ICT B.Ed Practical File in Hindi, ICT Assignment, And Project Notes Free Download PDF in Hindi Language

ICT B.Ed Practical File in Hindi, ICT Assignment, And Project Notes Free Download PDF in Hindi Language

Critical Understanding of ICT in Education B.Ed 1st and 2nd Year / All Courses Practical File, Project and Assignment Notes in Hindi Medium Free Download PDF | ICT File in Hindi | Critical Understanding of ICT in Education B.Ed First and Second Year Practical File in Hindi Medium Free Download PDF | ICT Notes, Files, Assignment, Project and Text Book in Hindi

ICT File in Hindi | Critical Understanding of ICT in Education B.Ed First and Second Year Practical File in Hindi Medium Free Download PDF | ICT Notes, Files, Assignment, Project and Text Book in Hindi

हेलो दोस्तों, स्वागत है आपका हमारी वेबसाइट www.LearningClassesOnline.com पर| अगर आप बी.एड या किसी और कोर्स के लिए Critical Understanding of ICT Practical File in Hindi ढूंढ रहे है| तो आप बिलकुल ठीक जगह पर है|

यहां आपको ICT की फाइल तैयार करने के लिए फ्री में नोट्स और सैंपल प्रैक्टिकल फाइल मिल जाएगी| क्रिटिकल अंडरस्टैंडिंग ऑफ़ आई० सी० टी० फाइल इन हिंदी की पीडीऍफ़ को डाउनलोड करने का बटन ICT Notes in Hindi के निचे दिए गया है| जिसपे क्लिक आप ICT Practical File in Hindi की PDF Download कर सकते है|

और साथ ही साथ हमने निचे कुछ आईसीटी के Notes दिए है| जिसे देखकर आप अपनी ICT और Computer की Practical File, Project और Assignment बड़ी ही आसानी से तैयार कर सकते है| और एग्जाम की तयारी कर सकते है|

Table of Contents
  • ICT Notes in Hindi
    • ICT का अर्थ और परिभाषा
    • Uses of Information And Communication Technology
    • आईसीटी का महत्व
    • कंप्यूटर का अर्थ और परिभाषा
    • कंप्यूटर की पीढ़ियां
    • कंप्यूटर का वर्गीकरण
    • कम्प्यूटर की विशेषताएँ
    • हार्डवेयर
    • इनपुट डिवाइस
    • आउटपुट डिवाइस
    • सॉफ्टवेयर और सॉफ्टवेयर के प्रकार
    • (ICT ) - सूचना और संचार प्रौद्योगिकी
    • आईसीटी के उपकरण
    • शिक्षा में आईसीटी का उपयोग
    • स्कूलों में आईसीटी के लिए बाधाएं
  • Critical Understanding of ICT B.Ed Practical File in Hindi Download PDF

ICT Kya Hai? ( Meaning Of ICT In Hindi)

ICT का FULL FORM है "Information And Communication Technology" - (सूचना और संचार की प्रौद्योगिकी या सूचना और संचार प्रौद्योगिकी), जिसे आम तौर पर आईसीटी (ICT) कहा जाता है|

इस Digital दुनिया में INFORMATION और COMMUNICATION, इन दोनों के लिए जिन-जिन Technology का इस्तेमाल किया गया है, वो सभी ICT के अंतर्गत आती हैं|

ICT में वो सभी Technologies आते हैं जो Information को Access करने में मदद करते हैं, जैसे Telecommunication Technology. लगभग तो ये Information Technology ही है परंतु ICT में मुख्य रूप से Internet, Wireless Networks, Cell Phones, और दुसरे Communication Mediums शामिल हैं|

यह शब्द आम तौर पर सभी उपकरणों, नेटवर्किंग Component, अनुप्रयोगों और प्रणालियों को स्वीकार करने के लिए स्वीकार किया जाता है, जो संयुक्त रूप से डिजिटल दुनिया में लोगों और संगठनों (यानी, व्यवसायों, गैर-लाभकारी एजेंसियों, सरकारों और आपराधिक उद्यमों) को अनुमति देते हैं|

Definition Of ICT

“The Term Is Generally Accepted To Mean All Devices, Networking Components, Applications And System That Combined Allow People And Organisations (I.E., Businesses, Non-Profit Agencies, Governments, And Criminal Enterprises) To Interact In The Digital World”

ICT की बदोलत आज ये लेख आप तक पहुच रहा है. आज आप कहीं पे भी हों आप किसी भी प्रकार की जानकारी आपके Mobile पे पहुंच रही है, किसी के साथ भी आप बातचीत कर रहे हैं (Call, Video Call, ईमेल, Messaging App-Facebook, Whatsapp). यह सब ICT के जरिए ही संभव हो रहा है|

Information और Technology (ICT) को कुछ इस तरह भी समझ सकते हैं, यह एक एसा तरीका है, जहाँ डिजिटल तकनीक के सभी उपयोगों पर विचार किया गया है. जो व्यक्तियों, व्यवसायों और संगठनों को जानकारी का सही उपयोग करने में मदद करने के लिए मौजूद हैं|

आईसीटी किसी भी उत्पाद को कवर करता है जो डिजिटल रूप में इलेक्ट्रॉनिक रूप से सूचनाओं को Store, Retrieve, Manipulate, Transmit, Receive या प्राप्त करेगा|

उदाहरण के लिए,

  • पर्सनल कंप्यूटर(Personal Computer),
  • डिजिटल टेलीविजन(Digital Television),
  • ईमेल(Email),
  • रोबोट(Robot)

आखिर में यही कहा गया है Digital इनफार्मेशन और कम्युनिकेशन में इस्तेमाल होने वाली सभी टेक्नोलॉजी को ICT कहा गया है|

Information And Communication Technology

“Any Technology Through Which We Get Information Is Called Information Technology”

कोई भी तकनीक (Technology) जिसके माध्यम से हमें जानकारी मिलती है, उसे सूचना प्रौद्योगिकी (Information Technology) कहा जाता है.”

इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी के उपयोग (Uses Of Information Technology)

  1. Word Processing
  2. Spreadsheets
  3. Database Software
  4. Presentation Software
  5. Desktop Publishing
  6. Graphics Software
  7. Accounting Package
  8. Computer-Aided Design (CAD)
  9. Customer Relations Management (CRM)

1. Word Processing: MS WORD का इस्तेमाल Letter, Word Document, Report बनाने क लिए किया जाता है|

2. Spreadsheets: MS Excel के जरिए Financials रिपोर्ट विश्लेषण, हिसाब किताब करने के लिए, Report और Sheet बनाने के लिए किया जाता है|

3. Database Software: Oracle/MS SQL Server/Msaccess आदि नाम के सॉफ्टवेर का इस्तेमाल किया जाता है, Database को Manage करने के लिए|

4. Presentation Software: Presentations बनाने के लिए MS Powerpoint का उपयोग किया जाता है|

5. Desktop Publishing: जैसे In Design/Quark Express/MS Publisher इन सभी के जरिये Newsletters, Magazines और कुछ दुसरे Complex Documents बनाए जाते हैं|

6. Graphics Software: Ex-Adobe Photoshop और Illustrator का इस्तेमाल Images को Edit, Logo बनाने के लिए किया जाता है|

7. Accounting Package: Ex-Tally और Oracle का उपयोग Organisations के Accounts को मैनेज करने के लिए किया जाता है|

8. Computer Aided Design (CAD): Engineering के खेत्र में CAD का उपयोग किया जाता है|

9. Customer Relations Management (CRM): उदाहरण के लिए, व्यवसायों को उनके उत्पाद वरीयताओं और खरीदने की आदतों आदि को इकट्ठा करके और उनका विश्लेषण करने के लिए व्यवसायों को बेहतर ढंग से समझने की अनुमति देने के लिए CRM का उपयोग किया जाता है|

Communication Technology:

यहाँ कुछ Communication Technology के उदहारण दिए गए हैं. जैसे
  • E-Mail,
  • Video Conference,
  • LAN,
  • MAN,
  • WAN,
  • FAX,
  • Messaging App-(Whatsapp, Twitter, Facebook, Instagram, Wechat, Line)
यह सभी इस्तेमाल किए गए टेक्नोलॉजी ICT अंतर्गत आते हैं|

