Elasticity of Demand Lesson Plan in Hindi ( मांग की लोच पाठ योजना ) | Mang Ke Loch Lesson Plan

Elasticity of Demand Lesson Plan in Hindi ( मांग की लोच पाठ योजना ) | Mang Ke Loch Lesson Plan

Mang Ke Loch Lesson Plan For B.Ed/D.El.Ed : मांग की लोच पाठ योजना | Elasticity of Demand Lesson Plan in Hindi

Mang Ke Loch Lesson Plan For B.Ed/D.El.Ed : मांग की लोच पाठ योजना | Elasticity of Demand Lesson Plan in Hindi

मांग एक आर्थिक सिद्धांत है जो किसी उपभोक्ता की वस्तुओं और सेवाओं को खरीदने की इच्छा को व्यक्त करता है और उस वस्तु या सेवा के लिए कीमत चुकाने की इच्छा रखता है अन्य सभी कारकों को स्थिर रखते हुए किसी वस्तु की कीमत में वृद्धि करने से मांग की गई मात्रा में कमी आएगी और ठीक इसके विपरीत अगर वस्तु की कीमत में कमी करने से मांग की गई मात्रा में वृद्धि होगी | लोच एक चर से दूसरे चर में बदलाव का एक उपाय है या यूं कहें की मांग की मात्रा में हुए परिवर्तन को जानने के लिए मांग की लोच की मदद लेते हैं |

मांग की लोच वस्तु की कीमत और उपभोक्ता की इनकम संबंधित वस्तु की कीमत ने परिवर्तन के परिणाम स्वरुप मांग में होने वाले परिवर्तन की माप से संबंधित है | जब लोच का मूल्य 1.0 से ज्यादा हो तो यह बताता है कि मांग अच्छी है, पर मूल्य से सेवा प्रभावित है, यदि लोच का मूल्य 1.0 से कम है तो यह दर्शाता है कि, मांग मूल्य से कम है | यदि लोच 0 हो तो इसका अर्थ है की मांग किसी भी कीमत पर नहीं बदलेगी |

मांग की लोच के प्रकार – मांग की लोच के तीन प्रकार हैं –

  1. मांग की कीमत
  2. लोच मांग की आय 
  3. लोच मांग की आड़ी या तिरछी लोच 

मांग की कीमत -  मांग की कीमत में चारों में बदलाव आने से मांग में बदलाव आता है| मांग की लोच में यह पता नहीं होता है कि किस चर में बदलाव आया है, लेकिन मांग की कीमत लोच में यह पता रहता है कि किस में बदलाव आता है | मांग की कीमत लोच में वस्तु की कीमत में बदलाव आने से उसकी मांग में बदलाव आता है| यदि कीमत लोच अधिक है तो मांग में बड़ा बदलाव आता है, यदि  कम है तो मांग में बदलाव कम होगा | 

मांग की लोच – मांग की मात्रा में अनुपातिक परिवर्तन / अन्य आर्थिक चर में अनुपातिक परिवर्तन 

मांग की कीमत के प्रकार –

  • पूर्णतया बेलोचदार 
  • बेलोचदार मांग 
  • इकाई लोचदार मांग 
  • लोचदार मांग
  • पूर्णतया लोचदार मांग

मांग की लोच को प्रभावित करने वाले कारक – वस्तु की प्रकृति, विकल्प की उपलब्धता, उपभोक्ता की आय, वस्तु के मूल्य का स्तर

मांग की आय लोच – मांग की मात्रा और उपभोक्ता की इनकम के बीच के संबंध को मांग की आय लोच कहा जाता है | आय में हुए परिवर्तन से मांग में कोई परिवर्तन न हो तो मांग की आय शून्य हो जाती है |

