[BEST] Economics Lesson Plans in Hindi | अर्थशास्त्र पाठ योजना 2021

[BEST] Economics Lesson Plans in Hindi | अर्थशास्त्र पाठ योजना 2021

Economics Lesson Plan in Hindi (अर्थशास्त्र पाठ योजना - लेसन प्लान हिंदी में) | Economics Lesson Plan in Hindi For B.Ed | Arthsastra Path Yojna

Economics Lesson Plan in Hindi (अर्थशास्त्र पाठ योजनाएं) for School teachers, B.Ed 1st and 2nd year / Semester, DELED, BTC, BSTC, NIOS, CBSE, NCERT, and all teacher training courses.

Economics lesson plan in hindi for class 9, 10 , 11, 12 , bed and school teachers free download,Economics Lesson Plan in Hindi for B.Ed, DELED, BTC, BSTC, NIOS, M.Ed, CBSE, NCERT School teachers free download pdf,

दोस्तों, अगर आप इकोनॉमिक्स के हिंदी में लेसन प्लान ( Economics Lesson Plan in Hindi) ढूंढ रहे है| तो आप बिलकुल ठीक जगह पर है| यहां आपको अर्थशास्त्र के सभी Skills जैसे की Microteaching, Mega Teaching, Discussion, Real School Teaching और Observation Skill आदि के बहुत सारे Lesson Plan मिलेंगे | जिसकी सहायता से आप अपने Economics के लेसन प्लान हिंदी में बड़ी ही आसानी से बना पाएंगे| और साथ ही साथ अन्य विषयो पर भी Lesson Plan तैयार करने में आपको बहोत मदद मिलेगी | Economics Lesson Plan in Hindi के सभी लिंक निचे दिए गए है|

List of All Economics Lesson Plans in Hindi

Economics Lesson Plan in Hindi | अर्थशास्त्र पाठ योजना | Arthsastra Economics Path Yojna and Lesson Plan Format

( सूक्षम शिक्षण पाठ योजना ) - Micro teaching Economics Lesson Plans in Hindi

मैक्रो/ सिमुलेटेड/डिस्कशन/रियल टीचिंग लेसन प्लान ( Macro, Simulated, Discussion, and Real Teaching Economics Lesson Plan in Hindi for B.Ed)



Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना

नमस्कार दोस्तों !!!

ऊपर जो इकोनॉमिक्स की पाठ योजनाएं ( economics path yojana दी गई हैं, वह खास तौर पर B.Ed के 1st और 2nd Year और सभी Semester के विद्यार्थियों के लिए हैं। जिसकी सहायता से बी एड में पढ़ रहे हैं सभी विद्यार्थी जिनका टीचिंग Subject Economics ( अर्थशास्त्र ) है, अपनी Teaching of Economics की प्रैक्टिकल लेसन प्लान फाइल आसानी से बना पाएंगे। केवल BEd के विद्यार्थी ही नहीं d.El.Ed, बीटीसी, NCERT aur CBSE स्कूलों में पढ़ा रहे Sabhi शिक्षक और शिक्षिकाएं भी ऊपर दिए गए अर्थशास्त्र के लेसन प्लांस ( Economics Lesson Plan in Hindi) से अपनी पाठ योजना तैयार कर सकते हैं| यह पाठ योजनाएं ( Lesson Plan) सभी कक्षाओं जैसे कि कक्षा 9, 10, 11 Aur 12 के लिए है|

इन Economics lesson plans mein alag alag prakar ke arthashastra ke lesson plan diye गए hai jaise ki sukshm shikshan paath yojana (microteaching lesson plans) जिनमे udaharan sahit drishtant Kaushal, prastavana Kaushal, uddipan Parivartan Kaushal, prashn Kaushal, aadi bahut sare कौशलों को cover Kiya hai. FiR uske bad Economics subject ke Hindi लेसन प्लान में Mega lesson plan, discussion lesson plan, school teaching practice lesson plan, मैक्रो, सिमुलेटेड टीचिंग, observation lesson plans Bhi diye Hain.

अगर आप भी ढूंढ रहे हैं Best Economics Lesson Plan in Hindi ( अर्थशास्त्र पाठ योजनाएं हिंदी में) तो ऊपर सभी टॉपिक्स के लिंक दिए गए हैं जिन पर क्लिक करके आप अपने इकोनॉमिक्स की लेसन प्लान प्रैक्टिकल फाइल और वर्कबुक बना सकते है|

lesson plan for economics class 9 in hindi pdf

lesson plan for economics class 11 in hindi

lesson plan for economics class 11 pdf

krishi lesson plan in hindi

bazar lesson plan in hindi

economics lesson plan class 9

economics lesson plan in hindi

lesson plan for economics class 9 in hindi pdf

lesson plan for economics class 10 in hindi

lesson plan for economics class 8 in hindi pdf

b.ed economics lesson plan in hindi pdf

economics topics for lesson plan in hindi

economics lesson plans pdf in hindi

micro lesson plan of economics in hindi

micro teaching economics in hindi

इकोनॉमिक्स लेसन प्लान इन हिंदी पीडीएफ

b ed economics lesson plan in hindi pdf

माइक्रो लेसन प्लान ऑफ़ इकोनॉमिक्स

यातायात के साधन lesson plan

लेसन प्लान फॉर इकोनॉमिक्स फॉर बीएड इन हिंदी PDF

berojgari lesson plan

economics bed lesson plan in hindi

mudra lesson plan

mudra lesson plan in hindi

arthsastra lesson plan

arthsastra lesson plan pdf

path yojana hindi pdf

How To Make A Economics Lesson Plan In Hindi

As You Know, Lesson Plans Are Detailed Descriptions Of The Course Of Instructions Or "Learning Trajectories" For Teachers. Lesson Plans Are Developed On A Daily Basis By The Economics Teachers To Guide Class Learning.

Experienced Teachers May Make It Briefly As An Outline Of The Teacher’s Activities. A Semi-Detailed Lesson Plan Is Made By The New Teachers And It Includes All Activities And Teachers’ Questions.

A Trainee Teacher Should Make A Detailed Lesson Plan, In Which All The Activities, Teacher’s Questions, And Student’s Expected Answers Are Written Down.

Components Of The Economics Lesson Plan In Hindi

 Economics Lesson Plans in Hindi Consist Of The Following Components:

1. General Objectives:

It is The Overall Knowledge Obtained By The Child. It Is Useful In Real-Life Teaching.

2. Specific Objectives:

It Includes:

  • Knowledge Objectives: Students Will Be Able To Get Knowledge About The Specific Topic Of Economics.
  • Understanding Objective: Students Will Be Able To Understand The Concept Of The Specific Topic Of Economics.
  • Application Objectives: Students Will Be Able To Apply The Attained Knowledge In Day-To-Day Life.

3. Learning Activities:

1. Preparatory Activities:  

These Are

  • Drill: Activity Enabling Students To Automate Response To Pre-Requisite Skills Of The New Lesson.
  • Review: Activity That Will Refresh Or Renew Previously Taught Material.
  • Introduction: An Activity That Will Set The Purpose Of The Day’s Lesson.
  • Motivation: All Activities That Arouse The Interest Of The Learners (Both Intrinsic And Extrinsic)

2. Developmental Activities

These Includes:

  • Presentation Of The Economics Lesson: The Teacher Uses Different Activities As A Vehicle To Translate The Knowledge, Values, And Skills Into Learning That Could Be Applied In Their Lives Outside The School.
  • Discussion/ Analysis: The Teacher Asks A Series Of Effective Or Cognitive Questions About The Lesson Presented.
  • Abstraction/ Generalization: The Complete Summarization Of The Information Takes Place Before The Actual Presentation.
  • Closer /Application: This Relates The Lesson To Other Situations In Forms Of
    • Dramatization,
    • Simulation And Play,
    • Storytelling,
    • Oral Reading,
    • Construction/ Drawing,
    • Written Composition,
    • Singing Or Reciting A Poem,
    • A Test,
    • Or Solving Problems.

Evaluation:

It Is A Method Or Way Of Checking Or Evaluating The Objectives Met By The Previous Lessons. Questioning, Summarizing, Comparing, Presenting The Previous Learning, Assigning Work, Administering A Short Quiz, Etc. Come Under This.

Assignment:

  • Teachers Prepare This Activity Outside The School Or At Home. Students Bring The Material Needed In The Classroom.
  • These Activities Should Help Attain The Lesson’s Objective.
  • It Should Be Interesting And Differentiated (With Provision For Remedial, Reinforcement, And Enrichment Activities.)

Economics Lesson Plan In Hindi

Economics Lesson Plans in Hindi

Economics Lesson Plan For B.Ed In Hindi Free Download Pdf

Micro Teaching Economics Lesson Plan In the Hindi Language

Mega Teaching Economics Lesson Plans In Hindi Medium

Simulated Teaching Economics Lesson Plan In Hindi

Real School Teaching And Practice Economics Lesson Plan For B.Ed And Deled 1st Year 2nd Year In Hindi

JAMIA, MDU, CRSU, DU, IGNOU, IPU University Economics Lesson Plans In Hindi

Collection of 20 Observation Lesson Plans for B.Ed students and School Teachers on Different Subjects 

1. 

Class : 9th
Subject: Physical Science
Topic: Atom Structure

2.


Class: 6th
Subject: English
Topic: Tense




3.

Class: 8th
Subject: Social Science

Topic: Bhartiya Samvidhan



4.

Class: 6th
Subject: social studies

Topic: Soil







5.

Class: 10th
Subject: mathematics

Topic: Factor


6.

Class: 7 
Subject: Social Studies

Topic: Democracy


7.

Class: 7th
Subject: Social Studies

Topic: Jalvayu


8.

Class: 10th
Subject: Physical Science

Topic: Atom Structure






9.

Class: 9th
Subject: Social Studies

Topic: Economy




10.

Class: 9th 
Subject: Life Science 

Topic:Reproduction in Plant




11.

Class: 8th 
Subject: Hindi

Topic: संज्ञा

12.

Class: 9 
Subject: Physical Science 

Topic: Atom




13.

Class: 10th 
Subject: English

Topic: Sentence


14.

Class: 8th
Subject: maths

Topic: Cube


15. 

Class: 10
Subject: English 

Topic: Letter Writing 


16.

Class: 6 
Subject: Hindi 




17. 

Class : 8
Subject: Social Studies
Topic: constitution 


18.

Class : 8 
Subject:  Social Science 
Topic: Fundamental Rights



19 and 20



Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना
(Videshi Vyapar) Foreign Trade Lesson Plan in Hindi | विदेशी व्यापार पाठ योजना | Videshi Vyapar Lesson Plan In Hindi : विदेशी व्यापार पर लेसन प्लान | Foreign Trade Lesson Plan in Hindi | Foreign Trade ( विदेशी व्यापार ) Economics Lesson Plan in Hindi for Class 9 free download pdf | Videshi Vyapar Lesson Plan In Hindi : विदेशी व्यापार

Videshi Vyapar Lesson Plan In Hindi : विदेशी व्यापार पर लेसन प्लान | Foreign Trade Lesson Plan in Hindi

विदेशी व्यापार अंतरराष्ट्रीय सीमाओं या क्षेत्रों में पूंजी, वस्तुओं और सेवाओं का आदान-प्रदान है। कई देशों में, यह सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) के एक महत्वपूर्ण हिस्से का प्रतिनिधित्व करता है। औद्योगीकरण, उन्नत परिवहन, वैश्वीकरण, बहुराष्ट्रीय निगम और आउटसोर्सिंग सभी का अंतर्राष्ट्रीय व्यापार प्रणाली पर बड़ा प्रभाव पड़ रहा है।वैश्वीकरण की निरंतरता के लिए अंतर्राष्ट्रीय व्यापार बढ़ाना महत्वपूर्ण है। विश्व शक्ति माने जाने वाले किसी भी राष्ट्र के लिए अंतर्राष्ट्रीय व्यापार आर्थिक राजस्व का एक प्रमुख स्रोत है।

विदेशी व्यापार राष्ट्रीय सीमाओं पर माल का आदान-प्रदान है। प्रो. जे.एल. हैनसन ने कहा, “संबंधित देशों के बीच प्रदान की जाने वाली विभिन्न विशिष्ट वस्तुओं और सेवाओं के आदान-प्रदान को विदेशी व्यापार के रूप में जाना जाता है।”विदेश व्यापार, सिद्धांत रूप में, घरेलू व्यापार से अलग नहीं है क्योंकि व्यापार में शामिल पक्षों की प्रेरणा और व्यवहार मौलिक रूप से इस पर निर्भर करता है कि कोई व्यापार सीमा पार है या नहीं। मुख्य अंतर यह है कि अंतर्राष्ट्रीय व्यापार आमतौर पर घरेलू व्यापार की तुलना में अधिक महंगा होता है।

इसका कारण यह है कि एक सीमा आम तौर पर अतिरिक्त लागतें लगाती है जैसे कि टैरिफ, सीमा में देरी के कारण समय की लागत, और देश के अंतर से जुड़ी लागत जैसे कि भाषा, कानूनी प्रणाली, या एक अलग संस्कृति। विदेशी व्यापार आयात और निर्यात के बारे में है। राष्ट्रों के बीच किसी भी विदेशी व्यापार की सबसे जरुरी चीज वे उत्पाद और सेवाएँ होती हैं जिनका व्यापार किसी विशेष देश की सीमाओं के बाहर किसी अन्य स्थान पर किया जाता है।

विदेशी व्यापार के प्रकार –

  • आयात ( Import )
  • निर्यात  ( Export )
  • पुन: निर्यात ( Re-export )

विदेश व्यापार की विशेषताएं  –

  • हमारे देश का विदेश व्यापार उच्च मांग और कम आपूर्ति के कारण आयात पर निर्भर करता है |
  • पूंजीगत सामान और औद्योगिक सामान आयात करें |
  • रेडीमेड गारमेंट्स (आरएमजी), आरएमजी और निटवेअर का निर्यात 74% निर्यात,
  • कृषि कच्चे माल और उत्पादों का निर्यात
  • प्रतिकूल भुगतान संतुलन (अधिक आयात लेकिन कम निर्यात)
  • अधिकांश व्यवसाय समुद्र/महासागर द्वारा संचालित करें |
  • जूट और जूट के सामानों का निर्यात,
  • जनशक्ति का निर्यात,
  • निजी पहल,

Videshi Vyapar Lesson Plan

  • कक्षा : 9-12
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : विदेशी व्यापार (Foreign Trade)
  • लेसन प्लान टाइप : मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग 

Note: निचे दी गयी अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|

Date : 

Duration Of The Period :

Pupils Teacher Name :

Pupil Teacher’s Roll Number :

Class :

Average Age Of the Pupils :

Subject :

Topic :

विषय वस्तु विश्लेषण

  • विदेशी व्यापार का अर्थ
  • विदेशी व्यापार का महत्व

सामान्य उद्देश्य  –

  • छात्रों की रचनात्मकता विकास करना |
  • छात्रों की अर्थव्यवस्था में रुचि उत्पन्न करना |
  • छात्रों की तरफ शक्ति का विकास करना |
  • छात्रों की मानसिक शक्ति का विकास करना |
  • छात्रों की कल्पना शक्ति का विकास करना |

विशिष्ट उद्देश्य –

ज्ञान – छात्रों को यह बताना कि विदेशी व्यापार क्या है और इसका अर्थ क्या है |

बोध – छात्रों को यह समझाना कि विदेशी व्यापार का महत्व क्या है |

प्रयोगात्मक –  उन्हें विदेशी व्यापार से प्राप्त मुद्रा का हमारे देश के लिए क्या महत्व है |

कौशलात्मक उद्देश्य –  छात्रों विदेशी व्यापार  के बारे में बताना ताकि वे इस पर अपना तर्क दे सकें |

अनुदेशात्मक सामग्री

  • सामान्य सामग्री – चौक, झाड़न, संकेतक, श्यामपट्ट
  • विशिष्ट सामग्री – एक चार्ट जिसमें विदेशी व्यापार के बारे में बताया गया हो |
पूर्व ज्ञान –  बच्चों के विदेशी व्यापार से संबंधित पूर्व ज्ञान |

पूर्व ज्ञान परीक्षण

अध्यापक क्रियाये

छात्र क्रियाये

व्यापार से आप क्या समझते हैं ?

वस्तुओं का क्रय विक्रय

विदेशी व्यापार का क्या अर्थ है ?

देश से बाहर से वस्तुओं का क्रय विक्रय

किस प्रकार की वस्तुओं का क्रय विक्रय होता है ?

समस्यात्मक

उद्घोषणा –  आज हम आपको विदेशी व्यापार के विषय में बताएंगे |

प्रस्तुतीकरण

शिक्षण

छात्र अध्यापक क्रियाएं

छात्र क्रियाएं

घट  

विदेशी व्यापार का अर्थ

 वस्तुओं के क्रय और विक्रय की प्रक्रिया को व्यापार कहा जाता है| कोई भी देश अपने निवासियों की आवश्यकता पूरी करने के लिए सारी वस्तुएं पैदा नहीं कर सकता | ऐसी वस्तु की पैदावार देश में मांग के संबंध में कम होती है| ऐसी वस्तुएं दूसरे देशों से खरीदी जाती है इसके विपरीत जिन वस्तुओं का उत्पादन देश में आवश्यकता से अधिक होता है | उनको दूसरे देशों में बिक्री के लिए भेजा जाता है | इस प्रकार वस्तुओं का आयात और निर्यात की प्रक्रिया को विदेशी व्यापार कहा जाता है|

 

विदेशी व्यापार का महत्व


विदेशी व्यापार का महत्व निम्न प्रकार से है –

 

प्राकृतिक साधनों का प्रयोग


विदेशी व्यापार प्राप्ति साधनों का उचित प्रयोग करने के सहायक सिद्ध होते हैं, क्योंकि उत्पादन में वृद्धि के लिए साधनों के उचित प्रयोग पर बल दिया जाता है |

 

 

विदेशी मुद्रा की प्राप्ति


देश के निर्यात में वृद्धि होने से विदेशी मुद्रा प्राप्त होती है | जिसका प्रयोग आधुनिक तकनीकी और मशीनें आयात करने के लिए किया जाता है|

 

 

रोजगार तथा आय में वृद्धि 

 

विदेशी व्यापार का रोजगार और आय का अच्छा प्रभाव होता है क्योंकि निर्यात की जाने वाली वस्तुओं के उत्पादन मंडी करण आदि क्रियाओं से लाखों श्रमिकों को रोजगार प्राप्त होता है |

 

व्यापारिक संबंध


विदेशी व्यापार से संबंधित देश के दूसरे देशों से व्यापारिक संबंध स्थापित होने से राजनीतिक संस्कृति तथा आर्थिक संबंधों का विकास होता है |

 

 

आर्थिक संकट में सहायक


आर्थिक संकट के समय विदेशों से अनाज दवाइयां कपड़े तथा अन्य आवश्यक वस्तुओं का आयात किया जाता है ताकि देश में लोगों की आवश्यकताओं को पूरा किया जा सके |

 

आर्थिक विकास में सहायक


देश के आर्थिक विकास के लिए विशेषज्ञों की सेवाएं प्राप्त ताकि कृषि औद्योगिक और सेवाओं के क्षेत्रों में आधुनिक तकनीकी तथा सुधरे हुए ढंगों का प्रयोग किया जाता है |

 

 

औद्योगिक उत्पादन में वृद्धि


देश में औद्योगिक उत्पादन में वृद्धि करने के लिए आधुनिक मशीनों का आयात किया जाता है |

 

 

मूल्यांकन –

  • व्यापार क्या है विदेशी व्यापार से आप क्या समझते हैं ?
  • विदेशी व्यापार का क्या महत्व है ?

गृह कार्य –

  • व्यापार से आप क्या समझते हैं तथा विदेशी व्यापार से आप क्या समझते हैं ?
  • विदेशी व्यापार का हमारे देश के विकास में क्या महत्व है


Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना

Videshi Vyapar Lesson Plan

Videshi Vyapar Lesson Plan For B.Ed

Videshi Vyapar Lesson Plan For D.El.Ed

Videshi Vyapar Lesson Plan In Hindi

Videshi Vyapar Lesson Plan PDF

Economics का Lesson Plan On Foreign Trade

Lesson Plan Videshi Vyapar 

Microteaching, Mega teaching, Discussion, Real School Teaching and Practice, and Observation Skill Lesson Plan on Videshi Vyapar ( foreing trade)

Foreign Trade का Lesson Plan In Hindi

foreign trade lesson plan in hindi

videshi vyapar path yojna

ecnomics lesson plan in hindi on videshi vyapar


  • कक्षा : 9
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : विदेशी व्यापार
  • लेसन प्लान टाइप : मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग 


Note: निचे दी गयी  अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|












Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना
(Banking System) Bank Lesson Plan in Hindi | बैंक पाठ योजना | Bank Lesson Plan in Hindi for Class 10 economics teachers free download pdf | Banking System Lesson Plan In Hindi : बैंकिंग सिस्टम लेसन प्लान

Banking System Lesson Plan In Hindi : बैंकिंग सिस्टम पर लेसन प्लान | Bank Lesson Plan in Hindi for Economics

बैंकिंग एक ऐसा उद्योग है जो नकद, क्रेडिट और अन्य वित्तीय लेनदेन को संभालता है। बैंक अतिरिक्त नकदी और क्रेडिट स्टोर करने के लिए एक सुरक्षित स्थान प्रदान करते हैं। वे बचत खाते, जमा प्रमाणपत्र और खातों की जाँच की पेशकश करते हैं। बैंक इन जमाओं का उपयोग ऋण बनाने के लिए करते हैं। इन ऋणों में गृह बंधक, व्यवसाय ऋण और कार ऋण शामिल हैं।

बैंकिंग अमेरिकी अर्थव्यवस्था के प्रमुख चालकों में से एक है। यह भविष्य में निवेश करने के लिए परिवारों और व्यवसायों के लिए आवश्यक तरलता प्रदान करता है। बैंक ऋण और क्रेडिट का मतलब है कि परिवारों को कॉलेज जाने या घर खरीदने से पहले बचत करने की ज़रूरत नहीं है। कंपनियां भविष्य की मांग और विस्तार के निर्माण के लिए तुरंत भर्ती शुरू करने के लिए ऋण का उपयोग करती हैं।

  • कक्षा : 10,11,12
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : Banking ( बैंकिंग )
  • लेसन प्लान टाइप : मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग

Note: निचे दी गयी अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|

Date : 

Duration Of The Period :

Pupils Teacher Name :

Pupil Teacher’s Roll Number :

Class :

Average Age Of the Pupils :

Subject :

Topic :

विषय वस्तु विश्लेषण

  • बैंकिंग का अर्थ व परिभाषा
  • बैंकिंग के कार्य

सामान्य उद्देश्य  –

  • छात्रों की सृजनात्मक शक्ति का विकास करना |
  • छात्रों की बैंक के प्रति रुचि जागृत करना |
  • विद्यार्थियों की मानसिक शक्ति का विकास करना |
  • विद्यार्थियों को बैंक की सेवा से परिचित करवाना |

विशिष्ट उद्देश्य –

ज्ञानात्मक उद्देश्य

  • विद्यार्थियों को बैंकिंग व्यवस्था का ज्ञान करवाना |

बोधात्मक उद्देश्य

  • विद्यार्थियों को बैंक की व्यवस्था के कार्यों का बोध कराना |

कौशलात्मक उद्देश्य

  • विद्यार्थी तर्क करना सीख जाते हैं |
  • विद्यार्थी बैंकिंग का मूल्यांकन करने का कौशल प्राप्त कर लेते हैं |

प्रयोगात्मक उद्देश्य

  • विद्यार्थियों को बैंक की व्यवस्था के कार्यों को प्रयोगात्मक ढंग से बताना

अनुदेशात्मक सामग्री

  • सामान्य सामग्री – चौक, झाड़न, संकेतक, श्यामपट्ट
  • विशिष्ट सामग्री – एक चार्ट जिसमें बैंकिंग का वर्गीकरण बताया गया हो |
पूर्व ज्ञान – छात्रों को बैंक की व्यवस्था के बारे में पता होगा |

पूर्व ज्ञान परीक्षण

अध्यापक क्रियाये

छात्र क्रियाये

क्या आप जानते हैं बैंक क्या है ?

वह स्थान जहां पैसे का लेनदेन किया जाता है |

क्या आप जानते हैं कि बैंक के मुख्य कार्य क्या है ?

जमा करना, ऋण देना |

उद्घोषणा  –  आज हम बैंक के बारे में विस्तार से जानेंगे |

प्रस्तुतीकरण

शिक्षण

छात्र अध्यापक क्रियाएं

छात्र क्रियाएं

श्यामपट्ट

परिभाषा

बैंकिंग कंपनी वह है जो बैंकिंग का कार्य करती है | बैंकिंग से अभिप्राय उधार देना अथवा निवेश के उद्देश्य से जमा रूप में जनता से मुद्रा शिकार करना और इनका भुगतान मांगने पर चेक ड्राफ्ट आदेश या अन्य किसी प्रकार के भुगतान करना |

 

 

 

 

प्रश्न – क्या आप जानते हैं कि बैंक के मुख्य  कार्य क्या है ?

1.       जमा स्वीकार करना

2.       ऋण देना

 

जमा स्वीकार करना

एक बैंक जनता के धन को जमा करता है लोग अपनी सुविधा और शक्ति के अनुसार निम्न खातों में रुपया जमा कर सकते हैं |

 

निश्चित कालीन या सावधि जमा खाता – इस खाते में एक निश्चित अवधि के लिए कृपया जमा किया जाता है | जमा करता को जमा की रसीद दे दी जाती है इसमें जमा करता का नाम ब्याज की दर तथा जमा की अवधि लिखी होती है |

 

चालू जमा खाता –  इस खाते में जमा करता जितनी बार चाहे रुपया जमा कर सकता है और कभी भी आवश्यकता अनुसार निकाल सकता है | इस खाते में साधारणतया व्यापारी वर्ग रुपया जमा करवाता है |

 

बचत जमा खाता – यह खाता  छोटी छोटी बचत को प्रोत्साहन देने के लिए किया जाता है | इस खाते में एक निश्चित मात्रा तक रुपया निकल सकते है | निश्चित मात्रा से अधिक रुपए निकलवाने पर बैंक को सूचित किया जाता है |

होमसेफ बचत खाता – बैंकों ने इस खाते का प्रचलन अभी हाल में ही किया है इसमें जमा करता के घर पर एक गुल्लक प्रदान करता है जिसकी चाबी बैंक के पास होती है |

 

आवर्ती जमा खाता – इस प्रकार के खाते में जमा करता एक निश्चित समय जैसे – 12, 24, 36 या 60 महीनों के लिए प्रतिमास निश्चित रकम जमा करवाता है | यह रकम कुछ विशेष परिस्थितियों के अलावा साधारणतया निर्धारित समय से पहले नहीं निकाली जा सकती |

 

 

प्रश्न

 जमा कितने प्रकार की होती है

·         सावधि जमा खाता

·         चालू खाता

·         बचत जमा खाता

·         होमेसेफ बचत जमा खाता

·         आवृत्ति जमा खाता

ऋण देना

 बैंक का दूसरा मुख्य कार्य लोगों को रुपया उधार देना है | बैंक के पास जो रुपया जमा के रूप में आता है| उसमें से एक निश्चित राशि नकद कोष में रखकर बाकी रुपया बैंक द्वारा उधार दे दिया जाता है | यह बैंक पराया उत्पादक कार्यों के लिए देते हैं तथा उचित जमानत की मांग करते हैं |

ऋण निम्न प्रकार के होते हैं |

 

नकद साख –  इसके अंतर्गत पीढ़ी को एक निश्चित राशि निकलवाने का अधिकार दे दिया जाता है| इस सीमा के अंदर ही ऋणी पैसा निकलवाता है और जमा भी करवाता है | इसमें केवल वास्तव में निकलवाई गई राशि पर ब्याज लगता है |

 

 

मूल्यांकन –

निम्नलिखित में से सही पर निशान लगाएं –

  • व्यापारिक बैंक के कार्य हैं –
  1. जमाए स्वीकार करना
  2. लाकर सुविधाएं देना
  3. ए और बी
  4. इनमें से कोई नहीं

बैंक एक संस्था है –

  • जो मुद्रा का व्यापार करती है |
  • शेयर तथा परिसंपत्तियों का व्यापार करती है |
  • वस्तुओं का निर्माण करती है |
  • ना केवल मुद्रा का व्यापार करती है बल्कि मुद्रा का निर्माण भी करती है |

गृह कार्य –

  • व्यापारिक बैंक किसे कहते हैं ?
  • व्यापारिक बैंक के मुख्य कार्यों का विस्तार पूर्वक वर्णन करो ?
  • जमा स्वीकार करना तथा ऋण देने के मुख्य कार्य क्या है ?

Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना

Economics Lesson Plan on Bank in Hindi

Economics का Micro Lesson Plan On Bank

Lesson Plan Bank for Economics 

Bank का Lesson Plan In Hindi for B.Ed

Banking system lesson plan

bank lesson plan

bank lesson plan in hindi

banking system lesson plan in hindi

macro and real school teaching economics lesson plan on banking system for b.ed

econmics class 10th 11th 12th banking system lesson plan in hindi medium for b.ed and deled free download PDf

bank path yojna

arthsashtra path yojna bank

types of bank and banking system lesson plan in hindi


  • कक्षा : 10
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : Banking ( बैंकिंग )
  • लेसन प्लान टाइप : मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग 


Note: निचे दी गयी  अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|














Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना
बेरोजगारी पाठ योजना ( Unemployment Causes ) Economics Lesson Plan for Class 9 in Hindi free download pdf

Berojgari ke Karan Lesson Plan In Hindi : बेरोजगारी के कारण पाठ योजना | Unemployment Lesson Plan in Hindi for Economics | Berojgari Path Yojna

बेरोजगारी किसी भी देश के विकास में सबसे बड़ी बाधा होती है | भारत में बेरोजगारी बहुत बड़ी समस्या है | शिक्षा का अभाव, रोजगार के कम अवसर बेरोजगारी के प्रमुख कारण हैं | इस समस्या को खत्म करने के लिए सरकार को कई प्रभावी कदम उठाने चाहिए | विकासशील और विकसित दोनों देशों में बेरोजगारी की समस्या होती है | जब व्यक्ति प्रचलित मजदूरी दर पर काम करना चाहता है, परंतु से कोई काम नहीं मिलता तो उसे बेरोजगारी कहते हैं |

हर देश में बेरोजगारी की परिभाषा अलग-अलग होती है | बेरोजगारी व्यक्तिगत और पूरे समाज पर नकारात्मक प्रभाव डालती है | हर समाज के लिए बेरोजगारी एक अभिशाप है | भारत में बेरोजगारी बढ़ने के कई कारण हैं, जैसे –
  • जनसंख्या में वृद्धि,
  • देश के धीमे आर्थिक विकास के कारण औद्योगिक विकास में कमी,
  • कुटीर उद्योगों में कमी
और भी कई कारण है | जिससे बेरोजगारी बढ़ती है | बेरोजगारी के कई प्रकार भी हैं –  मौसमी बेरोजगारी, छुपी बेरोजगारी, अल्प बेरोजगारी, खुली बेरोजगारी, संरचनात्मक बेरोजगारी |

मौसमी बेरोजगारी – यह बेरोजगारी कृषि में पाई जाती है क्योंकि किसान कुछ महीने ही खेत में काम करते है | जब खेत में जुताई, बुवाई, कटाई आदि होती है, लेकिन जैसे ही उनका काम खत्म हो जाता है | वह फिर से बेरोजगार हो जाते हैं | यह समस्या ज्यादातर भारत देश में देखने को मिलती है, क्योंकि भारत में सबसे ज्यादा कृषि कार्य होता है |

छुपी बेरोजगारी –  छुपी बेरोजगारी वह बेरोजगारी होती है | जिसमें व्यक्ति रोजगार दिखता है, लेकिन वह व्यक्ति रोजगार में नहीं होता | ऐसे व्यक्ति जिन्हें काम से हटा दिया जाए तो उत्पादन में कोई अंतर नहीं पड़ता | ऐसी बेरोजगारी को छुपी बेरोजगारी कहते हैं |

अल्प बेरोजगारी – अल्प बेरोजगारी का मतलब है कुछ दिनों के लिए मिला हुआ रोजगार | अल्प बेरोजगार में लोगों को सामान्य घंटों से भी कम घंटे मिलते हैं |

खुली बेरोजगारी – खुली बेरोजगारी वह स्थिति है जिसमें व्यक्ति काम करना चाहता है और उसमें योग्यता भी है परंतु से काम नहीं मिलता | वह पूरी तरह से अपने परिवार पर निर्भर रहता है |

संरचनात्मक बेरोजगारी – अर्थव्यवस्था में हुए संरचनात्मक बदलाव की वजह से जो बेरोजगारी उत्पन्न होती है उसे संरचनात्मक बेरोजगारी कहते हैं |

बेरोजगारी हर देश के विकास में बहुत बड़ी बाधा होती है, इससे निजात पाने के लिए हर देश के युवाओं को रोजगार के अवसर देने चाहिए |

  • कक्षा : 9
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : बेरोजगारी के कारण 
  • लेसन प्लान टाइप : मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग

Note: निचे दी गयी अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|

Berojgari (Unempolyment) Ke Karan Lesson Plan In Hindi 

Date : 

Duration Of The Period :

Pupils Teacher Name :

Pupil Teacher’s Roll Number :

Class :

Average Age Of the Pupils :

Subject :

Topic :

विषय वस्तु विश्लेषण

  • बेरोजगारी का अर्थ व परिभाषा
  • बेरोजगारी के कारण

सामान्य उद्देश्य  –

  • छात्रों की अर्थशास्त्र के प्रति रुचि पैदा करना |
  • छात्रों में रचनात्मक प्रवृत्ति को प्रोत्साहन करना |
  • छात्रों की मानसिक स्थिति को बढ़ाना |

विशिष्ट उद्देश्य –

 ज्ञानात्मक उद्देश्य

  • छात्रों को बेरोजगारी की स्थिति का ज्ञान कराना |

 बोधात्मक उद्देश्य

  • छात्रों को बेरोजगारी के कारणों का बोध कराना |

कौशलात्मक उद्देश्य

  • छात्रों को यह बताना कि वे अपने कौशल का प्रयोग करके वह किस प्रकार की बेरोजगारी को दूर करने के सुझाव दे सकते हैं |

प्रयोगात्मक उद्देश्य

  • छात्रों को बेरोजगारी के बारे में प्रयोगात्मक तरीके से बताना |

अनुदेशात्मक सामग्री

  • सामान्य सामग्री – चौक, झाड़न, संकेतक, श्यामपट्ट
  • विशिष्ट सामग्री – बेरोजगारी के कारण और सुझाव को दर्शाने वाला चार्ट

पूर्व ज्ञान –  छात्रों को बेरोजगारी दूर करने तरीकों की संक्षिप्त जानकारी हो |

पूर्व ज्ञान परीक्षण

अध्यापक क्रियाये

छात्र क्रियाये

भारत में लोगों का मुख्य व्यवसाय क्या है ?

कृषि

भारत में बेरोजगारी का स्तर कम या अधिक

अधिक

उद्घोषणा  –  छात्र अध्यापक घोषणा करेगा आज भारत में बेरोजगारी के कारणों के संबंध में पढेंगे

प्रस्तुतीकरण

शिक्षण

छात्र अध्यापक क्रियाएं

छात्र क्रियाएं

श्यामपट्ट

बेरोजगारी का अर्थ

 प्रश्न – बेरोजगारी किसे कहते हैं ?

 

वह स्थिति जिसमें व्यक्ति वर्तमान मजदूरी दर पर काम करने को तैयार है परंतु से काम नहीं मिलता |

 

 

 

 

 

बेरोजगारी के प्रकार

बेरोजगारी निम्न प्रकार की हो सकती है –

  1. अल्प बेरोजगारी
  2. चिरस्थाई  बेरोजगारी
  3. मौसमी  बेरोजगारी
  4. छुपी बेरोजगारी
  5. संरचनात्मक बेरोजगारी
  6. संघर्षात्मक बेरोजगारी

प्रश्न – छुपी हुई बेरोजगारी क्या है ?

 

 

 

प्रश्न – मौसमी बेरोजगारी क्या है ?

 

 

 

 

 

 

प्रश्न – अल्प बेरोजगारी क्या है ?

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

वह व्यक्ति जिनकी सीमांत उपयोगिता शून्य है | उसे छुपी हुई बेरोजगारी कहते है |

 

जब व्यक्ति को किसी विशेष मौसम में काम उपलब्ध होता है तो उसे मौसमी बेरोजगारी कहते हैं |

 

जब लोगों को 1 वर्ष में 273 दिन व 8 घंटे प्रति वर्ष कार्य मिलता है | तो उसे अल्प बेरोजगारी कहते है |

 

बेरोजगारी के कारण

भारत में पाई जाने वाली बेरोजगारी के निम्न कारण है |

बेरोजगारी के कारण

  1. धीमा आर्थिक विकास
  2. जनसंख्या में तेजी से वृद्धि 
  3. कुटीर व लघु उद्योगों का पतन
  4. सिंचाई की सुविधा
  5. कम बचत व निवेश
  6. श्रमिकों की गतिहीनता

धीमा आर्थिक विकास

भारत के विकास की गति धीमी रही है, इसलिए बढ़ती हुई जनसंख्या हेतु रोजगार के पर्याप्त न होने के कारण बेरोजगारी बढ़ गई है |

 

 

जनसंख्या में तेजी से वृद्धि 

भारत में जनसंख्या तेजी से बढ़ने के कारण श्रम शक्ति बढ़ जाती है, परंतु रोजगार उपलब्ध होने के कारण बेरोजगारी बढ़ जाती है |

कुटीर व लघु उद्योगों का पतन

अंग्रेजी सरकार ने भारत के कुटीर लघु उद्योगों का पतन कर दिया है जिससे इन उद्योगों से संबंधित कारीगरों को बेरोजगारी का सामना करना पड़ता है |

 

 

सिंचाई की सुविधा

भारत में केवल 40% भूमि पर ही सिंचाई सुविधा उपलब्ध हो पाई है, इसलिए किसान वर्ष में केवल एक फसल ही तैयार कर पाते हैं परिणामस्वरूप वर्ष के काफी समय उन्हें बेरोजगार रहना पड़ता है |

कम बचत व निवेश

भारत में प्रति व्यक्ति आय के कम होने के फलस्वरूप बचत व निवेश कम है परिणाम स्वरूप पूंजी निर्माण की  दर  कम हो रही है जिससे श्रमिकों हेतु रोजगार के पर्याप्त अवसर उपलब्ध नहीं हो सके हैं |

 

 

श्रमिकों की गतिहीनता

 भारत में श्रमिकों में गतिहीनता पाई गई है क्योंकि वह परिवार के  मोहके कारण दूसरे स्थानों पर जाकर काम करना पसंद नहीं करते गतिहीनता के कारण बेरोजगारी बढ़ गई है |

 

 

मूल्यांकन –

  • भारत में बेरोजगारी के तीन कारण बताओ ?
  • अधिक जनसंख्या बेरोजगारी कैसे बढ़ाती है ?
  • सिंचाई सुविधाओं की कमी से कैसे बेरोजगारी बढ़ती है ?

गृह कार्य –

  • भारत में बेरोजगारी के तीन कारण बताओ ?
  • अधिक जनसंख्या बेरोजगारी कैसे बढ़ती है ?
  • सिंचाई सुविधाओं की कमी से कैसे बेरोजगारी बढ़ती है ?

Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना

Berojgari ke Karan Lesson Plan

Berojgari ka Karan Lesson Plan For B.Ed

Berojgari ke Karan Lesson Plan For D.El.Ed

Berojgari ke Karan Lesson Plan In Hindi

Economics Lesson Plan in Hindi on Unemployment ( Berojgari)

Berojgari Path Yojna

Economics Lesson Plan in Hindi Class 9

Unemployment का Lesson Plan

Unemployment ( Berojgari ) का Lesson Plan In Hindi 

अर्थशास्त्र पाठ योजना


  • कक्षा : 9
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : बेरोजगारी के कारण
  • लेसन प्लान टाइप : मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग


Note: निचे दी गयी  अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|












Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना
Means of Transportation ( यातायात के साधन ) Class 9 Lesson Plan in of Economics in Hindi download pdf free

Yatayat Ke Sadhan Lesson Plan In Hindi : यातायात के साधन पाठ योजना | Means of Transport Lesson Plan in Hindi for Economics

एक स्थान से दूसरे स्थान तक आने-जाने को यातायात कहते है और जिस साधनों के माध्यम से यात्रा की जाती है,उन्हें यातायात के साधन कहते हैं| उदाहरण – रेलगाड़ी, साइकिल, मोटरसाइकिल, बस, हवाई जहाज,आदि | यातायात के साधनों के माध्यम से हम अपनी यात्रा सुगम और कम समय में तय कर सकते हैं | प्राचीन समय में लोग बैलगाड़ी, नाव और पैदल चलकर एक जगह से दूसरे स्थान पर पहुंच जाते थे|

इसमें उन्हें बहुत कठिनाइयां और खर्च बहुत अधिक होता था और समय भी बहुत लगता था | लेकिन आज यातायात के साधनों में आधुनिकता होने से समय भी कम लगता है और खर्च भी  कम होता है | आज यातायात के कई प्रकार हैं जो देश के आयात  निर्यात में मदद करते हैं यातायात के तीन प्रकार हैं – जल मार्ग, थल मार्ग, वायु मार्ग | 

जल के रास्ते से तय किए गए रास्तों को जल मार्ग यातायात कहा जाता है | जल मार्ग यातायात का उपयोग एक स्थान से दूसरे स्थान तक आयात निर्यात के लिए किया जाता है क्योंकि वायु मार्ग और स्थल मार्ग के द्वारा ज्यादा भारी वजन के वस्तुओं का आयात निर्यात करना कठिन है इसलिए जलमार्ग का उपयोग करते हैं जैसे  – पानी के जहाज |

आधुनिक युग विज्ञान का युग है पक्षियों को उड़ता देखकर आदमी की सोच, कल्पना भी उड़ान भरने लगी | आकाश में हवा में एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाने वाले साधनों को वायु मार्ग यातायात कहते हैं जैसे – हवाई जहाज | थल मार्ग का मतलब भूमि, भूमि पर किए गए यातायात को ही स्थल मार्ग यातायात कहते हैं | अलमारी के अंतर्गत दो मार्ग हैं सड़क मार्ग, रेल मार्ग | सड़क मार्ग के साधन – बस, जीप, ट्रक, बैलगाड़ी | रेल मार्ग के जरिए रेल की सहायता से यात्रा करते हैं |

  • कक्षा : 9
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : यातायात के साधनो का उपयोग
  • लेसन प्लान टाइप : मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग

Note: निचे दी गयी अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|

Yatayat Ke Sadhan Lesson Plan In Hindi 

Date : 

Duration Of The Period :

Pupils Teacher Name :

Pupil Teacher’s Roll Number :

Class :

Average Age Of the Pupils :

Subject :

Topic :

विषय वस्तु विश्लेषण

  • यातायात के साधनों का उपयोग बताना |

सामान्य उद्देश्य  –

  • विद्यार्थियों को देश की व्यापार व्यवस्था से परिचित करवाना |
  • विद्यार्थियों की मानसिक शक्ति का विकास करना |

विशिष्ट उद्देश्य –

ज्ञानात्मक उद्देश्य

  • विद्यार्थियों को यातायात के साधनों का ज्ञान कराना |

बोधात्मक उद्देश्य

  • विद्यार्थियों को यातायात के साधनों का प्रत्यास्मरण बहुत कराना |

कौशलात्मक उद्देश्य

  • विद्यार्थियों को विभिन्न प्रकार के यातायात ज्ञान देना |

प्रयोगात्मक उद्देश्य

  • विद्यार्थियों को प्रयोगात्मक ढंग से यातायात के बारे में बताना |

अनुदेशात्मक सामग्री

  • सामान्य सामग्री – चौक, झाड़न, संकेतक, श्यामपट्ट
  • विशिष्ट सामग्री – यातायात के साधनों का चार्ट

 पूर्व ज्ञान –  छात्रों को यातायात के साधनों की संक्षिप्त जानकारी है |

प्रस्तुतीकरण

शिक्षण

छात्र अध्यापक क्रियाएं

छात्र क्रियाएं

श्यामपट्ट

 यातायात के साधन

प्रस्तावना –

प्रश्न – यातायात के साधनों से आप क्या समझते हैं ?

प्रश्न – यातायात के साधन के और क्या कार्य हैं ?

प्रश्न – यातायात के साधन कौन-कौन से मार्गों पर प्रयोग किए जाते हैं ?

स्पष्टीकरण – यातायात के साधन निर्मित इन मार्गों पर प्रयोग किए जाते हैं |

  • स्थल मार्ग पर
  • जल मार्ग पर
  • हवाई मार्ग पर

यातायात के साधनों का मुख्य उपयोग शीघ्रता से यात्रा तथा सामान ढोने की सुविधा है |

 

एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाने के साधन को यातायात कहते हैं |

 

 

 

 

इन साधनों के द्वारा वस्तुओं को एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाया जाता है |

यातायात के साधन

  1. स्थल मार्ग
  2. जल मार्ग
  3. वायु मार्ग

स्थल मार्ग

प्रश्न – स्थल मार्ग से आप क्या समझते हैं ?

प्रश्न – स्थल मार्ग कौन-कौन से हैं ?

स्पष्टीकरण – स्थल मार्ग दो प्रकार के हैं |

1.    सड़क मार्ग

2.       रेल मार्ग

सड़क मार्ग – सड़क मार्ग वह मार्ग है जिन पर बस, ट्रक आदि वाहन चलते हैं |

रेल मार्ग – वह  मार्ग जिन पर रेल गाड़ी चलती है |

सड़क पर एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाने के साधन को स्थल मार्ग कहते हैं |

 

जलमार्ग

प्रश्न – जलमार्ग पर कौन-कौन से साधनों का प्रयोग किया जाता है |

प्रश्न – जल मार्ग कितने प्रकार के होते हैं |

स्पष्टीकरण – जलमार्ग दो प्रकार के होते हैं|

  • सागरीय जलमार्ग
  • आंतरिक जलमार्ग

1.    सागरीय जलमार्ग – जो खुले मैदान में चलाए जाते हैं |

2.    आंतरिक जलमार्ग – जो नदियों में चलाए जाते हैं

जलयान या जलपोत

यातायात के साधन

  • स्थल मार्ग
  • जल मार्ग
  • वायु मार्ग

वायु मार्ग

प्रश्न – वायु मार्ग कहां चलाये जाते हैं ?

प्रश्न – वायु मार्ग के साधनों से क्या लाभ है?

प्रश्न – हवाई मार्ग से आप क्या समझते हैं ?

प्रश्न – इन साधनों के द्वारा कौन सी वस्तु भेजी जाती है ?

स्पष्टीकरण – वायु मार्ग के साधनों का प्रयोग यात्रियों के आगमन के लिए किया जाता है तथा इनके द्वारा हलकी वस्तुओं को भेजा जाता है | इन साधनों का प्रयोग भारी वस्तुएं ले जाने में नहीं किया जाता है |

हवाओ में

समय की बचत होती है|

हवा में एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाने के साधन को वायुमार्ग कहते हैं |

 

मूल्यांकन – 

उपर्युक्त प्रश्नों के प्रकार हैं –

प्रश्न – जलमार्ग के प्रकार है –

  1. आंतरिक जलमार्ग साधन
  2. सागरीय जल मार्ग
  3. उपर्युक्त दोनों

प्रश्न – वायु मार्ग साधन है ?

  1. हल्की वस्तुओं को भेजने का
  2. भारी वस्तुओं को भेजने का
  3. उपर्युक्त दोनों

गृहकार्य

  1. यातायात के साधनों प्रकारों तथा उपयोग का संक्षेप में वर्णन करें |

Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना

Yatayat Ke Sadhan Lesson Plan

Yatayat Ke Sadhan Lesson Plan For B.Ed

Yatayat Ke Sadhan Lesson Plan For D.El.Ed

Yatayat Ke Sadhan Lesson Plan In Hindi

Economics Lesson Plan on Means of Transport in Hindi for B.Ed 

Yatayat Ke Sadhan का Lesson Plan In Hindi

Means Of Transport Economics का Lesson Plan In Hindi 

Economics का Yatayat Ke Sadhan lesson Plan 

अर्थशास्त्र पाठ योजना

yatayat ke sadhan path yojna arthsastra

Economics Class 9 lesson plan in hindi

means of transport lesson plan

Economics Lesson Plan in Hindi


  • कक्षा : 9
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : यातायात के साधनो का उपयोग
  • लेसन प्लान टाइप : मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग


Note: निचे दी गयी  अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|












Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना
ansankhya Visfot Lesson Plan In Hindi : जनसंख्या विस्फोट पाठ योजना | Population Explosion Lesson Plan in Hindi

Jansankhya Visfot Lesson Plan In Hindi : जनसंख्या विस्फोट पाठ योजना | Population Explosion Lesson Plan in Hindi

भारत में दिन प्रतिदिन जनसंख्या वृद्धि हो रही है और आज हम इससे रिलेटेड प्लान दे रहे हैं | भारत  में रहने वाले लोगों की संख्या जनसंख्या वृद्धि कहलाती है और जनसंख्या वृद्धि का मतलब इसी देश में लोगों की संख्या दिन पर दिन बढ़ती जाना | जनसंख्या वृद्धि या जनसंख्या विस्फोट दुनिया भर में एक बड़ी समस्या है | साल 2018 की  जनगणना के अनुसार भारत जनसंख्या 135.26 करोड़ थी |किसी भी देश को विकसित देश बनना है, तो उस देश को जनसंख्या वृद्धि को कम करना चाहिए | अर्थव्यवस्था, राजनीति, व्यापार, शिक्षा, जनसंख्या कई मामले से किसी भी देश का विकास होता है |

जनसंख्या में वृद्धि को जनसंख्या वृद्धि या जनसंख्या विस्फोट कहा जाता है | पूरे दुनिया भर में चीन और भारत में जनसंख्या सबसे ज्यादा है | जनसंख्या वृद्धि देश का विकास रुक जाता है | किसी भी देश के विकास में सबसे बड़ी बाधा जनसंख्या विस्फोट है | जनसंख्या वृद्धि से बेरोजगारी, खाद्य समस्या, प्रति व्यक्ति आय, कुपोषण, गरीबी, कृषि में समस्या, आवास की समस्या, शहरी क्षेत्रों में घनत्व जैसी कई समस्याएं आती है | आजकल देश में सबसे बड़ी समस्या बेरोजगारी है जनसंख्या की वृद्धि के कारण देश की पूंजी पर आधारित साधनों में कमी हुई है | जिससे लोगों को रोजगार में समस्या होती है | जनसंख्या वृद्धि से उपजाऊ जमीनों पर लोग बड़े बड़े मकान बना लेते हैं | जिससे उपजाऊ जमीनों में कमी आ रही है जिससे देश की कृषि उत्पादन क्षमता में धीरे-धीरे कमी आ रही है |

  • कक्षा : 10, 11 , 12
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : जनसंख्या विस्फ़ोट
  • लेसन प्लान टाइप : मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग 

Note: निचे दी गयी अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|

Jansankhya Visfot Lesson Plan

Date : 

Duration Of The Period :

Pupils Teacher Name :

Pupil Teacher’s Roll Number :

Class :

Average Age Of the Pupils :

Subject :

Topic :

विषय वस्तु विश्लेषण

  1. जनसंख्या विस्फोट के कारण
  2. जनसंख्या विस्फोट का अर्थ

सामान्य उद्देश्य  –

  1. छात्रों की तर्कशक्ति को बढ़ाना |
  2. छात्रों की रचनात्मक प्रवृत्तियां को प्रोत्साहित करना |
  3. छात्रों की अर्थशास्त्र के प्रति रुचि पैदा करना |

विशिष्ट उद्देश्य –

ज्ञानात्मक उद्देश्य  

  • छात्रों को विस्फोट के अर्थ से परिचित कराना |

 बोधात्मक उद्देश्य

  • छात्रों को देश की जनसंख्या की स्थिति का बोध कराना |

कौशलात्मा उद्देश्य

प्रयोगात्मक उद्देश्य

  • छात्र देश में बढ़ती जनसंख्या को रोकने हेतु सुझाव दे पाएंगे |

 अनुदेशात्मक सामग्री

  •  सामान्य सामग्री – चौक, झाड़न, संकेतक, श्यामपट्ट
  • विशिष्ट सामग्री – जनसंख्या विस्फोट के कारणों को दर्शाने वाला चार्ट

 पूर्व ज्ञान –  छात्रों को जनसंख्या वृद्धि रोकने के उपायों की संक्षिप्त जानकारी है |

पूर्व परिक्षण

छात्र अध्यापक क्रियाएं

छात्र क्रियाएं

भारत में ज्यादा जनसंख्या किस क्षेत्र में रह रही है?

उत्तर प्रदेश

भारत में जनसंख्या वृद्धि की दर कम या अधिक ?

अधिक

भारत में जनसंख्या विस्फोट के क्या कारण है ?

समस्यात्मक

 उद्घोषणा – छात्रअध्यापक घोषणा करेगा कि आज हम जनसंख्या विस्फोट के कारणों के संबंध में पढेंगे |

प्रस्तुतीकरण

शिक्षण

छात्र अध्यापक क्रियाएं

छात्र क्रियाएं

श्यामपट्ट

जनसंख्या विस्फोट का अर्थ

 प्रश्न – जनसंख्या विस्फोट का क्या अर्थ है ?

प्रश्न – क्या भारत में जनसंख्या विस्फोट की क्या स्थिति है ?

उत्तर – भारत की जनसंख्या तेजी से बढ़ रही है भारत की जनसंख्या की वृद्धि दर 2% प्रतिवर्ष है भारत की जनसंख्या 1991 में  844 करोड थी जो कि 2001 की जनगणना के अनुसार 1024 करोड़ हो गई है इस प्रकार भारत की जनसंख्या तेजी से बढ़ रही है, इसलिए भारत में जनसंख्या विस्फोट की स्थिति है |

जनसंख्या का तेजी से बढ़ना |

 

जनसंख्या विस्फोट के कारण

भारत में जनसंख्या विस्फोट के मुख्य दो कारण हैं |

· जन्म दर का अधिक होना |

· मृत्यु दर का कम होना |

प्रति हजार व्यक्तियों के पीछे जितने बच्चे जन्म लेते हैं उसे ही जन्म दर कहते हैं | 26 प्रति हजार

 

जन्म दर अधिक होने के कारण

 प्रश्न – जन्म दर क्या है ?

प्रश्न – वर्तमान में भारत की जन्म दर क्या है ?

 

जन्म दर अधिक होने के कारण

  • विवाह की व्यापकता
  • विधवा विवाह
  • जलवायु
  • बाल विवाह
  • मृत्यु दर कम होने के कारण

विवाह की व्यापकता

भारत में जन्म दर अधिक होने के कारण हैं भारत में विवाह करना अति आवश्यक समझा जाता है | जो व्यक्ति विवाह नहीं करवाते उन्हें गलत नजर से देखा जाता है, इसलिए प्रत्येक व्यक्ति विवाह करवाना चाहता है जिससे जन्म दर बढ़ जाती है |

 

 

विधवा विवाह

भारत में आजकल विधवाओं की पुनः शादियां कर  दी जाती है इससे भी जन्म दर बढ़ती है |

 

जलवायु

 

बाल विवाह

भारत की जलवायु गर्म है इसलिए स्त्रियां अल्प आयु में ही तरुण अवस्था को प्राप्त हो जाती हैं वे औसतन अधिक बच्चों को जन्म देती है |

 

मृत्यु दर कम होने के कारण

प्रश्न – मृत्यु दर क्या होती है ?

संतुलित भोजन – भारत में लोगों को संतुलित आहार मिलने लग गया है, जिससे मृत्यु कम होती है |

आंकड़ों पर नियंत्रण – भारत सरकार ने कालो पर काफी नियंत्रण कर लिया है |

महामारी पर रोक – भारत ने प्लेग जहां चेचक जैसी बीमारियों पर नियंत्रण पा लिया है |

चिकित्सा सुविधाओं का बढ़ना |

स्त्रियों में शिक्षा का प्रसार |

 

 

पुनरावृति

  • भारत में जनसंख्या विस्फोट के तीन कारण बताओ |
  • महामारी ऊपर नियंत्रण मृत्यु दर को कैसे कम करती है |
  • बाल विवाह से जन्म दर कैसे बढ़ती है |
  • भारत में जनसंख्या विस्फोट के कारण बताओ |

गृहकार्य

  • भारत में जनसंख्या विस्फोट के तीन कारण बताओ |
  • महामारी ऊपर नियंत्रण मृत्यु दर को कैसे कम करती है |
  • बाल विवाह से जन्म दर कैसे बढ़ती है |
  • भारत में जनसंख्या विस्फोट के कारण बताओ |

Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना

जनसंख्या वृद्धि के कारण : Population Explosion Lesson Plan In Hindi For B.Ed/D.El.ED

Jansankhya Visfot Ke Karan Lesson Plan

Jansankhya Visfot Lesson Plan In Hindi

Economics Lesson Plan on Population Explosion in Hindi

Population Explosion Lesson Plan in Hindi

Hindi Lesson Plan on Jansankhya Visfot

Jansankhya Vridhi Lesson Plan for B.Ed in Hindi

Economics सब्जेक्ट का Jansankhya Visfot का Bed Lesson Plan

Jansankhya Vriddhi का Lesson Plan

Population Explosion  Lesson Plan In Hindi

jansankhya visfot path yojna

arthsashtra path yojna

hindi lesson plan 

social science lesson plan

जनसंख्या विस्फोट पाठ योजना


  • कक्षा : 10
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : जनसंख्या विस्फ़ोट
  • लेसन प्लान टाइप : मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग 


Note: निचे दी गयी  अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|












Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना
Causes of Poverty in India ( भारत में निर्धनता के कारण ) Economics Lesson Plan in Hindi for Class 10 free download pdf

Bharat Me Nirdhanta Ke Karan Lesson Plan : भारत में निर्धनता के कारण पाठ योजना | Poverty Lesson Plan in Hindi For Economics

भारत में निर्धनता एक बहुत बड़ा अभिशाप है निर्धनता वह स्थिति होती है जब व्यक्ति अपने परिवार की आर्थिक और शारीरिक आवश्यकताओं को पूरा करने में असमर्थ होता है | निर्धनता ( गरीबी ) बेरोजगारी और आर्थिक विषमता का प्रमुख कारण है | निर्धन व्यक्ति के लिए दो वक्त का खाना दूसरों के कपड़े दिए हुए और बचा हुआ खाना उसकी आवश्यकता को पूरा करता है | भारत में ऐसे कई परिवार हैं जिन्हें दो वक्त की रोटी नहीं मिलती है | आज विश्व की संपूर्ण गरीबी आबादी का तिहाई भाग भारत में ही है | इससे अनुमान लगाया जा सकता है कि भारत में निर्धन लोगों की संख्या ज्यादा हो रही है |

  • कक्षा : 10
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : भारत में निर्धनता के कारण
  • लेसन प्लान टाइप : मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग

Note: निचे दी गयी अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|

Nirdhanta ( Poverty ) Ka Karan Lesson Plan In Hindi 

Date : 

Duration Of The Period :

Pupils Teacher Name :

Pupil Teacher’s Roll Number :

Class :

Average Age Of the Pupils :

Subject :

Topic :

विषय वस्तु विश्लेषण

  1. निर्धनता के कारण
  2. निर्धनता दूर करने के उपाय

 सामान्य उद्देश्य

  1. विद्यार्थियों की अर्थव्यवस्था में रुचि उत्पन्न करना |
  2. विद्यार्थियों की कल्पना शक्ति का विकास करना |
  3. विद्यार्थियों की रचनात्मक प्रवृत्तियों को प्रोत्साहित करना |
  4. विद्यार्थियों की तर्क शक्ति का विकास करना |
  5. विद्यार्थियों को मानसिक शक्ति का विकास करना |
  6. छात्रों की अर्थव्यवस्था के प्रति छात्रों को विकसित करना |

विशिष्ट उद्देश्य

ज्ञान

  • छात्रों को देश की आर्थिक स्थिति का ज्ञान कराना |

बोध  

  • छात्रों को निर्धनता के कारणों के बारे में ज्ञान देना |

कौशल

  • छात्र चार्ट की सहायता से निर्धनता के कारण तथा उपायों को समझने में कुशल हो जाएंगे |

प्रयोगात्मक

  1. छात्र जनता को दूर करने के उपायों को सोचेंगे |
  2. विद्यार्थी निर्धनता के कारणों से अवगत हो जाएंगे |

उपविषय – पूर्व ज्ञान की घोषणा से पूर्व विद्यार्थियों की पूर्व ज्ञान जानना |

पूर्व ज्ञान – छात्रों को इस बात की पूरी जानकारी होगी कि किस व्यक्ति को निर्धन कहा जाता है |

अनुदेशात्मक सामग्री

  • सामान्य सामग्री – चौक, झाड़न, संकेतक, श्यामपट्ट
  • विशिष्ट सामग्री – चार्ट, श्यामपट्ट, पाठ्य पुस्तक, निर्धनता के कारणों को दर्शाने वाला चार्ट

पूर्व ज्ञान परीक्षण

छात्र अध्यापक क्रियाएं

छात्र क्रियाएं

 भारत के ज्यादातर जनसंख्या कहां रहती है |

उत्तर प्रदेश

भारत में अधिकतर लोग किस व्यवसाय में है |

कृषि

भारत में निर्धनता के क्या कारण हैं |

जनसंख्या

उद्घोषणा – छात्र अध्यापक यह घोषणा करेगा कि आज हम भारत में निर्धनता के कारणों के संबंध में बताएँगे |

प्रस्तुतीकरण

शिक्षण

छात्र अध्यापक क्रियाएं

छात्र क्रियाएं

श्यामपट्ट

निर्धनता का अर्थ

निर्धनता से हमारा अभिप्राय है जीवन स्वास्थ्य व कार्यकुशलता को बनाए रखने हेतु न्यूनतम उपभोग आवश्यकताओं की योग्यता से होता है

भारत में ग्रामीण क्षेत्रों में प्रतिमाह उपभोग 328 रुपये से कम तथा शहरी क्षेत्र में 454 रुपये से कम है, तो उसे निर्धन कहा जाता है|

छात्र अपनी कॉपी में नोट करेंगे |

 

निर्धनता का अनुभव

भारत में कितने प्रतिशत जनसंख्या निर्धनता रेखा के नीचे रह जाती है |

 

 

निर्धनता का कारण

भारत में 26% जनसंख्या निर्धनता रेखा के नीचे रह जाती है भारत में निर्धनता की समस्या एक गंभीर समस्या है निर्धनता के निम्न कारण है –

राष्ट्रीय उत्पाद का निम्न स्तर – भारत की कुल जनसंख्या कितना में बहुत कम है इसलिए प्रति व्यक्ति आय 18000 रुपये के  लगभग है  जो U.N.O निर्धारित अधिक देशों की कसौटी में आते हैं |

 