Importance Of ICT In Hindi (आईसीटी का महत्व एवंआवश्यकता)

ICT विश्व में बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है| जैसे की हम सब जानते हैं आजकल हम टेक्नोलॉजी (Technology) से घिरे हुए हैं| बिना टेक्नोलॉजी के कुछ भी काम नहीं किया जा सकता है|आईसीटी(ICT) के माध्यम से व्यापार करना बहुत ही आसान हो गया है|

अगर हमें सही समय पर सूचना मिलता है, तो हम हमारे व्यापार का उत्पादक बढ़ा सकते हैं| और यदि सही समय पर सही सूचना प्राप्त नहीं हुआ तो हमारे व्यापार का उत्पादक कम हो जाएगा| और उसी उत्पादक को बढ़ाने के लिए हमें बहुत समय लग जाएगा| इसी तरह से आईसीटी व्यापार में इस्तेमाल होता है|

निचे दिए गए सभी क्षेत्रों में ICT का बहुत अधिक महत्व है|

1. दैनिक जीवन (In Daily Life) : आईसीटी हमारे दैनिक जीवन के साथ जुड़ा हुआ है| जिसे अलग नहीं किया जा सकता| दोस्तों इसे समझाने के लिए मैं तुम्हें एक उदाहरण देता हूं| जैसे कि आजकल हम अपने रिश्तेदारों के साथ जुड़े हुए हैं, चाहे वह रिश्तेदार विदेश में ही क्यों ना हो, टेक्नोलॉजी के जरिए ही हम अपने रिश्तेदारों के साथ जुड़े हुए हैं|जैसे कि हमें अगर मैसेज करना हो तो हम व्हाट्सएप (Whatsapp) या मैसेंजर(Messenger) का इस्तेमाल करते हैं| या फिर हमें वीडियो कॉल करना है, तो IMO या गूगल डुओ (Google Duo) का इस्तेमाल करते हैं|

2. Digital Computer और Networking : DigitalComputer और Networkingने तो हमारे बीच कोई सीमा ही नहीं रखा है| हम लाखों की तादाद में लेनदेन कर सकते हैं, वह भी दूर बैठे रिश्तेदारों के साथ| नेट बैंकिंग का इस्तेमाल करके और नेट बैंकिंग बहुत सुरक्षित भी है|

3. आर्थिक विकास (For Economic Development) : आईसीटी आर्थिक विकास के स्तंभों में से एक है| यह मानव जीवन में कई सुधार लाया है, क्योंकि आजकल इसका इस्तेमाल हर जगह हो रहा है| बैंक में , पढ़ाई में, अस्पताल में आदि जगहों में| यह हमें किसी भी चीज के बारे में पूरी सही सूचना प्रदान करता है, और उस सूचना तक पहुंचने के लिए मदद भी करता है|

4. रोजमर्रा की जिंदगी: आईसीटी लोगों की जिंदगी का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बन चुकी है| यह लोगों की जिंदगी में खुद की महत्व को बढ़ाता जा रहा है| और उम्मीद यही है कि यही सिलसिला आगे जारी रहेगा| आईसीटी शिक्षित लोगों के व्यक्तिगत और सामाजिक जीवन की एक महत्वपूर्ण अंग बन जाएगी और इस अंग को लोगों के जीवन से दूर करना नामुमकिन सा हो जाएगा|

5. शिक्षा में आई.सी.टी. (ICT In Education) : शिक्षा के क्षेत्र मे ICT सीखने और सिखाने का काम को बढ़ावा दे रही है| इसके जरिए से बच्चों में सीखने की उत्सुकता बढ़ रही है, जो कि पहले नहीं था|

  • आईसीटी बच्चों के जीवन में एक प्रेरक के रूप में काम कर रही है|
  • बच्चों को उत्सुक कर रही है, पढ़ाई करने के लिए और उनके विषय के बारे में अत्यधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए
  • ई लर्निंग (E-Learning) के द्वारा हम कक्षा में या कक्षा के बाहर पढ़ा सकते हैं| ई लर्निंग का उपयोग शिक्षकों और विद्यार्थियों द्वारा विद्यालयों में, घरों में या अन्य जगहों में भी किया जा रहा है| ई लर्निंग के द्वारा बिना स्कूल गए भी घर बैठे सब कुछ सीख सकते हैं.

ICT And Computer Short Notes In Hindi -(Critical Understanding of ICT - Information And Communication Technology) ICT Practical File Notes PDF For B.Ed 1st and 2nd Year in Hindi Medium

कंप्यूटर ( Computer)

यह एक इलेक्ट्रॉनिक उपकरण (Electronic Device) है, जिसे सूचना के साथ काम करने के लिए डिज़ाइन किया गया है; कंप्यूटर शब्द लैटिन शब्द ‘Computare’ से लिया गया है, जिसका अर्थ है गणना करने योग्य मशीन

कंप्यूटर प्रोग्राम के बिना कुछ नहीं कर सकता; यह द्विआधारी अंकों की एक स्ट्रिंग के माध्यम से दशमलव संख्याओं का प्रतिनिधित्व करता है; शब्द ‘कंप्यूटरआमतौर पर केंद्र प्रोसेसर इकाई प्लस आंतरिक मेमोरी को संदर्भित करता है।

  • एक कंप्यूटर डेटा, चित्र, ध्वनि और ग्राफिक्स (Graphics) को संसाधित कर सकता है;
  • वे अत्यधिक जटिल समस्याओं को जल्दी और सही तरीके से हल कर सकते हैं;
  • एक कंप्यूटर मूल रूप से पांच प्रमुख कंप्यूटर संचालन करता है; या इसके आकार और निर्माण के बावजूद कार्य करता है।

कंप्यूटर की पीढ़ियां (Generations Of Computer)

जैसा कि हम जानते हैं कि कंप्यूटर की शुरुआत 19 वीं सदी के अंग्रेजी गणित के प्रोफेसर चार्ल्स बैबेज के साथ हुई थी।उन्होंने एनालिटिकल इंजन को डिजाइन किया और यह डिजाइन ही था कि आज के कंप्यूटरों का मूल ढांचा आधारित है;

सामान्यतया, कंप्यूटर को तीन पीढ़ियों में वर्गीकृत किया जा सकता है।

प्रत्येक पीढ़ी एक निश्चित अवधि के लिए चली; और प्रत्येक ने हमें एक नया और बेहतर कंप्यूटर या मौजूदा कंप्यूटर में सुधार दिया।

पहली पीढ़ी: (1937-1946) – First Generation Computer

  • 1937 में पहला इलेक्ट्रॉनिक डिजिटल कंप्यूटर डॉ जॉन वी अटानासॉफ और क्लिफोर्ड बेरी द्वारा बनाया गया था; इसे अटानासॉफ-बेरी कंप्यूटर (एबीसी) कहा जाता था।
  • 1943 में सेना के लिए एक इलेक्ट्रॉनिक कंप्यूटर (Electronic Computer) नाम Colossus बनाया गया था; अन्य विकास 1946 तक जारी रहे जब तक कि पहला सामान्य प्रयोजन डिजिटल कंप्यूटर; इलेक्ट्रॉनिक न्यूमेरिकल इंटीग्रेटर और कंप्यूटर (ENIAC) का निर्माण नहीं किया गया था।
  • ऐसा कहा जाता है कि इस कंप्यूटर का वजन 30 टन था, और इसमें 18,000 वैक्यूम ट्यूब (Vacuum Tube) थे; जो प्रसंस्करण के लिए उपयोग किए गए थे।
  • जब इस कंप्यूटर को पहली बार फिलाडेल्फिया के वर्गों में रोशनी के लिए चालू किया गया था; इस पीढ़ी के कंप्यूटर केवल एक ही कार्य कर सकते थे, और उनके पास कोई ऑपरेटिंग सिस्टम नहीं था।

