Poverty Lesson Plan in Hindi | निर्धनता पर पाठ योजना

Poverty Lesson Plan in Hindi | निर्धनता पर पाठ योजना

Causes of Poverty in India ( भारत में निर्धनता के कारण ) Economics Lesson Plan in Hindi for Class 10 free download pdf

Bharat Me Nirdhanta Ke Karan Lesson Plan : भारत में निर्धनता के कारण पाठ योजना | Poverty Lesson Plan in Hindi For Economics

भारत में निर्धनता एक बहुत बड़ा अभिशाप है निर्धनता वह स्थिति होती है जब व्यक्ति अपने परिवार की आर्थिक और शारीरिक आवश्यकताओं को पूरा करने में असमर्थ होता है | निर्धनता ( गरीबी ) बेरोजगारी और आर्थिक विषमता का प्रमुख कारण है | निर्धन व्यक्ति के लिए दो वक्त का खाना दूसरों के कपड़े दिए हुए और बचा हुआ खाना उसकी आवश्यकता को पूरा करता है | भारत में ऐसे कई परिवार हैं जिन्हें दो वक्त की रोटी नहीं मिलती है | आज विश्व की संपूर्ण गरीबी आबादी का तिहाई भाग भारत में ही है | इससे अनुमान लगाया जा सकता है कि भारत में निर्धन लोगों की संख्या ज्यादा हो रही है |

  • कक्षा : 10
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : भारत में निर्धनता के कारण
  • लेसन प्लान टाइप : मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग

Note: निचे दी गयी अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|

Nirdhanta ( Poverty ) Ka Karan Lesson Plan In Hindi 

Date : 

Duration Of The Period :

Pupils Teacher Name :

Pupil Teacher’s Roll Number :

Class :

Average Age Of the Pupils :

Subject :

Topic :

विषय वस्तु विश्लेषण

  1. निर्धनता के कारण
  2. निर्धनता दूर करने के उपाय

 सामान्य उद्देश्य

  1. विद्यार्थियों की अर्थव्यवस्था में रुचि उत्पन्न करना |
  2. विद्यार्थियों की कल्पना शक्ति का विकास करना |
  3. विद्यार्थियों की रचनात्मक प्रवृत्तियों को प्रोत्साहित करना |
  4. विद्यार्थियों की तर्क शक्ति का विकास करना |
  5. विद्यार्थियों को मानसिक शक्ति का विकास करना |
  6. छात्रों की अर्थव्यवस्था के प्रति छात्रों को विकसित करना |

विशिष्ट उद्देश्य

ज्ञान

  • छात्रों को देश की आर्थिक स्थिति का ज्ञान कराना |

बोध  

  • छात्रों को निर्धनता के कारणों के बारे में ज्ञान देना |

कौशल

  • छात्र चार्ट की सहायता से निर्धनता के कारण तथा उपायों को समझने में कुशल हो जाएंगे |

प्रयोगात्मक

  1. छात्र जनता को दूर करने के उपायों को सोचेंगे |
  2. विद्यार्थी निर्धनता के कारणों से अवगत हो जाएंगे |

उपविषय – पूर्व ज्ञान की घोषणा से पूर्व विद्यार्थियों की पूर्व ज्ञान जानना |

पूर्व ज्ञान – छात्रों को इस बात की पूरी जानकारी होगी कि किस व्यक्ति को निर्धन कहा जाता है |

अनुदेशात्मक सामग्री

  • सामान्य सामग्री – चौक, झाड़न, संकेतक, श्यामपट्ट
  • विशिष्ट सामग्री – चार्ट, श्यामपट्ट, पाठ्य पुस्तक, निर्धनता के कारणों को दर्शाने वाला चार्ट

पूर्व ज्ञान परीक्षण

छात्र अध्यापक क्रियाएं

छात्र क्रियाएं

 भारत के ज्यादातर जनसंख्या कहां रहती है |

उत्तर प्रदेश

भारत में अधिकतर लोग किस व्यवसाय में है |

कृषि

भारत में निर्धनता के क्या कारण हैं |

जनसंख्या

उद्घोषणा – छात्र अध्यापक यह घोषणा करेगा कि आज हम भारत में निर्धनता के कारणों के संबंध में बताएँगे |

प्रस्तुतीकरण

शिक्षण

छात्र अध्यापक क्रियाएं

छात्र क्रियाएं

श्यामपट्ट

निर्धनता का अर्थ

निर्धनता से हमारा अभिप्राय है जीवन स्वास्थ्य व कार्यकुशलता को बनाए रखने हेतु न्यूनतम उपभोग आवश्यकताओं की योग्यता से होता है

भारत में ग्रामीण क्षेत्रों में प्रतिमाह उपभोग 328 रुपये से कम तथा शहरी क्षेत्र में 454 रुपये से कम है, तो उसे निर्धन कहा जाता है|