मांग की ऑडी या तिरछी मांग की लोच – दो वस्तुओं की मांग पर पड़ने वाले प्रतिस्थापन प्रभाव की व्याख्या करती है| किसी वस्तु के कीमत में परिवर्तन के फलस्वरूप किसी वस्तु की मांग में होने वाले परिवर्तन के अनुपात को मांग की आय लोच कहते हैं |

Mang Ke Loch Lesson Plan

  • कक्षा : 11,12
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : मांग के लोच
  • लेसन प्लान टाइप : मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग 

Note: निचे दी गयी अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|

Date : 

Duration Of The Period :

Pupils Teacher Name :

Pupil Teacher’s Roll Number :

Class :

Average Age Of the Pupils :

Subject :

Topic :

 

  • सामान्य सामग्री – चौक, झाड़न, संकेतक, श्यामपट्ट
  • विशिष्ट सामग्री – एक चार्ट जिसमे मांग के विभिन्न वक्र बने हुए है|

सामान्य उद्देश्य

  1. छात्रों को मांग की लोच की धारणा से अवगत कराना|
  2. मांग की कीमत लोच के विषय में बताना|
  3. मांग की कीमत लोच की कोटिया|

विशिष्ट उद्देश्य

ज्ञान

  1. मांग की लोच का अर्थ व
  2. मांग की लोच की परिभाषा

बोध

  1. मांग की कीमत लोच में होने वाली परिवर्तन
  2. मांग की लोच की अध्ययन श्रेणियां

प्रयोग

  1. बच्चों को इस बात का ज्ञान प्राप्त करवाना की मांग वक्र किस प्रकार घटता है या बढ़ता है|
  2. मांग की लोच के मुख्य रूप से कितने प्रकार हैं|

पूर्व ज्ञान –

  • छात्रों से यह आशा की जाती है कि वह मांग की लोच के बारे में जानते होंगे|

पूर्व ज्ञान परीक्षण

छात्र अध्यापक क्रियाएं

छात्र क्रियाएं

अध्यापक विद्यार्थियों को उत्साहित करता है और छात्रों से कुछ प्रश्न पूछता है

प्रश्न 1. हमारी रोज की आवश्यक खाद्य सामग्री पर कीमत बढ़ने का प्रभाव पड़ता है?

नहीं

प्रश्न 2. क्या तुम कुछ ऐसी वस्तुएं बता सकते हो जिसमें की कीमत की मांग पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता है?

आटा, नमक, चीनी इत्यादि

प्रश्न 3. क्या वस्तु की कीमत काम मांग पर कोई प्रभाव पड़ता है?

हाँ

प्रश्न 4. मांग किसे कहते हैं?

इच्छा तथा आवश्यकता

उद्देश्य कथन – आज हम आपको मांग की लोच की धारणा के बारे में बताएंगे एक वस्तु की कीमत उपभोक्ता आए तथा संबंधित वस्तु की कीमत में परिवर्तन होने से उस वस्तु की मांग की मात्रा में होने वाले परिवर्तन को मांग की लोच कहा जाता है|

यदि परिवर्तन वस्त्र की कीमत में हुए परिवर्तन से उसकी मांग में होता है तो इसे मांग की कीमत लोच कहते हैं परंतु जब या परिवर्तन क्रेता की आय में हुए परिवर्तन से मापा जाता है तो  इसे मांग की आय लोच कहा जाता है कि जब एक वस्तु की मांगी गई मात्रा के परिवर्तन को दूसरी संबंधित वस्तु की कीमत के हुए संबंधित परिवर्तन में मापा जाता है तो इसे मांग आड़ी लोच कहा जाता है|

उप विषय उद्घोषणा – आपको आज हम मांग की लोच के बारे में बताएंगे |

प्रस्तुतीकरण

शिक्षण

छात्र अध्यापक क्रियाएं

छात्र क्रियाएं

श्यामपट्ट

प्रस्तुतीकरण

मांग की कीमत लोच जैसा कि आप सभी जानते हैं यदि किसी चीज की कीमत जैसे-जैसे बढ़ती है उसी मांग घटती जाती है जैसे कि हाल ही में देखा गया है कि हाल ही में जब प्याज कीमत बढ़ी तो जो लोग 3 से 4 किलो प्याज खरीदते थे वह लोग 1 किलो प्याज ही  खरीदेंगे आप भी इस तरह का कोई उदाहरण दे सकते हैं|