दूसरी पीढ़ी: (1947-1962) – Second Generation Computer

  • कंप्यूटर की इस पीढ़ी ने वैक्यूम ट्यूबों के बजाय ट्रांजिस्टर (Transistors) का उपयोग किया जो अधिक विश्वसनीय थे;
  • 1951 में वाणिज्यिक उपयोग के लिए पहला कंप्यूटर जनता के लिए पेश किया गया था; यूनिवर्सल ऑटोमैटिक कंप्यूटर (UNIVAC 1) (Universal Automatic Computer)।
  • 1953 में IBM 650 और 700 सीरीज़ कंप्यूटर की दुनिया में आया; इस पीढ़ी के दौरान 100 से अधिक कंप्यूटर प्रोग्रामिंग भाषाओं का विकास हुआ, कंप्यूटर में मेमोरी (Memory) और ऑपरेटिंग सिस्टम (Operating System) थे।
  • टेप और डिस्क जैसे भंडारण मीडिया उपयोग में थे, आउटपुट के लिए प्रिंटर (Printer) भी थे।

तीसरी पीढ़ी: (1963-वर्तमान) – Third Generation Computer

  • एकीकृत सर्किट के आविष्कार ने हमें कंप्यूटर की तीसरी पीढ़ी को लाया; इस आविष्कार के साथ कंप्यूटर छोटे, अधिक शक्तिशाली और अधिक विश्वसनीय हो गए; और वे एक ही समय में कई अलग-अलग कार्यक्रम चलाने में सक्षम हैं।
  • 1980 में माइक्रोसॉफ्ट डिस्क ऑपरेटिंग सिस्टम (MS-Dos) का जन्म हुआ; और 1981 में IBM ने घर और ऑफिस के उपयोग के लिए पर्सनल कंप्यूटर (PC) पेश किया।
  • तीन साल बाद Apple ने हमें अपने आइकॉन-संचालित इंटरफेस के साथ Macintosh कंप्यूटर दिया और 90 के दशक ने हमें विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम (Windows Operating System) दिया।
www.LearningClassesOnline.com/

कंप्यूटर की चौथी पीढ़ी: - Fourth Generation Computer

  • सबसे बड़े प्रभाव के साथ परिवर्तन 1971 से 2010 तक के वर्षों में हुआ; इस बार की प्रौद्योगिकी एक बिंदु पर विकसित हुई, जहां निर्माता एक सिंगल सर्किट चिप (Single Circuit Chip) पर लाखों ट्रांजिस्टर लगा सकते हैं।
  • इसे अखंड एकीकृत सर्किट प्रौद्योगिकी कहा जाता था; इसने इंटेल (Intel) 4004 चिप के आविष्कार की भी शुरुआत की, जो 1971 में व्यावसायिक रूप से उपलब्ध होने वाला पहला माइक्रोप्रोसेसर (Micro Processor) था।
  • इस आविष्कार के कारण पर्सनल कंप्यूटर (Personal Computer) उद्योग की शुरुआत हुई; 70 के दशक के मध्य तक, व्यक्तिगत कंप्यूटर जैसे कि Altair 8800 किट और आवश्यक विधानसभा के रूप में जनता के लिए उपलब्ध हो गया।
  • 70 के दशक के अंत तक और 80 के दशक के प्रारंभ में घरेलू कंप्यूटरों जैसे कमोडोर पेट, ऐप्पल ; और पहले आईबीएम कंप्यूटर के लिए व्यक्तिगत कंप्यूटर इकट्ठे हुए, जो बाजार में अपना रास्ता बना रहे थे; पर्सनल कंप्यूटर और नेटवर्क बनाने की उनकी क्षमता अंततः 1990 के दशक की शुरुआत में इंटरनेट का नेतृत्व करेगी।
  • चौथी पीढ़ी के कंप्यूटरों में लैपटॉप (Laptop) और हाथ से पकड़े जाने वाले उपकरणों सहित छोटे कंप्यूटरों का निर्माण भी देखा गया; ग्राफिकल यूजर इंटरफेस या GUI का आविष्कार भी इसी दौरान हुआ था; भंडारण क्षमता और गति में वृद्धि के साथ, कंप्यूटर मेमोरी और स्टोरेज (Storage) भी बड़े सुधारों से गुजरे।

कंप्यूटर की पांचवीं पीढ़ी: Fifth Generation Computer

  • भविष्य में, कंप्यूटर उपयोगकर्ता तेजी से और अधिक उन्नत कंप्यूटर प्रौद्योगिकी की उम्मीद कर सकते हैं; कंप्यूटर प्रौद्योगिकी के उन्नत रूपों में विकसित होते रहते हैं।
  • पांचवीं पीढ़ी की कंप्यूटिंग को अभी तक सही मायने में परिभाषित नहीं किया गया है; क्योंकि कई रास्ते हैं जो प्रौद्योगिकी कंप्यूटर विकास के भविष्य की ओर ले जा रहे हैं।
  • उदाहरण के लिए, नैनोटेक्नोलॉजी (Nano Technolog), आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (Artificial Intelligence) और क्वांटम कम्प्यूटेशन के क्षेत्र में शोध जारी है।

कंप्यूटर का वर्गीकरण (Classification Of Computer)

कंप्यूटर सिस्टम को निम्न आधार पर वर्गीकृत किया जा सकता है:

  • A. आकार के आधार पर
  • B. कार्यक्षमता के आधार पर
  • C. डेटा हैंडलिंग के आधार पर

A. आकार के आधार पर वर्गीकरण

आकार के आधार पर कंप्यूटर को निम्न भागों में बांटा गया है:

1. सुपर कंप्यूटर (Super Computer)

सुपरकंप्यूटर एक सामान्य उद्देश्य वाले कंप्यूटर की तुलना में उच्च स्तर के प्रदर्शन वाला एक कंप्यूटर है; सुपर कंप्यूटर का वास्तविक प्रदर्शन MIPS के बजाय FLOPS में मापा जाता है।

दुनिया के सबसे तेज़ 500 सुपर कंप्यूटर, लिनक्स (Linux) आधारित ऑपरेटिंग सिस्टम चलाते हैं; अतिरिक्त अनुसंधान चीन, अमेरिका, यूरोपीय संघ, ताइवान और जापान में भी तेजी से, उच्च प्रदर्शन, और अधिक तकनीकी रूप से बेहतर सुपर कंप्यूटर बनाने के लिए आयोजित किया जा रहा है।

सुपर कंप्यूटर वास्तव में अभिकलन के क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं; और विभिन्न क्षेत्रों में गहन संगणना कार्यों के लिए उपयोग किए जाते हैं; जिसमें क्वांटम यांत्रिकी, मौसम पूर्वानुमान, जलवायु अनुसंधान, तेल और गैस की खोज, आणविक मॉडलिंग और भौतिक सिमुलेशन और पूरे इतिहास में, सुपर कंप्यूटर शामिल हैं।

क्रिप्टोनालिसिस के क्षेत्र में आवश्यक है। जैसे: PARAM, जगुआर, रोडरनर।

2. मेनफ्रेम कंप्यूटर (Mainframe Computers)

इन्हें आमतौर पर बड़ा लोहा कहा जाता है, इन्हें आमतौर पर बड़े संगठनों द्वारा स्टैटिक्स, जनगणना डेटा प्रोसेसिंग, ट्रांजेक्शन प्रोसेसिंग जैसे बड़े डेटा प्रोसेसिंग के लिए उपयोग किया जाता है; और इन्हें व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है क्योंकि इन प्रणालियों की तुलना में उच्च प्रसंस्करण क्षमता होती है;

कंप्यूटर के अन्य वर्गों में, इनमें से अधिकांश मेनफ्रेम आर्किटेक्चर 1960 के दशक में स्थापित किए गए थे, अनुसंधान और विकास ने वर्षों में लगातार काम किया और आज के मेनफ्रेम आकार, क्षमता और दक्षता में पहले वाले की तुलना में कहीं बेहतर हैं।

जैसे: IBM Z Series, System Z9 और System Z10 सर्वर।

3. मिनी कंप्यूटर( Mini Computer)

ये कंप्यूटर 1960 के दशक के मध्य में बाजार में आए और इन्हें मेनफ्रेम की तुलना में काफी सस्ती कीमत पर बेचा गया, इन्हें वास्तव में नियंत्रण, इंस्ट्रूमेंटेशन, मानव संपर्क और संचार स्विचिंग के लिए गणना और रिकॉर्ड से अलग बनाया गया था।