विकास की दर

योजनाकाल में विकास की दर कम रही है जो कि औसत 4% थी जबकि जनसंख्या वृद्धि दर 2.3 % रही है प्रति व्यक्ति आय में कम वृद्धि दर के फल स्वरुप निर्धनता को दूर नहीं किया जा सका |

 

 

जनसंख्या का अधिक दबाव

जनसंख्या का अधिक दबाव निर्धनता भार को बढ़ा देता है इसका अर्थ समय के साथ-साथ निर्धनता का और अधिक बढ़ना |

 

कीमतों में वृद्धि

सरकार अपनी अल्पकालीन ऋण संबंधी आवश्यकताओं को मुद्रा बाजार से सरलता से पूरा कर लेती है |

 

 

पूंजी की गतिशीलता

कीमतों के बढ़ने के फलस्वरूप निर्धन व्यक्ति आवश्यक व नियंत्रण उपभोग की वस्तुओं को खरीदने में कठिनाई महसूस करता है जिससे देश में निर्धनता का प्रभाव अधिक हो जाता है | अर्थात निर्धनता बढ़ जाती है |

 

 

बेरोजगारी

 भारत में चिरस्थाई अल्पकालीन छिपी हुई बेरोजगारी अधिक पाई जाती है बेरोजगारी व्यक्तियों के पास आय का कोई साधन नहीं होता इस प्रकार बेरोजगारी की समस्या निर्धनता का मुख्य कारण है |

 

 

सामाजिक समस्याएं

प्रश्न – पुरानी सामाजिक समस्याएं कौन सी है |

पुरानी सामाजिक समस्याएं

जैसे जाति प्रथा संयुक्त परिवार प्रणाली उत्तराधिकार के नियम आज सभी देश के तेजी से अधिक विकास में बाधा उत्पन्न करते हैं |

 

 

पूंजी की कमी

पूंजी की कमी से देश में निम्न पूंजी निर्माण पाया जाता है पूंजी निर्माण का अर्थ है कम उत्पादन क्षमता और इसलिए निर्धनता है |

 

पूंजी की कमी भी निर्धनता बढ़ाती है |

मूल्यांकन –

  1. निर्धनता के चार कारण बताइए |
  2. जनसंख्या का अधिक दबाव किस प्रकार निर्धनता को बढ़ाता है |
  3. निर्धनता का मुख्य कारण क्या है |

गृहकार्य –

  1. निर्धनता के कारणों का संक्षेप में वर्णन करें |
  2. जनसंख्या का अधिक दबाव किस प्रकार निर्धनता को बढ़ाता है|


Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना

भारत में Nirdhanta lesson Plan

Economics का Bharat Me Nirdhanta Ka Karan का lesson plan

अर्थशास्त्र पाठ योजना

Bharat Me Nirdhanta Ke Karan Lesson Plan

Bharat Me Nirdhanta Lesson Plan

Nirdhanta Lesson Plan

Economics Class 10 Lesson Plan on Nirdhanta

Economics Class 10 Lesson Plan on Poverty in Hindi

Bharat Me Nirdhanta Ke Karan Lesson Plan

Bharat Me Nirdhanta Ke Karan Lesson Plan In Hindi

भारत में निर्धनता के कारण पाठ योजना

Economics Lesson Plan in hindi for b.ed and deled 

lesson plan for economics in hindi

poverty lesson plan in hindi


  • कक्षा : 10
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : भारत में निर्धनता के कारण
  • लेसन प्लान टाइप : मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग 


Note: निचे दी गयी  अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|












Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना

  • कक्षा : 10
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : कृषि के पिछड़ेपन के कारण
  • लेसन प्लान टाइप : मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग 


Note: निचे दी गयी  अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|





agriculture class 10 economics lesson plan in hindi







Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना
[Mudra Bazar] Money Market Lesson Plan in Hindi | मुद्रा बाजार पाठ योजना | Money Market Economics Lesson Plan in Hindi for Class 9 | मुद्रा बाजार पाठ योजना | Mudra Bazar Lesson Plan For B.Ed/D.El.Ed : मुद्रा बाजार पाठ योजना

Mudra Bazar Lesson Plan For B.Ed/D.El.Ed : मुद्रा बाजार पाठ योजना | Money Market Lesson Plan in Hindi

मुद्रा बाजार भारत में वित्तीय बाजार का एक भाग है जहां अल्पकालिक निधियों का उधार लेना और उधार देना होता है। मुद्रा बाजार लिखतों की परिपक्वता एक दिन से एक वर्ष तक की होती है। भारत में, इस बाजार को आरबीआई (भारतीय रिजर्व बैंक) और सेबी (भारतीय सुरक्षा और विनिमय बोर्ड) दोनों द्वारा नियंत्रित किया जाता है। इस बाजार में लेन-देन की प्रकृति ऐसी है कि वे मात्रा में बड़े और मात्रा में अधिक होते हैं।

मुद्रा बाजार अल्पकालिक निधियों का बाजार है। हम अल्पावधि को 364 दिनों या उससे कम की अवधि के रूप में परिभाषित करते हैं। दूसरे शब्दों में, उधार और चुकौती 364 दिनों या उससे कम समय में होती है। निर्माताओं को दो प्रकार के वित्त की आवश्यकता होती है: कच्चे माल की खरीद, मजदूरी का भुगतान, उत्पाद शुल्क, बिजली शुल्क आदि जैसे दैनिक खर्चों को पूरा करने के लिए वित्त, और पूंजीगत व्यय जैसे मशीनरी की खरीद, प्रदूषण नियंत्रण उपकरण की स्थापना आदि को पूरा करने के लिए वित्त।

वित्त की पहली श्रेणी को थोड़े समय के लिए उत्पादन प्रक्रिया में निवेश किया जाता है। जिस बाजार में ऐसे अल्पकालीन वित्त को उधार लिया जाता है और उधार दिया जाता है, उसे ‘मुद्रा बाजार’ कहा जाता है। वित्तीय प्रणाली में लगभग हर चिंता, चाहे वह एक वित्तीय संस्थान, व्यावसायिक फर्म, एक निगम या एक सरकारी निकाय हो, में तरलता प्रबंधन की आवर्ती समस्या होती है |

  • कक्षा : 9-12
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : मुद्रा बाजार ( Money Market )
  • लेसन प्लान टाइप : मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग 

Mudra Bazar Lesson Plan : Money Market Lesson Plan In Hindi 

Date : 

Duration Of The Period :

Pupils Teacher Name :

Pupil Teacher’s Roll Number :

Class :

Average Age Of the Pupils :

Subject :

Topic :

विषय वस्तु विश्लेषण

  • मुद्रा बाजार का अर्थ
  • मुद्रा बाजार की परिभाषा
  • मुद्रा बाजार के कार्य

सामान्य उद्देश्य  –

  • विद्यार्थियों की अर्थशास्त्र में रूचि उत्पन्न करना |
  • विद्यार्थी की कल्पना शक्ति का विकास करना |
  • विद्यार्थी की रचनात्मक प्रवृत्तियां को प्रोत्साहित करना |
  • विद्यार्थियों की तर्क शक्ति का विकास करना |
  • विद्यार्थियों की मानसिकता विकास करना |

विशिष्ट उद्देश्य –

ज्ञान –

  • विद्यार्थी मुद्रा बाजार के बारे में लिखना सीख जाते हैं |
  • विद्यार्थी मुद्रा बाजार के बारे में अपने कथन देना सीख जाते हैं |

बोध –

  • मुद्रा बाजार की व्याख्यादेना सीख जाते हैं |
  • मुद्रा बाजार का चयन करना सीख जाते हैं |

प्रयोगात्मक –

  • विद्यार्थी मुद्रा बाजार का उपयोग करना सीख जाते हैं |
  • विद्यार्थी मुद्रा बाजारसे गणना करना सीख जाते हैं |

कौशलात्मक उद्देश्य - 

  • विद्यार्थी मुद्रा बाजार के बारे में अपना तर्क देना सीख जाते हैं |
  • विद्यार्थी मुद्रा बाजार के कार्य के मूल्यांकन का कौशल प्राप्त कर सकेंगे |

अनुदेशात्मक सामग्री

  • सामान्य सामग्री – चौक, झाड़न, संकेतक, श्यामपट्ट
  • विशिष्ट सामग्री – एक चार्ट जिसमें मुद्रा के बारे में बताया गया हो |
पूर्व ज्ञान – छात्रों को मुद्रा के बारे में पता होगा |

पूर्व ज्ञान परीक्षण

अध्यापक क्रियाये

छात्र क्रियाये

मनुष्य को व्यापार प्रारंभ करने के लिए किस वस्तु की आवश्यकता होती है ?

धन

क्या सभी मनुष्यों के पास व्यापार प्रारंभ करने के लिए धन होता है ?

 

सभी के पास धन नहीं होता

जो संस्था मुद्रा का लेनदेन कर आते हैं उसे क्या कहते हैं ?

समस्यात्मक

उद्घोषणा– आज मैं आपको मुद्रा बाजार के कार्य बताऊंगी |

प्रस्तुतीकरण

शिक्षण

छात्र अध्यापक क्रियाएं

छात्र क्रियाएं

घटक  

मुद्रा बाजार का अर्थ

अर्थशास्त्र के देश में रहने वाले विभिन्न वर्ग के लोगों का अध्ययन करें तो हमें दो प्रकार के व्यक्ति दिखाई देते हैं एक तो वे जिनके पास जरूरत से ज्यादा रुपया है और वह उनका कोई उपयोग नहीं कर पाते तथा चाहते हैं कि ऋण के रूप में ही देते दूसरे पर जो कोई व्यवसाय करना चाहते हैं परंतु उनके पास धन नहीं और चाहते हैं कि किसी से लेकर ही काम शुरू कर दें | जो संस्था इन दोनों प्रकार के व्यक्तियों को मिलाता है और मुद्रा का लेनदेन कर आता है उसे मुद्रा बाजार कहते हैं |

छात्र अपनी कॉपी में नोट करेंगे |

 

 परिभाषा

डॉक्टर चाकू के अनुसार मुद्रा बाजार एक ऐसा संयंत्र है जो कि उधार लेने वालों को ऋण उपलब्ध कराता है तथा देने वाले को लगाने हेतु अवसर प्रदान करता है|

 

कार्य

मुद्रा बाजार के कार्य इस प्रकार हैं |

 

 

पूंजी संचय को प्रोत्साहित करना

बचतकर्ताओं को अपनी बचत का सदुपयोग मुद्रा बाजार के कारण ही संभव हुआ है | यदि मुद्रा बाजार ना होता तो बचत करने वाले को अपनी आय अर्जन करने का अवसर नहीं मिलता |

 

 

उद्योग तथा कृषि को वित्त व्यवस्था

 मुद्रा बाजार की सहायता से उद्योग तथा कृषि में संलग्न व्यक्तियों एवं संस्थाओं को अल्पकालीन दृढ़ता से आवश्यकतानुसार प्राप्त हो जाता है |

 

सरकार को ऋण प्राप्त करने में सुविधा

सरकार अपनी अल्पकालीन ऋण संबंधी आवश्यकताओं को मुद्रा बाजार से सरलता से पूरा कर देती है |

 

 

 

पूंजी की गतिशीलता

यह एक राष्ट्र की आर्थिक व्यवस्था का प्रमुख अंग है यह राष्ट्र की अतिरिक्त भूमि को एक स्थान पर एकत्रित करके राष्ट्र की आर्थिक उन्नति के लिए कहीं भी ले जाने में सहयोग देता है |

 

प्रश्न

पूंजी बाजार के क्या क्या कार्य हैं ?

 

 

अन्य कार्य

1.   यह पूंजी बाजार के विकास में सहायक होता है|

2.   मुद्रा बाजार का मूल्य स्थिर बनाए रखने में सहायक होता है|

3.   अर्थव्यवस्था के सुसंचालन में सहायता देता है|

 

 

 

मूल्यांकन –

  • मुद्रा बाजार का क्या अर्थ होता है |
  • मुद्रा बाजार उद्योग तथा कृषि के वित्त की व्यवस्था कैसे करता है |

गृह कार्य –

  • मुद्रा बाजार की परिभाषा दीजिए|
  • मुद्रा बाजार के कार्य

Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना

Money Market Lesson Plan

Money Market Lesson Plan In Hindi

Mudra Bazar Lesson Plan

Mudra Bazar Lesson Plan For B.Ed

Mudra Bazar Lesson Plan For D.El.Ed

Mudra Bazar Lesson Plan In Hindi

Economics का Money Market Lesson Plan 

Lesson Plan Mudra Bajaar ( Money Market )

Microteaching, Mega teaching, Discussion, Real School Teaching and Practice, and Observation Skill Lesson Plan  for Economics on Mudra Bazar

Money Market का Lesson Plan In Hindi 

mudra bazar path yojna

b.ed lesson plan in hindi for economics


  • कक्षा : 9
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : मुद्रा बाजार ( Money Market )
  • लेसन प्लान टाइप : मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग 


Note: निचे दी गयी  अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|












Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना
Discussion Lesson Plan Economics in Hindi | Aaudyogik Vikas Lesson Plan In Hindi : औद्योगिक विकास पाठ योजना | Aaudyogik Vikas Lesson Plan In Hindi : औद्योगिक विकास पाठ योजना | Discussion Lesson Plan Economics in Hindi for Class 12 on Audyogik Vikas ( Industrial Development) | Discussion Lesson Plan Economics in Hindi for Class 11 on Industrial Development ( औद्योगिक विकास ) free download pdf | Aaudyogik Vikas Lesson Plan

Aaudyogik Vikas Lesson Plan In Hindi : औद्योगिक विकास पाठ योजना | Discussion Lesson Plan Economics in Hindi for Class 12 on Audyogik Vikas ( Industrial Development)

औद्योगीकरण वह प्रक्रिया है जिसके द्वारा एक अर्थव्यवस्था मुख्य रूप से कृषि से एक में माल के निर्माण के आधार पर बदल जाती है। व्यक्तिगत शारीरिक श्रम को अक्सर मशीनीकृत बड़े पैमाने पर उत्पादन द्वारा प्रतिस्थापित किया जाता है, और कारीगरों को असेंबली लाइनों द्वारा प्रतिस्थापित किया जाता है। औद्योगीकरण की विशेषताओं में आर्थिक विकास, श्रम का अधिक कुशल विभाजन, और मानव नियंत्रण से बाहर की स्थितियों पर निर्भरता के विपरीत समस्याओं को हल करने के लिए तकनीकी नवाचार का उपयोग शामिल है। औद्योगिक विकास चार प्रमुख कारकों के योगदान का संश्लेषण है, अर्थात्, व्यापार, प्रौद्योगिकी, सरकार और श्रम और सफलता औद्योगिक परियोजनाएं हो सकती हैं | औद्योगिक विकास में एकीकरण की अवधारणा एकीकृत के निर्माण पर आधारित है|

औद्योगीकरण आमतौर पर 18 सदी के अंत और 19वीं सदी की शुरुआत की यूरोपीय औद्योगिक क्रांति से जुड़ा हुआ है। 1880 के दशक और महामंदी के बीच संयुक्त राज्य अमेरिका में औद्योगीकरण भी हुआ। द्वितीय विश्व युद्ध की शुरुआत ने भी बड़े पैमाने पर औद्योगीकरण का नेतृत्व किया, जिसके परिणामस्वरूप बड़े शहरी केंद्रों और उपनगरों का विकास और विकास हुआ। औद्योगीकरण पूंजीवाद का एक परिणाम है, और समाज पर इसके प्रभाव अभी भी कुछ हद तक अनिर्धारित हैं; हालांकि, इसके परिणामस्वरूप कम जन्म दर और उच्च औसत आय हुई है।

औद्योगिक विकास का किसी देश की आर्थिक सम्पन्नता से बहुत गहरा सम्बन्ध होता है। विकसित देशों जैसे संयुक्त राज्य अमेरिका, जापान, रूस की आर्थिक सम्पन्नता इन देशों की औद्योगिक इकाइयों की प्रोन्नत एवं उच्च विकासयुक्त वृद्धि से जुड़ा है। औद्योगिक दृष्टि से अविकसित देश अपने प्राकृतिक संसाधानों का निर्यात करते हैं तथा विनिर्मित वस्तुओं को अधिक मूल्य चुकाकर आयात करते हैं। इसीलिये आर्थिक रूप से ये देश पिछड़े बने रहते हैं |

Audyogik Vikas Lesson Plan

  • कक्षा : 11
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : औद्योगिक विकास
  • लेसन प्लान टाइप : मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग 

Note: निचे दी गयी अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|

Date : 

Duration Of The Period :

Pupils Teacher Name :

Pupil Teacher’s Roll Number :

Class :

Average Age Of the Pupils :

Subject :

Topic :

विषय वस्तु विश्लेषण

  1. औद्योगिक विकास का अर्थ
  2. औद्योगिक विकास की आवश्यकता
  3. औद्योगिक विकास का महत्व

सामान्य उद्देश्य

  1. छात्रों की रचनात्मकता का विकास करना |
  2. छात्रों को एकाधिकार व अर्थशास्त्र के प्रति जागरूक करना |
  3. छात्रों में सृजनात्मक शक्ति का विकास करना |

विशिष्ट उद्देश्य

ज्ञान

  • छात्रों को औद्योगिक विकास का ज्ञान कराना तथा उसके आवश्यकता का ज्ञान कराना |

बोध

  • छात्र को बोध कराना कि औद्योगिक विकास किस प्रकार होता है |

कौशल

  • छात्रो को यह बताना कि वे अपने कौशल का प्रयोग करके वह किस प्रकार औद्योगिक विकास में योगदान दे सकते हैं |

प्रयोग

  • छात्रों को प्रयोगात्मक तरीके से औद्योगिक विकास का हमारे जीवन और देश में क्या महत्व है | 

पूर्व ज्ञान – अपने विषय की घोषणा से पूर्व विद्यार्थियों का पूर्वज्ञान  जानना |

अनुदेशात्मक सामग्री

  • सामान्य सामग्री – चौक, झाड़न, संकेतक, श्यामपट्ट
  • विशिष्ट सामग्री – चार्ट, श्यामपट्ट, पाठ्य पुस्तक

पूर्व ज्ञान परीक्षण

छात्र अध्यापक क्रियाएं

छात्र क्रियाएं

आप लोग की आवश्यकता क्या है ?

 रोटी, कपड़ा, मकान

कपड़ा कहां से मिलता है ?

बाजार से

बाजार में कपड़ा कहां से मिलता है ?

उद्योगों से

उद्योगों के विकास किस प्रकार होता है ?

समस्यात्मक

                              

  • उद्घोषणा – आज हम आपको बताएंगे कि उद्योगों का विकास तथा महत्व समझाउंगी |

प्रस्तुतीकरण

शिक्षण

छात्र अध्यापक क्रियाएं

छात्र क्रियाएं

श्यामपट्ट

औद्योगिक विकास का अर्थ

औद्योगिक विकास को देश के आर्थिक विकास में महत्वपूर्ण स्थान प्राप्त है, क्योंकि उद्योगों का विकास ऐसी आर्थिक शक्तियों को जन्म देता है | जो आर्थिक विकास की गति को तीव्र करने में सहायक सिद्ध होता है |

यह प्राकृतिक साधनों का प्रयोग करने में सहायता करते हैं | जिनके परिणाम स्वरूप उत्पादन आए और रोजगार सुविधाओं में वृद्धि होती है |

छात्रों को अपनी कॉपी में लिखें |

 

आवश्यकता

उद्योगों का विकास होने से उत्पादन व आय में वृद्धि होती है | जिसका बचत व निवेश का अच्छा प्रभाव पड़ता है वास्तव में औद्योगिक में लोगों की बचत करने की सीमांत प्रवृत्ति कृषि क्षेत्र की अपेक्षा कहीं अधिक होती है, इसलिए उद्योगों का विकास पूंजी निर्माण में सहायक सिद्ध होते हैं |

 

 

औद्योगिक विकास का महत्व

औद्योगिक विकास इस प्रकार है |

 

विकास सुविधाओं में वृद्धि

उद्योगों को आर्थिक विकास की गति को तेज करने वाली वस्तुएं जैसे – यातायात के साधन, विद्युत आपूर्ति आदि में वृद्धि करने में सहायक होता है |

इन सुविधाओं के बिना अर्थशास्त्र बेजान होती है यह सुविधाएं कृषि विकास में बहुत सहायक सिद्ध होते हैं और सहायक धंधों के विकास को उत्साहित करते हैं |

 

 

कृषि विकास की गति में सहायक

उद्योगों का विकास कृषि विकास में महत्वपूर्ण योगदान डालता है क्योंकि कृषि के नए साधन मशीन रासायनिक खाद डीजल उद्योगों की देन है | कृषि आधारित उद्योगों का विकास होने से कच्चा माल जैसे कपासन आज की मांग में वृद्धि होती है |

औद्योगिक विकास का महत्व –

1.    कृषि विकास में महत्व रोजगार में वृद्धि

2.      जीवन स्तर में सुधार

 

रोजगार सुविधाओं में वृद्धि

उद्योगों का विकास होने से रोजगार में वृद्धि होती है नए कारखाने स्थापित होने से श्रमिकों प्रबंधकों को प्रत्यक्ष रूप से रोजगार मिलता है कृषि में आधुनिक तकनीक के प्रयोग होने के कारण रोजगार स्त्रोतों में वृद्धि हुई है |

छात्र अपनी कॉपी में नोट करेंगे |

 

जीवन स्तर में सुधार

औद्योगिक उत्पादन में वृद्धि होने से लोगों के जीवन स्तर में सुधार होता है जिसका उनकी कार्यकुशलता पर अच्छा प्रभाव पड़ता है और जो भी उपभोक्ता वस्तुएं उत्पादन में वृद्धि होने से लोगों को उचित कीमत पर प्राप्त हो जाती हैं| इन वस्तुओं का आनंद उठाने के लिए लोगों को अधिक और अच्छा काम करने की भावना पैदा होती है |

 

 

मूल्याकन –

  • प्रश्न – उद्योग विकास का क्या अर्थ है?
  • प्रश्न – औद्योगिक विकास किस प्रकार देश के विकास में सहायक है ?

गृह कार्य- 

  • प्रश्न – औद्योगिक विकास का क्या अर्थ है ?
  • प्रश्न – औद्योगिक विकास किस प्रकार देश के विकास में सहायक है ?
  • प्रश्न – कृषि और जीवन स्तर के विकास में औद्योगिक विकास में क्या महत्व है ?

Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना

Audyogik Vikas Lesson Plan

Aaudyogik Vikas Lesson Plan For B.Ed

Audyogik Vikas Lesson Plan For D.El.Ed

Aaudyogik Vikas Lesson Plan In Hindi

Economics Lesson Plan in Hindi on Industrial Development

Audyogik Vikas Lesson Plan PDF

Economics का Industrial Development का lesson Plan Class 12

औद्योगिक विकास Economics lesson Plan In Hindi

Aaudyogik Vikas का lesson plan

discussion lesson Plan

औद्योगिक विकास पाठ योजना

Discussion Lesson Plan Economics in Hindi for Class 12 on Audyogik Vikas ( Industrial Development)

Discussion Lesson Plan Economics in Hindi

odhyogik Vikas arthsashtra path yojna on discussion skill

industrial development lesson plan for economics in hindi


  • कक्षा : 11
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : औद्योगिक विकास
  • लेसन प्लान टाइप : मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग 


Note: निचे दी गयी  अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|












Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना

  • कक्षा : 12
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : एकाधिकार प्रतियोगिता
  • लेसन प्लान टाइप : मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग 


Note: निचे दी गयी  अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|












Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना
Purti Niyam Lesson Plan In Hindi : पूर्ति का नियम पाठ योजना | Lesson Plan for Economics Teachers in Hindi on Purti Ka Niyam ( Law of Supply) For Class 11 | Lesson Plan for Economics Teachers in Hindi on Law of supply ( पूर्ति का नियम ) for Class 11 free download pdf | Purti Niyam Lesson Plan In Hindi

Purti Niyam Lesson Plan In Hindi : पूर्ति का नियम पाठ योजना | Lesson Plan for Economics Teachers in Hindi on Purti Ka Niyam ( Law of Supply) For Class 11

पूर्ति और मांग दोनों ही इकोनॉमिक्स के प्रमुख घटक होते हैं जैसा कि आप जानते हैं कुछ वस्तु बहुत महंगी होती है तो कुछ बहुत सस्ती होती है | कुछ वस्तुएं ज्यादा मात्रा में होती है तो कुछ वस्तुएं कम मात्रा में होती हैं | जब हम उन वस्तुओं को खरीदने जाते हैं तो कुछ चीजें कम दाम में मिल जाती हैं और कुछ ज्यादा मूल्य में मिलते हैं | इनके भाव बढ़ते और कम होते रहते हैं और यही प्रमुख इनकी पूर्ति और मांग का कारण है जब किसी वस्तु की मांग बाजार में ज्यादा होती है तो वह वस्तु जिस व्यक्ति के पास होती है वह उस वस्तु को बाजार में बेचता है जिससे वह लाभ कमा सके ऐसा करने पर उसे वस्तु की लागत और लाभ दोनों मिलता है |

व्यापारी को खरीदारों की मांग को पूरा करना ही पूर्ति कहलाता है|

प्रो. बेंहम  के अनुसार “पूर्ति का आशय वस्तु की उस निश्चित मात्रा से है जिसे प्रति इकाई  के मूल्य पर किसी निश्चित समय में बेचने के लिए विक्रेता द्वारा प्रस्तुत किया जाता है जब कोई व्यापारी बाजार में कई प्रकार की चीजें भेजता है तो वह भिन्न-भिन्न मूल्यों पर उस वस्तु को बेचता है अतः पूर्ति तालिका उन सभी वस्तु की एक सूची बनती है जिसे विक्रेता के मूल्यों पर बेचना चाहता है  |

मूर्ति की तालिका दो प्रकार की होती है – व्यक्तिगत और बाजार पूर्ति तालिका 

पूर्ति का नियम –  पूर्ति और कीमत का धनात्मक संबंध ही पूर्ति का नियम कहलाता है कहने का मतलब यह है कि यदि वस्तु का मूल्य बढ़ता है तो वस्तु जो बच्ची है उसे बेचना है उसकी कीमत भी बढ़ जाती है ऐसा विक्रेता इसलिए करता है जिससे वह लाभ कमा सके कोई वस्तु पहले कम मूल्य पर मिलती थी परंतु अब ज्यादा मूल्य पर बेची जा रही है तो विक्रेता को लाभ मिलता है अतः बढ़ते हुए मूल्य के साथ-साथ वस्तु की मात्रा भी ज्यादा बढ़ती है लेकिन यदि किसी वस्तु की कीमतों में कमी कर दी जाए तो विक्रेत उस वस्तु की मात्रा कम बेचना चाहेगा | 

पूर्ति वक्र में चार प्रकार के होते हैं –

  • पूर्ति का संकुचन
  • पूर्ति का विस्तार
  • पूर्ति में वृद्धि
  • पूर्ति में कमी

पूर्ति को प्रभावित करने वाले घटक – वस्तु का मूल्य यह सबसे महत्वपूर्ण घटक होता है वस्तु के मूल्य को अगर बढ़ाया जाता है तो वस्तु के बेचने की मात्रा भी बढ़ती है और अगर  कीमत कम  की जाए तो वस्तु  की मात्रा में कमी आती है इस प्रकार से हुए बदलाव से पूर्ति का संकुचन या विस्तार दोनों होता है | कुछ ऐसे घटक होते हैं जो प्रत्यक्ष रूप से नहीं बल्कि अप्रत्यक्ष रूप से प्रभावित करते हैं और इस बदलाव के कारण भी पूर्व में कमी और बढ़ोतरी होती है वस्तु की कीमत एक वस्तु की जगह 2 वस्तुएं एक दूसरे से संबंधित होती हैं | वैकल्पिक वस्तु एवं पूरक वस्तु 

वैकल्पिक वस्तु – वह वस्तु होती है जो प्रमुख वस्तु  की जगह प्रयोग की जाती है | जैसे – थम्स अप की जगह कोका कोला प्रयोग कर सकते हैं | यदि व्यक्ति वस्तु के मूल्य बढ़ते हैं तो दुकानदार व करती वस्तुओं का उत्पादन बढ़ा देता है उसे विक्रेता उस वस्तु पर ज्यादा लाभ कमा सकता है | आधुनिक तकनीकी उत्पादक के पास किसी वस्तु के उत्पादन के लिए आधुनिक तकनीक है तो वह कम समय और कम लागत में वस्तुओं का उत्पादन ज्यादा कर सकता है अतः लाभ ज्यादा कमा सकता है |

कच्चे माल की कीमत यदि वस्तु को तैयार करने में कच्चे माल का प्रयोग किया जाता है और उसकी कीमत बढ़ती है तो इससे विक्रेता को बहुत कम लाभ मिलता है | जिससे विक्रेता उस वस्तु का उत्पादन ज्यादा करता जिसमे विक्रेता को लाभ मिले |

Purti Ka Niyam Lesson Plan

  • कक्षा : 11
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : पूर्ति का नियम ( Law of Supply)
  • लेसन प्लान टाइप : मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग

Note: निचे दी गयी अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|

Date : 

Duration Of The Period :

Pupils Teacher Name :

Pupil Teacher’s Roll Number :

Class :

Average Age Of the Pupils :

Subject :

Topic :

विषय वस्तु विश्लेषण

  1. पूर्ति के नियम की परिभाषा
  2. पूर्ति के नियम की व्याख्या

सामान्य उद्देश्य

  1. छात्रों में सृजनात्मक शक्ति का विकास करना |
  2. छात्रों को पूर्ति के बारे में बताना |
  3. छात्रों में रचनात्मक शक्ति का विकास करना|

विशिष्ट उद्देश्य

ज्ञान

  1. छात्र पूर्ति के नियम की परिभाषा से परिचित हो जाएंगे |
  2. छात्र पूर्ति के नियमों के बारे में जान जाएंगे |
  3. छात्र पूर्ति के नियम के दशाओं के बारे में विवेचन कर पायेंगे |
  4. छात्र पूर्ति के नियम लागू होने के कारण की व्याख्या कर सकेंगे |

कौशल 

  1. छात्र तालिका रेखा चित्र द्वारा पूर्ति के नियम का अध्ययन करने में कुशल हो जाएंगे|
  2. छात्र रेखा चित्र के द्वारा किसी उदाहरण के माध्यम से पूर्ति के नियम को स्पष्टीकरण हेतु कुशल बन जाएंगे |

प्रयोग

  1. छात्र वैकल्पिक व्यवस्थाओं में पूर्ति के नियम लागू होने की जांच का निष्कर्ष निकालने में सक्षम हो जाएंगे|

अनुदेशात्मक सामग्री

  • सामान्य सामग्री – चौक, झाड़न, संकेतक, श्यामपट्ट
  • विशिष्ट सामग्री –
  1. पूर्ति वाक्य संबंधी तालिका
  2. तालिका पर आधारित रेखाचित्र

पूर्व ज्ञान परीक्षण

छात्र अध्यापक क्रियाएं

छात्र क्रियाएं

छात्रों के पूर्व ज्ञान हेतु छात्र अध्यापक अध्यापिका निम्न प्रश्न पूछेगा

आप की मूलभूत जरूरते क्या है ?

