Drishtant Kaushal [Kabir Das] Lesson Plan in Hindi | कबीरदास की काव्यगत रचनाएँ पाठ योजना

Drishtant Kaushal [Kabir Das] Lesson Plan in Hindi | कबीरदास की काव्यगत रचनाएँ पाठ योजना

Sant Kabir Das Lesson Plan in Hindi (Kabir Ke Dohe Aur Unki Kavyagat Vishestaye Lesson Plan) for Class 5th to 10th

लेसन प्लान का संक्षिप्त विवरण:

  • Class : 5th to 10th
  • Subject : Hindi
  • Topic :कबीरदास की काव्यगत विशेषताएं [kabeer Das Lesson Plan]
  • Lesson Plan Type : सूक्ष्म शिक्षण
  • Skill : Drishtant Kaushal


Note: निचे दी गयी हिंदी पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिससे आपको Lesson Plan बनाने का Idea मिलता है| आप खुद की कल्पना शक्ति और प्रतिभा से इसे और बेहतर बना सकते है| और साथ ही साथ कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके इसे आप अपनी सुविधा के अनुसार इस्तेमाल कर सकते है


udharan sabit dristant koshal suksham (microteaching) Lesson plan in Hindi on sant kabirdas ki kavyagat vishestaye, Kabeer Das Ke Dohe Lesson Plan,Kabeer Das Lesson Plan In Hindi For B.Ed & D.El.Ed ,Kabir Das Ki kavyagat Rachnaye Lesson Plan,Kabir Das Ki kavyagat Rachnaye Lesson Plan In Hindi,Lesson Plan On Kabeer Das Ki kavyagat Rachnaye In Hindi

Drishtant kaushal Micro Lesson Plan Lesson Plan in Hindi on kabir Das Aur Unki KavyaGat Rachnaye Class 6th to 10th For B.Ed 1st Year, 2nd Year and DELED - कबीरदास की काव्यगत रचनाएँ पाठ योजना

Date: Duration Of The Period:
Students Teacher Name: Pupil Teacher's Roll Number:
Class: Average Age Of the Students:
Subject: Topic:

छात्राध्यापिका क्रियाएं: छात्र-क्रियाएं:
“बुरा जो देखन मैं चला,

बुरा न मिलिया कोय|

जो मन खोजा आपना,

मुझसे बुरा ना कोई||”

यह दोहा किसके द्वारा लिखा गया है?

कबीरदास जी द्वारा
छात्राध्यापिका कथन:

कबीर दास जी भक्ति कालीन युग के महान संत थे| उन्होंने ईश्वर के निर्गुण रूप पर बल दिया| उन्होंने कहा ईश्वर कण कण में बसा है| उन्होंने अपने काव्य में मानव धर्म का प्रचार किया| वह अनपढ़ थे, इसलिए उन्हें भाषा का ज्ञान नहीं था| उनकी प्रमुख रचना ‘बीजक’ मानी जाती है|

कबीर दास ने ईश्वर के किस रूप पर बल दिया है?

सरल उदाहरण

निर्गुण रूप
छात्राध्यापिका कथन:

कबीर दास ने निर्गुण रूप में मूर्ति पूजा का खंडन किया था|

कबीर दास जी ने अपने काव्यों में किस धर्म पर बल दिया?

सरल व रोचक उदाहरण

उदाहरण की संबद्धता

मानव धर्म पर
छात्राध्यापिका कथन

कबीरदास ने मानव धर्म पर सबसे ज्यादा बल दिया है, सभी मानव धर्म का प्रचार भी किया|

कबीर दास ने अपनी काव्य में ईश्वर के बारे में क्या कहा है?

उदाहरण की संबद्धता|

माध्यमों की उपयुर्क्ता|

ईश्वर कण कण में बसे हुए हैं|

निरीक्षण अनुसूची एवं रेटिंग स्केल:

क्रम संख्या: घटक: रेटिंग स्केल:
1. सरल उदाहरण 0 1 2 3 4 5
2. रोचक उदाहरण 0 1 2 3 4 5
3. उदाहरणों की सम्बद्धता 0 1 2 3 4 5
4. माध्यमों की उपयुर्क्ता 0 1 2 3 4 5
5. उपागम की उपयुर्क्ता 0 1 2 3 4 5


www.LearningClassesOnline.com/
Further Reference:
www.LearningClassesOnline.com हिन्दी पाठ योजना

Similar Posts


Related:


Post a Comment

Please Share your views and suggestions in the comment box

Previous Post Next Post