बाद में वे विकास के साथ व्यक्तिगत उपयोग के लिए बहुत लोकप्रिय हो गए। 60 के दशक में छोटे कंप्यूटरों का वर्णन करने के लिए जो ट्रांजिस्टर और कोर मेमोरी टेक्नोलॉजी, न्यूनतम निर्देश सेट और सर्वव्यापी टेलेपाइप मॉडल 33 एएसआर जैसे कम महंगे बाह्य उपकरणों के उपयोग से संभव हो गए।

वे आम तौर पर एक या कुछ इंच के रैक अलमारियाँ उठाते थे, बड़े मेनफ्रेम की तुलना में जो एक कमरे को भर सकते थे। एक नया शब्द “MINICOMPUTERS” था, जिसका नाम पर्सनल लैपटॉप, पीसी आदि था।

4. माइक्रो कंप्यूटर (Micro Computer)

एक माइक्रो कंप्यूटर एक छोटा, अपेक्षाकृत सस्ता कंप्यूटर है जिसमें माइक्रोप्रोसेसर अपने सीपीयू (CPU) के रूप में होता है। इसमें एक माइक्रोप्रोसेसर, मेमोरी और न्यूनतम I/O सर्किटरी शामिल हैं जो एक मुद्रित सर्किट बोर्ड पर घुड़सवार हैं।

पिछले कंप्यूटर, मेनफ्रेम और मिनिकॉमपॉइंटर्स तुलनात्मक रूप से बहुत बड़े थे, बनाए रखने के लिए कठिन थे, और अधिक महंगे थे। उन्होंने वास्तव में आजकल के माइक्रो कंप्यूटर और स्मार्ट गैजेट्स की नींव बनाई, जिनका हम दिन-प्रतिदिन के जीवन में उपयोग करते हैं।

जैसे: Tablets, Smartwatch

B. कार्यक्षमता के आधार पर वर्गीकरण

कार्यक्षमता के आधार पर Computer को निम्न भागों में बांटा गया है:

1. सर्वर (Server) :

सर्वर कुछ और नहीं बल्कि समर्पित कंप्यूटर हैं जो ग्राहकों को कुछ सेवाएं प्रदान करने के लिए स्थापित किए जाते हैं। उनके द्वारा प्रस्तावित सेवा के प्रकार के आधार पर उनका नाम रखा गया है। जैसे: सुरक्षा सर्वर (Security Server), डेटाबेस सर्वर(Database Server)।

2. वर्कस्टेशन (Work Station):

वे कंप्यूटर हैं जिन्हें मुख्य रूप से एक समय में एक उपयोगकर्ता द्वारा उपयोग किया जाता है। वे मल्टी-यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम (Multi User Operating System) चलाते हैं। ये कंप्यूटर वे हैं जो हम अपने दिन-प्रतिदिन के व्यक्तिगत / वाणिज्यिक कार्यों के लिए उपयोग करते हैं।

3. सूचना उपकरण (Information Appliances) :

वे पोर्टेबल डिवाइस (Portable Device) हैं जिन्हें सीमित गणना जैसे बुनियादी गणना, मल्टीमीडिया खेलना, इंटरनेट ब्राउज़ (Internet Browse) करना आदि कार्य करने के लिए डिज़ाइन किया गया है, इन्हें आम तौर पर मोबाइल डिवाइस (Mobile Device) कहा जाता है। उनके पास बहुत सीमित मेमोरी और लचीलापन है और आम तौर पर “जैसा हैआधार पर चलता है।

4. एंबेडेड कंप्यूटर :

एंबेडेड कंप्यूटर, वे कंप्यूटिंग डिवाइस होते हैं जिनका उपयोग अन्य मशीनों में सीमित आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए किया जाता है। वे गैर-वाष्पशील मेमोरी से निर्देशों का पालन करते हैं और उन्हें रिबूट या रीसेट निष्पादित करने की आवश्यकता नहीं होती है। ऐसे उपकरणों में उपयोग की जाने वाली प्रसंस्करण इकाइयां केवल उन बुनियादी आवश्यकताओं के लिए काम करती हैं और उन लोगों से अलग होती हैं जो व्यक्तिगत कंप्यूटर में उपयोग किए जाते हैं-जिन्हें वर्कस्टेशन के रूप में जाना जाता है।

C. डेटा हैंडलिंग के आधार पर वर्गीकरण

डेटा हैंडलिंग के आधार पर कंप्यूटर को निम्न भागों में बांटा गया है:

1. एनालॉग (Analog) :

एनालॉग वे कंप्यूटिंग डिवाइस होते हैं जिनका उपयोग अन्य मशीनों में सीमित आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए किया जाता है। वे गैर-वाष्पशील मेमोरी से निर्देशों का पालन करते हैं और उन्हें रिबूट (Reboot) या रीसेट (Reset) निष्पादित करने की आवश्यकता नहीं होती है। ऐसे उपकरणों में उपयोग की जाने वाली प्रसंस्करण इकाइयां केवल उन बुनियादी आवश्यकताओं के लिए काम करती हैं और उन लोगों से अलग होती हैं जो व्यक्तिगत कंप्यूटर में उपयोग किए जाते हैं-जिन्हें वर्कस्टेशन के रूप में जाना जाता है।

2. डिजिटल (Digital) :

एक कंप्यूटर जो अंकों के रूप में प्रतिनिधित्व की गई मात्राओं के साथ गणना और तार्किक संचालन करता है, जो आमतौर पर “O” और “L” के बाइनरी नंबर सिस्टम में होता है, “कंप्यूटर असतत रूप में व्यक्त की गई जानकारी को संसाधित करके समस्याओं को हल करने में सक्षम होता है। द्विआधारी अंकों के संयोजन में हेरफेर से, यह गणितीय गणना कर सकता है, डेटा को व्यवस्थित और विश्लेषण कर सकता है, औद्योगिक और अन्य प्रक्रियाओं को नियंत्रित कर सकता है और गतिशील सिस्टम जैसे कि वैश्विक मौसम पैटर्न का अनुकरण कर सकता है।

3. हाइब्रिड(Hybrid) :

एक कंप्यूटर जो एनालॉग और डिजिटल डेटा दोनों को प्रोसेस करता है, हाइब्रिड कंप्यूटर एक डिजिटल कंप्यूटर है जो एनालॉग सिग्नल को स्वीकार करता है, उन्हें डिजिटल में परिवर्तित करता है, और उन्हें डिजिटल रूप में प्रोसेस करता है।

कम्प्यूटर के महत्वपूर्ण घटक ( Main Elements Of Computer)

कंप्यूटर के मुख्यघटकनिम्न हैं:

1. इनपुट यूनिट (Input Unit)

इनपुट यूनिट में इनपुट होते हैं जो कंप्यूटर से जुड़े होते हैं। ये उपकरण इनपुट लेते हैं और इसे द्विआधारी भाषा में परिवर्तित करते हैं जिसे कंप्यूटर समझता है।

कुछ सामान्य इनपुट डिवाइस कीबोर्ड (Keyboard), माउस (Mouse), जॉयस्टिक (Joystick), स्कैनर (Scanner) इत्यादि हैं।

2. सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट (सीपीयू) – Central Processing Unit (CPU)

इनपुट डिवाइस (Input Device) द्वारा कंप्यूटर में जानकारी दर्ज करने के बाद, प्रोसेसर उसे प्रोसेस (Process) करता है। CPU को कंप्यूटर का मस्तिष्क कहा जाता है क्योंकि यह कंप्यूटर का नियंत्रण केंद्र है। यह पहले स्मृति (Memory) से निर्देश प्राप्त करता है और फिर उन्हें व्याख्या करता है ताकि पता चल सके कि क्या करना है। यदि आवश्यक हो, तो डेटा को मेमोरी या इनपुट डिवाइस से प्राप्त किया जाता है।

इसके बाद CPU आवश्यक गणना को निष्पादित या निष्पादित करता है और फिर आउटपुट को स्टोर करता है या आउटपुट डिवाइस (Ouptut Device) पर प्रदर्शित करता है।

CPU में तीन मुख्य घटक होते हैं जो विभिन्न कार्यों के लिए जिम्मेदार होते हैं Arithmetic Logic Unit (ALU), Control Unit (CU), और मेमोरी रजिस्टर। अंकगणित और तर्क इकाई (ALU – Arithmetic Logic Unit): ALU, जैसा कि इसके नाम से पता चलता है कि गणितीय गणना करता है और तार्किक निर्णय लेता है।