रोटी कपड़ा मकान आदि बाजार से पूर्ति घटेगी |

इन जरूरतों की पूर्ति कहां से करते हैं |

बाजार से

यदि वस्तु की कीमत घट जाए तो पूर्ति पर क्या प्रभाव पड़ेगा |

पूर्ति घटेगी |

उद्देश्य कथन – अंतिम प्रश्न के बाद छात्र अध्यापक यह घोषणा करता है कि आप और पूर्ति के नियम के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे |

प्रस्तुतीकरण

शिक्षण

छात्र अध्यापक क्रियाएं

छात्र क्रियाएं

श्यामपट्ट

 

छात्र अध्यापक विषय सामग्री की व्याख्या करता है मान लीजिए आम का मौसम अभी शुरू हुआ है इस वजह से आए की कीमत अधिक होगी इसलिए अधिक विक्रेता आम बेचेंगे यदि आम की कीमत कम हो जाए तो आम की पूर्ति कम होगी|

प्रश्न – आम की कीमत अधिक होने पर पूर्ति  पर क्या प्रभाव पड़ेगा? प्रश्न – आम की कीमत कम होने पर पूर्ति पर क्या प्रभाव पड़ेगा ?

पूर्ति अधिक हो जाएगी और पूर्ति कम हो जाएगी |

 

पूर्ति का नियम

इसका अर्थ हुआ है कि जवानों की कीमत अधिक हो जाएगी तो उसकी पूर्ति अधिक हो जाएगी तथा कीमत कम होने पर पूर्ति कम हो जाएगी इस प्रकार हम यह कह सकते हैं कि कीमत बढ़ने पर पूर्ति  बढ़ना तथा कीमत कम होने पर पूर्ति कम हो जाएगी | यही पूर्ति का नियम है |

कीमत में परिवर्तन का पूर्ति पर पड़ने वाले प्रभाव को निम्न तालिका द्वारा व्यक्त किया जा सकता है|

 

 

पूर्ति तालिका

 आम कीमत  आम पूर्ति 

10             2

12             3

14             4

 

प्रश्न

तालिका की पहली व  दूसरी कॉलम में क्या दर्शाया गया है ?

आम की कीमत

आम की पूर्ति

 

प्रश्न

कीमत 12 रुपये होने पर पूर्ति कितनी है ?

3 kg

 

प्रश्न

oy पर क्या दर्शाया गया है ?

आम की कीमत

 

प्रश्न

ox पर क्या दर्शाया गया है ?

आम की पूर्ति

 

प्रश्न

इस प्रकार जब हम सभी  बिंदु को मिलाती हुई रेखा को क्या कहेंगे

 पूर्ति रेखा

 

पूर्ति व कीमत में संबंध

छात्र अध्यापक कथन –

अर्थशास्त्र में पूर्ति के नियम के अनुसार अन्य बातें स्थिर रहने पर कीमत कम होने पर पूर्ति कम तथा कीमत बढ़ने पर पूर्ति बढ़ जाती है |

 

 

प्रश्न

इस परिभाषा से पूर्ति व कीमत में किस संबंध का पता चलता है|

अन्य बातें समान रहने पर मूल्य कम होने पर पूर्ति कम हो जाती है कीमत बढ़ने पर पूर्ति बढ़ जाती है | इस प्रकार पूर्ति व कीमत के बीच प्रत्यक्ष सीधा संबंध होता है |

धनात्मक या प्रत्यक्ष संबंध

 

मूल्यांकन – छात्रों द्वारा प्राप्त ज्ञान को जांचने हेतु छात्र अध्यापक निम्न प्रश्न पूछेगा –

  1. पूर्ति व कीमत में क्या संबंध है ?
  2. पूर्ति का नियम क्या है ?
  3. किसी वस्तु की कीमत कम होने पर क्या प्रभाव पड़ेगा ?किसी वस्तु की कीमत पर क्या प्रभाव पड़ेगा |

 गृह कार्य –

  1. यदि आम की कीमत 12 है तो 3 किलो आम की पूर्ति है | इसे ग्राफ पर दर्शाए ?
  2. पूर्ति के नियम का संक्षेप में वर्णन करें ?

Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना

Lesson Plan On Law Of Supply

Purti Niyam Lesson Plan

Purti Ka Niyam Lesson Plan In Hindi for b.ed free download pdf

पूर्ति का नियम पाठ योजना

Economics Lesson Plan in Hindi on Law of Supply ( Purit Ka Niyam)

Economics का lesson plan In Hindi 

Purti Ka Niyam का lesson plan

Economics का Law Of Supply का lesson In Hindi

Purti Ka Niyam अर्थशास्त्र Lesson Plan

arthshastra path yojna purit ka niyam

Economics lesson plan in hindi class 11


  • कक्षा : 11
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : पूर्ति का नियम
  • लेसन प्लान टाइप : मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग 


Note: निचे दी गयी  अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|

Lesson Plan for Economics Teachers in Hindi on Law of supply ( पूर्ति का नियम ) for Class 11 free download pdf











Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना

  • कक्षा : 10
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : लॉ ऑफ़ डिमांड ( मांग के नियम )
  • लेसन प्लान टाइप : मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग 


Note: निचे दी गयी  अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|

Real School Teaching Economics Lesson Plan in Hindi for class 10th on Law of Demand (  मांग के नियम ) pdf download free



mang ke niyam 10 class lesson plan economics








Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना
Mang Ki Dharna Lesson Plan In Hindi for B.Ed : मांग की धारणा पाठ योजना | Theory of Demand Lesson Plan in Hindi for Economics | Theory of Demand Economics Lesson Plan in Hindi for Class 12 ( मांग के धारणा पाठ योजना ) free download pdf | Mang Ki Dharna Lesson Plan In Hindi

Mang Ki Dharna Lesson Plan In Hindi for B.Ed : मांग की धारणा पाठ योजना | Theory of Demand Lesson Plan in Hindi for Economics

अर्थशास्त्र में नाम शब्द का अभिप्राय किसी वस्तु के लिए उस इच्छा से है जिसके लिए व्यक्ति उस वस्तु की कीमत भी देता है, सिर्फ वस्तु की इच्छा रखना ही मांग नहीं कहलाता | उदाहरण के लिए जैसे कोई व्यक्ति कार खरीदना चाहता है तो उसके लिए उससे कार की कीमत भी देनी होगी | मांग के नियम के अनुसार जब किसी वस्तु के मूल्य में वृद्धि होती है तो वस्तु की मांग कम हो जाती है | इसके विपरीत जब किसी वस्तु के मूल्य में कमी आती है तो वस्तु की मांग बढ़ जाती है |

मांग के लक्षण और विशेषताएं –

  • इच्छा और मांग में काफी अंतर होता है  कोई व्यक्ति किसी भी वस्तु को खरीदने की इच्छा रख सकता है लेकिन उनमें से मांग बहुत कम लोगों की होती है |
  • मांग एक प्रभावी इच्छा है जो एक वस्तु खरीदने हेतु सहमति और क्षमता पर निर्भर करता है |
  • मांग मूल्य से संबंधित होता है |
  • मूल्य के बिना मांग का कोई अर्थ नहीं |
  •  मांग समय से संबंधित होती है |

मांग के प्रकार –

उपभोक्ता वस्तुओं और उत्पादन वस्तुओं की मांग-  उपभोक्ता वस्तुएं कहने का मतलब यह है कि जो वस्तुएं व्यक्ति की दैनिक जरूरतों को पूरा करती है ऐसी वस्तुएं उपभोक्ता वस्तुएं कहलाते हैं | जैसे – रोटी, दूध, कपड़े फर्नीचर आदि उत्पादन वस्तुएं वह होती है| जो अन्य वस्तुओं के उत्पादन में मदद करती हैं और जो उपभोक्ता की आवश्यकता को अप्रत्यक्ष रूप से संतुष्ट करती हैं | जैसे – मशीन, प्लांट, दृष्टिगत एवं औद्योगिक कच्चे पदार्थ आदि |

मांग की परिभाषा –

मेयर्स के अनुसार,” वस्तु की मांग उन मात्राओं का एक कार्यक्रम है जिन्हें क्रेता सभी संभव कीमतों पर किसी एक समय मे तत्काल खदीदने के इच्छुक होते है।”

बेन्हम के शब्दों मे,” एक दिये गये मूल्य पर किसी भी वस्तु की मांग वस्तु की वह मात्रा है जो उस कीमत पर समय की हर इकाई मे खरीदी जाएगी।

Mang Ki Dharna (Theory of Demand) Lesson Plan 

  • कक्षा : 12
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : मांग के धारणा ( Theory of Demand )
  • लेसन प्लान टाइप : मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग 

Note: निचे दी गयी अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|

Date : 

Duration Of The Period :

Pupils Teacher Name :

Pupil Teacher’s Roll Number :

Class :

Average Age Of the Pupils :

Subject :

Topic :

विषय वस्तु विश्लेषण

  1. मांग की धारणा
  2. मांग अनुसूची

सामान्य उद्देश्य

  1. छात्रों को मांग की धारणा के बारे में बताना |
  2. छात्रों की सृजनात्मक शक्ति का विकास करना |
  3. छात्रों को किसी वस्तु की मांग तथा मांगी गई मात्रा के बारे में बताना |
  4. छात्रों की सृजनात्मक शक्ति का विकास करना |

विशिष्ट उद्देश्य

ज्ञानात्मक उद्देश्य

  1. छात्रों को मांग की धारणा के बारे में बताना |
  2. छात्रों को मांग वक्र का ज्ञान कराना |

बोधात्मक  उद्देश्य

  1. छात्रों को मांग तथा मांगी गई मात्रा का बोध कराना |
  2. छात्रों को मांग अनुसूची का बोध कराना |

प्रयोगात्मक उद्देश्य

  1. छात्रों को व्यक्तिगत मांग रखी तथा बाजार मांग अनसूची का प्रयोग करना सिखाना |
  2. छात्रों और व्यक्तियों को व्यक्तिगत मांग वक्र तथा बाजार मांग वक्र के बारे में बताना |

कलात्मक उद्देश्य

बच्चों को मांग के सिद्धांत वह मांग वक्र बनाने के योग्य बनाना |

अनुदेशात्मक सामग्री

  • सामान्य सामग्री – चौक, झाड़न, संकेतक, श्यामपट्ट
  • विशिष्ट सामग्री – चार्ट, श्यामपट्ट, पाठ्य पुस्तक

पूर्व ज्ञान परीक्षण 

छात्र अध्यापक क्रियाएं

छात्र क्रियाएं

क्या आप जानते हैं कि मांग क्या होती है ?

इच्छा या आवश्यकता को मांगते हैं |

क्या आप जानते हैं की इच्छा क्या होती है ?

जब हम किसी वस्तु को खरीदना चाहते हैं परंतु पर्याप्त धन नहीं हो तो वह इच्छा कहलाती है |

क्या आप जानते हैं की आवश्यकता क्या होती है?

यदि कोई व्यक्ति पर्याप्त धन होते हुए भी उस वस्तु को नहीं खरीदा तो वह आवश्यकता है ?

उद्देश्य कथन –   बच्चों आज मैं आपको मांग तथा मांग वक्र के बारे में बताऊंगी |

प्रस्तुतीकरण

शिक्षण

छात्र अध्यापक क्रियाएं

छात्र क्रियाएं

श्यामपट्ट

 मांग

किसी वस्तु को खरीदने की इच्छा से संतुष्ट करने के लिए पर्याप्त धन तथा धन को खर्च करने की तत्परता है|

छात्र ध्यानपूर्वक सुनेगे|

 

किसी वस्तु की मांग

किसी वस्तु की एक निश्चित कीमत पर एक उपभोक्ता उसकी जितनी मात्रा खरीदने के इच्छुक तथा योग्य होता है उसे मांगी गई मात्रा कहा जाता है|

 

 

उदाहरण

जब आइसक्रीम की कीमत 1 रुपये  प्रति आइसक्रीम है तो उपभोक्ता 5 आइसक्रीम की मात्रा खरीदता है अर्थात एक रुपए प्रति आइसक्रीम की कीमत पर 5 आइसक्रीम की मात्रा मांगी गई है|

 

 

 

 

 

 

 

 

मांग अनुसूची

वह तालिका जिसमें कीमत तथा खरीदी गई मात्रा के संबंध को प्रकट किया जाता है मांग अनुसूची कहलाता है|

छात्र ध्यानपूर्वक सुनेगे|

 

मांग अनुसूची के प्रकार

मांग अनुसूची दो प्रकार की होती हैं|

व्यक्तिगत मांग सूची बाजार मांग

अनुसूची

 

 

व्यक्तिगत नाम सूची

किसी निश्चित समय में एक व्यक्ति किसी वस्तु की विभिन्न कीमतों पर उसकी जितनी मात्राओं की मांग करेगा उसकी तालिका को व्यक्तिगत मांग अनुसूची कहेंगे|

छात्र ध्यानपूर्वक सुनेगे|

 

उदाहरण

तालिका से पता चलता है जैसे-जैसे आइसक्रीम की कीमत बढ़ रही है उसकी कम मात्रा मांगी जा रही है | जब कीमत 4 रुपये प्रति आइसक्रीमहै तो उपभोक्ता एक आइसक्रीम खरीदता है परंतु कीमत के कम होकर 1 रुपये प्रति आइसक्रीम होने पर मांग बढ़कर चार आइसक्रीम हो जाती है |

 

 

बाजार मांग अनुसूची

किसी वस्तु की मात्राओं के रूप में दी जाती है जो उस वस्तु के सभी उपभोक्ता किसी निश्चित समय पर संभव कीमतों पर खरीदेंगे |

छात्र ध्यानपूर्वक सुनेगे|

 

उदाहरण

मांग अनु सूची के अनुसार मांग के नियम यह प्रकट करते किसी वस्तु की कीमत बढ़ने पर उसकी बाजार मांग कम होती है| जब आइसक्रीम की कीमत 1 रुपये प्रति इकाई है तो उपभोक्ता की मांग क्रीम है तथा भी उपभोक्ता की मांग पांच आइसक्रीम है अतः एक रुपए कीमत पर बाजार माध्यम है जब कीमत बढ़कर रुपए दो हो जाती है तो बाजार मान घटकर 7 आइसक्रीम रह जाती है|

 

 

मूल्याकन –

  1. मांग का क्या अर्थ है ?
  2. मांग अनुसूची क्या होती है ?

गृह कार्य – मांग का क्या अर्थ है ?


Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना

Mang Ki Dharna Lesson Plan

Mang Ki Dharna Lesson Plan In Hindi

Mang Ki Dharna Lesson Plan PDF

Theory of Demand Lesson Plan In Hindi

मांग की धारणा पाठ योजना

Economics का Theory of Demand Lesson Plan

Lesson Plan Maang Ki Dharna

Theory of Demand का Lesson Plan In Hindi

Theory of Demand Lesson Plan in Hindi for B.Ed

Mega and Simulated Teaching Economics Lesson Plan in Hindi


  • कक्षा : 12
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : मांग के धारणा ( Theory of Demand )
  • लेसन प्लान टाइप : मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग 


Note: निचे दी गयी  अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|

Theory of Demand Economics Lesson Plan in Hindi for Class 12 (  मांग के धारणा पाठ योजना )  free download pdf



mang dharna economics b.ed lesson plan in hindi for class 12








Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना
Simulated Teaching Lesson Plan Economics in Hindi | Utpadan Ke Sadhan Lesson Plan In Hindi: उत्पादन के साधन पाठ योजना| Utpadan Ke Sadhan Lesson Plan In Hindi: उत्पादन के साधन पाठ योजना | Simulated Teaching Economics Lesson Plan in Hindi for B.Ed Class 11 on Sources of Production ( Utpadan Ke Sadhan) | Simulated Teaching Lesson Plan Economics in Hindi for Class 11 on Sources of Production ( उत्पादन के साधन ) free download pdf

Utpadan Ke Sadhan Lesson Plan In Hindi: उत्पादन के साधन पाठ योजना | Simulated Teaching Economics Lesson Plan in Hindi for B.Ed Class 11 on Sources of Production ( Utpadan Ke Sadhan)

सरल शब्दों में उत्पादन का मतलब वस्तु या पदार्थ का निर्माण करना| मनुष्य वस्तु को बना नहीं सकता, लेकिन वस्तु का स्वरूप बदल कर वस्तु का उपयोग कर सकता है | कुछ अर्थशास्त्रियों का मानना है कि वस्तु में उपयोगिता का सर्जन करना ही उत्पादन है | उत्पादन को उपयोगिता में वृद्धि समझना बिल्कुल गलत होगा क्योंकि उपयोगिता की वृद्धि में ऐसे कई उदाहरण हैं | जिन्हें उत्पादन कहना गलत है | प्रकृति द्वारा दी गई भौतिक वस्तुएं निशुल्क होती है, मुख्य रूप से उत्पादन के तीन साधन है – भूमि, श्रम, पूंजी,

प्रो. बेन्हम के अनुसार, “कोई भी वस्तु जो उत्पादन में मदद पहुँचाती है, उत्पादन का साधन है।” अर्थात् उपयोगिताओं या मूल्यों के सृजन में जो तत्व मददगार होते हैं वे उत्पादन के साधनों के रूप में जाने जाते हैं।

प्रो. मार्शल के अनुसार, “मानव भौतिक वस्तुओं का निर्माण नहीं कर सकता । वह तो अपने श्रम से उपयोगिताओं का सृजन कर सकता है।”

भूमि उत्पादन की पहली नींव होती है जिसमें आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए श्रम किया जाता है और अर्थशास्त्री भूमि को निष्क्रिय और श्रम को सक्रिय साधन मानते हैं | पूंजी को भी उत्पादन का साधन बताया है | उत्पादन में भूमि को पहला हिस्सा और श्रम और पूंजी को बाद का हिस्सा मिलता है | अगर बड़े स्तर की अर्थव्यवस्था की सफलता को पाना चाहते हैं, तो मार्शल ने संगठन को उत्पादन का साधन माना है और संगठन के अंतर्गत प्रबंध और साहस आता है| इस तरह से उत्पादन के साधन पांच होते हैं |

भूमि –  इकोनॉमिक्स में भूमि का बड़ा व्यापक अर्थ होता है | पृथ्वी की भूगर्भ और भू के ऊपर जो भी चीजें हमें प्रकृति द्वारा मिलती है | वह सभी भूमि की श्रेणी में आते हैं | इस तरह से सूर्य, पहाड़, भूमि, जंगल, खनिज यह सभी भूमि में आते हैं | प्रो. मार्शल के अनुसार, “भूमि का अभिप्राय उन सब पदार्थों एवं शक्तियों से है जो प्रकृति के मानव को निःशुल्क उपहार के रूप में प्रदान की हैं।

श्रम – मनुष्य द्वारा धन उत्पादन की दृष्टि से जो भी काम किया जाता है, चाहे वह शारीरिक हो या मानसिक दोनों ही श्रम कहलाते हैं | भूमि उत्पादन का निष्क्रिय जबकि श्रम सक्रिय साधन माना गया है | मार्शल के अनुसार, “ये प्रयत्न प्रत्यक्ष आनन्द की दृष्टि से न किये जाकर पूर्णतः अथवा आंशिक रूप से धनोत्पादन की दृष्टि से किये जाते हैं।”

 पूंजी –  उत्पादन का कुछ हिस्सा जरूरतों को पूरा करने के लिए बचा कर रख लिया जाता है ताकि भविष्य में उत्पादन के लिए यंत्र मशीनें कच्चा माल श्रमिकों का भुगतान किया जा सके |  इस तरह कमाया हुआ वह धन जो और ज्यादा धन उत्पादन करने में प्रयोग किया जाए उस धन को पूंजी कहते हैं | अगर भविष्य में बड़े पैमाने की अर्थव्यवस्था में पूंजी उत्पादन का महत्वपूर्ण साधन होता है | 

प्रबंध –  बड़े स्तर की अर्थव्यवस्था में उत्पादन के साधन का बड़ी मात्रा में प्रयोग किया जाता है, इसे सही ढंग से चलाने के लिए अच्छे व्यक्तियों की आवश्यकता होती है | जो उत्पादन के हिसाब से भूमि और श्रम पूंजी की व्यवस्था करके कम लागत में अच्छा उत्पादन कर सकें | इस तरह बड़े पैमाने की अर्थव्यवस्था में उत्पादन की सफलता के लिए प्रबंध अथवा संगठन की जरूरत है इसलिए इसे उत्पादन का एक अहम साधन माना गया है |

Utpadan Ke Sadhan Lesson Plan

  • कक्षा : 11, 12
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : उत्पादन के साधन
  • लेसन प्लान टाइप :मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग 

Note: निचे दी गयी अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|

Date : 

Duration Of The Period :

Pupils Teacher Name :

Pupil Teacher’s Roll Number :

Class :

Average Age Of the Pupils :

Subject :

Topic :

विषय वस्तु विश्लेषण –

  • उत्पादन के साधन का अर्थ
  • उत्पादन के साधन के प्रकार

सामान्य उद्देश्य –

  1. छात्रों को उत्पादन के विभिन्न साधनों के विषय में ज्ञान प्रदान करना|
  2. छात्रों को उत्पादन की विभिन्न साधनों का अर्थ समझाना |
  3. छात्रों में उत्पादन की विभिन्न साधनों के संबंध में अभिरुचि उत्पन्न करना |
  4. छात्रों में तर्क शक्ति का विकास करना |

विशिष्ट उद्देश्य

ज्ञानात्मक उद्देश्य –

  1. छात्रों उत्पादन का अर्थ समझ जाते हैं|
  2. छात्र उत्पादन के अर्थ को लिखना सीख जाते हैं|

बोधात्मक उद्देश्य –

  1. छात्रों को साधनों का बोध होता है|
  2. छात्रों को उत्पादन के साधनों तथा उनके प्रकारों का ज्ञान होता है|

 प्रयोगात्मक उद्देश्य –

  1. छात्रों को उत्पादन के साधनों का प्रयोग आता है|
  2. छात्र उत्पादन के साधनों का निर्माण करना सीखते हैं|
  3. छात्र उत्पादन के साधनों का प्रयोग करना सीखते हैं|

कौशलात्मक उद्देश्य –

  1.  छात्र उत्पादन के साधनों का अलग-अलग प्रयोग करना सीखते हैं|
  2. छात्र उत्पादन के साधनों का प्रयोग करना सीखते हैं |

अनुदेशात्मक सामग्री

  • सामान्य सामग्री – चौक, झाड़न, संकेतक, श्यामपट्ट
  • विशिष्ट सामग्री – चार्ट, पाठ्य पुस्तक

पूर्व परीक्षण – अपने विषय की घोषणा से पूर्व में आपसे कुछ प्रश्न पूछना चाहती हूं| 

अध्यापक क्रिया

छात्र क्रिया

शरीर ढ़कने के लिए हम क्या पहनते हैं?

कपड़े

हम कौन-कौन से धागों से तैयार वस्त्र पहनते हैं?

सूती रेशमी

कपड़ा कहां तैयार होता है?

कपड़े की मील में

उत्पादन के कौन-कौन से साधन है?

समस्यात्मक

 उप विषय की घोषणा – तो आज हम उत्पादन के विभिन्न साधनों के विषय में अध्ययन करेंगे|

शिक्षण बिंदु

छात्र अध्यापक क्रिया

छात्र क्रिया

श्यामपट्ट

उत्पादन के साधन

जिन सेवाओं साधनों का प्रयोग उत्पादन कार्य में किया जाता है अथवा के उत्पादन में सहायता मिलती है उनको उत्पादन के साधनों का साधन कहते हैं| जो निम्न प्रकार के होते हैं|

उत्पादन के साधन

  1. भूमि
  2. श्रम
  3. पूंजी
  4. संगठन या प्रबंध

भूमि

साधारण बोलचाल की भाषा में पृथ्वी के ऊपरी भाग को भूमि कहते हैं परंतु अर्थशास्त्र में पृथ्वी का अर्थ  भूमि की उपरी सतह से नहीं बल्कि उन समस्त वस्तुओं या शक्तियों से है जो प्रकृति द्वारा मनुष्य को निशुल्क प्रदान की जाती है भूमि उत्पादन का एक महत्वपूर्ण साधन है|

प्रश्न

भूमि से क्या अर्थ है?

प्रकृति द्वारा मनुष्य को निशुल्क प्रदान की जाने वाली वस्तुएं भूमि के अंतर्गत आती है|

श्रम

 मनुष्य द्वारा किए जाने वाले सभी शारीरिक मानसिक कार्य जो हम करते हैं श्रम कहलाता है|

पूंजी

किसी व्यवसाय में धन उत्पादन के लिए जो पैसा लगाया जाता है उसे पूंजी कहते हैं| जैसे – कारखाने में मशीन, नगदी कच्चा माल आदि|

संगठन या प्रबंध

जिस प्रकार उत्पादन का चौथा साधन संगठन या प्रबंध है उसे किसी व्यवसायिक कार्य को संचालन करने को संगठन प्रबंध कहते हैं|

साहस

जो व्यक्ति जोखिम उठाता है उसे साहसी या मालिक कहा जाता है|

छात्र ध्यान पूर्वक सुनेगे और मुख्य बिंदुओं को अपनी कॉपी में नोट करेंगे|

मूल्यांकन –

  1. अर्थशास्त्र में भूमि का क्या अर्थ है|
  2. श्रम किसे कहते हैं|
  3. धन और पूंजी में क्या अंतर है|
  4. उत्पादन के साधन किसे कहते हैं |

प्रश्न – उत्पादन के साधनों की विस्तार से व्याख्या करें|


Further Reference:
Learning Classes Online अर्थशास्त्र पाठ योजना

Utpadan Ke Sadhan Lesson Plan

Utpadan Ke Sadhan Lesson Plan In Hindi

Utpadan Ke Sadhan Lesson Plan PDF

Economics Lesson Plan in Hindi for Class 11 and 12 on Sources and Means of Production for B.Ed

Economics का B.Ed Utpadan Ke Sadhan का lesson Plan 

त्पादन के साधन इकोनॉमिक्स का lesson Plan In Hindi

Means of Production का lesson plan

Economics lesson plan in hindi class 11

economics lesson plan in hindi class 12

sources for production lesson plan in hindi for b.ed


  • कक्षा : 11
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : उत्पादन के साधन ( सोर्सेज ऑफ़ प्रोडक्शन  )
  • लेसन प्लान टाइप : मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग 


Note: निचे दी गयी  अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|

Simulated Teaching Lesson Plan Economics in Hindi for Class 11 on Sources of Production ( उत्पादन के साधन ) free download pdf



utpadan ka sadhan economics lesson plan in hindi








Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना
इकोनॉमिक्स लेसन प्लान on Consumer Behaviour in Hindi ( उपभोगता का व्यवहार पाठ योजना ) free download pdf

Upbhokta Ka Vyavhar Lesson Plan In Hindi : उपभोक्ता का व्यवहार | Economics Lesson Plan in Hindi on Consumer Behaviour for B.Ed / DELED

उपभोक्ता का व्यवहार - जो वस्तुओं और सेवाओं का उपभोग करता है उसे उपभोक्ता कहते हैं | उपभोक्ता के व्यवहार का अध्ययन करना बहुत महत्वपूर्ण है, क्योंकि इससे बाजारियों को समझने में मदद मिलती है कि उपभोक्ताओं के खरीद के फैसले क्या प्रभावित करते हैं |

उपभोक्ता द्वारा यह समझ लिया जाता है कि किसी उत्पाद पर कैसे निर्णय लेते हैं | वह मार्केट में अंतर करना सीख जाते हैं और उन उत्पादों की पहचान कर लेते हैं | जिनकी आवश्यकता है और जिनकी नहीं उपभोक्ता व्यवहार उपभोक्ताओं का अध्ययन है और वह प्रक्रिया जिसमें विज्ञान चुनते हैं और क्या उपयोग करते हैं उत्पादों और सेवाओं का निपटान करते हैं जिसमें उपभोक्ताओं की भावनात्मक मानसिक व्यवहारिक प्रतिक्रियाएं शामिल  है उपभोक्ता व्यवहार के बारे में जानना भी दिखता को यह तय करने में मदद करता है कि अपने उत्पादों को किस तरह से दिखाया जाए जिससे उपभोक्ता पर अधिक प्रभाव पड़े और उत्पाद खरीद ले उपभोक्ता खरीद व्यवहार को समझना आपके लिए बहुत जरूरी है क्योंकि यहां पर ग्राहकों तक पहुंचने और उन्हें लुभाने और आपसे खरीदने के लिए उन्हें परिवर्तित करने का महत्वपूर्ण जरिया है |

उपभोक्ता सिद्धांत को समझने से पहले यह समझना जरूरी होगा कि, उपभोक्ता चीजों को किस प्रकार वरीयता देता है और साथ ही साथ यह भी पता लगाना होगा कि वह किस प्रकार उत्पादों का उपभोग करता है और उपभोग की गई वस्तु द्वारा उसे संतुष्टि मिलती है| यह सभी बातें ध्यान रखनी होंगी |

उपभोक्ता व्यवहार के प्रकार – उपभोक्ता व्यवहार के चार प्रकार होते हैं |

जटिल खरीद व्यवहार –  इस प्रकार के व्यवहार का सामना करते हैं | जब उपभोक्ता एक महंगा खरीदे गए उत्पाद को खरीदते हैं घर या कार खरीदने की कल्पना करें यह एक जटिल खरीद बहार है खरीद को कम करने वाला व्यवहार उपभोक्ता खरीदारी कर रहा है लेकिन ब्रांडो के बीच उलझा हुआ है कहने का मतलब है कि वह ब्रांडो के बीच अंतर नहीं कर पा रहा है और उसे यह चिंता है कि खरीदने के बाद उसे पछतावा तो नहीं होगा आदत के आधार पर व्यवहार खरीदना आदतन खरीद इस तथ्य  की विशेषता है कि उपभोक्ता की  उत्पाद या ब्रांड  श्रेणी में कम दिलचस्पी है मान ले कि आप बेकरी की दुकान पर जाते हैं और अपना पसंदीदा केक ऑर्डर करते हैं तो यह आदतन हुआ क्योंकि आप अपना पसंदीदा के खरीदते हैं जो आप हमेशा से ही खरीदते आ रहे हैं ना कि कोई ब्रांड वाला केक विभिन्न कैटेगरी का व्यवहार इस स्थिति में उपभोक्ता एक अलग प्रोडक्ट खरीदा है क्योंकि उसने इस प्रोडक्ट से पहले प्रोडक्ट खरीदा था वह अच्छा नहीं था क्योंकि वह विविधता चाहता है |

  • कक्षा : 12
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : कंस्यूमर बेहेवियर ( उपभोगता का व्यवहार )
  • लेसन प्लान टाइप : मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग

Note: निचे दी गयी अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|

Date : 

Duration Of The Period :

Pupils Teacher Name :

Pupil Teacher’s Roll Number :

Class :

Average Age Of the Pupils :

Subject :

Topic :

Upbhokta Ka Vyavhar Lesson Plan

विषय वस्तु विश्लेषण

  1. उपभोक्ता का व्यवहार
  2. उपयोगिता का अर्थ
  3. उपयोगिता को कैसे मापा जा सकता है
  4. उपयोगिता के प्रकार

सामान्य उद्देश्य

  1. विद्यार्थियों की मानसिक शक्ति का विकास करना |
  2. विद्यार्थियों को उपभोक्ता व्यवहार के बारे में बताना |
  3. विद्यार्थियों की सृजनात्मक शक्ति का विकास करना |
  4. विद्यार्थियों में तर्क शक्ति का विकास करना |

विशिष्ट उद्देश्य

ज्ञानात्मक उद्देश्य

  • छात्रों को उपभोक्ता अर्थ समझाना |
  • उपयोगिता के सिद्धांत के विषय में ज्ञान कराना |
  • उपयोगिता के प्रकार बताना |

बोध

  • छात्रों को उपभोक्ता व्यवहार के बारे में अध्ययन |
  • विद्यार्थियों को उपयोगिता के प्रकार के बारे में बताना |
  • छात्रों को उपभोक्ता के व्यवहार के बारे में बताना |

पूर्व ज्ञान – आपको यह तो पता ही होगा कि उपभोक्ता कौन होते हैं तथा वह किसी वस्तु की मांग क्यों करते हैं|

अनुदेशात्मक सामग्री

  • सामान्य सामग्री – चौक, झाड़न, संकेतक, श्यामपट्ट
  • विशिष्ट सामग्री – चार्ट, श्यामपट्ट, पाठ्य पुस्तक

पूर्व ज्ञान परीक्षण

छात्र अध्यापक क्रियाएं

छात्र क्रियाएं

क्या आप जानते हैं जो वस्तुएं और सेवाओं का उपभोग करता है उसे क्या कहते हैं ?

