Rahim Ke Dohe Lesson Plan In Hindi on Explanation Skill | रहीम के दोहे पाठ योजना

Rahim Ke Dohe Lesson Plan In Hindi on Explanation Skill | रहीम के दोहे पाठ योजना

This is the Micro teaching Hindi Lesson Plan on Skill of Explanation ( Sukshma Shikshan Path Yojna on Vyakhyan Kaushal) for Class 6th to 8th on Rahim Ji Ke Dohe

लेसन प्लान का संक्षिप्त विवरण:

  • Class: 6th to 10th
  • Subject: Hindi
  • Topic: Rahim Ke Dohe ( रहीम के दोहे )
  • Lesson Plan Type : Microteaching ( सुक्षम पाठ योजना )
  • Skill : Explanation Skill ( व्याख्या कौशल )


Note: निचे दी गयी हिंदी पाठ योजना केवल एक उदाहरण मात्र है| जिससे आपको Lesson Plan बनाने का Idea मिलता है| आप खुद की कल्पना शक्ति और प्रतिभा से इसे और बेहतर बना सकते है| और साथ ही साथ कक्षा, नाम, कोर्स, दिनांक, अवधि इत्यादि में बदलाव करके इसे आप अपनी सुविधा के अनुसार इस्तेमाल कर सकते है


Microteaching Skill of Explanation ( Vyakhya Kaushal ) Lesson Plan Hindi for Class 8th on Rahim Jee Ke Dohe (रहीम के दोहे) free download pdf, Hindi Lesson Plan, Rahim Ke Dohe Lesson Plan In Hindi,Rahim Das Ke Dohe In Hindi Lesson Plan, Rahim ji Ka Dohe Lesson Plan For B.Ed,Rahim Ke Dohe Lesson Plan For D.EL.ED

Microteaching Skill of Explanation Rahim Ke Dohe Lesson Plan In Hindi For B.Ed 1st Year, 2nd Year and DELED - रहीम के दोहे पाठ योजनाा

Date: Duration Of The Period:
Students Teacher Name: Pupil Teacher's Roll Number:
Class: Average Age Of the Students:
Subject: Topic:

छात्राध्यपिका क्रियाएं: छात्र-क्रियाएं:
"कही रहीम संपति सगे,

बनत बहुत बहु रीत|

बिपति कसौटी जे कसे,

तेई सांचे मीत !!"

प्रश्न: कसौटी का क्या अर्थ है?

बहुत अच्छे !

बच्चे उत्तर देंगे|

कसौटी का अर्थ परीक्षा होता है

संदर्भ: प्रस्तुत पक्तियां रहीम दास द्वारा रचित "साखी" शीर्षक से ली गई है|

प्रसंग: प्रस्तुत पंक्तियों में सच्चे मित्र के महत्व को बताया है| सच्चे मित्र व दुर्जन व्यक्तियों पर चर्चा की गई है, तथा समाज पर इसके प्रभाव को दर्शाया गया है|

व्याख्या: रहीम ने सच्चे मित्र के संबंध में बताया गया है, कि संपत्ति रहने पर तो सब लोग अपने बन जाते हैं, परंतु सच्चा मित्र वही होता है, जो संकट के समय हमारा साथ दें| संकट के समय में ही अपने और पराए की पहचान होती है|

प्रश्न: रहीम ने किस के बारे में बताया है?

इसके विपरीत जो लोग सिर्फ सुख संपत्ति होने पर हमारा अपना बनने का दिखावा करते हैं, संकट के समय उनका अपनत्व तो ढूंढे नहीं मिलता|

रहीम ने सच्चे मित्र के बारे में बताया है|

प्रश्न: संकट किस की पहचान करवाता है

अतएव व्यक्ति को सदा उन लोगों से मित्रता करनी चाहिए, जो संकट के समय हमारे साथ खड़े हो|

सच्चे मित्रों की

प्रश्न: रहीम के इस दोहे को कहां से लिया गया है|

रहीम के इस दोहे को "साखी" से लिया गया है|

प्रश्न: रहीम ने किन को सच्चा मित्र बताया है|

जो संकट के समय साथ दें|

प्रश्न: पैसा रहने पर कौन संबंधी बन जाता है?

स्वार्थी लोग पैसा रहने पर संबंधी बन जाते हैं|

निरीक्षण अनुसूची एवं रेटिंग स्केल:

क्रम संख्या: घटक: रेटिंग स्केल:
1. संक्षिप्तता 0 1 2 3 4 5
2. सार्थकता 0 1 2 3 4 5
3. स्पष्टता 0 1 2 3 4 5
4. विशिष्टता 0 1 2 3 4 5
5. व्याकरणिक शुद्धता 0 1 2 3 4 5
6. आवाज का उतार चढ़ाव 0 1 2 3 4 5
7. भाव केन्द्रीकरण 0 1 2 3 4 5


www.LearningClassesOnline.com/
Further Reference:
www.LearningClassesOnline.com हिन्दी पाठ योजना

Similar Posts


Related:


Post a Comment

Please Share your views and suggestions in the comment box

Previous Post Next Post