अंकगणितीय गणना में जोड़, घटाव, गुणा और भाग शामिल हैं। तार्किक निर्णयों में दो डेटा आइटमों की तुलना शामिल है जो यह देखते हैं कि कौन बड़ा या छोटा है या बराबर है।

3. कंट्रोल यूनिट (Control Unit)

कंट्रोल यूनिट सीपीयू के अंदर और बाहर डेटा प्रवाह का समन्वय और नियंत्रण करती है और ALU, मेमोरी रजिस्टरों और इनपुट / आउटपुट यूनिटों के सभी संचालन को भी नियंत्रित करती है।

यह कार्यक्रम में संग्रहीत सभी निर्देशों को पूरा करने के लिए भी जिम्मेदार है।

यह प्राप्त निर्देश को डिकोड (Decode) करता है, इसकी व्याख्या करता है, और इनपुट / आउटपुट डिवाइस को नियंत्रण संकेत भेजता है जब तक कि आवश्यक ऑपरेशन ALU और मेमोरी द्वारा ठीक से नहीं किया जाता है।

4. मेमोरी रजिस्टर (Memory Register)

एक रजिस्टर सीपीयू में मेमोरी की एक अस्थायी इकाई है। इनका उपयोग उन डेटा को संग्रहीत करने के लिए किया जाता है जो सीधे प्रोसेसर द्वारा उपयोग किया जाता है।

रजिस्टर अलग-अलग आकार के हो सकते हैं (एल 6 बिट, 32 बिट, 64 बिट, और इसी तरह) और CPU के अंदर प्रत्येक रजिस्टर में एक विशिष्ट कार्य होता है जैसे डेटा स्टोर करना, एक निर्देश संग्रहीत करना, मेमोरी में किसी स्थान का पता संग्रहीत करना आदि।

उपयोगकर्ता रजिस्टरों का उपयोग असेंबली, इंटरमीडिएट परिणाम आदि के लिए एक असेंबली भाषा प्रोग्रामर द्वारा किया जा सकता है।

Accumulator (ACC) ALU में मुख्य रजिस्टर है और इसमें ALU में किए जाने वाले ऑपरेशन के ऑपरेंड में से एक शामिल है।

5. मेमोरी (Memory)

CPU से जुड़ी Memory का उपयोग डेटा और निर्देशों के भंडारण (Stroage) के लिए किया जाता है, और इसे आंतरिक मेमोरी (Internal Memory) कहा जाता है। आंतरिक मेमोरी को कई भंडारण स्थानों में विभाजित किया गया है, जिनमें से प्रत्येक डेटा या निर्देशों को संग्रहीत कर सकता है।

प्रत्येक मेमोरी लोकेशन एक ही आकार का होता है और उसका एक पता होता है। पते की मदद से, कंप्यूटर पूरी मेमोरी को सर्च किए बिना किसी भी मेमोरी लोकेशन को आसानी से पढ़ सकता है।

  • जब किसी प्रोग्राम को निष्पादित किया जाता है, तो उसके डेटा को आंतरिक मेमोरी में कॉपी किया जाता है और निष्पादन के अंत तक मेमोरी में संग्रहीत किया जाता है।
  • आंतरिक मेमोरी (Internal Memory) को प्राथमिक मेमोरी (Primary Memory) या मेन मेमोरी (Main Memory) भी कहा जाता है। इस मेमोरी को RAM, यानी रैंडम एक्सेस मेमोरी (Random Access Memory) भी कहा जाता है।
  • डेटा के एक्सेस का समय मेमोरी में अपने स्थान से स्वतंत्र होता है इसलिए इस मेमोरी को रैंडम एक्सेस मेमोरी (रैम) भी कहा जाता है।

6. आउटपुट यूनिट (Output Unit)

आउटपुट यूनिट में आउटपुट डिवाइस (Output Device) होते हैं जो कंप्यूटर से जुड़े होते हैं। यह सीपीयू (CPU) से आने वाले बाइनरी डेटा (Binary Data) को मानव-समझने योग्य रूप में परिवर्तित करता है।

सामान्य आउटपुट डिवाइस मॉनिटर (Monitor) , प्रिंटर (Printor), प्लॉटर आदि हैं।

कम्प्यूटर की विशेषताएँ (Characteristics And Features Of Computer)

  1. गति (Speed) : कंप्यूटर डेटा को संसाधित करने और सेकंड के अंशों में आउटपुट देने में सक्षम है जैसे कि उपयोगकर्ता को आवश्यक जानकारी सही समय पर सही निर्णय लेने के लिए सक्षम करने पर उपयोगकर्ता को दी जाती है। एक शक्तिशाली कंप्यूटर प्रति सेकंड लगभग 3 मिलियन गणना निष्पादित करने में सक्षम है।
  2. सटीकता (Accuracy) : प्रसंस्करण की अपनी उच्च गति के बावजूद, कंप्यूटर की सटीकता लगातार उच्च होती है जो किसी भी त्रुटि से बचती है। यदि यह सभी त्रुटियां हैं, तो वे प्रोग्रामर द्वारा दिए गए निर्देशों में त्रुटियों के कारण हैं।
  3. विश्वसनीय (Reliablility) : कंप्यूटर द्वारा उत्पन्न आउटपुट बहुत विश्वसनीय है, लेकिन यह केवल तभी विश्वसनीय है जब डेटा, जो कंप्यूटर और प्रोग्राम के इनपुट के रूप में गुजर रहा है, जो निर्देश देता है, सही और विश्वसनीय हैं।
  4. भंडारण क्षमता (Stroage Capacity) : कंप्यूटर में छोटे भंडारण उपकरणों में बड़ी मात्रा में डेटा संग्रहीत करने का प्रावधान है, जिसमें बड़ी मात्रा में डेटा संग्रहीत करने और डेटा की पुनर्प्राप्ति में मदद करने के लिए एक आसान काम करने की क्षमता है।
  5. बहुमुखी: कंप्यूटर तीन बुनियादी संचालन करता है;
    1. यह उपयोगकर्ता से विभिन्न इनपुट-आउटपुट डिवाइस के माध्यम से जानकारी तक पहुंचने और स्वीकार करने में सक्षम है।
    2. कंप्यूटर वांछित डेटा पर बुनियादी अंकगणितीय और तर्क संचालन करता है।
    3. यह वांछित रूप में वांछित आउटपुट उत्पन्न करने में सक्षम है।
    1. स्वचालन : कंप्यूटर में दिए गए निर्देशों को बिना किसी मानवीय हस्तक्षेप के बिना स्वचालित रूप से काम करता है जब तक कि किसी कार्यक्रम के निष्पादन के पूरा होने पर नौकरी समाप्त करने के लिए तार्किक निर्देश मिलते हैं।

    हार्डवेयर (Hardware)

    हार्डवेयर को कंप्यूटर सिस्टम के किसी भी भौतिक घटक के रूप में वर्णित किया जाता है जिसमें सर्किट बोर्ड (Circuit Board) , आईसी या अन्य इलेक्ट्रॉनिक्स शामिल होते हैं।

    इनपुट डिवाइस (Input Device)

    जिन उपकरणों का उपयोग कंप्यूटर को डेटा और निर्देश देने के लिए किया जाता है, उन्हें इनपुट डिवाइस कहा जाता है।

    कीबोर्ड, माउस, जॉयस्टिक, लाइट पेन, आदि के आधार पर विभिन्न प्रकार के इनपुट उपकरणों का उपयोग कंप्यूटर के साथ किया जा सकता है।

    • कीबोर्ड और माउस (Keyboard And Mouse) : कीबोर्ड और माउस उपयोगकर्ता से इनपुट स्वीकार करता है और उस डेटा (इनपुट) को कंप्यूटर को भेजता है। वे कंप्यूटर से सूचना (आउटपुट) को स्वीकार या पुन: उत्पन्न नहीं कर सकते हैं।
    • माइक्रोफोन (Micro Phone) : माइक्रोफोन एक इनपुट स्रोत द्वारा उत्पन्न ध्वनि प्राप्त करता है, और उस ध्वनि को कंप्यूटर में भेजता है।
    • वेबकैम (Webcam): यह (इनपुट) पर जो भी बताया गया है उससे उत्पन्न छवियों को प्राप्त करता है और उन छवियों को कंप्यूटर पर भेजता है।