उपभोक्ता

क्या जानते हैं कि आपको या उपभोक्ता को किसी वस्तु को खरीदते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए ?

वस्तुओं के उपयोग से उत्पन्न संतुष्टि

1.   वस्तुओं की कीमत

2.   उपभोक्ता की आय

उपविषय की घोषणा – आज हम आपको उपभोक्ता के व्यवहार तथा उपयोगिता विश्लेषण द्वारा उपभोक्ता का व्यवहार समझाएंगे |

प्रस्तुतीकरण

शिक्षण

छात्र अध्यापक क्रियाएं

छात्र क्रियाएं

श्यामपट्ट

उपभोक्ता

उपभोक्ता कौन है ?

छात्र ध्यानपूर्वक सुनेगे|

 

उपयोगिता

किसी वस्तु या सेवा में मानव आवश्यकता को संतुष्ट करने की शक्ति उपयोगिता है

 

 

उपयोगिता को मापना

किसी वस्तु या सेवा से मिलने वाली उपयोगिता को मुद्रा रुपए मापदंड में मापा जा सकता है इन्हें हम युटिल में मापते हैं|

 

उपयोगिता के प्रकार

उपयोगिता के दो प्रकार हैं –

  • सीमांत उपयोगिता
  • कुल उपयोगिता

छात्र ध्यानपूर्वक सुनेगे|

 

सीमांत उपयोगिता

 किसी वस्तु की एक अतिरिक्त इकाई से प्राप्त उपयोगिता को कहते हैं| सीमांत उपयोगिता कुल परिवर्तन दर को बताती हैं |

 

 

उदाहरण

मान लो उपभोक्ता को एक आम खाने से कुल उपयोगिता 10 इकाई मिलती है यहां आम की पहली इकाई की सीमांत उपयोगिता 10 है और दो आम खाने से कुल उपयोगिता 18 है|

तो छात्र बताएंगे कि दूसरे आम की सीमांत उपयोगिता क्या होगी|

18 -10 = 8

दूसरे आम की सीमांत उपयोगिता 8 होगी

 

कुल उपयोगिता

कुल उपयोगिता का अभिप्राय किसी वस्तु की इकाइयों से प्राप्त होने वाली सीमांत उपयोगिता के योग से है |

 

 

उदाहरण

एक उपभोक्ताओं का उपभोग करता है| यदि उपभोक्ता को सेब की पहली दूसरी और तीसरी और चौथी चार उपयोगिता मिलती है तो सिर्फ कुल उपयोगिता कितनी होगी|

 28 होगी |

 

सीमांत उपयोगिता या कुल उपयोगिता में संबंध

1.   जब सीमांत उपयोगिता धनात्मक होती है तो कुल उपयोगिता बढ़ती है

2.   जब सीमांत उपयोगिता जाती है| तो कुल उपयोगिता अधिकतम हो जाती है|

3.   जब सीमांत उपयोगिता ऋणात्मक  होती है तो घटने लगती है|

सीमांत उपयोगिता धनात्मक है | और कुल उपयोगिता बढ़ रही है| वस्तु की चौथी इकाई पर सीमांत उपयोगिता के शुरू होने पर कुल उपयोगिता अधिकतम होती है | इसे हम पूर्ण तृष्टि बिंदु कहते हैं वस्तु की चौथी इकाई तथा पांचवी और छठी इकाई पर सीमांत उपयोगिता ऋणात्मक है| और कुल उपयोगिता क्रमशः घट रही है|

 

 

मूल्यांकन –

  1. प्रश्न – उपभोक्ता किसे कहते हैं ?
  2. प्रश्न – यदि पहली इकाई से 5, दूसरे से 3 तीसरी से 2 की उपयोगिता मिलती है तो कुल उपयोगिता कितनी होगी ?
  3. प्रश्न – सीमांत उपयोगिता किसे कहते हैं ?

गृहकार्य –

  1. उपभोक्ता किसे कहते हैं ?
  2. यदि पहली इकाई से 5 दूसरे से 3 तीसरी से 2  की उपयोगिता मिलती है तो कुल उपयोगिता कितनी होगी |
  3. सीमांत उपयोगिता किसे कहते हैं|

Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना

Lesson Plan On Consumer Behaviour In Hindi

Upbhokta Ka Vyavhar Lesson Plan

Upbhokta Ka Vyavhar Lesson Plan In Hindi

Upbhokta Ka Vyavhar Lesson Plan PDF

Economics Lesson Plan in Hindi on Consumer Behaviour (Upbhokta)

Economics Lesson Plan in Hindi Class 12 for B.Ed

Economics का Class 9,10,11,12 का  Lesson Plan On Consumer Behaviour In Hindi

Upbhokta Vyavhar Lesson Plan In Hindi

इकोनॉमिक्स लेसन प्लान 


  • कक्षा : 12
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : कंस्यूमर बेहेवियर ( उपभोगता का व्यवहार )
  • लेसन प्लान टाइप : मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग 


Note: निचे दी गयी  अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|

इकोनॉमिक्स लेसन प्लान on Consumer Behaviour in Hindi ( उपभोगता का व्यवहार पाठ योजना ) free download pdf

consumer behaviour lesson plan in hindi




upbhokta ka vyavyar lesson plan in hindi for class 12

upbhokta par economics ki path yojna





Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना
Microeconomics Lesson Plan In Hindi For B.Ed/D.El.Ed | व्यष्टि अर्थशास्त्र पाठ योजना | Micro Economics Path Yojna Arthashastra

Microeconomics Lesson Plan In Hindi For B.Ed/D.El.Ed | व्यष्टि अर्थशास्त्र पाठ योजना | Micro Economics Path Yojna Arthashastra

सूक्ष्मअर्थशास्त्र सामाजिक विज्ञान है जो प्रोत्साहनों और निर्णयों का अध्ययन करता है, विशेष रूप से यह कि वे संसाधनों के उपयोग और वितरण को कैसे प्रभावित करते हैं। सूक्ष्मअर्थशास्त्र दिखाता है कि कैसे और क्यों अलग-अलग वस्तुओं के अलग-अलग मूल्य होते हैं, कैसे व्यक्ति और व्यवसाय कुशल उत्पादन और विनिमय का संचालन और लाभ करते हैं, और कैसे व्यक्ति एक दूसरे के साथ सर्वोत्तम समन्वय और सहयोग करते हैं। सामान्यतया, सूक्ष्मअर्थशास्त्र मैक्रोइकॉनॉमिक्स की तुलना में अधिक पूर्ण और विस्तृत समझ प्रदान करता है। व्यष्टि अर्थशास्त्र निर्णय लेने और संसाधनों के आवंटन में व्यक्तियों, परिवारों और फर्मों के व्यवहार का अध्ययन है।

प्रो. बोल्डिंग के अनुसार “व्यष्टि अर्थशास्त्र विशिष्ट फर्मे विशिष्ट परिवारों वैयक्तिक कीमतों मजदूरियों आयो विशिष्ट उद्योगों और विशिष्ट वस्तुओं का अध्ययन है।”

प्रो. चेम्बरलिन के अनुसार “व्यष्टि अर्थशास्त्र पूर्णरूप से व्यक्तिगत व्याख्या पर आधारित है और इसका संबधं अन्तर वैयक्तिक सबंधों से भी होता है।”

प्रो.जे.एम जोशी के अनुसार  “व्यष्टिभाव आर्थिक विश्लेषण का सम्बन्ध वैयक्तिक निर्णयन इकाईयों से है|”

एडविन मेन्सफील्ड के अनुसार  “व्यष्टि भाव अर्थशास्त्र वैयक्तिक इकाईयों जेसे उपभोक्ता ,फर्म ,साधन स्वमियो के आर्थिक क्रियाओ से सम्बन्ध है|”

हेंडरसन एवं क्वांट के अनुसार “व्यष्टि अर्थशास्त्र में व्यक्तिओ एवं व्यक्तिओ के ठीक से परिभाषित समूहों की आर्थिक क्रियाओ का अध्ययन किया जाता है|”

व्यष्टि अर्थशास्त्र के प्रकार – व्यष्टि अर्थशास्त्र 3 प्रकार का होता है| 

  1. व्यष्टि स्थैतिकी
  2. तुलनात्मक सूक्ष्म
  3. स्थैतिकी तथा सूक्ष्म प्रोद्योगिकी

Microeconomics Lesson Plan 

  • कक्षा : 11, 12
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : Microeconomics
  • लेसन प्लान टाइप : मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग 

Note: निचे दी गयी अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|

Date : 

Duration Of The Period :

Pupils Teacher Name :

Pupil Teacher’s Roll Number :

Class :

Average Age Of the Pupils :

Subject :

Topic :

विषय वस्तु विश्लेषण

  1. अर्थशास्त्र के मूल अंश
  2. व्यष्टिअर्थशास्त्र का क्षेत्र
  3. व्यष्टिअर्थशास्त्र के अध्ययन का महत्व

सामान्य उद्देश्य

  1. विद्यार्थियों में सृजनात्मक शक्ति का विकास करना|
  2. विद्यार्थियों के सामान्य ज्ञान में वृद्धि करना|
  3. विद्यार्थी का मानसिक विकास होता है|
  4. विद्यार्थियों में तर्क शक्ति का विकास करना|

विशिष्ट उद्देश्य –

ज्ञानात्मक उद्देश्य

  1. छात्रों को व्यष्टि अर्थशास्त्र की परिभाषा बताना|
  2. छात्रों को व्यष्टि अर्थशास्त्र का महत्व बताना|

बोधात्मक उद्देश्य –

  1. छात्रों को व्यष्टि अर्थशास्त्र के मूल के बारे में बताना|
  2. छात्रों को व्यष्टि अर्थशास्त्र के क्षेत्र से अवगत कराना|

प्रयोगात्मक उद्देश्य –

छात्रों को यह बताना कि व्यष्टि और समष्टि अर्थशास्त्र कहां प्रयोग होता है|

पूर्व ज्ञान – आपने पहले भी व्यष्टि अर्थशास्त्र के बारे में बताना|

पूर्व ज्ञान परीक्षण

छात्र अध्यापक क्रियाएं

छात्र क्रियाएं

क्या जानते हैं कि अर्थशास्त्र के दो मूल अंश कौन-कौन से हैं?

व्यष्टि अर्थशास्त्र व समष्टि अर्थशास्त्र

व्यष्टि अर्थशास्त्र का क्षेत्र कितना व्यापक है वह किस स्तर तक इसका हमारे जीवन में कितना महत्व है?

समस्यात्मक

क्या आप व्यष्टि अर्थशास्त्र समष्टि अर्थशास्त्र में अंतर बता सकते हैं|

समस्यात्मक

 

अनुदेशात्मक सामग्री

  • सामान्य सामग्री – चौक, झाड़न, संकेतक, श्यामपट्ट
  • विशिष्ट सामग्री – चार्ट, श्यामपट्ट, पाठ्य पुस्तक

उपविषय की उद्घोषणा – तो आज हम व्यष्टि अर्थशास्त्र के मूल अंश के क्षेत्र के बारे में पढेंगे|

प्रस्तुतीकरण

शिक्षण

छात्र अध्यापक क्रियाएं

छात्र क्रियाएं

श्यामपट्ट

अर्थशास्त्र के दो  मूल अंश

अर्थशास्त्र के दो मूल भागों को बांटा गया है| व्यष्टि अर्थशास्त्र और समष्टि अर्थशास्त्र

 

अर्थशास्त्र के दो  मूल अंश –

  1. व्यष्टि अर्थशास्त्र
  2. समष्टि अर्थशास्त्र

व्यष्टि अर्थशास्त्र

व्यक्तिगत स्तर पर आर्थिक क्रियाओं का अध्ययन ही व्यष्टि अर्थशास्त्र है|

 

 

समष्टि अर्थशास्त्र

समस्त अर्थव्यवस्था के स्तर पर आर्थिक क्रियाओं का अध्ययन समष्टि अर्थशास्त्र है|

 

 

क्षेत्र

व्यष्टि अर्थशास्त्र का क्षेत्र इस प्रकार है –

1.   मांग के सिद्धांत

2.   उत्पादन के सिद्धांत

3.   कीमत निर्धारण

4.   साधन कीमत के सिद्धांत

 

 

मांग का सिद्धांत

 व्यष्टि अर्थशास्त्र में यह अध्ययन किया जाता है कि किसी वस्तु की मांग कैसे निर्धारित होती है इसके अंतर्गत मांग के सिद्धांत का अध्ययन किया जाता है|

 

व्यष्टि अर्थशास्त्र के  क्षेत्र –

1.   मांग के सिद्धांत

2.   उत्पादन के सिद्धांत

3.   कीमत निर्धारण

4.   साधन कीमत के सिद्धांत

उत्पादन का सिद्धांत

इस क्षेत्र में यह अध्ययन किया जाता है एक फर्म उत्पादन के साधनों को एकत्रित करके उत्पादन करती है कि एक उपभोक्ता अपनी निश्चित आय को बाजार मूल्य पर विभिन्न वस्तुओं में किस प्रकार बांटता है|

 

व्यष्टि अर्थशास्त्र का महत्व –

1.   अर्थशास्त्र की कार्यप्रणाली

2.   भविष्यवाणी

3.   आर्थिक नीतियां

4.   आर्थिक कल्याण

5.   प्रबंध संबंधी निर्णय 

कीमत निर्धारण का सिद्धांत

 इस क्षेत्र में यह अध्ययन किया जाता है कि उत्पादित वस्तुओं को विभिन्न परिस्थितियों में खरीदा व बेचा जा सकता है|

छात्र ध्यान पूर्वक सुनेंगे

 

साधन कीमत सिद्धांत

 इस क्षेत्र में यह अध्ययन किया जाता है कि साधन कीमत के निर्धारण तथा बंटवारे से संबंधित समस्याओं का अध्ययन किया जाता है

 

 

व्यष्टि अर्थशास्त्र का महत्व

व्यष्टि अर्थशास्त्र के महत्व का अध्ययन इस प्रकार है –

 

 

अर्थशास्त्र की कार्यप्रणाली

व्यष्टि अर्थशास्त्र के द्वारा एक अर्थव्यवस्था की कार्य प्रणाली का अध्ययन किया जाता है|

 

 

भविष्यवाणी

अर्थव्यवस्था के सिद्धांत भविष्यवाणी पर बनाए जाते हैं| यदि एक विशेष घटना घटी है तो उसके कुछ परिणाम निकलेंगे|

 

 

आर्थिक नीतियां

व्यष्टि अर्थशास्त्र का प्रयोग आर्थिक नीति बनाने के लिए किया जाता है कीमत नीति एक ऐसा उपकरण है जो इस कार्य में सहायक सिद्ध होते हैं|

छात्र ध्यान पूर्वक सुनेंगे

 

आर्थिक कल्याण

व्यष्टि अर्थशास्त्र के द्वारा आर्थिक कल्याण की दशाओं का ज्ञान प्राप्त किया जा सकता है|

छात्र ध्यान पूर्वक सुनेंगे

 

प्रबंध संबंधी निर्णय

व्यवसायिक फर्म व्यष्टि अर्थशास्त्र का अध्ययन प्रबंध संबंधी निर्णय लेने के लिए करते हैं|

 

 

मूल्यांकन –

  • प्रश्न – व्यष्टि अर्थशास्त्र के क्षेत्र कौन-कौन से हैं?
  • प्रश्न – व्यष्टि अर्थशास्त्र का महत्व क्या है?
  • प्रश्न – व्यष्टि अर्थशास्त्र तथा समष्टि अर्थशास्त्र की परिभाषा बताइए?

गृहकार्य- 

  1. व्यष्टि अर्थशास्त्र किसे कहते हैं? तथा इसका क्षेत्र क्या है|
  2. अर्थशास्त्र के महत्व पर प्रकाश डालिए?
  3. समष्टि अर्थशास्त्र से क्या अभिप्राय है?

Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना

Microeconomics Lesson Plan

Microeconomics Lesson Plan In Hindi for B.Ed

Micro economics Lesson Plan PDF  

Economics Lesson Plan in Hindi 

Microeconomics का lesson Plan Class 11, 12

Microeconomics lesson Plan In Hindi

Microeconomics का lesson plan In Hindi

Vyasti Arthsastra path Yojna

Microeconomics lesson plan path yojna in hindi

economics lesson plan in hindi for class 11 and 12

suksham arthshastra lesson plan


  • कक्षा : 11
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : microeconomics
  • लेसन प्लान टाइप : मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग 


Note: निचे दी गयी  अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|

Microeconomics Lesson Plan in Hindi for Class 11 students and teachers free download pdf



सूक्ष्म अर्थशास्त्र paath yojna








Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना

  • कक्षा : 10
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : बाजार
  • लेसन प्लान टाइप : मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग 


Note: निचे दी गयी  अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|

Lesson Plan for Economics Class 10 in Hindi free download pdf on Market ( Bazaar Topic)



Arthashastra paath yojna kaksha 10 hindi me

bazaar lesson plan class 10 in hindi

cbse ncert  economics lesson plan for teachers in hindi for class 10 th






Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना
Lesson Plan for Economics Class 9 in Hindi | Vyashti Arthashastra Lesson Plan For B.Ed/D.El.Ed : व्यष्टि अर्थशास्त्र पाठ योजना | >Vyashti Arthashastra Lesson Plan For B.Ed/D.El.Ed : व्यष्टि अर्थशास्त्र पाठ योजना | Micro Economics Lesson Plan in Hindi | ArthaShastra Path Yojna

Vyashti Arthashastra Lesson Plan For B.Ed/D.El.Ed : व्यष्टि अर्थशास्त्र पाठ योजना | Micro Economics Lesson Plan in Hindi | ArthaShastra Path Yojna

ग्रीक भाषा के ‘मिक्रोस’ शब्द से बना है ‘माइक्रो’ शब्द, जिसका अर्थ छोटा होता है।  माइक्रो शब्द छोटी इकाइयों से सम्बन्धित है। व्यष्टि अर्थशास्त्र में किसी अर्थव्यवस्था की अलग अलग छोटी-छोटी इकाइयों की आर्थिक क्रियाओं का विश्लेषण किया जाता है। दूसरे शब्दों में, व्यष्टिगत अर्थशास्त्र के अन्तर्गत विशेष व्यक्तियों, परिवार, फर्मों, उद्योगों,  विशिष्ट रूप से उन बाजारों में सीमित संसाधनों के आवंटन का निर्णय करते हैं, जहां वस्तुएं एवं सेवाएं खरीदी एवं बेचीं जाती हैं।। उदाहरण के लिए, एक उपभोक्ता अपनी आय तथा व्यय में किस प्रकार सन्तुलन स्थापित करता है। एक उत्पादक अपनी फैक्ट्री में उत्पादन का प्रबन्ध किस तरह करता है, किसी एक वस्तु, जैसे-गेहूँ या घी की कीमत किस प्रकार निर्धारित होती है आदि। ऐसी अनेक आर्थिक समस्याएं हैं जिनका अध्ययन व्यष्टिगत अर्थशास्त्र में किया जाता है। 

परिभाषाएं :

व्यष्टिगत अर्थशास्त्र की कुछ प्रमुख विशेषताएं निम्नलिखित हैं

(1) प्रो. बोल्डिग ने अपनी प्रसिद्ध पुस्तक ‘आर्थिक विश्लेषणं’ में लिखा है कि “व्यष्टिगत अर्थशास्त्र के अन्तर्गत विशेष फर्मों, विशेष परिवारों, वैयक्तिक कीमतों, मजदूरियों, आयों आदि वस्तुओं का अध्ययन किया जाता है। एक अन्य पुस्तक में प्रो. बोल्डिग ने लिखा है कि “व्यष्टिगत अर्थशास्त्र विशिष्ट आर्थिक घटकों एवं उनकी पारस्परिक प्रतिक्रिया और इसमें विशिष्ट आर्थिक मात्राओं तथा उनका निर्धारण भी सम्मिलित है, का अध्ययन है।”

(2) हैण्डर्सन क्वाण्ट के शब्दों में, “व्यष्टिगत अर्थशास्त्र व्यक्तियों के सुपरिभाषित समूहों के आर्थिक कार्यों का अध्ययन है।”

(3) प्रो. मेहता ने व्यष्ट्रिगत अर्थशास्त्र को कूसो की अर्थव्यवस्था की संज्ञा दी है क्योंकि सम्बन्ध मुख्य रूप से वैयक्तिक इकाइयों से रहता है।

(4) गार्डनर एकले की मान्यता के अनुसार, “व्यष्टिगत अर्थशास्त्र उद्योगों, उत्पादनों एवं फर्मों में कुछ उत्पादन के विभाजन तथा प्रतिस्पर्धी उपभोग के लिए साधनों के वितरण का अध्ययन करता है। यह आय वितरण समस्या का अध्ययन करता है। विशेष वस्तुओं और सेवाओं के सापेक्षिक मूल्यों में इनकी रुचि रहती है।”

(5) प्रो. चेम्बरलेन के शब्दों में, “व्यष्टिगत अर्थशास्त्र पूर्णतया व्यक्तिगत व्याख्या पर आधारित है तथा इसका सम्बन्ध अन्तर्वैयक्तिक सम्बन्धों से भी होता है।”

व्यक्तिगत इकाइयों व उनके समूहों का ही अध्ययन को ही व्यष्टि अर्थशास्त्र कहते है, लेकिन यह समूह पूरे अर्थव्यवस्था से सम्बंधित नही होते। यह समूह अर्थव्यवस्था का छोटा सा भाग होता है। व्यष्टि अर्थशास्त्र आर्थिक विश्लेषण की वह शाखा है जो विशिष्ट आर्थिक इकाइयों तथा अर्थव्यवस्था के छोटे भागों, उनके व्यवहार तथा उनके पारिवारिक सम्बन्धों का अध्ययन करती है। व्यष्टि अर्थशास्त्र को ” कीमत तथा उत्पादन का सिद्धांत” भी कहते है।

व्यष्टिगत अर्थशास्त्र की विशेषताएं

  • व्यक्तिगत इकाइयों का अध्ययन
  • पूरे अर्थव्यवस्था पर प्रभाव का अभाव
  • सम्पूर्ण अर्थव्यवस्था को स्थिर मान लेना
  • कीमत सिद्धान्त

Note: निचे दी गयी अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|

Vyashti Arthashastra Lesson Plan 

  • कक्षा : 9
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : व्यष्टि अर्थशास्त्र
  • लेसन प्लान टाइप : मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग 

Date : 

Duration Of The Period :

Pupils Teacher Name :

Pupil Teacher’s Roll Number :

Class :

Average Age Of the Pupils :

Subject :

Topic :

विषय वस्तु

  1. अर्थशास्त्र क्या है?
  2. अर्थशास्त्र की परिभाषा
  3. अर्थशास्त्र के मूल अंश
  4. अर्थशास्त्र की विषय सामग्री व महत्व

सामान्य उद्देश्य

  1. छात्रों को अर्थशास्त्र के बारे में बताना|
  2. छात्रों को नियमों तथा तत्वों से परिचित कराना|
  3. छात्रों में अर्थशास्त्र के प्रति रुचि पैदा करना|

विशिष्ट उद्देश्य

ज्ञान

  1. छात्रों को व्यष्टि अर्थशास्त्र की परिभाषा बताना|
  2. छात्रों को व्यष्टि अर्थशास्त्र का महत्व बताना |

बोध

  1. छात्रों को व्यष्टि अर्थशास्त्र की विभिन्न परिभाषाओं से अवगत कराना|
  2. छात्रों को व्यष्टि व समष्टि अर्थशास्त्र में अंतर स्पष्ट करना|

प्रयोग

  1. छात्रों को यह बताना कि व्यष्टि और समष्टि अर्थशास्त्र कहां प्रयोग होता है
पूर्व ज्ञान – आपने व्यष्टि अर्थशास्त्र के विषय में पढ़ा होगा |

पूर्व ज्ञान परीक्षण

छात्र अध्यापक क्रियाएं

छात्र क्रियाएं

क्या आप जानते हैं अर्थशास्त्र क्या है?

वह कार्य जो मनुष्य की आवश्यकताओं को संतुष्ट करते हैं अर्थशास्त्र के अंतर्गत आते है|

अर्थशास्त्र के कौन-कौन से 2 मूल अंश है?

व्यष्टि अर्थशास्त्र और समष्टि अर्थशास्त्र

क्या आप जानते हो अर्थशास्त्र की परिभाषाओं को कितने भागों में बांटा गया है?

समस्यात्मक

उद्देश्य कथन – आज हम आपको अर्थशास्त्र का अर्थ और अर्थशास्त्र की विभिन्न भाषाओं से अवगत कराएंगे|

प्रस्तुतीकरण

शिक्षण

छात्र अध्यापक क्रियाएं

छात्र क्रियाएं

श्यामपट्ट

अर्थशास्त्र

अर्थशास्त्र  वह शास्त्र है जिसमें मनुष्य के उन कार्यों का अध्ययन किया जाता है जिसमें वे अपनी असीमित आवश्यकताओं को संतुष्ट करने वाले सीमित साधनों अर्थात धन को प्राप्त करने के संबंध में प्राप्त करते हैं|

 

अर्थ = धन  तथा

शास्त्र = वैज्ञानिक अध्ययन

अर्थशास्त्र की परिभाषा

अर्थशास्त्र एक विकसित शास्त्र है समय-समय पर अर्थशास्त्रियों में अलग-अलग परिभाषाएं दी हैं|

 

 

कारण संबंधित परिभाषा

एडम स्मिथ के अनुसार अर्थशास्त्र राष्ट्रों के धन की प्रकृति तथा कारणों की खोज है|

आलोचना –  इस परिभाषा में अर्थशास्त्र में मनुष्य के कल्याण के स्थान पर केवल धन का अध्ययन किया गया है अतः यह परिभाषा दोषपूर्ण है|

 

क्लाइस, रोस्किन,मोरिस आदि ने आलोचना करते हुए इसे दुखदाई विज्ञान कहा है|

व्यवसाय संबंधित परिभाषा

डॉ मार्शल के अनुसार अर्थशास्त्र जीवन के साधारण व्यवसाय के संबंध में मानव जाति का अध्ययन है यह व्यक्तिगत तथा सामाजिक कार्यों के उस भाग का अध्ययन करता है जिनका घनिष्ठ संबंध कल्याण प्रदान करने वाले भौतिक पदार्थों की प्राप्ति तथा उनका प्रयोग करने से है|

आलोचना – रॉबिंस ने इस परिभाषा की कई कारणों से आलोचना की है अर्थशास्त्र में सभी मनुष्य के आर्थिक कार्यों का अध्ययन किया जाता है चाहे वह समाज में रहते हो अथवा समाज से बाहर एकांत में रहते हो अर्थशास्त्र में सभी साधनों से संबंधित आर्थिक कार्यों का अध्ययन किया जाता है चाहे वह भौतिक हो अथवा अभौतिक

 

रॉबिंस ने इसकी आलोचना की है|

दुर्लभता संबंधी परिभाषा

रॉबिंस के अनुसार अर्थशास्त्र विज्ञान है जो विभिन्न उपयोगों वाले सीमित साधनों तथा  उद्देश्यों से संबंध रखने वाले मानवीय व्यवहार का अध्ययन करता है|

आलोचना –  डरविन, फ्रेजर, ऐली ने आलोचना करते हुए कहा है कि अर्थशास्त्र केवल चुनाव या मूल्य निर्धारण शास्त्र बना दिया गया है|

 

 

विकास केंद्रित परिभाषा

प्रो सैमुअल्सन, पीटरसन आदि के अनुसार अर्थशास्त्र है जिसमें मनुष्य के उन कार्यों का अध्ययन किया जाता है जो वे अधिकतम संतुष्टि प्राप्त करने के लिए सीमित साधनों के उचित प्रयोग के संबंध में करते हैं|

“अर्थशास्त्र की एक अच्छी परिभाषा इस प्रकार है कि अर्थशास्त्र है जिसमें मनुष्य की आवश्यकताओं की अधिक संतुष्ट करने या कल्याण बढ़ाने तथा आर्थिक विकास के लिए अनेक उपयोगों वाले सीमित साधनों के उच्चतम उपभोग उत्पादन विनियमन तथा वितरण से संबंधित कार्यों का अध्ययन किया जाता है”

 

 

मूल्यांकन

  1. अर्थशास्त्र का क्या अर्थ है|
  2. अर्थशास्त्र की विभिन्न परिभाषाएं कौन सी हैं|
  3. सभी परिभाषा ओं की आलोचनात्मक व्याख्या करो|

गृहकार्य

  1. अर्थशास्त्र क्या है|
  2. अर्थशास्त्र की उचित परिभाषा दीजिए|
  3. अर्थशास्त्र की मार्शल की परिभाषा की व्याख्या कीजिए|
  4. अर्थशास्त्र की रॉबिंस की परिभाषा दीजिए|

Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना

Vyashti Lesson Plan

Vyashti Arthsastra Lesson Plan For B.Ed

Vyashti Lesson Plan For B.Ed/D.El.Ed

Vyashti Lesson Plan For D.El.Ed

Economics Lesson Plan in Hindi

Micro economics lesson plan in hindi

suksham arthsastra path yojna lesson plan

micro economics lesson plan in hindi class 9 , 10, 11, 12 free download pdf

सूक्ष्म अर्थशास्त्र पाठ योजना

micro economics lesson plan

Economics का Microeconomics Lesson Plan

Lesson Plan Vyasti Arthshastra 

Microteaching, Mega teaching, Discussion, Real School Teaching and Practice, and Observation Skill Lesson Plan for Micro Economics


  • कक्षा : 9
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : व्यष्टि अर्थशास्त्र
  • लेसन प्लान टाइप : मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग 


Note: निचे दी गयी  अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|

Lesson Plan for Economics Class 9 in Hindi free download pdf



vyasti arthashastra lesson plan economics in hindi








Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना
Lesson Plan for Economics Class 12 in Hindi | Kimat Loch Ki Vidhiyan Lesson Plan In Hindi : कीमत लोच की विधियाँ पाठ योजना | Economics Lesson Plan in Hindi Class 12 on Price Elasticity ( Keemat Loch) | Kimat Loch Lesson Plan | Lesson Plan for Economics Class 12 in Hindi on कीमत लोच ( Price Elasticity) free download pdf | Kimat Loch Ki Vidhiyan Lesson Plan In Hindi : कीमत लोच

Kimat Loch Ki Vidhiyan Lesson Plan In Hindi : कीमत लोच की विधियाँ पाठ योजना | Economics Lesson Plan in Hindi Class 12 on Price Elasticity ( Keemat Loch) | Kimat Loch Lesson Plan

कीमत लोच जानने से पहले मांग की लोच क्या होती है, आइए जानते हैं | अर्थशास्त्र में मांग की लोच मांग को प्रभावित करने वाले घटकों के बदलाव से मांग कितनी संवेदनशील है | सरल शब्दों में मांग की लोच का मतलब यह होता है कि आर्थिक चरों में बदलाव होने से मांग में होने वाला परिवर्तन है | लोच में यह पता नहीं होता की किस चर में बदलाव आया है | लोच में उपभोक्ता की इनकम और वस्तुओं के मूल्य में परिवर्तन हो सकता है |मांग की कीमत लोच में वस्तु की कीमत ने बदलाव आने पर मांग में बदलाव आता है यानी कीमत बदलने से मांग भी बदलती है| यदि कीमत लोच ज्यादा है तो मांग में बड़ा बदलाव आता है और अगर कम है तो कीमत बदलने से मांग में बहुत कम प्रभाव पड़ता है | 

मांग की कीमत लोच का सूत्र – मांगी कीमत में अनुपातिक परिवर्तन/ मूल्य में अनुपातिक परिवर्तन 

मांग की कीमत लोच के प्रकार – 

  • पूर्णतया बेलोचदार मांग perfectly inelastic demand 
  • बेलोचदार मांग inelastic demand 
  • इकाई लोचदार मांग unity elastic demand 
  • लोचदार मांग elastic demand 
  • पूर्णतया लोचदार मांग perfectly elastic demand 

पूर्णतया बेलोचदार मांग – अब किसी वस्तु की मांग में कीमत में बदलाव की तुलना में कोई बदलाव नहीं आता है तब उसे पूर्णतया बेलोचदार मांग कहते हैं |  ऐसा दैनिक वस्तुओं की मांग पर होता है क्योंकि दैनिक वस्तुओं का मूल्य कितना भी ज्यादा हो हमें भी खरीद नहीं पड़ती है | इस मांग का माप शून्य के बराबर होता है |

बेलोचदार मांग – जब वस्तु की मांग में अनुपातिक बदलाव कीमत में हुए बदलाव से कम होता है तो उसे बेलोचदार मांग कहते हैं | यह मांग भोजन, ईंधन में ज्यादा होता है | जब इन सभी वस्तुओं की मांग होती है तो इनकी कीमत में बदलाव होता है तो मांग भी बहुत कम परिवर्तित होती है | बेलोचदार मांग में मांग की लोच 0 से ज्यादा और 1 से कम होती है |

इकाई लोचदार मांग – जब मांग में होने वाला परिवर्तन कीमत में होने वाले परिवर्तन के बराबर होता है तो इस स्थिति में मांग कई लोचदार मांग कहलाती है | ऐसे मांग में  लोच का मान एक के बराबर होता है |

लोचदार मांग –  जब मांग में अनुपातिक परिवर्तन कीमत की मांग में अनुपातिक परिवर्तन में अधिक होती है तो ऐसी स्थिति में मांग लोचदार कहलाती है | यह मांग कार आभूषण आदि में होती है |

पूर्णतया लोचदार मांग  – जब वस्तु की कीमत नहीं बदलती है सोच की मांग बढ़ती है या कम होती है इस मांग को पूर्णतया लोचदार कहते हैं |

  • कक्षा : 12
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : कीमत लोच के विधिया
  • लेसन प्लान टाइप : मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग

Note: निचे दी गयी अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|

Date : 

Duration Of The Period :

Pupils Teacher Name :

Pupil Teacher’s Roll Number :

Class :

Average Age Of the Pupils :

Subject :

Topic :

सामान्य सामग्री – चौक, झाड़न, संकेतक, श्यामपट्ट

विशिष्ट सामग्री – एक चार्ट जिसमे कीमत लोच की विधियों लिखी हो |

सामान्य उद्देश्य

  1. छात्रों को कीमत लोच की धारणा से अवगत कराना|
  2. मांग की कीमत लोच ज्ञात करने की विधियां बताना|
  3. मांग की कीमत लोच को प्रभावित करने वाले तत्व को बताना|

विशिष्ट उद्देश्य

ज्ञान

  1. मांग की कीमत लोच की विधियों का ज्ञान कराना|
  2. मांग की कीमत लोच को प्रभावित करने वाले तत्व का ज्ञान देना|

उद्देश्य

  • यह पता करना कि किसी व्यक्ति की मांग इकाई से अधिक है या इकाई से कम या इकाई लोचदार मांग है|

प्रयोग

  • बच्चो को यह बताना कि मांग की कीमत लोच कितने प्रकार की होती है और इसे किस प्रकार मापा जाता है|

 

पूर्व ज्ञान –  मांग की कीमत लोच के विषय में आप सभी जानते हैं ऐसी आशा की जाती है| 

छात्र अध्यापक क्रियाएं

छात्र क्रियाएं

अध्यापक विद्यार्थियों को उत्साहित करता है और छात्रों से कुछ प्रश्न पूछता है

प्रश्न 1. मांग की लोच कितने प्रकार की है?