छात्र अपनी कॉपी में नोट करेंगे |

 

निर्धनता का अनुभव

भारत में कितने प्रतिशत जनसंख्या निर्धनता रेखा के नीचे रह जाती है |

 

 

निर्धनता का कारण

भारत में 26% जनसंख्या निर्धनता रेखा के नीचे रह जाती है भारत में निर्धनता की समस्या एक गंभीर समस्या है निर्धनता के निम्न कारण है –

राष्ट्रीय उत्पाद का निम्न स्तर – भारत की कुल जनसंख्या कितना में बहुत कम है इसलिए प्रति व्यक्ति आय 18000 रुपये के  लगभग है  जो U.N.O निर्धारित अधिक देशों की कसौटी में आते हैं |

 

विकास की दर

योजनाकाल में विकास की दर कम रही है जो कि औसत 4% थी जबकि जनसंख्या वृद्धि दर 2.3 % रही है प्रति व्यक्ति आय में कम वृद्धि दर के फल स्वरुप निर्धनता को दूर नहीं किया जा सका |

 

 

जनसंख्या का अधिक दबाव

जनसंख्या का अधिक दबाव निर्धनता भार को बढ़ा देता है इसका अर्थ समय के साथ-साथ निर्धनता का और अधिक बढ़ना |

 

कीमतों में वृद्धि

सरकार अपनी अल्पकालीन ऋण संबंधी आवश्यकताओं को मुद्रा बाजार से सरलता से पूरा कर लेती है |

 

 

पूंजी की गतिशीलता

कीमतों के बढ़ने के फलस्वरूप निर्धन व्यक्ति आवश्यक व नियंत्रण उपभोग की वस्तुओं को खरीदने में कठिनाई महसूस करता है जिससे देश में निर्धनता का प्रभाव अधिक हो जाता है | अर्थात निर्धनता बढ़ जाती है |

 

 

बेरोजगारी

 भारत में चिरस्थाई अल्पकालीन छिपी हुई बेरोजगारी अधिक पाई जाती है बेरोजगारी व्यक्तियों के पास आय का कोई साधन नहीं होता इस प्रकार बेरोजगारी की समस्या निर्धनता का मुख्य कारण है |

 

 

सामाजिक समस्याएं

प्रश्न – पुरानी सामाजिक समस्याएं कौन सी है |

पुरानी सामाजिक समस्याएं

जैसे जाति प्रथा संयुक्त परिवार प्रणाली उत्तराधिकार के नियम आज सभी देश के तेजी से अधिक विकास में बाधा उत्पन्न करते हैं |

 

 

पूंजी की कमी

पूंजी की कमी से देश में निम्न पूंजी निर्माण पाया जाता है पूंजी निर्माण का अर्थ है कम उत्पादन क्षमता और इसलिए निर्धनता है |

 

पूंजी की कमी भी निर्धनता बढ़ाती है |

मूल्यांकन –

  1. निर्धनता के चार कारण बताइए |
  2. जनसंख्या का अधिक दबाव किस प्रकार निर्धनता को बढ़ाता है |
  3. निर्धनता का मुख्य कारण क्या है |

गृहकार्य –

  1. निर्धनता के कारणों का संक्षेप में वर्णन करें |
  2. जनसंख्या का अधिक दबाव किस प्रकार निर्धनता को बढ़ाता है|


Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना

भारत में Nirdhanta lesson Plan

Economics का Bharat Me Nirdhanta Ka Karan का lesson plan

अर्थशास्त्र पाठ योजना

Bharat Me Nirdhanta Ke Karan Lesson Plan

Bharat Me Nirdhanta Lesson Plan

Nirdhanta Lesson Plan

Economics Class 10 Lesson Plan on Nirdhanta

Economics Class 10 Lesson Plan on Poverty in Hindi

Bharat Me Nirdhanta Ke Karan Lesson Plan

Bharat Me Nirdhanta Ke Karan Lesson Plan In Hindi

भारत में निर्धनता के कारण पाठ योजना

Economics Lesson Plan in hindi for b.ed and deled 

lesson plan for economics in hindi

poverty lesson plan in hindi


  • कक्षा : 10
  • विषय : अर्थशास्त्र ( Economics )
  • उपविषय : भारत में निर्धनता के कारण
  • लेसन प्लान टाइप : मैक्रो / रियल टीचिंग / सिमुलेटेड टीचिंग / डिसकशन / स्कूल टीचिंग 


Note: निचे दी गयी  अर्थशास्त्र पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिसमे कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके आप अपनी सुविधा के अनुसार काम में ला सकते है|












Further Reference:
LearningClassesOnline अर्थशास्त्र पाठ योजना

Similar Posts


Related:


Post a Comment

Please Share your views and suggestions in the comment box

Previous Post Next Post