    आउटपुट डिवाइस (Output Devices)

    परिणाम या सूचना को प्रदर्शित करने के लिए जिन उपकरणों का उपयोग किया जाता है, उन्हें आउटपुट डिवाइस कहा जाता है। आप आउटपुट को मॉनिटर पर देख सकते हैं या आप इसे प्रिंटर (Printer) का उपयोग करके कागज पर प्रिंट कर सकते हैं।

    मॉनिटर और प्रिंटर आमतौर पर उपयोग किए जाने वाले आउटपुट डिवाइस हैं।

    1. मॉनिटर (Monitor) : मॉनिटर एक कंप्यूटर (आउटपुट) से डेटा प्राप्त करता है और उपयोगकर्ताओं के देखने के लिए पाठ और छवियों के रूप में उस जानकारी को प्रदर्शित करता है। यह एक उपयोगकर्ता के डेटा को स्वीकार नहीं कर सकता है और उस डेटा को दूसरे डिवाइस पर भेज सकता है।
    1. प्रोजेक्टर (Projector) : प्रोजेक्टर एक कंप्यूटर (आउटपुट) से डेटा प्राप्त करता है और प्रदर्शित करता है, या प्रोजेक्ट करता है, जो कि एक दीवार या एक स्क्रीन की तरह पाठ और छवियों के रूप में जानकारी। यह एक उपयोगकर्ता के डेटा को स्वीकार नहीं कर सकता है और उस डेटा को दूसरे डिवाइस पर भेज सकता है।
    1. स्पीकर (Speaker) : कंप्यूटर से ध्वनि डेटा प्राप्त करता है और उपयोगकर्ताओं को सुनने के लिए ध्वनियाँ बजाता है। यह उपयोगकर्ताओं द्वारा उत्पन्न ध्वनि को स्वीकार नहीं कर सकता है और उस ध्वनि को किसी अन्य डिवाइस पर भेज सकता है।

    सॉफ्टवेयर (Software)

    सॉफ्टवेयर एक कंप्यूटर की भाषा है। और मानव भाषा की तरह, कई अलग-अलग कंप्यूटर भाषाएँ हैं। अनिवार्य रूप से, कंप्यूटर सॉफ्टवेयर को उनके उपयोग और अनुप्रयोग के आधार पर तीन मुख्य समूहों में विभाजित किया जा सकता है।

    ये सिस्टम सॉफ्टवेयर या ऑपरेटिंग सिस्टम हैं जिन्हें बस ओएस, एप्लिकेशन सॉफ्टवेयर और प्रोग्रामिंग भाषाओं के रूप में संदर्भित किया जाता है।

    आमतौर पर, हम में से अधिकांश एप्लिकेशन सॉफ़्टवेयर का उपयोग करके कंप्यूटर के साथ बातचीत करते हैं। सॉफ्टवेयर कार्यक्रमों का एक समूह है, जिसे एक अच्छी तरह से परिभाषित कार्य करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।

    एक कार्यक्रम एक विशेष समस्या को हल करने के लिए लिखे गए निर्देशों का एक क्रम है।

    सॉफ्टवेयर के प्रकार (Types Of Software)

    सॉफ्टवेयर तीन प्रकार के होते हैं:

    1. सिस्टम सॉफ्टवेयर (System Software)

    सिस्टम सॉफ्टवेयर कंप्यूटर के प्रसंस्करण क्षमताओं को संचालित करने, नियंत्रित करने और विस्तारित करने के लिए Collection डिज़ाइन किए गए कार्यक्रमों का एक संग्रह है। सिस्टम सॉफ्टवेयर आम तौर पर कंप्यूटर निर्माताओं द्वारा तैयार किया जाता है।

    इन सॉफ्टवेयर उत्पादों में निम्न-स्तरीय भाषाओं में लिखे गए कार्यक्रम शामिल हैं, जो बहुत ही बुनियादी स्तर पर हार्डवेयर के साथ सहभागिता करते हैं।

    सिस्टम सॉफ्टवेयर हार्डवेयर और अंत उपयोगकर्ताओं के बीच इंटरफेस के रूप में कार्य करता है।

    सिस्टम सॉफ्टवेयर के कुछ उदाहरण ऑपरेटिंग सिस्टम (Operating System) , कंपाइलर (Compiler) , इंटरप्रेटर (Interpreter), असेंबलर (Assesmbler) आदि हैं।

    2. एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर (Application Software)

    एप्लिकेशन सॉफ़्टवेयर उत्पादों को किसी विशेष वातावरण की विशेष आवश्यकता को पूरा करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। कंप्यूटर लैब में तैयार किए गए सभी सॉफ्टवेयर एप्लीकेशन एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर की श्रेणी में आ सकते हैं।

    एप्लिकेशन सॉफ़्टवेयर में एक एकल प्रोग्राम शामिल हो सकता है, जैसे कि एक साधारण पाठ लिखने और संपादित करने के लिए Microsoft का नोटपैड।

    इसमें कार्यक्रमों का एक संग्रह भी शामिल हो सकता है, जिसे अक्सर सॉफ़्टवेयर पैकेज कहा जाता है, जो एक कार्य को पूरा करने के लिए एक साथ काम करता है, जैसे कि स्प्रेडशीट पैकेज।

    3. उपयोगिता सॉफ्टवेयर

    उपयोगिता सॉफ्टवेयर आमतौर पर छोटे प्रोग्राम होते हैं जो हार्डवेयर और एप्लिकेशन सॉफ़्टवेयर के प्रबंधन में मदद करते हैं, जो कंप्यूटर पर इंस्टॉल किए जाते हैं। उदाहरण: – डिस्क डीफ़्रेग्मेंटर, डिस्क क्लीनर आदि।

    (ICT – Information And Communication Technology) - सूचना और संचार प्रौद्योगिकी

    ICTका अर्थ होता है “सूचना और संचार प्रौद्योगिकी। यह उन प्रौद्योगिकियों को संदर्भित करता है जो दूरसंचार के माध्यम से सूचना तक पहुंच प्रदान करते हैं। यह सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) के समान है, लेकिन मुख्य रूप से संचार प्रौद्योगिकियों पर केंद्रित है। इसमें इंटरनेट, वायरलेस नेटवर्क (Wireless Network) , सेल फोन और अन्य संचार माध्यम शामिल हैं।

    पिछले कुछ दशकों में, सूचना और संचार प्रौद्योगिकियों ने समाज को नई संचार क्षमताओं की एक विशाल सरणी प्रदान की है। उदाहरण के लिए, लोग विभिन्न देशों में दूसरों के साथ वास्तविक समय में संचार का उपयोग कर सकते हैं जैसे कि त्वरित संदेश, वॉइस ओवर आईपी (वीओआईपी), और वीडियो-कॉन्फ्रेंसिंग (Video Confrencing)।

    फेसबुक जैसी सोशल नेटवर्किंग वेबसाइटें दुनिया भर के उपयोगकर्ताओं को नियमित रूप से संपर्क में रहने और संवाद करने की अनुमति देती हैं।

    आधुनिक सूचना और संचार प्रौद्योगिकियों ने एक “वैश्विक गांवबनाया है। जिसमें लोग दुनिया भर में दूसरों के साथ संवाद कर सकते हैं जैसे कि वे अगले दरवाजे पर रह रहे थे। इस कारण से, आईसीटी का अक्सर इस संदर्भ में अध्ययन किया जाता है कि आधुनिक संचार प्रौद्योगिकियां समाज को कैसे प्रभावित करती हैं।

    आईसीटी के उपकरण (ICT Devices)

    आईसीटी उपकरण वे उपकरण या वस्तुएं हैं जिनका उपयोग सूचना और संचार प्रौद्योगिकी पूर्व में किया जाता है। कंप्यूटर, सेल फोन, सेल फोन टॉवर, वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग, सॉफ्टवेयर, रेडियो, टेलीविजन, लैपटॉप, आदि।

    1. रेडियो (Radio):