तीन

प्रश्न 2. मांग की कीमत लोच की कितनी श्रेणियां हैं?

पांच

प्रश्न 3. मांग की कीमत लोच की श्रेणियां कौन-कौन सी हैं?

पूर्णतया लोचदार, पूर्णतया बेलोचदार, इकाई लोचदार, इकाई से अधिक लोचदार, मांग  इकाई से कम लोचदार मांग |

 

उद्देश्य कथन – आज मैं आपको कीमत लोच की विधियां बताने वाली हूं और पूर्णतया लोचदार मांग में मांग की कीमत लोच अर्थात Ed =  ∞ क्योंकि  Ed = 1/0 × P/ Q =  ∞ पूर्णतया लोग बेलोचदार मांग में है क्योंकि Ed = 1/∞ × P/ Q = 0 इकाई लोचदार मांग में तथा इकाई से अधिक लोचदार मांग तथा इकाई से कम लोचदार मांग को मापने की निम्न विधियां है|

श्यामपट्ट कार्य

मांग की लोच मांपने की विधियां –

  1. कुल व्यय विधि
  2. अनुपातिक या प्रतिशत विधि
  3. ज्यामिति विधि

प्रस्तुतीकरण  

शिक्षण

छात्र अध्यापक क्रियाएं

छात्र क्रियाएं

श्यामपट्ट

कुल व्यय विधि

 इस विधि के अनुसार मांग की लोच को मापने के लिए किसी वस्तु की कीमत में परिवर्तन होने से उस पर किए जाने वाले कुल व्यय में परिवर्तन किस दिशा में तथा कितना हुआ या मापा जाता है यदि वस्तु की कीमत कम या अधिक होने पर व्यापक प्रभाव नहीं पड़ता तो वह मांग की इकाई लोच है वस्तु की कीमत कम होने पर वह बढ़ जाते हैं तथा खर्च बढ़ जाते हैं तो यह मांग की लोच से अधिक है परंतु यदि कीमत कम होने पर कुल व्यय कम हो जाता है तथा कीमत बढ़ने पर कुल वह बढ़ जाता है तो यह इकाई से कम है|

जैसे – किसी वस्तु की कीमत रुपए प्रति इकाई से कम होकर 3 रुपये प्रति इकाई हो जाती है इसके फलस्वरूप मांग 30 इकाई  से बढ़कर 60 इकाई हो जाती है|

छात्र ध्यान से सुनेंगे

 

प्रतिशत या अनुपातिक विधि

 मांग की लोच को मापने की दूसरी विधि प्रतिशत विधि कहलाती है इस विधि के अनुसार मांग की लोच का अनुमान लगाने के लिए मांग में होने वाली अनुपातिक परिवर्तन को कीमत में होने वाले अनुपातिक परिवर्तन को कीमत में होने वाले परिवर्तन से भाग कर दिया जाता है|

example – जब आइसक्रीम की कीमत 4 रुपये  से कम होकर 2 रुपये रह गई है तो मांग 1 आइसक्रीम से बढ़कर चार आइसक्रीम हो जाती है|  प्रतिशत विधि द्वारा मांग की कीमत लोच ज्ञात करें|

छात्र ध्यान पूर्वक ग्राफ देखेंगे वह कॉपी में नोट करेंगे

 

ज्यामितीय विधि

इस विधि को ग्राफ की सहायता से स्पष्ट किया जा सकता है इसमें MN एक मांग वक्र है| इस रेखा के किसी भी बिंदकी मांगलोद ज्ञात करने के लिए नीचे के हिस्से को इस बिंदु के ऊपर के हिस्से को भाग कर दिया जाता है मांग वक्र भी दो प्रकार के होते हैं सीधा मांग वक्र व मांग वक्र सीधा ना हो इन दोनों मांग वक्र की स्थिति में हमने जिस बिंदु की लोच निकाली है उसके नीचे के भाग को ऊपर के भाग से भाग कर दिया जाता है|

छात्र ध्यान पूर्वक ग्राफ देखेंगे वह कॉपी में नोट करेंगे

मूल्यांकन –

  1. कुल व्यय विधि से आप क्या समझते हैं? इसमें मांग की लोच किस प्रकार निकालते हैं|
  2. अनुपातिक विधि क्या है? इसमें मांग की लोच किस प्रकार निकालते हैं|
  3. ज्यामिती विधि क्या है? इसमें मांग लोच किस प्रकार निकालते हैं|

गृहकार्य –

  1. यदि किसी वस्तु की कीमत 10 रुपये से घटकर 8 रुपये हो जाती है| परिणाम स्वरूप इसकी मांग 80 इकाई से बढ़कर 100 इकाई हो जाती है| कुल व्यय विधि के आधार पर इसकी कीमत लोच के बारे में क्या कह सकते हैं|
  2. एक वस्तु की कीमत 10 रुपये प्रति इकाई से बढ़कर 12 रुपये प्रति इकाई हो गई| परिणाम स्वरूप इसकी मांग 120 इकाइयों से घटकर 100 इकाई हो जाती है| वस्तु की मांग की कीमत लोच निकालिए?
  3. कीमत लोच 2 है कीमत में प्रतिशत परिवर्तन 5 है| मांग की मात्रा में प्रतिशत परिवर्तन ज्ञात करें?

Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना

Kimat Loch Ki Vidhiyan Lesson Plan

Kimat Loch Ki Vidhiyan Lesson Plan In Hindi

Kimat Loch Ki Vidhiyan Lesson Plan PDF 

Economics Lesson Plan in hindi on price elasticity for class 12 economics

economics class 12 lesson plan in hindi medium for b.ed

price elasticity lesson plan in hindi

Economics का Kimat Loch का lesson Plan

कीमत लोच Economics का lesson Plan In Hindi है| 

Price Elasticity Of Demand का lesson plan

mega teaching economics lesson plan

kimat loch lesson plan

keemat loch path yojna arthsastra


  • कक्षा : 12
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : कीमत लोच के विधिया
  • लेसन प्लान टाइप : मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग 


Note: निचे दी गयी  अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|

Lesson Plan for Economics Class 12 in Hindi on कीमत लोच ( Price Elasticity) free download pdf

price elasticity paath yojna  arthsastra



kaksa 12 arthsastra paath yojna in hindi








Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना
Mang Ke Loch Lesson Plan For B.Ed/D.El.Ed : मांग की लोच पाठ योजना | Elasticity of Demand Lesson Plan in Hindi

Mang Ke Loch Lesson Plan For B.Ed/D.El.Ed : मांग की लोच पाठ योजना | Elasticity of Demand Lesson Plan in Hindi

मांग एक आर्थिक सिद्धांत है जो किसी उपभोक्ता की वस्तुओं और सेवाओं को खरीदने की इच्छा को व्यक्त करता है और उस वस्तु या सेवा के लिए कीमत चुकाने की इच्छा रखता है अन्य सभी कारकों को स्थिर रखते हुए किसी वस्तु की कीमत में वृद्धि करने से मांग की गई मात्रा में कमी आएगी और ठीक इसके विपरीत अगर वस्तु की कीमत में कमी करने से मांग की गई मात्रा में वृद्धि होगी | लोच एक चर से दूसरे चर में बदलाव का एक उपाय है या यूं कहें की मांग की मात्रा में हुए परिवर्तन को जानने के लिए मांग की लोच की मदद लेते हैं |

मांग की लोच वस्तु की कीमत और उपभोक्ता की इनकम संबंधित वस्तु की कीमत ने परिवर्तन के परिणाम स्वरुप मांग में होने वाले परिवर्तन की माप से संबंधित है | जब लोच का मूल्य 1.0 से ज्यादा हो तो यह बताता है कि मांग अच्छी है, पर मूल्य से सेवा प्रभावित है, यदि लोच का मूल्य 1.0 से कम है तो यह दर्शाता है कि, मांग मूल्य से कम है | यदि लोच 0 हो तो इसका अर्थ है की मांग किसी भी कीमत पर नहीं बदलेगी |

मांग की लोच के प्रकार – मांग की लोच के तीन प्रकार हैं –

  1. मांग की कीमत
  2. लोच मांग की आय 
  3. लोच मांग की आड़ी या तिरछी लोच 

मांग की कीमत -  मांग की कीमत में चारों में बदलाव आने से मांग में बदलाव आता है| मांग की लोच में यह पता नहीं होता है कि किस चर में बदलाव आया है, लेकिन मांग की कीमत लोच में यह पता रहता है कि किस में बदलाव आता है | मांग की कीमत लोच में वस्तु की कीमत में बदलाव आने से उसकी मांग में बदलाव आता है| यदि कीमत लोच अधिक है तो मांग में बड़ा बदलाव आता है, यदि  कम है तो मांग में बदलाव कम होगा | 

मांग की लोच – मांग की मात्रा में अनुपातिक परिवर्तन / अन्य आर्थिक चर में अनुपातिक परिवर्तन 

मांग की कीमत के प्रकार –

  • पूर्णतया बेलोचदार 
  • बेलोचदार मांग 
  • इकाई लोचदार मांग 
  • लोचदार मांग
  • पूर्णतया लोचदार मांग

मांग की लोच को प्रभावित करने वाले कारक – वस्तु की प्रकृति, विकल्प की उपलब्धता, उपभोक्ता की आय, वस्तु के मूल्य का स्तर

मांग की आय लोच – मांग की मात्रा और उपभोक्ता की इनकम के बीच के संबंध को मांग की आय लोच कहा जाता है | आय में हुए परिवर्तन से मांग में कोई परिवर्तन न हो तो मांग की आय शून्य हो जाती है |

मांग की ऑडी या तिरछी मांग की लोच – दो वस्तुओं की मांग पर पड़ने वाले प्रतिस्थापन प्रभाव की व्याख्या करती है| किसी वस्तु के कीमत में परिवर्तन के फलस्वरूप किसी वस्तु की मांग में होने वाले परिवर्तन के अनुपात को मांग की आय लोच कहते हैं |

Mang Ke Loch Lesson Plan

  • कक्षा : 11,12
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : मांग के लोच
  • लेसन प्लान टाइप : मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग 

Note: निचे दी गयी अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|

Date : 

Duration Of The Period :

Pupils Teacher Name :

Pupil Teacher’s Roll Number :

Class :

Average Age Of the Pupils :

Subject :

Topic :

 

  • सामान्य सामग्री – चौक, झाड़न, संकेतक, श्यामपट्ट
  • विशिष्ट सामग्री – एक चार्ट जिसमे मांग के विभिन्न वक्र बने हुए है|

सामान्य उद्देश्य

  1. छात्रों को मांग की लोच की धारणा से अवगत कराना|
  2. मांग की कीमत लोच के विषय में बताना|
  3. मांग की कीमत लोच की कोटिया|

विशिष्ट उद्देश्य

ज्ञान

  1. मांग की लोच का अर्थ व
  2. मांग की लोच की परिभाषा

बोध

  1. मांग की कीमत लोच में होने वाली परिवर्तन
  2. मांग की लोच की अध्ययन श्रेणियां

प्रयोग

  1. बच्चों को इस बात का ज्ञान प्राप्त करवाना की मांग वक्र किस प्रकार घटता है या बढ़ता है|
  2. मांग की लोच के मुख्य रूप से कितने प्रकार हैं|

पूर्व ज्ञान –

  • छात्रों से यह आशा की जाती है कि वह मांग की लोच के बारे में जानते होंगे|

पूर्व ज्ञान परीक्षण

छात्र अध्यापक क्रियाएं

छात्र क्रियाएं

अध्यापक विद्यार्थियों को उत्साहित करता है और छात्रों से कुछ प्रश्न पूछता है

प्रश्न 1. हमारी रोज की आवश्यक खाद्य सामग्री पर कीमत बढ़ने का प्रभाव पड़ता है?

नहीं

प्रश्न 2. क्या तुम कुछ ऐसी वस्तुएं बता सकते हो जिसमें की कीमत की मांग पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता है?

आटा, नमक, चीनी इत्यादि

प्रश्न 3. क्या वस्तु की कीमत काम मांग पर कोई प्रभाव पड़ता है?

हाँ

प्रश्न 4. मांग किसे कहते हैं?

इच्छा तथा आवश्यकता

उद्देश्य कथन – आज हम आपको मांग की लोच की धारणा के बारे में बताएंगे एक वस्तु की कीमत उपभोक्ता आए तथा संबंधित वस्तु की कीमत में परिवर्तन होने से उस वस्तु की मांग की मात्रा में होने वाले परिवर्तन को मांग की लोच कहा जाता है|

यदि परिवर्तन वस्त्र की कीमत में हुए परिवर्तन से उसकी मांग में होता है तो इसे मांग की कीमत लोच कहते हैं परंतु जब या परिवर्तन क्रेता की आय में हुए परिवर्तन से मापा जाता है तो  इसे मांग की आय लोच कहा जाता है कि जब एक वस्तु की मांगी गई मात्रा के परिवर्तन को दूसरी संबंधित वस्तु की कीमत के हुए संबंधित परिवर्तन में मापा जाता है तो इसे मांग आड़ी लोच कहा जाता है|

उप विषय उद्घोषणा – आपको आज हम मांग की लोच के बारे में बताएंगे |

प्रस्तुतीकरण

शिक्षण

छात्र अध्यापक क्रियाएं

छात्र क्रियाएं

श्यामपट्ट

प्रस्तुतीकरण

मांग की कीमत लोच जैसा कि आप सभी जानते हैं यदि किसी चीज की कीमत जैसे-जैसे बढ़ती है उसी मांग घटती जाती है जैसे कि हाल ही में देखा गया है कि हाल ही में जब प्याज कीमत बढ़ी तो जो लोग 3 से 4 किलो प्याज खरीदते थे वह लोग 1 किलो प्याज ही  खरीदेंगे आप भी इस तरह का कोई उदाहरण दे सकते हैं|

हां हां बहुत अच्छा और भी कोई कुछ बता सकता है|

 

जैसे – पेट्रोल की कीमत बढ़ने पर सी.एन.जी का प्रयोग|

 

मांग के प्रकार –

  1. मांग की कीमत लोच
  2. मांग की आय लोच
  3. मांग की आड़ी लोच

मांग की लोच के प्रकार

मांग की लोच के प्रकार

  • पूर्णतया लोचदार
  • पूर्णतया बेलोचदार
  • इकाई लोचदार
  • इकाई से अधिक लोचदार

 

 

पूर्णतया लोचदार मांग

 

इसमें किसी वस्तु की कीमत थोड़ी सी भी बढ़ने पर उसकी मांग शून्य हो जाती है क्योंकि क्रेता इसका कोई दूसरा विकल्प खरीद लेता है|

क्या आप में से इसका कोई उदाहरण दे सकता है|

छात्र ने ध्यानपूर्वक सुना व समझा

पूर्णतया बेलोचदार मांग

 इस स्थिति में वस्तुओं की कीमत का मांग पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता| इस अवस्था में मांग की लोच शून्य हो जाती है जैसे आटा दाल इत्यादि की कीमत बढ़ने पर भी उसकी मांग में कोई परिवर्तन नहीं आता|

 

 

इकाई लोचदार मांग

इस स्थिति में कीमत में परिवर्तन होने के फलस्वरूप मांग में इतना परिवतन आता है कि वस्तु पर किया गया वह स्थिर रहता है|

 

इकाई से अधिक लोचदार मांग

इस स्थिति में कीमत कम होने पर वस्तु पर किया गया खर्च बढ़ जाता है और कीमत के बढ़ जाने पर किया गया खर्च कम हो जाता है

 

 

इकाई से कम लोचदार मांग

 इस स्थिति में मांग की कीमत में परिवर्तन होने के फलस्वरूप मांग में इतना परिवर्तन होता है कि मांग के कम होने पर किया जाने वाला कुल खर्च कम हो जाता है और कीमत में वृद्धि होने पर कुछ खर्च बढ़ जाता है|

छात्रों ने अपनी कॉपी में लिखा

 

गृहकार्य –

  • प्रश्न 1. मांग की लोच से आप क्या समझते हैं|
  • प्रश्न 2. मांग की लोच कितने प्रकार की होती है|
  • प्रश्न 3. मांग की कीमत लोच के कितने प्रकार हैं|

Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना

Elasticity Of Demand Lesson Plan

Mang Ke Loch Lesson Plan

Mang Ki Loch Lesson Plan PDF

मांग की लोच पाठ योजना

Economics Lesson Plan in Hindi on Elasticity of Demand ( Mang Loch) for Class 12 

Economics का lesson plan In Hindi

Maang Ki Loch का lesson plan

Economics का Elasticity Of Demand का lesson Plan In Hindi

Maang Ki Loch अर्थशास्त्र Lesson Plan

mang ki loch path yojna

economics lesson plan in hindi class 12 


  • कक्षा : 11
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : मांग के लोच
  • लेसन प्लान टाइप : मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग 


Note: निचे दी गयी  अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|

Elasticity of Demand Economics Lesson Plan in Hindi ( मांग की लोच पाठ योजना ) for Class 11th free download pdf



class 11 elasticity of demand economics lesson plan

arthsastra mang ki loch lesson plan in hindi










Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना
Budget Lesson Plan in Hindi | बजट पाठ योजना | Budget Lesson Plan In Hindi For B.Ed/D.El.Ed : बजट पाठ योजना | Economics Lesson Plan in Hindi on Budget for B.Ed

Budget Lesson Plan In Hindi For B.Ed/D.El.Ed : बजट पाठ योजना | Economics Lesson Plan in Hindi on Budget for B.Ed

बजट आम व्यक्ति की जिंदगी में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका रखता है | बोलचाल की भाषा में आपके रुपए खर्च करने की योजना को बजट कहते हैं | हर व्यक्ति अपने सारे काम, खर्च, निवेश सभी काम बजट बनाकर ही करता है | बजट आपकी इनकम और खर्चों को संतुलित करता है| देश को सुव्यवस्थित सुचारू रूप से चलाने के लिए सरकार भी बजट पेश करती हैं जिसे सरकारी बजट कहते हैं | जिस प्रकार एक आम आदमी अपने खर्चों और आय का बजट बनाकर चलता है उसी प्रकार सरकार भी बजट बनाती है |

पूरे 1 साल की राजस्व आय तथा खर्च का अनुमान लगाकर जो बजट पेश किया जाता है | यह बजट वित्तीय मंत्री द्वारा और सरकार के सामने बजट पारित किया जाता है | एक बढ़िया बजट वह होता है जिसमें किसी भी एक व्यक्ति  का स्वार्थ ना बल्कि पूरे देश के हित के लिए हो और यह बजट देश में रहने वाले  लोगों के लिए  सरकार के लिए देश के लिए व्यापार के लिए सबके लिए हो | संविधान के 112 अनुच्छेद के अनुसार राष्ट्रपति हर एक वित्तीय वर्ष में संसद के दोनों सदनों के सामने वार्षिक वित्तीय विवरण सकता है | जिसमें सरकार बीते वर्ष के आय-व्यय अपराधियों का लेखा-जोखा होता है | मैक्रोइकोनॉमिक्स में बजट एक महत्वपूर्ण सुविचार इस धारणा है | भारत के आजाद होने के बाद प्रथम केंद्रीय बजट 26/11/1947 को आर के शंमुखम के द्वारा प्रस्तुत किया गया | बजट दो या दो से अधिक वस्तुओं के बीच व्यापार के उतार-चढ़ाव को दिखाने के लिए बजट लाइन का यूज करते हैं | 

बजट तीन प्रकार के होते हैं – संतुलित बजट, घाटा बजट, अधिशेष बजट| 

सरकारी बजट तीन प्रकार के होते हैं –

  • चालू बजट 
  • पूंजी निवेश बजट 
  • नकदी या नकदी प्रवाह बजट 

बजट के दो घटक होते हैं – पहला सार्वजनिक आय दूसरा सार्वजनिक व्यय सार्वजनिक आय | यह बजट दो तरह की होती है | सबसे पहली राजस्व और दूसरी पूंजीगत आए देश का बड़ा आय का स्त्रोत कर राजस्व है | यह 2 तरीके का होता है | पहला प्रत्यक्ष कर और दूसरा अप्रत्यक्ष कर राजस्व का महत्वपूर्ण भाग होता है | प्रत्यक्ष कर वह  होता है जिसमें कर सरकार को सीधे मिलते हैं | जैसे – इनकम टैक्स, वेल्थ कॉरपोरेट और अप्रत्यक्ष कर वे होते हैं जो सरकार इनडायरेक्ट प्राप्त होते हैं | इनमें जीएसटी, सर्विस कस्टम ड्यूटी के अलावा और भी कई मदों से प्राप्त होने वाली आय जुड़ी होती है | गैर कर राजस्व में उधर से प्राप्त ज्ञान फीस विदेशों से मिलने वाली आय होती है |

Budget Lesson Plan In Hindi

  • कक्षा : 10,11,12
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : सरकारी बजट
  • लेसन प्लान टाइप :मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग

Note: निचे दी गयी अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|

Date : 

Duration Of The Period :

Pupils Teacher Name :

Pupil Teacher’s Roll Number :

Class :

Average Age Of the Pupils :

Subject :

Topic :

विषय वस्तु विश्लेषण

  1. सरकारी बजट क्या है?
  2. सरकारी बजट की परिभाषा व उद्देश्य

सामान्य उद्देश्य

  1. छात्रों की सृजनात्मक शक्ति का विकास करना |
  2. छात्रों की मानसिक शक्ति का विकास करना |
  3. छात्रों को बजट से अवगत कराना |

विशिष्ट उद्देश्य

ज्ञानात्मक :

विद्यार्थियों को सरकारी बजट का ज्ञान करवाना

बोधात्मक :

विद्यार्थियों को सरकारी बजट के उद्देश्यों का बोध कराना

कौशलात्मक :

बच्चों को इस बात का ज्ञान कराना कि सरकारी बजट हमारे जीवन में किस प्रकार कार्य करता है?

प्रयोगात्मक :

बच्चों को प्रयोगात्मक ढंग से सरकारी बजट से अवगत कराना |

अनुदेशात्मक सामग्री

  • सामान्य सामग्री – चौक, झाड़न, संकेतक, श्यामपट्ट
  • विशिष्ट सामग्री – चार्ट, श्यामपट्ट, पाठ्य पुस्तक

पूर्व ज्ञान – छात्रों को सरकारी बजट के बारे में ज्ञान देना |

पूर्व ज्ञान परीक्षण

छात्र अध्यापक क्रियाएं

छात्र क्रियाएं

सरकारी बजट क्या है ?

समस्याएं

वित्तीय मंत्री सरकार का वार्षिक बजट संसद में अनुमोदन के लिए किस माह में प्रस्तुत करता है?

फरवरी

उप विषय उद्घोषणा – आपको आज हम सरकारी बजट के बारे में बताएंगे |

प्रस्तुतीकरण

शिक्षण

छात्र अध्यापक क्रियाएं

छात्र क्रियाएं

श्यामपट्ट

सरकारी बजट

सरकारी बजट एक वित्तीय वर्ष की अवधि के दौरान सरकार की प्राप्तियों तथा सरकार के व्यय के अनुमानों का विवरण होता है|

 

 

सरकार बजट के उद्देश्य

सरकार बजट के निम्नलिखित उद्देश्य है|

1.   आय तथा संपत्ति का पुनः वितरण-

सरकार बजट से सरकार के कराधान तथा आर्थिक सहायता संबंधी व्यापक नीतियों का ज्ञान प्राप्त होता है अर्थव्यवस्था में आए और संपत्ति के बंटवारे में सुधार लाने हेतु सरकार कराधान तथा आर्थिक सहायता के वित्तीय उपकरण का उपयोग करता है|

2.   साधनों का पुनः बंटवारा –

साधनों का बंटवारा उत्पादन के उन क्षेत्रों में किया जाए जाउचे लाभ प्राप्त होने की आशा हो अपने बजट संबंधी नीति द्वारा देश की सरकार साधनों का बंटवारा इस प्रकार करती है जिससे अधिकतम लाभ तथा सामाजिक कल्याण के बीच संतुलन स्थापित किया जा सके|

3.   आर्थिक स्थिरता-

अर्थव्यवस्था में तेजी और मंदी के चलते रहते हैं सरकार अर्थव्यवस्था को इन व्यापार चक्र से सुरक्षित रखने के लिए सदा  वचनबद्ध होती है बजट सरकार के हाथ में एक महत्वपूर्ण है जिसके प्रयोग द्वारा अब स्थिति तथा मुद्रास्फीति की स्थितियों का मुकाबला करती है|

4.   सार्वजनिक उद्यमों का संबंध-

सरकार के बजट संबंधी नीति से ही प्रकट होता है कि वह किस सार्वजनिक उद्यमों के माध्यम से विकास की गति को तीव्र करने के लिए उत्सुक है|

 

सरकार बजट के उद्देश्य

बजट का अर्थव्यवस्था का प्रभाव

बजट का अर्थव्यवस्था पर निम्नलिखित प्रभाव पड़ता है|

·  संपूर्ण राजकोषीय अनुशासन –

बजट अर्थव्यवस्था में संपूर्ण राजकोषीय अनुशासन को स्थापित करता है| राजकोषीय अनुशासन से अभिप्राय एक ऐसी स्थिति से है जिसमें सरकार की आय और व्यय के बीच आदर्श संतुलन पाया जाता है|

·  साधनों का बंटवारा –

बजट अर्थव्यवस्था में साधनों के बंटवारे को प्रभावित करता है इसके लिए कराधान तथा आर्थिक सहायता संबंधी नीति को अपनाया जाता है इन दोनों का साधनों के उत्पादन के वैकल्पिक उपयोगों में बटवारा सीधा प्रभाव पड़ता है भारी मात्रा में कराधान से साधनों का उत्पादन के विषय क्षेत्र में बटवारा कम होता है|

·  सरकारी सेवाओं की उपलब्धि –

सरकारी बजट का अर्थव्यवस्था को प्रदान की जाने वाली आधारिक संरचना सेवाओं की उपलब्धि पर प्रभाव पड़ता है संरचनात्मक सेवाओं के अंतर्गत यातायात तथा संचार के साधन शिक्षा एवं स्वास्थ्य के साधन सम्मिलित किए जाते हैं|

 

बजट का अर्थव्यवस्था पर प्रभाव

बजट के घटक

बजट के दो घटक हैं- 

राजस्व बजट

पूंजीगत बजट

 

बजट के घटक

  1. राजस्व बजट
  2. पूंजीगत बजट

राजस्व बजट

राजस्व बजट में सरकार की राजस्व प्राप्तियां तथा राजस्व व्यय शामिल होते हैं|

 

 

पूंजीगत बजट

पूंजीगत बजट में सरकार की पूंजीगत प्राप्तियां तथा पूंजीगत व्यय सम्मिलित होते हैं|

 

 

प्रश्न

बजट कितने प्रकार के होते हैं?

दो

 

प्रश्न

बजट कौन-कौन से प्रकार के होते हैं?

राजस्व बजट

पूंजीगत बजट

 

मूल्यांकन –

  1. सरकारी बजट क्या है?
  2. सरकारी बजट कितने प्रकार के होते हैं?

गृहकार्य –

  1. सरकारी बजट क्या है ?
  2. सरकारी बजट कितने प्रकार के होते हैं ?
  3. सरकारी बजट के उद्देश्य क्या है ?

Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना

Budget Lesson Plan

Budget Lesson Plan In Hindi

Budget Lesson Plan In Hindi For B.Ed

Budget Lesson Plan In Hindi For B.Ed/D.El.Ed

Budget Lesson Plan In Hindi For D.El.Ed

बजट पाठ योजना

Economics Lesson Plan in hindi on sarkari budget  ( government budget)

Economics का Budget lesson plan

Budget B. Ed Lesson Plan

budget path yojna 

arthshashtra path yojana lesson plan on budget for class 9th , 10th, 11th, 12th,

macro teaching economics lesson plan in hindi


  • कक्षा : 10
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : सरकारी बजट
  • लेसन प्लान टाइप :मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग 


Note: निचे दी गयी  अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|

Budget Lesson Plan in Hindi - Sarkari Budget ( government budget) economics lesson plan in hindi for class 10 free download pdf



clas 10th budget lesson plan in hindi

budget path yojna

bhartiya budget economics lesson plan in hindi










Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना
Mudra Sfiti Ke Karan Lesson Plan In Hindi For B.Ed/D.El.Ed : मुद्रा स्फीति के कारण पाठ योजना | Economics Lesson Plan in Hindi | Mudra Safiti Lesson Plan

Mudra Sfiti Ke Karan Lesson Plan In Hindi For B.Ed/D.El.Ed : मुद्रा स्फीति के कारण पाठ योजना | Economics Lesson Plan in Hindi | Mudra Safiti Lesson Plan

मुद्रास्फीति किसी भी देश की अर्थव्यवस्था में परिवर्तन होना बहुत आम प्रक्रिया है | अगर किसी देश की आर्थिक सामाजिक व राजनीतिक परिस्थितियों में लगातार परिवर्तन होता है, तो उस देश की अर्थव्यवस्था में परिवर्तन होता है और अर्थव्यवस्था में परिवर्तन होने से मुद्रा मूल्य प्रभावित होता है |मुद्रा मूल्य में परिवर्तन से कीमत के स्तर में परिवर्तन आता है  | मुद्रा मूल्य में हुए बदलाव से उपभोग, उत्पादन, विनिमय, नियंत्रण, वितरण, रोजगार, कीमत स्तर आदि को प्रभावित करते हैं | बदलाव अर्थव्यवस्था के लिए सुखद और दुखद दोनों हो सकते हैं| मुद्रास्फीति को दूसरी भाषा में मुद्रा प्रसार भी कहते हैं |

सामान्यता मुद्रा प्रसार बैंक या से सरकार द्वारा जरूरत से ज्यादा मात्रा में नोट निकालने से होता है, इससे मुद्रा इकाई की कीमत गिर जाती है तथा मूल्य स्तर ऊपर उठ जाता है | इस प्रकार की मुद्रास्फीति में मुद्रा की मात्रा बढ़ जाती है, जबकि वस्तुओं और सेवाओं की मात्रा घटती जाती है इससे सामान्य स्तर ज्यादा हो जाता है |मुद्रा के मूल्य में आई कमी और सामान्य मूल्य स्तर होने वाली वृद्धि को मुद्रास्फीति मान लेते हैं, लेकिन कीमत स्तर में होने वाली वृद्धि को मुद्रास्फीति नहीं कहते मूल्य में वृद्धि को मुद्रास्फीति की महत्वपूर्ण दशा होती है और मूल्य में प्रत्येक वृद्धि को मुद्रास्फीति नहीं मानना चाहिए | मांग और आपूर्ति में जब असंतुलन पैदा होता है, तो वस्तु और सेवाओं की  कीमतें बढ़ जाती हैं कीमतों में इस प्रकार की बढ़ोतरी को मुद्रास्फीति कहते हैं | 

मुद्रास्फीति को दो मूल्य सूचियों के आधार पर गणना करते हैं – थोक मूल्य सूचकांक, उपभोक्ता मूल्य सूचकांक 2 – 3 %की मुद्रास्फीति दर अर्थव्यवस्था के लिए बहुत अच्छी है, इससे ज्यादा की मुद्रास्फीति अर्थव्यवस्था के लिए अच्छी नहीं होती | 

मुद्रास्फीति दो कारणों से होती है – मांग जनित कारक,  लागत जनित कारक 

 मांग जनित कारक – मांग जनित मुद्रास्फीति वह होती है जब मांग के बढ़ने से वस्तुओं की कीमतों में भी वृद्धि होती है लागू होती है जब उत्पादन के कारकों की लागत में इजाफा होता है और वस्तुओं की कीमतों में वृद्धि होती है| 

मुद्रास्फीति के प्रभाव – निवेशकर्ताओ पर, निश्चित आय वर्ग पर, ऋणी औरऋण दाता पर,  कृषि पर, बचत पर भुगतान पर, कर पर, उत्पादक पर

Mudra Sfiti Lesson Plan

  • कक्षा : 9 , 10, 11, 12
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : मुद्रा स्फीति के कारण
  • लेसन प्लान टाइप : मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग 

Note: निचे दी गयी अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|

Date : 

Duration Of The Period :

Pupils Teacher Name :

Pupil Teacher’s Roll Number :

Class :

Average Age Of the Pupils :

Subject :

Topic :

विषय वस्तु विश्लेषण

  1. छात्रों को मुद्रा से अवगत कराना |
  2. छात्रों को मुद्रास्फीति के कारणों से अवगत कराना |

सामान्य उद्देश्य –

  1. छात्रों की तर्कशक्ति को बढ़ाना |
  2. छात्रों को मुद्रास्फीति के बारे में बताना |
  3. छात्रों की रचनात्मक शक्ति को बढ़ाना|

विशिष्ट उद्देश्य

  • ज्ञानात्मक – छात्र मुद्रास्फीति के कारणों से परिचित हो जाएंगे|
  • बोधात्मक – छात्र मुद्रास्फीति के कारणों को अपने शब्दों में व्याख्या करने योग्य हो जाएंगे|
  • कौशलात्मक – विद्यार्थियों को वास्तविक जीवन में मुद्रास्फीति के कारणों का जाने का कौशल आएगा|
  • प्रयोगात्मक – विद्यार्थी मुद्रास्फीति की मात्रा में वृद्धि के कारण बता पाएंगे |

पूर्व ज्ञान – विद्यार्थी मुद्रास्फीति से परिचित हैं |

अनुदेशात्मक सामग्री

  • सामान्य सामग्री – चौक, झाड़न, संकेतक, श्यामपट्ट
  • विशिष्ट सामग्री – चार्ट, श्यामपट्ट, पाठ्य पुस्तक

पूर्व ज्ञान परीक्षण

छात्र अध्यापक क्रियाएं

छात्र क्रियाएं

जब मुद्रा का मूल्य कम होता है तो उसे क्या कहते हैं?

मुद्रास्फीति

मुद्रा का मूल्य बढ़ने के क्या कारण है?

1.   उत्पादन की मात्रा कम होना |

2.   मुद्रा की मात्रा का अधिक होना |

उद्देश्य कथन – आज हम मुद्रास्फीति के कारणों का अध्ययन करेंगे |

प्रस्तुतीकरण

शिक्षण

छात्र अध्यापक क्रियाएं

छात्र क्रियाएं

श्यामपट्ट

मुद्रास्फीति का अर्थ

प्रायः  कीमत में होने वाली निरंतर वृद्धि को ही मुद्रास्फीति कहा जाता है|

प्रश्न – मुद्रा के मूल्य में कमी होना क्या कहलाता है?

प्रश्न – मुद्रा के मूल्य में गिरावट किस वजह से आती है ?

मुद्रास्फीति मुद्रा के बढ़ जाने पर

 

मुद्रास्फीति के कारण

मुद्रास्फीति के लिए मुख्यतः दो प्रकार के कारण उत्तरदायी होते हैं|

1.   उत्पादन की मात्रा का कम होना |

2.   मुद्रा की मात्रा का अधिक होना|

 

 

मुद्रा की मात्रा अधिक होने के कारण

प्रश्न – प्रकृति से हमें कौन-कौन सी धातु मिलती हैं ?

प्रश्न – मुद्रा की मात्रा अधिक करने हेतु  प्रकृति की क्या भूमिका होती है?

सोना, चांदी,  तांबा आदि

 

छात्र ध्यान पूर्वक सुनेंगे|

 

प्रश्न

1.   प्राकृतिक – जब किसी देश में धातुमान प्रचलित होता है उस देश में चांदी सोने की खानों का पता लगने पर इसकी मात्रा देश में अधिक हो जाती है| परिणामस्वरूप देश में मुद्रा का प्रसार बढ़ने पर मुद्रा स्थिति उत्पन्न हो जाती है|

2.   घाटे की वित्त व्यवस्था –

प्रश्न – घाटे की वित्त व्यवस्था क्या है?

प्रश्न – घाटे की वित्त व्यवस्था हेतु सरकार क्या व्यवस्था करती है|

 

स्पष्टीकरण – जब किसी देश में सरकार का सरकार की आय से कम रह जाता है तो सरकार इसे पूरा करने हेतु घाटे की वित्त व्यवस्था बनाती है ऐसी स्थिति में सरकार अपने घाटे को पूरा करने हेतु केंद्रीय बैंक से उधार की मांग करती है केंद्रीय बैंक इसकी पूर्ति बढ़ा कर देती है परंतु वस्तुओं व सेवाओं का उत्पादन उतना ना बढ़ने के कारण देश में कीमतें बढ़ने लगती हैं अर्थात मुद्रास्फीति की स्थिति उत्पन्न हो जाती है|

नए नोटों को साफ कर बजट के घाटे को पूरा करना ही घाटे की वित्त व्यवस्था है

 

प्रश्न

मौद्रिक नीति से क्या अभिप्राय है?

यह वह नीति है जो मुद्रा कीमत मुद्रा की उपलब्धता तथा ब्याज की दर पर नियमन व नियंत्रण करती है|

 

3.

सरकार की साख व मौद्रिक नीति – जब देश में विकास हेतु सरकार मुद्रा का निर्गमन कर देती है तो इससे मुद्रा की मात्रा बढ़ने से मुद्रास्फीति की स्थिति उत्पन्न हो जाती है|

 

 

मूल्यांकन –

  1. मुद्रास्फीति के मुख्य कारण क्या है?
  2. घाटे की वित्त व्यवस्था मुद्रा स्थिति में किस प्रकार सहायक है?

गृहकार्य –

प्रश्न – मुद्रास्फीति के मुख्य कारण क्या है ?

प्रश्न – सोने व चांदी की नई खाने पता चलने मुद्रास्फीति कैसे उत्पन्न होती है?


Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना

Lesson Plan On Mudra Sfiti Ke Karan

Lesson Plan On Mudra Sfiti In Hindi

Mudra Sfiti Ke Karan Lesson Plan

Mudra Sfiti Ke Karan Lesson Plan In Hindi

Mudra Sfiti Ke Karan Lesson Plan PDF

Mudra Sfiti Lesson Plan 

Mudra Sfiti Ke Karan Lesson Plan In Hindi : मुद्रा स्फीति के कारण पाठ योजना 

Economics का Mudra Sfiti Ke Karan 

Inflation Economics का Lesson plan

Mudra Spiti (Inflation) Ke Karan Lesson Plan In Hindi

B. Ed lesson plan In Hindi on Inflation

Inflation Lesson Plan in Hindi

mudra safiti path yojna

lesson plan on inflation for economics

econmics lesson plan in hindi for class 9th 10th 11th 12th on mudra safiti (inflation)

mega and real school teaching economics lesson plan in hindi

inflation path yojna

economics lesson plan in hindi

economics lesson plan in hindi for b.ed


  • कक्षा : 9
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : मुद्रा स्फीति के कारण
  • लेसन प्लान टाइप : मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग 


Note: निचे दी गयी  अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|

Economics Lesson Plan in Hindi on Inflation ( मुद्रा स्फीति ) for Class 9 teachers free download pdf



class 9 the economics lesson plan in hindi

mudra safiti lesson plan in hindi

arthsastra lesson plan in hindi for class 9th






Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना
Ekadhikar Pratiyogita Lesson Plan In Hindi : एकाधिकार प्रतियोगिता पाठ योजना | Lesson Plan for Economics Class 11 in Hindi on Ekadhikar Pratiyogita (Monopolistic Competition) | Economics Lesson Plan for Class 11th in Hindi on Ekadhikar Partiyogita ( एकाधिकार प्रतियोगिता ) free download pdf | Ekadhikar Pratiyogita Lesson Plan

Ekadhikar Pratiyogita Lesson Plan In Hindi : एकाधिकार प्रतियोगिता पाठ योजना | Lesson Plan for Economics Class 11 in Hindi on Ekadhikar Pratiyogita (Monopolistic Competition)

बाजार में किसी वस्तु को बेचने के लिए बहुत से विक्रेता हो पर हर एक विक्रेता की वस्तु दूसरे विक्रेता की वस्तु से अलग हो कहने का मतलब यह है बाजार में वस्तु के विक्रेता बहुत सारे हो पर सभी अलग-अलग वस्तुएं भेजते हो और तुम्हें भिन्नता इस प्रकार की हो सकती है | जैसे – ट्रेडमार्क, ब्रांड का नाम आदि | एकाधिकार प्रतियोगिता पूर्ण प्रतियोगिता तथा एकाधिकार की विशेषताओं का मिश्रण है|

एकाधिकार प्रतियोगिता में एकाधिकार ट्रेडमार्क को मिलता है इसके विपरीत बहुत सारे फर्मों से एक वस्तु का उत्पादन होने की वजह से बाजार में प्रतियोगिता होती है | इकोनॉमिक्स में जब कोई व्यक्ति किसी उत्पाद पर उसका इतना नियंत्रण हो कि वह उस वस्तु पर अपनी इच्छा अनुसार नियम और मूल्य को लागू कर सके, इसे एकाधिकार कहते हैं | एकाधिकार प्रतियोगिता का एकाधिकार बाजार की संरचना को संदर्भित करता है | जबकि एकाधिकार प्रतियोगिता बाजार के बारे में जानकारी देता है अर्थशास्त्र में बाजार केवल वह जगह नहीं जहां वस्तुओं का आदान प्रदान होता है यह एक सिस्टम को दर्शाता है |

एकाधिकार प्रतियोगिता की मुख्य विशेषताएं – बड़ी संख्या में विक्रेता, अलग-अलग उत्पाद, उद्योगों में बिना शुल्क प्रवेश और निष्कासन, सही गतिशीलता, बाजार की स्थितियों की जानकारी | बाजार में उत्पाद के लिए कई क्रेता और विक्रेता इकट्ठे होते हैं जिन्हें बाजार के बारे में पूरी जानकारी होती है | बाजार को भी कई श्रेणियों में बांटा गया है | जैसे – क्षेत्र, समय, विनियमन, प्रतियोगिता के आधार पर 

बाजार को प्रतियोगिता के आधार पर दो भागों में बांटा गया है – पूर्ण प्रतियोगिता, अपूर्ण प्रतियोगिता

Ekadhikar Pratiyogita Lesson Plan In Hindi 

  • कक्षा : 11
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय :एकाधिकार प्रतियोगिता
  • लेसन प्लान टाइप : मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग 

Note: निचे दी गयी अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|

Date : 

Duration Of The Period :

Pupils Teacher Name :

Pupil Teacher’s Roll Number :

Class :

Average Age Of the Pupils :

Subject :

Topic :

विषय वस्तु विश्लेषण

  1. एकाधिकार प्रतियोगिता का अर्थ
  2. एकाधिकार तथा पूर्ण प्रतियोगिता में तुलना

सामान्य उद्देश्य –

  1. छात्रों की रचनात्मकता विकास करना|
  2. छात्रों को एकाधिकार तथा अर्थशास्त्र के प्रति जागरूक करना|
  3. छात्रों में सृजनात्मक शक्ति का विकास करना|

विशिष्ट उद्देश्य

ज्ञान –

  1. छात्रों को एकाधिकार का ज्ञान कराना|
  2. छात्रों को एकाधिकार की परिभाषा से अवगत कराना|

बोध –

  1. छात्र एकाधिकार की परिभाषा से विश्लेषण कर पाएंगे|
  2. छात्र एकाधिकार प्रतियोगिता में तुलना करना सीख पाएंगे|
  3. छात्र एकाधिकार प्रतियोगिता के कारणों का निरीक्षण कर पाएंगे|

कौशल – छात्रों को यह बताना है कि एकाधिकार प्रतियोगिता का प्रयोग कहां होता है?

प्रयोग – छात्रों को बताना है कि एक एकाधिकार का प्रयोग कहां होता है?

पूर्व ज्ञान – हम यह मानते हैं कि छात्रों को एकाधिकार का पूर्णज्ञान है ?

अनुदेशात्मक सामग्री

  • सामान्य सामग्री – चौक, झाड़न, संकेतक, श्यामपट्ट
  • विशिष्ट सामग्री – चार्ट, श्यामपट्ट

पूर्व ज्ञान परीक्षण 

अध्यापक क्रियाएं

छात्र क्रियाएं

क्या आप जानते हैं कि बिजली पर एकाधिकार किसका है?

बिजली बोर्ड

क्या आप जानते हैं कि रेलवे का स्वामित्व व संचालन कौन करता है?

भारत सरकार 

उद्देश्य कथन – आज हम आपको एक अधिकार तथा एकाधिकार बाजार के उदय के बारे में बताएंगे |

शिक्षण बिंदु

अध्यापक क्रियाएं

छात्र क्रियाएं

श्यामपट्ट

एकाधिकार

एकाधिकार बाजार की स्थिति है जिसमें किसी वस्तु या सेवा का केवल एक ही उत्पादक है तथा उस वस्तु का कोई निकटतम प्रतिस्थापन नहीं होता|

प्रश्न

आप अपने घर के लिए केवल बिजली बोर्ड से बिजली प्राप्त कर सकते हैं बिजली बोर्ड पर किसका एकाधिकार है|

एकाधिकार वह बाजार है जिसमें किसी वस्तु का केवल एक ही विक्रेता होता है जिस वस्तु का उत्पादन करता है उसका निकटतम प्रतिस्थापन नहीं करता तथा फर्मों के प्रवेश पर प्रतिबंध होता है|

बिजली

छात्र ध्यान पूर्वक सुनेंगे और अपनी कॉपी में नोट करेंगे|

प्रश्न

एकाधिकार की मुख्य विशेषताएं कौन कौन सी  हैं?

एकाधिकार की मुख्य विशेषताएं निम्नलिखित हैं|

1

एक विक्रेता तथा अधिक विक्रेता– एकाधिकार में बस एक ही उत्पादक होना चाहिए अकेला हो या साझेदारों का समूह  हो या संयुक्त पूंजी कंपनी या राज्य हो| एकाधिकार में एक ही फर्म होती है परंतु वस्तु के क्रेता काफी संख्या में होते हैं|

2

एकाधिकार फर्म उद्योग भी है– एकाधिकार स्थिति में केवल एक ही फर्म होती है अतः फर्म तथा उद्योग का अंतर समाप्त हो जाता है अतः एकाधिकार फर्म तथा उद्योग के अध्ययन में काफी अंतर है|

3

नई फर्मों के प्रवेश पर बाधाएं – प्रायः नई फर्मों के प्रवेश पर कुछ बाधाएं होती हैं जैसे पेटेंट अधिकार किसी तकनीकी या कच्चे माल पर प्रभुत्व आदि|

4

निकटतम स्थानापत्र का अभाव – विशुद्ध एकाधिकार फर्म वह है जो ऐसी वस्तु का उत्पादन कर रही है जिसका दूसरी फर्मों के उत्पादन में कोई स्थानापत्र नहीं है|

5

कीमत नियंत्रण – क्योंकि एक अधिकारी अकेला ही बाजार में वस्तु की पूर्ति करता है इसलिए वस्तु की कीमत पर एक अधिकारी का नियंत्रण होता है|

एकाधिकार की विशेषताएं-

1.   एक विक्रेता अधिक क्रेता

2.   एकाधिकार फर्म उद्योग भी

3.   नई फर्मों के प्रवेश पर बाधाएं

4.   निकटतम स्थानापत्र का अभाव

5.   कीमत नियंत्रण

6.   कीमत विभेद की संभावना

प्रश्न

एकाधिकार बाजार में कीमत पर किसका नियंत्रण होता है|

एकाधिकारी

6

कीमत विभेद की संभावना– कीमत विभेद से अभिप्राय है किसी एक वस्तु की विभिन्न उद्योग उपभोक्ताओं को विभिन्न कीमतों पर बिक्री करना|

मूल्यांकन

  1. बाजार से क्या अभिप्राय है ?
  2. एकाधिकार से क्या अभिप्राय है ?
  3. कीमत विभेद किसे कहते हैं ?

गृहकार्य

  1. बाजार से क्या अभिप्राय है ?
  2. एकाधिकार बाजार से क्या अभिप्राय है?
  3. कीमत विभेद किसे कहते हैं?

Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना

Ekadhikar Pratiyogita Lesson Plan

Ekadhikar Pratiyogita Lesson Plan For B.Ed

Ekadhikar Pratiyogita Lesson Plan For D.El.Ed

Ekadhikar Pratiyogita Lesson Plan In Hindi

Economics Lesson Plan in hindi on monopolistic competition for class 11

economics lesson plan in hindi on monopolistic competition

monopolistic competition lesson plan

macro and real school teaching economics lesson plan in hindi

Economics ( इकोनॉमिक्स) का Ekadhikar Pratiyogita का Lesson Plan In Hindi

Monopolistic competition (एकाधिकार प्रतियोगिता) का Lesson Plan In Hindi

Ekadhikar Pratiyogita का Lesson Plan

arthashastra path yojna ekadhikar pratiyogita

macro economics lesson plan

monopoly market lesson plan in hindi for b.ed economics teaching


  • कक्षा : 11
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय :एकाधिकार प्रतियोगिता
  • लेसन प्लान टाइप : मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग 


Note: निचे दी गयी  अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|

Economics lesson plan in hindi for class 11th free download pdf



class 11 economics lesson plan hindi





how to teach economics in hindi



Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना
Law of Demand Lesson Plan in Hindi | Mang Ka Niyam Lesson Plan In Hindi For B.Ed/D.El.Ed : मांग के नियम पाठ योजना | Law of Demand ( मांग का नियम ) Economics Lesson Plan in Hindi for Class 12 free download pdf | Mang Ke Niyam Lesson Plan In Hindi For B.Ed/D.El.Ed

Mang Ke Niyam Lesson Plan In Hindi For B.Ed/D.El.Ed : मांग के नियम पाठ योजना | Law of Demand Lesson Plan in Hindi Class 11 and 12 for B.Ed

मांग का नियम वस्तु की कीमत एवं मांगी गई मात्रा के संबंध को मांग का नियम कहते हैं | वस्तु की कीमत में परिवर्तन होने से मांगी गई वस्तु की मात्रा में भी परिवर्तन होता है| वस्तु की कीमत को बढ़ाने पर उसकी मांग कम हो जाती है और अगर वस्तु की कीमत को कम कर दिया जाए तो, उसकी मांग बढ़ जाती है | कहने का मतलब यह है कि वस्तु की कीमत और मांगी गई मात्रा के बीच विपरित संबंध होता है | वस्तु की कीमत में बढ़ोतरी करने पर मांग में कमी तथा वस्तु की कीमत में कमी करने पर मांग में वृद्धि होने को ही मांग का नियम कहते हैं|

प्रोफेसर मेयर्स के अनुसार “क्रेता की मांग उन सभी मात्राओं की तालिका होती है जिन्हें वह उस सामग्री के विभिन्न संभावित मूल्यों पर खरीदने के लिए तैयार रहता है।” 

मांग के नियम की मान्यताएं या सीमाएं – 

सैम्युलसन के अनुसार, "अन्य बातों के समान रहने पर यदि किसी वस्तु की अधिक मात्राएं बाजार मे आती है तो वे वस्तुएं कम मूल्य पर ही बेची जायेगी। मार्शल के शब्दों मे,"मांग के नियम का सामान्य कथन यह है वस्तुओं की अधिक मात्रा की बिक्री के लिये उसके मूल्यों मे कमी होने चाहिए ताकि उस वस्तु के क्रेता अधिक हो सकें। दूसरे शब्दों में, ” मूल्य के गिरने से मांग बढ़ती है और मूल्य के बढ़ने से मांग घटती है।”  

ऊपर दी गई परिभाषा उसे हमें यह पता चलता है कि सभी अर्थशास्त्रियों ने अन्य बातें समान रहे इस वाक्य का प्रयोग किया है इससे यह पता चलता है कि मूल्य और कीमत का संबंध कुछ मान्यताओं पर निर्भर करता है व्यक्ति की आय स्थिर होनी चाहिए व्यक्ति का स्वभाव डिजाइन और रुचि इनमें से किसी में भी परिवर्तन नहीं होना चाहिए वस्तु की कीमत भी स्थिर रहनी चाहिए कोई नई वस्तु को जगह नहीं देनी चाहिए वस्तु प्रतिष्ठा देने वाली नहीं होगा भविष्य में वस्तु की कीमत में बड़ा परिवर्तन नहीं होना चाहिए | जैसे – हम मान लेते हैं कि बाजार में सेब की कीमत 50 पैसे प्रति सेब है तब उपभोक्ता 10 सेव खरीदता है तब सेब की कीमत घटकर 40 पैसे हो जाने पर उपभोक्ता 20 सेब खरीदता हैं इसी प्रकार 30 पैसे की कीमत पर 30 सेब, 20 पैसे की कीमत पर 40 सेब और 10 पैसे की कीमत पर 50 सेब खरीदता हैं जैसे कि आप देख रहे होंगे जैसे-जैसे से भी कीमत घटाया जा रहा है वैसे-वैसे सेव की मांग बढ़ती जा रही है |

मांग के नियम लागू होने के कारण – 

आय का प्रभाव – एक वस्तु की कीमत में परिवर्तन करने पर उपभोक्ता की वास्तविक आय में भी परिवर्तन होता है और एक वस्तु कीमत कम हो जाने पर उपभोक्ता अपने पहले की आय से वस्तुओं को अधिक खरीद सकता है |

क्रेताओ  की संख्या – यदि किसी वस्तु की पहले अपेक्षा कम हो जाती है तो नए उपभोक्ता भी उस वस्तु को खरीद सकते हैं इसी तरह अगर वस्तु की कीमत को बढ़ा दिया जाता है तो क्रेताओं की संख्या कम हो जाती है इस प्रकार क्रेताओं की संख्या में हुए परिवर्तन से भी पता चलता है कि मांग का नियम इस पर भी लागू करता है |

सीमांत उपयोगिता ह्रास नियम इस नियम से ज्ञात होता है जब किसी वस्तु की संख्या बढ़ाई जाती है तो धीरे-धीरे सीमांत उपयोगिता कम हो जाती है उपभोक्ता खरीदारी करते वक्त वस्तु का मूल्य सीमांत उपयोगिता से ज्यादा नहीं देता है| सीमांत उपयोगिता तक घटती है की मात्रा अधिक खरीदी जाती है | जिसका प्रभाव अगर बाजार में किसी वस्तु की कीमत कम कर दी जाती है तो उस वस्तु को अधिक लोग खरीदते हैं अपेक्षा कृत  उन प्रतिस्थापन वस्तुओं की कीमत में कमी नहीं हुई है | उपभोक्ता किसी और वस्तु की जगह इस वस्तु का प्रयोग करना शुरू कर देते हैं |

मांग के नियम के कुछ अपवाद भी हैं जो इस प्रकार है –

  • वस्तु की क्वालिटी में सुधार का प्रभाव
  • फैशन में परिवर्तन करना
  • दिखावटी वस्तुएं 
  • दिखावटी क्रेता 
  • अज्ञानता वश

Mang Ka Niyam Lesson Plan

  • कक्षा : 12
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : लॉ ऑफ़ डिमांड ( मांग का नियम )
  • लेसन प्लान टाइप : मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग 

Note: निचे दी गयी अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|

Date : 

Duration Of The Period :

Pupils Teacher Name :

Pupil Teacher’s Roll Number :

Class :

Average Age Of the Pupils :

Subject :

Topic :

विषय वस्तु विश्लेषण

  1. छात्र मांग के नियम की परिभाषा से परिचित हो जाएंगे |
  2. छात्र मांग के नियम के स्वरूप के बारे में जानेंगे |

सामान्य उद्देश्य

  1. छात्रों की सूचनात्मक शक्ति का विकास करना |
  2. छात्रों में व्यष्टि अर्थशास्त्र के प्रति रुचि उत्पन्न करना |
  3. छात्रों की रचनात्मक शक्ति का विकास करना |
  4. छात्रों के कौशल में वृद्धि करना |
  5. छात्रों के सामान्य ज्ञान में वृद्धि करना |
  6. छात्रों में तर्कसंगत का विकास करना |

विशिष्ट उद्देश्य

ज्ञानात्मक उद्देश्य

  1. छात्र मांग के नियम से परिभाषा से परिचित हो जाएंगे |
  2. छात्र मांग के नियम के स्वरूप के बारे में जान पाएंगे |

बोधात्मक उद्देश्य

  1. छात्र मांग के नियम को स्पष्ट कर पाएंगे |
  2. छात्र मांग के नियम की परिभाषा का विश्लेषण कर पाएंगे |

प्रयोगात्मक उद्देश्य

  • छात्र वैकल्पिक व्यवस्थाओं में पूर्ति के नियम का अध्ययन करने में कुशल हो जाएंगे |

कौशलात्मक उद्देश्य

  • छात्र तालिका रेखा चित्र द्वारा मांग के नियम का अध्ययन करने में कुशल हो जाएंगे |

अनुदेशात्मक सामग्री

  • सामान्य सामग्री – चौक, झाड़न, संकेतक, श्यामपट्ट
  • विशिष्ट सामग्री – मांग व कीमत संबंधित तालिका व तालिका से संबंधित रेखाचित्र

पूर्व ज्ञान परीक्षण – मांग व कीमत संबंधी जानकारी छात्रों से लेना|

अध्यापक क्रिया

छात्र क्रिया

आप की मूलभूत जरूरतें क्या हैं?

रोटी, कपड़ा, मकान

इन जरूरतों की पूर्ति कहां से होती है?

बाजार से

यदि एक ही तरह के दो वस्तुएं हैं और एक ही कीमत अधिक है आप कौन सी वस्तु खरीदेंगे ?

कम कीमत वाली 

उप विषय की घोषणा – आज हम आपको मांग के नियम के विषय में बताएंगे की मांग और कीमत का संबंध किस प्रकार का है|

शिक्षण बिंदु

छात्र अध्यापक क्रिया

छात्र क्रिया

श्यामपट्ट

छात्र अध्यापक विषय सामग्री का व्याख्यान करता है मान लीजिए आइसक्रीम का मौसम की अभी शुरुआत है

इस कारण आइसक्रीम की कीमत ऊंची है इसलिए कम व्यक्ति ही खरीदेंगे यदि आज आइसक्रीम की कीमत कम हो जाए तो इसे अधिक लोग खरीदेंगे|

 

 प्रश्न

आइसक्रीम की कीमत कम होने पर मांग पर क्या प्रभाव पड़ेगा ?

 मांग अधिक हो जाएगी|

 प्रश्न

आइसक्रीम की कीमत अधिक होने पर मांग पर क्या प्रभाव पड़ेगा ?

मांग कम हो जाएगी|

मांग का नियम

मांग का नियम कहता है कि अन्य बातें स्थिर रहने पर भी कम कीमत पर वस्तु की मांग अधिक तथा अधिक कीमत पर वस्तु की मांग कम हो जाती है|

कीमत में परिवर्तन का मांग पर क्या प्रभाव पड़ेगा|

मांग तालिका

आइसक्रीम   मांग

की कीमत

  • 1         40
  • 2         30
  • 3         20
  • 4         10

तालिका में पहले दूसरे कॉलम में क्या दर्शाया गया है|

पहले कॉलम में आइसक्रीम की कीमत और दूसरे कॉलम में आइसक्रीम की मांग

प्रश्न

कीमत 3 रुपये होने पर आइसक्रीम की मांग कितनी होगी? इस तालिका को हम ग्राफ द्वारा प्रस्तुत कर सकते हैं|

20 इकाई

प्रश्न

OX पर क्या दर्शाया गया है?