हां हां बहुत अच्छा और भी कोई कुछ बता सकता है|

 

जैसे – पेट्रोल की कीमत बढ़ने पर सी.एन.जी का प्रयोग|

 

मांग के प्रकार –

  1. मांग की कीमत लोच
  2. मांग की आय लोच
  3. मांग की आड़ी लोच

मांग की लोच के प्रकार

मांग की लोच के प्रकार

  • पूर्णतया लोचदार
  • पूर्णतया बेलोचदार
  • इकाई लोचदार
  • इकाई से अधिक लोचदार

 

 

पूर्णतया लोचदार मांग

 

इसमें किसी वस्तु की कीमत थोड़ी सी भी बढ़ने पर उसकी मांग शून्य हो जाती है क्योंकि क्रेता इसका कोई दूसरा विकल्प खरीद लेता है|

क्या आप में से इसका कोई उदाहरण दे सकता है|

छात्र ने ध्यानपूर्वक सुना व समझा

पूर्णतया बेलोचदार मांग

 इस स्थिति में वस्तुओं की कीमत का मांग पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता| इस अवस्था में मांग की लोच शून्य हो जाती है जैसे आटा दाल इत्यादि की कीमत बढ़ने पर भी उसकी मांग में कोई परिवर्तन नहीं आता|

 

 

इकाई लोचदार मांग

इस स्थिति में कीमत में परिवर्तन होने के फलस्वरूप मांग में इतना परिवतन आता है कि वस्तु पर किया गया वह स्थिर रहता है|

 

इकाई से अधिक लोचदार मांग

इस स्थिति में कीमत कम होने पर वस्तु पर किया गया खर्च बढ़ जाता है और कीमत के बढ़ जाने पर किया गया खर्च कम हो जाता है

 

 

इकाई से कम लोचदार मांग

 इस स्थिति में मांग की कीमत में परिवर्तन होने के फलस्वरूप मांग में इतना परिवर्तन होता है कि मांग के कम होने पर किया जाने वाला कुल खर्च कम हो जाता है और कीमत में वृद्धि होने पर कुछ खर्च बढ़ जाता है|

छात्रों ने अपनी कॉपी में लिखा

 

गृहकार्य –

  • प्रश्न 1. मांग की लोच से आप क्या समझते हैं|
  • प्रश्न 2. मांग की लोच कितने प्रकार की होती है|
  • प्रश्न 3. मांग की कीमत लोच के कितने प्रकार हैं|

Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना

Elasticity Of Demand Lesson Plan

Mang Ke Loch Lesson Plan

Mang Ki Loch Lesson Plan PDF

मांग की लोच पाठ योजना

Economics Lesson Plan in Hindi on Elasticity of Demand ( Mang Loch) for Class 12 

Economics का lesson plan In Hindi

Maang Ki Loch का lesson plan

Economics का Elasticity Of Demand का lesson Plan In Hindi

Maang Ki Loch अर्थशास्त्र Lesson Plan

mang ki loch path yojna

economics lesson plan in hindi class 12 


  • कक्षा : 11
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : मांग के लोच
  • लेसन प्लान टाइप : मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग 


Note: निचे दी गयी  अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|

Elasticity of Demand Economics Lesson Plan in Hindi ( मांग की लोच पाठ योजना ) for Class 11th free download pdf



class 11 elasticity of demand economics lesson plan

arthsastra mang ki loch lesson plan in hindi










Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना

Similar Posts


Related:


Post a Comment

Please Share your views and suggestions in the comment box

Previous Post Next Post