    रेडियो सबसे पुराना उपकरण है और हाल के दिनों में लोगों को मनोरंजन प्रदान करता है। यह श्रोता के दृष्टिकोण को उनके लिए उपयोगी नई जानकारी के अनुकूल बनाने का प्रयास करता है।

    2. समाचार पत्र (Newspaper) :

    प्रेस या अखबार सबसे महत्वपूर्ण आईसीटी उपकरण है। नेशनल, इंटरनैशनल, स्पोर्ट्स, बिज़नेस से जुड़े मुद्दे और लोगों को अखबार पढ़ने के माध्यम से इनके बारे में पता चलता है।

    3. टेलीविजन ( Television) :

    कम साक्षरता कौशल वाले श्रोताओं के साथ संचार के लिए, एक श्रव्य-दृश्य माध्यम यानी टेलीविजन किसी भी अन्य माध्यम की तुलना में अधिक लाभप्रद है। बड़ी संख्या में ट्रांसमीटरों ने पूरी आबादी को कवर किया है।

    4. चार्ट और फ़ोल्डर ( Chart And Folder) :

    किसान समुदाय चार्ट और फ़ोल्डर्स के माध्यम से एक विशेषज्ञ द्वारा सिखाता है। संबंधित जानकारी चार्ट और फ़ोल्डर में मुद्रित होती है और लोग इस बारे में जानकारी प्राप्त करते हैं।

    5. स्लाइड प्रस्तुति (Slides) :

    स्लाइड एक पारदर्शी तस्वीर है; प्रोजेक्टर की मदद से, स्क्रीन पर स्लाइड का एक बड़ा प्रतिबिंब परिलक्षित होता है; लोग स्लाइड देखकर आसानी से ज्ञान को समझ सकते हैं।

    6. कंप्यूटर और इंटरनेट (Computer And Internet) :

    विद्युत कृषि के विकास में योगदान करने के लिए संभावित उपकरण के रूप में उभर रहा है क्योंकि विशाल वैश्विक सूचना संसाधनों तक पहुंच हो सकती है; लोग इसकी जानकारी और सेवाओं तक आसानी से पहुंच सकते हैं।

    7. टेलीफोन और मोबाइल (Telephone And Mobile) :

    टेलीफोन भी संचार के मजबूत तरीकों में से एक है। यह संचार का सबसे सरल और आसान तरीका है।

    8. टेलीकांफ्रेंसिंग (Teleconferencing) :

    इसमें कई परस्पर टेलीफोन या कंप्यूटर डिवाइस शामिल हैं; प्रत्येक व्यक्ति कॉल में शामिल सभी अन्य लोगों को सुन या बात कर सकता है|

    9. डिजिटल पुस्तकालय ( Digital Library) :

    एक डिजिटल पुस्तकालय को बुककीपरों के लिए एक विस्तार सेवा प्रदान करने के लिए डिजाइन और विकसित किया गया था; डिजिटल लाइब्रेरी विभिन्न पहलुओं पर जानकारी प्रदान करता है।

    शिक्षा में आईसीटी का उपयोग ( Use Of ICT In Education)

    कई देशों में, स्कूलों में सूचना और संचार प्रौद्योगिकी (आईसीटी) के समावेश के माध्यम से डिजिटल साक्षरता का निर्माण किया जा रहा है;

    आईसीटी के कुछ सामान्य शैक्षिक अनुप्रयोगों में शामिल हैं:

    1. प्रति बच्चा एक लैपटॉप

    कम बिजली की खपत, कम लागत वाली ऑपरेटिंग सिस्टम जैसी सुविधाओं के साथ 1: 1 के आधार पर स्कूल में उपयोग के लिए कम महंगे लैपटॉप डिजाइन किए गए हैं; और विशेष री-प्रोग्रामिंग और जाल नेटवर्क फ़ंक्शन।

    हालांकि, लागत कम करने के प्रयासों के बावजूद, प्रति बच्चा एक लैपटॉप प्रदान करना कुछ विकासशील देशों के लिए बहुत महंगा हो सकता है।

    2. टैबलेट (Tablets)

    टैबलेट एक छोटे निजी कंप्यूटर हैं जिसमें एक कीबोर्ड या माउस के बिना टच स्क्रीन की अनुमति है; सस्ती शिक्षण सॉफ़्टवेयर (“एप्लिकेशन) टेबलेट पर डाउनलोड की जा सकती हैं, जिससे उन्हें सीखने के लिए एक बहुमुखी उपकरण बनाया जा सकता है।

    सबसे प्रभावी ऐप उच्च-क्रम सोच कौशल विकसित करते हैं और छात्रों को अपनी समझ को व्यक्त करने के लिए रचनात्मक और व्यक्तिगत विकल्प प्रदान करते हैं।

    3. इंटरएक्टिव व्हाइट बोर्ड्स या स्मार्ट बोर्ड्स (Interactive White Boards Or Smart Boards)

    इंटरएक्टिव व्हाइटबोर्ड्स अनुमानित कंप्यूटर छवियों को प्रदर्शित करने, हेरफेर करने, खींचने, क्लिक करने या कॉपी करने की अनुमति देते हैं; इसके साथ ही, हस्तलिखित नोट बोर्ड पर लिए जा सकते हैं और बाद में उपयोग के लिए सहेजे जा सकते हैं।

    4. ई-रीडर (E-Reader)

    ई-रीडर इलेक्ट्रॉनिक उपकरण हैं जो डिजिटल रूप में सैकड़ों पुस्तकों को पकड़ सकते हैं, और वे पठन सामग्री के वितरण में तेजी से उपयोग किए जाते हैं। स्वतंत्र वाचन के लिए कुशल पाठक और अनिच्छुक पाठक दोनों छात्रों के पास ई-पाठकों के उपयोग के लिए सकारात्मक प्रतिक्रियाएं हैं।

    सकारात्मक उपयोग में योगदान कर सकने वाले ई-पाठकों की विशेषताओं में उनकी पोर्टेबिलिटी और लंबी बैटरी जीवन, एक पाठ की प्रतिक्रिया और अज्ञात शब्दों को परिभाषित करने की क्षमता शामिल है।

    इसके अतिरिक्त, कई क्लासिक पुस्तक शीर्षक ई-बुक (E-Book) फॉर्म में हैं।

    5. फ़्लिप्ड क्लासरूम

    क्लास में कंप्यूटर-निर्देशित निर्देश और इंटरेक्टिव लर्निंग गतिविधियों के माध्यम से घर पर व्याख्यान और अभ्यास को शामिल करते हुए फ़्लिप कक्षा मॉडल, एक विस्तारित पाठ्यक्रम के लिए अनुमति दे सकता है।

    फ़्लिप किए गए कक्षाओं के छात्र सीखने के परिणामों की बहुत कम जाँच होती है; फ़्लिप किए गए क्लासरूम के बारे में छात्र की धारणाएं मिश्रित हैं, लेकिन आम तौर पर सकारात्मक हैं, क्योंकि वे कक्षा में सहकारी शिक्षण गतिविधियों को पसंद करते हैं।

    स्कूलों में आईसीटी के लिए बैरियर ( Barriers For ICT In Education)

    विभिन्न बाधाएं हैं जो स्कूलों में आईसी टी के सफल कार्यान्वयन को रोकती हैं; ये अवरोध विभिन्न कारकों के कारण होते हैं;

    1. बिजली की कमी

    • देश में बिजली की कमी स्कूलों में आईसीटी के कार्यान्वयन के लिए एक बड़ी बाधा है।
    • यह ज्यादातर ग्रामीण क्षेत्रों में एक समस्या है जहां कुछ लोगों को अभी तक बिजली तक पहुंच नहीं है; लेकिन यह केवल एक ग्रामीण समस्या नहीं है क्योंकि यह बस्ती में भी मौजूद है।
    • नियमित बिजली की कटौती और केबल चोरी स्कूलों को कंप्यूटर के साथ छोड़ देती है जो प्रयोगशाला में बैठते हैं और धूल जमा करते हैं।