आइसक्रीम की मांग

प्रश्न

OY पर क्या दर्शाया गया है?

इस प्रकार जब आइसक्रीम की कीमत 4 रुपये है तो मांग 10 इकाई है| तो यह ग्राफ पर कैसे दिखाएंगे ?

आइसक्रीम की कीमत की सीध में बिंद पर लगाएंगे

प्रश्न

सभी बिंदुओं को मिलाती हुई रेखा को हम क्या कहेंगे?

मांग रेखा

मांग व कीमत में संबंध

अर्थशास्त्र में मांग के नियम की परिभाषा मार्शल के शब्दों में अन्य बातें समान रहने पर कीमत कम होने पर मांग अधिक हो जाती है| वह कीमत बढ़ने पर मांग कम हो जाती है|

प्रश्न

इस परिभाषा के आधार पर मांग व नियम में किस प्रकार का संबंध है?

विपरीत संबंध

मांग का विस्तार

अन्य बाते समान रहने के फलस्वरूप जब किसी वस्तु की कीमत में कमी होने के फलस्वरूप उसकी मांग अधिक हो जाती है| तो इसे मांग का विस्तार कहते हैं|

मांग का संकुचन

मांग का संकुचन अन्य बातें समान रहने के फल स्वरुप जब वस्तु की कीमत में वृद्धि होने के फलस्वरूप उसकी मांग कम हो जाती है तो उसे मांग का संकुचन कहते हैं|

मूल्यांकन –

छात्रों द्वारा प्राप्त ज्ञान को जांचने हेतु छात्र अध्यापक निम्न प्रश्न पूछेगा ?
  1. मांग व कीमत में क्या संबंध है ? मांग का नियम क्या है?
  2. किसी वस्तु की कीमत घटने या बढ़ने का मांग पर क्या प्रभाव पड़ता है?

गृहकार्य – 

  1. मांग के नियम का विस्तार पूर्वक वर्णन करो?
  2. मांग के नियम की रेखा चित्र द्वारा व्याख्या करें ?

Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना

Mang Ke Niyam Lesson Plan

Mang Ke Niyam Lesson Plan For B.Ed

Mang Ke Niyam Lesson Plan For D.El.Ed

Mang Ke Niyam Lesson Plan In Hindi

Economics Lesson Plan in hindi on law of demand ( mang ka niyam)

Economics का Maang Ka Niyam B. Ed lesson plan In Hindi

Law Of Demand Economics का Lesson plan 

Maang Ke Niyam Lesson Plan

mang ka niyam path yojna

arthsashtra path yojna lesson plan class 11 aur 12 mang ka niyam (law of demand)

economics lesson plan for b.ed in hindi class 11 and 12

law of demand lesson plan

mega teaching economics lesson plan in hindi

real shool teaching economics lesson plan in hindi for b.ed free download pdf


  • कक्षा : 12
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : लॉ ऑफ़ डिमांड ( मांग का नियम )
  • लेसन प्लान टाइप : मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग 


Note: निचे दी गयी  अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|

Law of Demand ( मांग का नियम ) Economics Lesson Plan in Hindi for Class 12 free download pdf



law of demand paath yojana in hindi








Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना

  • कक्षा : 12
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : उत्पादन के साधन
  • लेसन प्लान टाइप :मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग 


Note: निचे दी गयी  अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|

b.ed economics lesson plan in hindi for b.ed first and second year free download pdf



utpadan ke sadhan economics lesson plan





arthsastra b.ed paath yojna - lesson plan



Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना
Bazar Lesson Plan In Hindi For B.Ed/D.El.Ed : बाजार पाठ योजना | Market Lesson Plan in Hindi | Market Lesson Plan economics teachers in Hindi for class 12th ( बाजार पाठ योजना ) free download pdf | azar Lesson Plan In Hindi For B.Ed/D.El.Ed

Bazar Lesson Plan In Hindi For B.Ed/D.El.Ed : बाजार पाठ योजना | Market Lesson Plan in Hindi

सामान्यता बाजार का मतलब उस जगह से होता है जहां वस्तुओं के  क्रेता और विक्रेता एक साथ एकत्रित होते हैं और वस्तुओं को खरीद से और बेचते हैं दूसरे शब्दों में कहें वह जगह जहां वस्तुओं को खरीदने और बेचने के लिए भौतिक रूप से क्रेता और विक्रेता इकट्ठे होते हैं वह जगह बाजार कहलाती है | लेकिन इकोनामिक में बाजार की परिभाषा भौतिक रूप से एक ही स्थान पर क्रेता और विक्रेता का होना जरूरी नहीं | वस्तु के खरीदने बेचने में दुकानदार और उपभोक्ता के बीच सौदेबाजी का नोकझोंक जारी रहती है | दुकानदार उपभोक्ता के बीच सौदेबाजी का संघर्ष तब तक चलता है, जब तक दोनों वस्तु की कीमत से संतुष्ट नहीं होते |

प्रतियोगिता के आधार पर बाजार का वर्गीकरण किया जा सकता है | पूर्ण प्रतियोगिता बाजार शून्य प्रतियोगिता बाजार अपूर्ण प्रतियोगिता बाजार पूर्ण प्रतियोगिता बाजार में विशेषताएं होती है जो इस प्रकार है पूर्ण प्रतियोगिता बाजार की पहली आवश्यकता यह है कि बाजार में क्रेता और विक्रेताओं की संख्या ज्यादा होने चाहिए | क्रेता विक्रेता की संख्या ज्यादा होने से कोई विक्रेता या फिर कोई भी विक्रेता बाजार की कीमत को प्रभावित कर सके इस प्रकार पूर्ण प्रतियोगिता में एक क्रेता या विक्रेता बाजार में मांग पूर्ति की दशाओं को प्रभावित नहीं कर सकता | 

वस्तु की इकाइयां – बाजार में सभी विक्रेताओं द्वारा बेची जाने वाली वस्तुओं रंग-रूप आकार माप आदि सभी में समानता होती है इस तरह से कहा जा सकता है कि वस्तु की इकाइयों के बीच प्रतिस्थापन लोच अनंत होती है और वस्तु को किसी भी दुकानदार से एक समान कीमत पर क्रय कर सकते हैं |

बाजार के बारे में पूरी जानकारी – पूर्ण प्रतियोगी बाजार में विक्रेताओं को  नेताओं के बारे में और कविताओं को विक्रेताओं के बारे में पूरी जानकारी होनी चाहिए | इस प्रकार कोई भी खरीददार वस्तु की वर्तमान कीमत से ज्यादा कीमत देकर वस्तु नहीं खरीदेगा और उसे वस्तु के गुण रंग आकार के बारे में भी पता होगा | इस कारण बाजार में वस्तु की सही कीमत पाई जाती है | फर्मों के प्रवेश और छोड़ने की स्वतंत्रता पूर्ण प्रतियोगिता बाजार में पुरानी से पुरानी फर्म जो बाहर निकल सकती है और नई से नई कोई भी फर्म आ सकती है | इस प्रकार पूर्ण प्रतियोगिता बाजार में फर्मों के प्रवेश और निष्कासन की पूर्ण स्वतंत्रता है |

साधना की पूर्ण गतिशीलता – पूर्ण प्रतियोगिता बाजार में साधन बिना किसी समस्या के एक फार्म से दूसरे में स्थानांतरित किए जा सकते हैं वस्तु की कीमत बाजार में वस्तु की केवल एक ही चलती है इससे ज्यादा कीमत लेने से मांग शून्य हो जाती है|

स्वतंत्र व्यापारी नीति – बाजार में स्वतंत्र व्यापार नीति अपनाई जाती है कहने का मतलब यह है किसी भी प्रकार सरकारी नियंत्रण बाजार की व्यवस्था को प्रभावित नहीं करता स्वतंत्रता पूर्वक व्यापार कर सकते हैं|

शून्य  बाजार उपयोगिता – वे  बाजार जिनमें प्रतियोगिता शून्य के बराबर होती है उसे शून्य  प्रतियोगिता बाजार कहते हैं|

अपूर्ण प्रतियोगिता बाजार में अथवा पूर्ण प्रतियोगिता के लक्षण नहीं पाए जाते इसलिए वास्तविक बाजारों को अपूर्ण प्रतियोगिता के बाजार कहा जाना अधिक सही कहना होगा इसके कई रूप हैं | जैसे – विक्रेताधिकार, अल्पाधिकार, एकाधिकारात्मक प्रतियोगिता

Bazar [Market] Lesson Plan

  • कक्षा : 12th
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : बाजार ( Market )
  • लेसन प्लान टाइप : मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग 

Note: निचे दी गयी अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|

Date : 

Duration Of The Period :

Pupils Teacher Name :

Pupil Teacher’s Roll Number :

Class :

Average Age Of the Pupils :

Subject :

Topic :

विषय वस्तु विश्लेषण

  1. बाजार का अर्थ
  2. बाजार की विशेषताएं

सामान्य उद्देश्य

  1. विद्यार्थी के आर्थिक दृष्टिकोण का विकास करना|
  2. विद्यार्थियों के सामान्य ज्ञान में वृद्धि
  3. विद्यार्थियों के सामाजिक ज्ञान में वृद्धि
  4. विद्यार्थियों का मानसिक ज्ञान का विकास
  5. विद्यार्थियों में तर्क शक्ति का विकास

विशिष्ट उद्देश्य

ज्ञानात्मक उद्देश्य

  1. विद्यार्थी बाजार का अर्थ बताने में योग्य हो जाते हैं|
  2. विद्यार्थी बाजार के बारे में अपना कथन देना सीख जाते हैं|
  3. विद्यार्थी बाजार के बारे में लिखना सीख जाते हैं|

बोधात्मक उद्देश्य –

  1. विद्यार्थी बाजार की व्याख्या करना सीख जाते हैं|
  2. विद्यार्थी बाजार का सारांश देना सीख जाते हैं|

प्रयोगात्मक उद्देश्य –

  1. विद्यार्थी बाजार का चयन करना सीख जाते हैं|
  2. विद्यार्थी बाजार का उपयोग करना सीख जाते हैं|

कौशलात्मक उद्देश्य –

  1. विद्यार्थी बाजार का मूल्यांकन करने का कौशल प्राप्त कर लेते हैं|
  2. विद्यार्थी तर्क करना सीख जाते हैं|

अनुदेशात्मक सामग्री –

  • सामान्य सामग्री – चौक, झाड़न, संकेतक, श्यामपट्ट
  • विशिष्ट सामग्री – चार्ट, पाठ्य पुस्तक

पूर्व ज्ञान परीक्षण – अपने विषय की घोषणा से पूर्व विद्यार्थियों के पूर्व ज्ञान को जानना|

छात्र अध्यापिका क्रियाये

छात्र क्रियाये

मनुष्य को दैनिक जीवन में किस चीज की जरूरत होती है?

वस्तुओं की

वस्तुओं में क्या-क्या होता है?

राशन, कपड़ा, किताबें

ये यह सब वस्तुएं कौन उपलब्ध कराता है?

दुकानदार

यह सब वस्तुएं दुकानदार कहां से प्राप्त करता है?

कोई प्रतिक्रिया नहीं

उपविषय की घोषणा – आज हम बाजार के बारे में पढेंगे |

प्रस्तुतीकरण

शिक्षण बिंदु

छात्र अध्यापिका क्रियाये

छात्र क्रियाये

श्यामपट्ट कार्य

पूर्ण प्रतियोगिता बाजार –

यह बाजार की वह अवस्था है जिसमें एक सी वस्तु को बेचने वाली बहुत सी फर्म होती हैं और उन वस्तुओं की कीमत एक ही होती है|

पूर्ण प्रतियोगिता बाजार –

यह बाजार की वह अवस्था है जिसमें एक सी वस्तु को बेचने वाली बहुत सी फर्म होती हैं और उन वस्तुओं की कीमत एक ही होती है|

पूर्ण प्रतियोगिता बाजार की विशेषताएं

इस बाजार की विशेषता निम्न प्रकार से है –

क्रेता तथा विक्रेता की अधिक संख्या –

इस बाजार में वस्तु के  बहुत अधिक क्रेता तथा विक्रेता होते हैं|

समरूप वस्तुएं – इस बाजार में जो वस्तुएं बेची जाती हैं वे रंग-रूप आकार प्रकार तथा गुण में समान होते हैं|

अपनी कॉपी में लिखें|

फर्मों का स्वतंत्र प्रवेश तथा छोड़ना

पूर्ण प्रतियोगिता की अवस्था में किसी भी फर्म को उद्योग में प्रवेश करने तथा उसे छोड़कर जाने की पूर्व पूर्ण स्वतंत्रता होती है|

पूर्व ज्ञान

क्रेता तथा विक्रेता को वस्तु की कीमत की पूरी जानकारी होती है|

प्रश्न

इस बाजार की चार विशेषताएं कौन सी हैं|

  1. अधिक संख्या
  2. समरूप वस्तुएं
  3. प्रवेश तथा छोड़ने की स्वतंत्रता
  4. पूर्ण ज्ञान

साधनों की गतिशीलता

इस बाजार में वस्तु बाजार तथा साधन बाजार दोनों में पूर्ण गतिशीलता होती है|

परिवहन लागतों का अभाव

इस बाजार में एक समय में एक विशेष वस्तु की सारे बाजार में केवल एक ही कीमत प्रचलित रहती है|

क्रय विक्रय लागत का अभाव

पूर्ण प्रतियोगिता में वस्तुएं समरूप होती हैं इसलिए विक्रेता विज्ञापन प्रचार आदि पर खर्च नहीं करता है|

पूर्ण प्रतियोगिता में फर्म की मांग का स्वरूप

पूर्ण प्रतियोगिता में वस्तु की मांग की लोच अनंत होती है इसका अर्थ है कि दी गई बाजार कीमत पर एक फर्म जितनी मात्रा बेचना चाहे बेच सकती है|

प्रश्न

परिवहन लागते कौन सी हैं|

पूर्ण प्रतियोगिता के अंतर्गत कोई भी फार्म कीमत को प्रभावित नहीं कर सकती उद्योग द्वारा जो कीमत निर्धारित होती है उसे फर्मों को स्वीकार करना होता है|

वह लागत जो वस्तु को एक स्थान से दूसरे स्थान तक ले जाने में लगती है|

मूल्यांकन –

  1. बाजार कितने प्रकार के होते हैं?
  2. पूर्ण प्रतियोगिता बाजार का क्या अर्थ है?
  3. पूर्ण प्रतियोगिता बाजार की क्या विशेषता है?

गृहकार्य – 

  1. बाजार कितने प्रकार के होते हैं?
  2. पूर्ण प्रतियोगिता बाजार का क्या अर्थ है?
  3. पूर्व प्रतियोगिता बाजार की क्या विशेषता है?

Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना

Bajar [Market] Lesson Plan In Hindi For B.Ed/D.El.Ed

Bazar Lesson Plan

Bazar Lesson Plan In Hindi

Bajar Lesson Plan In Hindi For B.Ed/D.El.Ed

Market Lesson Plan

Market Lesson Plan In Hindi For B.Ed/D.El.Ed

Economics का Bajaar B. Ed lesson plan In Hindi

Market Economics का Lesson plan

Bajaar (Market) Lesson Plan In Hindi

economics lesson plan on market in hindi

bazar path yojna 

arthshashtra path yojana bazar market class 11 , 12

real school teaching economics lesson plan in hindi for b.ed free download pdf


  • कक्षा : 12th
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : बाजार ( Market )
  • लेसन प्लान टाइप : मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग 


Note: निचे दी गयी  अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|

real teaching economics lesson plan in hindi on market



class 12 economics lesson plan in hindi on bazaar

bazaar paath yojna

economics lesson plan for 12 in hindi on market topic




arthsastra b.ed lesson plan file in hindi medium free download pdf


Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना
Micro teaching in Economics | Bank Lesson Plan In Hindi For B.Ed/D.El.Ed – बैंक पाठ योजना | Bank Lesson Plan In Hindi For B.Ed/D.El.Ed – बैंक पाठ योजना | Micro Teaching Skill of Explanation ( Vivran Koshal) Lesson Plan on Bank in Hindi for Economics

Bank Lesson Plan In Hindi For B.Ed/D.El.Ed – बैंक पाठ योजना | Micro Teaching Skill of Explanation ( Vivran Koshal) Lesson Plan on Bank in Hindi for Economics

एक बैंक एक वित्तीय संस्थान है जिसे जमा प्राप्त करने और ऋण लेने के लिए लाइसेंस प्राप्त है। बैंक वित्तीय सेवाएं जैसे धन प्रबंधन, मुद्रा विनिमय, और सुरक्षित जमा बॉक्स भी प्रदान कर सकते हैं। खुदरा बैंक, वाणिज्यिक या कॉर्पोरेट बैंक और निवेश बैंक सहित कई अलग-अलग प्रकार के बैंक हैं। अधिकांश देशों में, बैंकों को राष्ट्रीय सरकार या केंद्रीय बैंक द्वारा नियंत्रित किया जाता है।बैंक अर्थव्यवस्था का एक बहुत ही महत्वपूर्ण हिस्सा हैं क्योंकि वे उपभोक्ताओं और व्यवसायों दोनों के लिए महत्वपूर्ण सेवाएं प्रदान करते हैं। वित्तीय सेवा प्रदाताओं के रूप में, वे आपको अपना कैश स्टोर करने के लिए एक सुरक्षित स्थान देते हैं। चेकिंग और बचत खाते, और जमा प्रमाणपत्र (सीडी) जैसे विभिन्न प्रकार के खाते के माध्यम से, आप जमा, निकासी, चेक लेखन और बिल भुगतान जैसे नियमित बैंकिंग लेनदेन कर सकते हैं। आप अपना पैसा भी बचा सकते हैं और अपने निवेश पर ब्याज कमा सकते हैं।

बैंक लोगों और निगमों के लिए ऋण अवसर भी प्रदान करते हैं। आपके द्वारा बैंक में जमा किया गया धन—अल्पकालिक नकद—का उपयोग कार ऋण, क्रेडिट कार्ड, गिरवी, और अन्य ऋण वाहनों जैसे दीर्घकालिक ऋण के लिए दूसरों को उधार देने के लिए किया जाता है। यह प्रक्रिया बाजार में तरलता पैदा करने में मदद करती है – जिससे पैसा बनता है और आपूर्ति चलती रहती है।

केंद्रीय बैंक एक राष्ट्र (या राष्ट्रों के समूह) के लिए मौद्रिक प्रणाली की देखरेख के लिए जिम्मेदार हैं, साथ ही मौद्रिक नीति की देखरेख से लेकर मुद्रा स्थिरता, कम मुद्रास्फीति और पूर्ण रोजगार जैसे विशिष्ट लक्ष्यों को लागू करने के लिए अन्य जिम्मेदारियों की एक विस्तृत श्रृंखला के साथ। पिछली शताब्दी में केंद्रीय बैंक की भूमिका महत्वपूर्ण हो गई है। किसी देश की मुद्रा की स्थिरता सुनिश्चित करने के लिए, केंद्रीय बैंक को बैंकिंग और मौद्रिक प्रणालियों में नियामक और प्राधिकरण होना चाहिए।

  • कक्षा : 10,11,12
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : बैंक (Bank)
  • लेसन प्लान टाइप : मिक्रोटीचिंग
  • कौशल : विवरण कौशल

Note: निचे दी गयी अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|

Date : 

Duration Of The Period :

Pupils Teacher Name :

Pupil Teacher’s Roll Number :

Class :

Average Age Of the Pupils :

Subject :

Topic :

विवरण कौशल बैंक लेसन प्लान

क्रमांक

छात्र-अध्यापक क्रियाएं

छात्र क्रियाएं

घटक

 

विद्यार्थियों! बैंक आजकल हमारे जीवन की  अत्यंत आवश्यकता बन चुके हैं जिसकी मदद से हम घर बैठे- बैठे ही संसार के दूसरे देशों में व्यापार कर सकते हैं आज हम केंद्रीय बैंक के संबंध में पढेंगे|

( प्रस्तावित प्रश्न )

वर्तमान युग में प्रत्येक देश का अपना एक केंद्रीय बैंक होता है| जैसे भारत का केंद्रीय बैंक रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया है सबसे पहले हमें यह मालूम होना चाहिए कि केंद्रीय बैंक क्या होता है केंद्रीय बैंक वह होता है जो देश की मौद्रिक व बैंकिंग प्रणाली के शिखर पर होता है|

( मुख्य बिंदुओं को शामिल )

केन्द्रीय बैंक अनेक कार्यकर्ता है| आज हम उन्हीं कार्यों के बारे में चर्चा करेंगे !

छात्र ध्यान पूर्वक सुनेंगे|

 

छात्र ध्यान पूर्वक सुनेंगे और मुख्य बिंदु अपनी कॉपी में लिखेंगे|

प्रस्तावना

कथन का उपयोग

स्वर में परिवर्तन

1

केंद्रीय बैंक का मुख्य कार्य नोट छापना है| संसार के प्रत्येक बैंक में केंद्रीय बैंक नोट जारी करने का एकाधिकार है| पहले यह कार्य व्यापारिक बैंकों द्वारा किया जाता था, परंतु इससे समाज में अनेक बुराइयां आ गई थी जिसके तहत उन्हें ठीक नहीं समझा गया | केंद्रीय बैंक द्वारा नोट जारी करने से मौद्रिक प्रणाली में एकरूपता आ गई तथा इसे आवश्यकतानुसार कम या अधिक किया जा सकता है|

छात्र ध्यान पूर्वक सुनेंगे और अपनी कॉपी में मुख्य बिंदुओं को नोट करेंगे|

हावभाव का उपयोग

तकनीकी शब्दों की व्याख्या

2

केंद्रीय बैंक, बैंकों के बैंकर का कार्य भी करता है| इसका अर्थ है कि व्यापारिक बैंकों का केंद्रीय बैंकों से ठीक वही संबंध है, जो व्यापारिक बैंक का अपने ग्राहकों के साथ होता है जिसके फलस्वरूप साख प्रणाली लोच सील बन जाती है| व्यापारिक बैंक अपनी जमा का एक भाग केंद्रीय बैंक में जमा करते हैं संकट के समय केंद्रीय बैंक दूसरे बैंकों को उधार भी देता है|

( स्वर में बदलाव )

 

छात्र ध्यान पूर्वक सुनेंगे और अपनी कॉपी में मुख्य बिंदुओं को नोट करेंगे|

 

 

3

  केंद्रीय बैंक का तीसरा कार्य समाशोधन गृह का कार्य भी है| केंद्रीय बैंक के पास सभी बैंकों के खाते होते हैं, प्रत्येक बैंक के चेक केंद्रीय बैंक के पास आते हैं| केंद्रीय बैंक द्वारा इनका भुगतान हो सकता है क्योंकि केंद्रीय बैंक एक के खाते से राशि निकालकर दूसरे के खाते में डाल देता है| इस प्रकार नकद राशि की मांग बहुत कम रह जाती है|

इस प्रकार से व्यापारिक बैंकों का काफी समय और श्रम बच जाता है तथा बैंकों में आपसी संबंध भी कायम हो जाते हैं|

इस प्रकार केंद्रीय बैंक एक सरकारी संस्था है जिसका उद्देश्य लाभ कमाना नहीं बल्कि लोगों का कल्याण करना होता है| यह लोगों प्रत्यक्ष नहीं अप्रत्यक्ष रूप से संबंध रखता है| इस प्रकार हमें केंद्रीय बैंक के बारे में जानकारी हो गई होगी|

प्रश्न

केंद्रीय बैंक किसे कहते हैं?

केंद्रीय बैंक वह बैंक है जो देश की  बैंकिंग और मौद्रिक प्रणाली के शिखर पर होता है|

प्रश्न

 केंद्रीय बैंक का मुख्य कार्य क्या है?

 

नोट छापना

प्रश्न

केंद्रीय बैंक का लोगो से कैसा संबंध है?

अप्रत्यक्ष संबंध

प्रश्न

भारत में केंद्रीय बैंक का पूरा नाम क्या है?

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया

 

 

प्रश्न

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया कौन-कौन से नोट छापते हैं ?

1 रुपये  के नोट को छोड़कर बाकी सभी नोट छापता है|

 

क्रम

घटक

रेटिंग

1

प्रस्तावना कथन

0 1 2 3 4 5 6

2

स्वर में परिवर्तन

0 1 2 3 4 5 6

3

हाव भाव व शारीरिक मुद्राओ का प्रयोग

0 1 2 3 4 5 6

4

ध्यान केंद्रित करना

0 1 2 3 4 5 6

5

छात्रों का क्रियात्मक सहयोग

0 1 2 3 4 5 6

6

श्रव्य दृश्य में परिवर्तन

0 1 2 3 4 5 6

7

गतिशीलता

0 1 2 3 4 5 6

8

तकनीक शब्दों की व्याख्या

0 1 2 3 4 5 6


Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना

Bank Lesson Plan

Bank Lesson Plan In Hindi

Bank Lesson Plan In Hindi For B.Ed

Bank Lesson Plan In Hindi For B.Ed/D.El.Ed

Bank Lesson Plan In Hindi For D.El.Ed

Bank Lesson Plan PDF

Bank Lesson Plan In Hindi For B.Ed/D.El.Ed – बैंक पाठ योजना पर लेसन प्लान

Economics का Bank Lesson Plan 

Lesson Plan Bank ( बैंक )

Microteaching, Mega teaching, Discussion, Real School Teaching and Practice, and Observation Skill Lesson Plan on Bank in Hindi

Bank का Lesson Plan In Hindi

बैंक Micro teaching in Economics का lesson plan

micro teaching economics lesson plan on bank in hindi 

suksham shikshan arthsastra economics path yojna bank

vivran kaushal path yojna

viran kaushal lesson plan economics

skill of explanation micro teaching lesson plan for economics in hindi for class 10th 11th 12th


  • कक्षा : 10
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : बैंक
  • लेसन प्लान टाइप : मिक्रोटीचिंग
  • कौशल : विवरण कौशल


Note: निचे दी गयी  अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|

economics lesson plan on bank in hindi for class 10



suksham sikshan economics arthsastra lesson plan hindi






Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना

  • कक्षा : 11
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : मांग का नियम
  • लेसन प्लान टाइप : मिक्रोटीचिंग ( सूक्षम शिक्षण पाठ योजना )
  • कौशल : उद्दीपन परिवर्तन कौशल


Note: निचे दी गयी  अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|

Arthashastra Paath Yojana



stimulus variation skill economics in hindi






Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना

  • कक्षा : 9th
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : बेरोजगारी के प्रकार
  • लेसन प्लान टाइप : Microteaching
  • कौशल : व्याख्या कौशल


Note: निचे दी गयी  अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|

vyakhya kaushal economics lesson plan in hindi




economics lesson plan file b.ed, skill of explanation ( vyakhyan kaushal paath yojana



befojgari ki samasya par lesson plan


Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना
Rashtriya Aay Lesson Plan In Hindi For B.Ed/D.El.Ed : राष्ट्रीय आय पाठ योजना | Micro Lesson Plan of Economics in Hindi on Prashan Kaushal ( Skill of Questioning) on Rastriya Aay ( National Income) for Class 12 B.Ed | Micro lesson plan of economics in Hindi on Prashan Kaushal (प्रश्न कौशल) on rashtriya aay ( राष्ट्रीय आय) free download pdf |Rashtriya Aay Lesson Plan

Rashtriya Aay Lesson Plan In Hindi For B.Ed/D.El.Ed : राष्ट्रीय आय पाठ योजना | Micro Lesson Plan of Economics in Hindi on Prashan Kaushal ( Skill of Questioning) on Rastriya Aay ( National Income) for Class 12 B.Ed

मार्शल के अनुसार-’’किसी देश की श्रम एवं पूंजी उस देश के प्राकृतिक संसाधनों के साथ मिलकर प्रतिवर्ष कुछ भौतिक एवं अभौतिक वस्तुओं का उत्पादन करता है जिसमें सेवाएँ भी शामिल होती है इसी के बाजार मूल्य को राष्ट्रीय आय कहते हैं जिसमें विदेशों से प्राप्त शुद्ध आय भी शामिल होती हैं।’’

A.C. पीगू के अनुसार-’’राष्ट्रीय आय किसी समुदाय के आय का वह हिस्सा होता है जिसमें विदेशों से प्राप्त आय सम्मिलित रहती हैं और जिसे मुद्रा के रुप में लाया जा सकता है।’’

प्रो0 साइमन कुजनेट्स के अनुसार-’’ राष्ट्रीय आय का तात्पर्य किसी एक वर्ष के दौरान देश में उत्पादित समस्त अन्तिम वस्तुओं और सेवाओं में बाजार मूल्य से होता है जिसमें विदेशों से प्राप्त शुद्ध आय सम्मिलित रहती है।

फिसर के अनुसार,” राष्‍ट्रीय लाभांश अथवा आय में केवल अन्तिम उपभोक्‍ताओं के द्वारा अपने भौतिक अथवा मानवीय वातावरण से प्राप्‍त सेवाएओं को सम्मिलित  किया जाता है।,”  साइमन कुजनेटस के अनुसार,” राष्‍ट्रीय आय की उत्‍पदान व्‍यवस्‍था में एक वर्ष के भीतर प्राप्‍त होने वाली वस्‍तुओं और सेवाओं का वह विशुद्ध उत्‍पादन है जो अन्तिम उपभोक्‍ताओं को प्राप्‍त होता है अथवा देश की पूँजी व स्‍टॉक में वृद्धि करता है।”

Rashtriya Aay Lesson Plan

  • कक्षा : 11 , 12
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : राष्ट्रीय आय
  • लेसन प्लान टाइप : Micro Teaching ( Prashan Kaushal) 

Note: निचे दी गयी अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|

Date : 

Duration Of The Period :

Pupils Teacher Name :

Pupil Teacher’s Roll Number :

Class :

Average Age Of the Pupils :

Subject :

Topic :

 

क्रमांक

छात्र अध्यापक क्रियाये

छात्र क्रिया

घटक

1

राष्ट्रीय आय का अध्ययन किस लिए किया जाता है?

किसी देश की आर्थिक स्थिति जानने के लिए

2

विश्व के सभी देश किस लिए आंकड़े एकत्रित करते हैं ?

अर्थव्यवस्था की पूर्ण जानकारी रखने के लिए

3

राष्ट्रीय आय का क्या अर्थ है?

किसी भी राष्ट्र में 1 वर्ष की अवधि में अनेक अंतिम वस्तुओं और सेवाओं का उत्पादन होता है|

4

राष्ट्रीय आय  मापने की कितनी विधियां ?

तीन

5

राष्ट्रीय आय मापने की कौन-कौन सी विधियां हैं?

  1. उत्पादन विधि
  2. आय विधि
  3. व्यय विधि

6

उत्पादन विधि से राष्ट्रीय आय का अनुमान कैसे लगाते हैं?

किसी राष्ट्र की घरेलू सीमा में 1 वर्ष में उत्पादित अंतिम वस्तुओं और सेवाओं का मौद्रिक मूल्य जोड़कर

7

आय विधि के द्वारा राष्ट्रीय आय की गणना कैसे करते हैं?

 गृहस्थियों और उत्पादित कर्मों से प्राप्त होने वाली शुद्ध आय को जानने के बाद जोड़ देते हैं|

8

व्यय विधि से राष्ट्रीय आय की गणना कैसे करते हैं?

 अंतिम उपयोग और निवेश को जोड़कर राष्ट्रीय आय की गणना की जाती है|

9

राष्ट्रीय आय की धाराएं क्या क्या है

  1. सकल राष्ट्रीय उत्पाद
  2. शुद्ध राष्ट्रीय उत्पाद
  3. साधन लागत पर शुद्ध
  4. साधन लागत पर शुद्ध घरेलू उत्पाद

10

राष्ट्रीय आय में क्या क्या शामिल किया जात