies Lesson Plans in Hindi Social Science Lesson Plans in Hindi for B.Ed

This is the microteaching lesson plan of social studies/science in Hindi on paryavaran and the skill which has been used is khojpurn prashn koshal

यह सामाजिक अध्ययन की पाठ योजना पर्यावरण विषय पर बनाई गई है, जिसमें सामाजिक विज्ञान का माइक्रो टीचिंग स्किल इस्तेमाल किया गया है, जो कि B.Ed डीएलएड और बीटीसी के छात्र और छात्राओं और स्कूल में पढ़ा रहे अध्यापक और अध्यापिका के लिए बहुत उपयोगी होगा। यह भूगोल का कक्षा 4, 5, 6, 7, 8 का लेसन प्लान है जिसमें खोजपूर्ण प्रश्न कौशल का इस्तेमाल किया गया है|

लेसन प्लान का संक्षिप्त विवरण :

  • Class : 4th 5th 6th 7th 8th and 9th
  • Subject : Social Science - Geography
  • Topic : Paryavaran Lesson Plan (पर्यावरण)
  • Type : Micro Teaching
  • Skill :खोजपूर्ण प्रश्न कौशल


Note: निचे दी गयी सामाजिक विज्ञान पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिससे आपको Lesson Plan बनाने का Idea मिलता है| आप खुद की कल्पना शक्ति और प्रतिभा से इसे और बेहतर बना सकते है| और साथ ही साथ कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके इसे आप अपनी सुविधा के अनुसार इस्तेमाल कर सकते है|

[Environment] Paryavaran Lesson Plan in Hindi for B.Ed |पर्यावरण पाठ योजना, Paryavaran Lesson Plan In Hindi PDF, पर्यावरण पाठ योजना,Environment Lesson Plan In Hindi PDF,Paryavaran Ka Lesson Plan,Paryavaran Lesson Plan,Paryavaran Lesson Plan In Hindi

Suksham Path Yojna Khojpurn Prashan Koshal [Environment] Paryavaran Lesson Plan in Hindi | पर्यावरण पाठ योजना For B.Ed 1st Year, 2nd Year and DELED

Date : Duration Of The Peroid :
Pupils Teacher Name :Pupil Teacher Roll Number :
Class :Average Age Of the Pupils :
Subject :Topic :

खोजपूर्ण प्रश्न कौशल (पर्यावरण) लेसन प्लान सामाजिक विज्ञान

छात्र-अध्यापिका क्रियाएं:छात्र क्रियाएं:घटक:
पर्यावरण से हमारा क्या अभिप्राय है?किसी भी जीवित प्राणी के चारों ओर पाए जाने वाले लोग, स्थान, वस्तुएं प्रकृति को पर्यावरण कहते हैं|व्याकरण संगत
पर्यावरण के कितने घटक है?तीनसंक्षिप्ता
पर्यावरण के घटकों के नाम बताओ?प्राकृतिक, मानव निर्मित, मानव संसाधन
प्राकृतिक पर्यावरण कौन बनाते हैं?भूमि, जल, वायु, पेड़-पौधे, जीव जंतुविशिष्टता
स्थल मंडल किसे कहते हैं?पृथ्वी की ठोस पर्पटी या कठोर ऊपरी परत को स्थलमंडल कहते हैं|प्रश्न पूछने की उचित गति
जलमंडल किसे कहते हैं?जल के क्षेत्र को जलमंडल कहते हैं|प्राकृतिक, मानव निर्मित, मानव संसाधन
वायुमंडल किसे कहते हैं?पृथ्वी के चारों ओर फैली वायु की पतली परत को वायुमंडल कहते हैं|उचित आवाज

निरीक्षण तालिका:

टेलियाँ:घटक:रेटिंग स्केल:
||अनुबोधन0 1 2 3 4 5 6
||अधिसूचना प्राप्ति0 1 2 3 4 5 6
|पुनः केंद्र0 1 2 3 4 5 6
|पुनः निर्देशन0 1 2 3 4 5 6
|आलोचनात्मक सजगता0 1 2 3 4 5 6


Further Reference:
https://www.learningclassesonline.com/ - Social Studies Lesson Plans in Hindi Social Science Lesson Plans in Hindi for B.Ed

Related:


💁Hello Friends, If You Want To Contribute To Help Other Students To Find All The Stuff At A Single Place, So Feel Free To Send Us Your Notes, Assignments, Study Material, Files, Lesson Plan, Paper, PDF Or PPT Etc. - 👉 Upload Here

अगर आप हमारे पाठकों और अन्य छात्रों की मदद करना चाहते हैं। तो बेझिझक अपने नोट्स, असाइनमेंट, अध्ययन सामग्री, फाइलें, पाठ योजना, पेपर, पीडीएफ या पीपीटी आदि हमें भेज सकते है| -👉Share Now

If You Like This Article, Then Please Share It With Your Friends Also.

Bcoz Sharing Is Caring😃

For the Latest Updates and More Stuff... Join Our Telegram Channel...
LearningClassesOnline - Educational Telegram Channel for Teachers & Students. Here you Can Find Lesson Plan, Lesson Plan format, Lesson plan templates, Books, Papers for B.Ed, D.EL.ED, BTC, CBSE, NCERT, BSTC, All Grade Teachers...

10 Comments

Please Share your views and suggestions in the comment box

  1. Dont you have social science lesson plans in English ?

    ReplyDelete
    Replies
    1. social science lesson plans in English will be available soon

      Delete
  2. Please update History lesson plans in English, urgently required.
    Thanks

    ReplyDelete
  3. Sansad ke kariy ka lesson plan

    ReplyDelete
  4. नशीले पदार्थ पर लेशन प्लान

    ReplyDelete
  5. Pulvama atteck pr lesson plan plzz

    ReplyDelete
  6. pdf kese download hogi... geography cahiye hindi me

    ReplyDelete
  7. plese add more history lesson
    and also add unit plan

    ReplyDelete

Post a Comment

Please Share your views and suggestions in the comment box