    2. योग्य शिक्षकों की कमी

    • ऐसे कम शिक्षक होते हैं जिनके पास कंप्यूटर अनुप्रयोग और प्रौद्योगिकी (CAT) सिखाने के लिए उपयुक्त योग्यताएँ होती हैं।
    • जब ओबी पाठ्यक्रम के माध्यम से स्कूलों में कैट शुरू की गई थी, तो जिन शिक्षकों को कंप्यूटर के बारे में बहुत कम या बुनियादी जानकारी थी या जिन्हें कीबोर्ड कौशल था, उन्हें कैट को पढ़ाने के लिए कहा गया था और उन्हें कोई और प्रशिक्षण प्रदान नहीं किया गया था।
    • यह अब शिक्षार्थियों के लिए एक बाधा पैदा करता है क्योंकि वे सभी को ठीक से नहीं पढ़ाया जाता है कि उन्हें पढ़ाया जाना चाहिए ताकि वे हाई स्कूल कंप्यूटर को अनपढ़ कर सकें।

    3. भ्रष्ट सरकारें (Corrupt Government)

    • सरकार के भ्रष्टाचार से स्कूलों में संसाधनों की कमी होती है। सरकार स्कूल में संसाधन नहीं देती है और इससे शिक्षकों को कंप्यूटर को आसानी से पढ़ाना मुश्किल हो जाता है।
    • शिक्षार्थियों को एक ही कंप्यूटर साझा करना पड़ता था और कौशल विकसित नहीं होते थे क्योंकि शिक्षकों को सब कुछ प्रदर्शित करना पड़ता था और शिक्षार्थी कंप्यूटर का उपयोग नहीं करते थे।

    4. इंटरनेट की सुविधा नहीं है ( No Internet Facility)

    • ज्यादातर सरकारी स्कूलों में इंटरनेट की सुविधा नहीं है। उनके पाठ पाठ्यपुस्तकों तक सीमित हैं। वे सुरक्षित और उचित रूप से इंटरनेट का उपयोग कैसे करें, इस बारे में प्रशिक्षित नहीं हैं।

    5. साइबरबुलिंग (Cyber Bullying)

    • साइबरबुलिंग की वृद्धि भी आईसीटी के कार्यान्वयन में बाधा है। साइबरबुलिंग का मतलब सिर्फ इंटरनेट से नहीं बल्कि हैकिंग (Hacking) से है।
    • जब कोई व्यक्ति कंप्यूटर हैक करता है तो वे सॉफ्टवेयर को नष्ट कर सकते हैं और स्कूलों के दस्तावेजों को बचा सकते हैं।
    • स्कूलों को एक सुरक्षित तरीके से कंप्यूटर का उपयोग करने की आवश्यकता है जो सीखने वालों को हैकर्स या साइबर बदमाशी के लिए उजागर नहीं करेगा।

    (Information And Communication Technology) ICT B.Ed Practical File in Hindi Download PDF

    ICT (सूचना और संचार प्रौद्योगिकी) (Information and Communication Technology) PDF File in Hindi की विषय सूची :

    1. सूचना का अर्थ और परिचय - Meaning And Introduction Of Information
    2. प्रौद्योगिकी अर्थ और परिचय - Technology Meaning And Introduction
    3. सूचना प्रौद्योगिकी अर्थ  - Information Technology Meaning
    4. कंप्यूटर  - Computer
    5. कंप्यूटर का विकास - Development Of Computer
      1. पहली पीढ़ी का कंप्यूटर - First Generation Computer
      2. दूसरी पीढ़ी का कंप्यूटर - Second Generation Computers
      3. तीसरी पीढ़ी का कंप्यूटर - Third Generation Computer
      4. चौथी पीढ़ी का कंप्यूटर - Fourth Generation Computer
      5. पांचवीं पीढ़ी का कंप्यूटर - Fifth Generation Computer
    6. कंप्यूटर के लक्षण - Characteristics Of Computer
    7. कंप्यूटर का काम - Work Of Computer
    8. कंप्यूटर प्रोग्रामिंग और भाषा - Computer Programming And Languages
    9. कंप्यूटर का वर्गीकरण - Classification Of Computers
      1. माइक्रो कंप्यूटर - Microcomputer
      2. मिनी कंप्यूटर - Mini Computer
      3. मेनफ़्रेम कंप्यूटर - Mainframe Computer
      4. सुपर कंप्यूटर - Super Computer
    10. पर्सनल कंप्यूटर के घटक - Components Of Personal Computer
      1. इनपुट डिवाइस - Input Device
      2. आउटपुट डिवाइस - Output Device
    11. CPU (सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट)
    12. स्मृति (मेमोरी ) - Memory
    13. इंटरनेट - Internet
    14. इंटरनेट प्रोटोकॉल - Internet Protocol
    15. www (वर्ल्ड वाइड वेब)

    www.LearningClassesOnline.com/

    Tags:

    Ict File Hindi

    Ict File In Hindi Pdf

    Ict B.Ed Practical File Free Download Pdf

    Critical Understanding Of Ict In Education B.Ed 1st And 2nd Year And All Semester Practical File, Project, Assignment, Notes, Study Material, Book In Hindi Medium Pdf

    Computer Practical File In Hindi Langauge For B.Ed Students

    Computer Practical File In Hindi

    Information And Communication Technology Ict Practical File

    आईसीटी की बी.एड प्रैक्टिकल फाइल हिंदी में पीडीऍफ़ डाउनलोड करे

    Ict Project In Hindi

    Ict Assignment In Hindi

    Critical Undrstanding Of Ict Pdf Handmade Short Exam Notes And Book

    Ict फाइल प्रोजेक्ट और असाइनमेंट हिंदी में कैसे बनाये?

    ICT File in Hindi for B.Ed 1st Year

    List of the Topic Covered:

    • Meaning and Definition of ict in Hindi
    • Use of Information And Communication Technology in hindi
    • Importance of ict in Hindi
    • Meaning and definition of ict in hindi
    • Generations of computer in hindi
    • Classification of computer in hindi
    • Features of computer in hindi
    • Computer hardware in hindi
    • Input devices in hindi
    • Output devices in hindi
    • Software and types of software in hindi
    • Ict in hindi
    • Ict devices in hindi
    • Use of ict in education in hindi
    • Barriers in implementing ict in school in hindi
    ICT in Hindi PDF critical understanding of ICT in Hindi PDF notes, practical file,assignment, project free download
    Here you can Download CRITICAL UNDERSTANDING OF ICT IN HINDI B.Ed First Year Practical File and Hand made Notes PDF

    ict in hindi notes and Books, ICT IN EDUCATION PDF IN HINDI

    निचे दी गयी ICT (सूचना और संचार प्रौद्योगिकी) (Information and Communication Technology) पीडीऍफ़ की विषय सूची :
    1. सूचना का अर्थ और परिचय (Information Meaning and Introduction)
    2. प्रौद्योगिकी अर्थ और परिचय (Technology Meaning and Introduction)
    3. सूचना प्रौद्योगिकी अर्थ 
    4. कंप्यूटर 
    5. कंप्यूटर का विकास
      1. पहली पीढ़ी का कंप्यूटर
      2. दूसरी पीढ़ी का कंप्यूटर
      3. तीसरी पीढ़ी का कंप्यूटर
      4. चौथी पीढ़ी का कंप्यूटर
      5. पांचवीं पीढ़ी का कंप्यूटर
    6. कंप्यूटर के लक्षण
    7. कंप्यूटर का काम
    8. कंप्यूटर प्रोग्रामिंग और भाषा
    9. कंप्यूटर का वर्गीकरण
      1. माइक्रो कंप्यूटर
      2. मिनी कंप्यूटर
      3. मेनफ़्रेम कंप्यूटर
      4. सुपर कंप्यूटर
    10. पर्सनल कंप्यूटर के घटक
      1. इनपुट डिवाइस
      2. आउटपुट डिवाइस
    11. CPU (सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट)
    12. स्मृति (मेमोरी )
    13. इंटरनेट
    14. इंटरनेट प्रोटोकॉल
    15. WWW (वर्ल्ड वाइड वेब)

    Similar Posts


    Related:


    1 Comments

    Please Share your views and suggestions in the comment box

    1. Did u try to use external powers for studying? Like DigitalEssay.net ? They helped me a lot once.

      ReplyDelete

    Post a Comment

    Please Share your views and suggestions in the comment box

    Previous Post Next Post